Ad

Tag: Corona 19

कोविड-19:अमेरिका के भी नागरिकों को भारत यात्रा नहीं करने की सलाह

(वाशिंगटन)कोविड-19:अमेरिका के नागरिकों को भारत यात्रा नहीं करने की सलाह
अमेरिका ने अपने नागरिकों को सलाह दी है कि वे भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण अत्यधिक फैलने के कारण वहां की यात्रा करने से बचें।
अमेरिका ने कोविड-19 संबंधी यात्रा परामर्श के लिए चार स्तरीय प्रणाली अपनाई है और ताजा यात्रा परामर्श में भारत को ‘स्तर-चार: कोविड-19 के सबसे उच्च स्तर’ में रखा गया है।
इससे पहले, ब्रिटेन ने भारत को सोमवार को उन देशों की ‘लाल सूची’ में डाल दिया, जिसके तहत गैर-ब्रितानी और आइरिश नागरिकों के भारत से ब्रिटेन जाने पर पाबंदी रहेगी। साथ ही विदेश से लौटे ब्रितानी लोगों के लिये होटल में 10 दिन तक पृथक-वास में रहना अनिवार्य कर दिया है।
इससे कुछ घंटे पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय डाउनिंग स्ट्रीट ने भारत में कोरोना वायरस के मामलों में तेज वृद्धि के मद्देनजर अगले सप्ताह होने वाली प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की यात्रा रद्द करने की घोषणा की थी।
न्यूजीलैंड भी संक्रमण के कारण भारत की यात्रा पर प्रतिबंध लगा चुका है।
फ़ाइल फोटो

केजरीवाल ने दिल्ली में अगले सोमवार तक छह दिन का लॉकडाउन लगाया

(नयी दिल्ली)केजरीवाल ने दिल्ली में अगले सोमवार तक छह दिन का लॉकडाउन लगाया
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार रात को दस बजे से लेकर अगले सोमवार को तड़के पांच बजे तक छह दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है।
ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बीते कुछ दिन से कोविड-19 के दैनिक मामलों की संख्या 25,500 के लगभग बनी हुई है तथा स्वास्थ्य प्रणाली पर भार बहुत बढ़ गया है। दिल्ली में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, यहां दवाओं, बेड, आईसीयू, ऑक्सीजन की गंभीर कमी है ऐसे में स्वास्थ्य प्रणाली को ध्वस्त होने से बचाने के लिए लॉकडाउन की बहुत आवश्यकता है।
फ़ाइल फोटो

श्मशान कर्मकांड के भाव बढ़े,नेता और व्यवसाई! करो टेकओवर की तैयारी

झल्लीगल्लां
श्मशानकाआचार्यजी
Jamos cartoonओए झल्लेया!हसाडे मेहनत के कर्मकांड के लिए दान दक्षिणा पर भी कथित समाजसेवी नाक भों सिकोड़ने लग गए।अरे हमे कोई शादी व्याह में तो बुलाता नही अब ले दे के कोई मरने पर ही यहां आता है।हम पूर्ण निष्ठा से 13 दिन कर्मकांड कराते हैं और अपना परिवार पालते हैं।अब ये कोरोना हमारे कहने से तो आया नही जो इसे लेकर हमारी थोड़ी बहुत इनकम को कोसा जा रहा है।
झल्लाझल्ला
महाराज!थोड़ा हंस वी लया करो।श्मशान में कर्मकांड के भाव बढ़ने से धन्नासेठ और राजनेता भी आकर्षित होंगे और इस कमाऊ व्यवस्था को टेकओवर करने को जुगत लड़ाएंगे।इससे आप लोगों के भी अच्छे दिन आ जाएंगे

Kapil Sibal Urges PM to Declare a National Health Emergency

(New Delhi)Kapil Sibal Urges PM to Declare a National Health Emergency
Senior Congress leader Kapil Sibal also called on the Election Commission to declare a moratorium on election rallies in view of the sharp rise in COVID-19 cases.
Sibal tweeted.”COVID-19 infections faster than recoveries. Modiji: Declare a National Health Emergency. Election Commission: Declare a moratorium on election rallies. Courts: Protect people’s lives,”
A record single-day rise of 2,61,500 coronavirus infections has taken India’s total tally of COVID-19 cases to 1,47,88,109, while active cases have surpassed the 18-lakh mark, according to Union Health Ministry data updated on Sunday.
The country has recorded over 2 lakh cases consecutively for the last four days.
File Photo

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करो वरना अस्पताल में पैसा और प्राण गंवाओं

(नईदिल्ली,मेरठ) #कोरोना नामक महामारी का दूसरा चरण शुरू हो चुका है। प्रति दिन एक लाख मरीज संक्रमित हो रहे है।इसके पीछे अनेक कारण हो सकते हैं ,जैसे
(1)पोलिटिकल रैलियां
(2) बाजारों में असुरक्षित भीड़
(3)अनियोजित+अनियमित विकास
(4)धीमा टीकाकरण
(5)टीके पर उठता भरोसा
(6)टीके की कीमत और उपलब्धता आदि आदि
ऐसा नही है कि केंद्र सरकार की तरफ से कोई ढिलाई है मगर इतने बड़े देश मे व्यवस्था एक चुनोती भी है लेकिन कुछ केस ऐसी नकारात्मकता छोड़ जाते हैं कि अच्छे अछ्ओं का विश्वास डगमगा जाता है। शारीरिक रूप से फिट अक्षय (खिलाड़ी)कुमार,सुरक्षित गोविंदा,रसूख वाले धनाढ्य से लेकर मंत्री और टीका लगवा चुके डॉक्टर भी अछूते नही रहे।इसके अलावा राजनीतिक दलों द्वारा टीका की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाए जाते रहे हैं।आजकल सब्जी या फल विक्रेता या फिर ग्राहक फलों को सूंघ कर गुणवत्ता का विश्वास दिलाते दिखते है जो शायद खाने पर थूकने से अधिक संक्रमण फैला सकता है।
केंद्र सरकार ने आज ही 45 वर्ष और उससे अधिक आयु के अपने सभी कर्मचारियों को टीका लगवाने को कहा है ताकि कारगर रूप से कोविड-19 के प्रसार को काबू में किया जा सके।टीका लगवा कर भी कोरोना नही होगा इसकी कोई गारंटी नही है।इसीलिए
।सरकारों के भरोसे बैठे रहने से अच्छा है स्वयम जागरूक होकर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सुरक्षित रहना अन्यथा अस्पताल में बेहिसाब पैसा और बेशकीमती प्राणों से हाथ धोना पड़ सकता है
फोटो
मेरठ में मानसिक इलाज के लिए भर्ती रोगियों के अस्पताल के मार्ग रोकता ट्रैफिक जाम

महाकुंभ स्नान के प्राचीन अमृत ज्ञान संग आधुनिक कोरोना विज्ञान का भी सहारा जरूरी

झल्लीगल्लां
आस्थावानहिन्दू

Mahakumbh

Mahakumbh

ओए झल्लेया मुबारकां! ओये आज के पवित्र ध्याड़े हरिद्वार में महाकुंभ मेला शुरू होने जा रहा है।ओये तुझे मलूम है कि अब की बार बारह के बजाय ग्यारह बरस में ही यह पवित्र मेला शुरू हो रहा है।यहां हसाडी प्राचीन संस्कृति की भव्यता के दर्शन और स्नान लाभ मिल सकेंगे। ओये हरिद्वार में ही कल्याणकारी अमृत की बूंदे गिरी थी ।यहीं देवताओं ने कुम्भ घटक दबाया हुआ है ।ओए कुम्भ स्नान से हसाडा जीवन सफल हो जाणा है
झल्ला
झल्लाभापा जी! आस्था के इस महाकुंभ की आप जी को भी लख लख वधाइयाँ। वैसे तो व्यवस्थापक आज कल कोरोना महामारी की आपदा में भी अवसर बनाने पर तुले हैं लेकिन आम नागरिक इन अवसरों में आपदा लेकर घरों को लौटते हैं इसीलिए झल्लेविचारानुसार प्राचीन अमृत ज्ञान के साथ साथ आधुनिक कोरोना विज्ञान का पालन करते हुए ही अवसरों का लाभ लेने को कदम बढाने चहिए इसीलिए कोरोना प्रोटोकॉल जरूरी है

कोरोना पीड़ितों !हुकूमतों पर भरोसा करके जान जोखिम में मत डालो

झल्लीगल्लां
चिन्तितनागरिक
Vaccinationओए झल्लेया! ये कोरोना क्या मुसीबत है।दोबारा लौट आया। पूरा देश इस महामारी की जद में आ चुका है
लेकिन ये सियासतदां हुकूमत कब्जाने को मोह में अवाम इकट्ठा करने में लगे हैं।ओये अगर ऐसा ही चलता रहा तो अक्लमंदों के अनुसार मुल्क की माली हालत भी धाराशाई हो जाणी है।
झल्ला
झल्लाभापा जी! आप जी की चिंता वाजिब है,लेकिन असलियत ये है कि कोरोना कहीं गया ही नही था,उसे तो कुछ समय के लिए दबा दिया गया था जो अब फिर निकल आया है।इसीलिए हुकूमतों पर भरोसा करके जान जोखिम में डालने के बजाय खुद जानकार बाणिये,खुद सुरक्षित रहिये,

Control Spread of Covid19 During Kumbh Mela;Centre to UK

(New Delhi)Control Spread of Covid19 During Kumbh Mela;Centre to UK
Rajesh Bhushan, Union Secretary, Ministry of Health and Family Welfare has written to Chief Secretary Uttarakhand to control the spread of Covid19 during Kumbh Mela.
A high level Central Team led by Director NCDC visited Uttarakhand on 16th-17th March, 2021 to review the medical and public health preparedness measures undertaken by the state for the ongoing Kumbh Mela in Haridwar.
The Secretary also noted that as per the report of the Central Team, 10-20 pilgrims and 10-20 locals are being reported positive every day. This positivity rate has the potential to rapidly turning to an upsurge in cases, given the expected large footfall during Kumbh.
The State has been informed that the daily testing numbers reported in Haridwar (i.e.50,000 Rapid Antigen Tests and 5,000 RTPCR tests) are not enough to effectively offset huge number of expected pilgrim footfall. It has been advised that the share of RTPCR tests being conducted at present needs to be significantly increased as per the ICMR guidelines to ensure that the pilgrims and local population is appropriately tested.
The State Government is also advised to undertake Various Measures

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत कोरोना वायरस संक्रमित

(देहरादून) त्रिवेंद्र सिंह रावत कोरोना वायरस संक्रमित
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमित पाए गये। यह जानकारी मुख्यमंत्री रावत ने स्वयं टि्वटर पर साझा की।
मुख्यमंत्री रावत ने कहा, ‘‘आज मैंने कोरोना वायरस की जांच करवायी और रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मेरी तबियत ठीक है और लक्षण भी नहीं हैं। अत: डाक्टर की सलाह पर मैं घर पर पृथकवास में रहूंगा।’’

MSRTC Needs ₹ 3600 Crore from Udhav Govt For Salaries

(Mumbai)MSRTC Needs ₹ 3600 Crore from Udhav Govt For Salaries
The state-run corporation has not paid the salaries of its employees for the last three monthsz
Anil Parab, who is also the chairman of the MSRTC, told reporters that the corporation was trying to raise money through external means too.
The MSRTC needs Rs 292 crore per month for paying salaries. The cumulative losses of the transport body have ballooned to over Rs 5,500 crore, he said.
The MSRTC used to earn Rs 22 crore every day before the coronavirus outbreak, but presently its revenue from passenger services has fallen to barely Rs 5-6 crore, he said.