Ad

Tag: DDCA

जैटली के नजदीकी रजत शर्मा ने “डीडीसीए” का अध्यक्ष पद कैच किया

[नयी दिल्ली]टीवी पत्रकार ने रजत शर्मा डीडीसीए का अध्यक्ष पद कैच किया | रजत केंद्रीय मंत्री और क्रिकेट राजनीती में दिग्गज अरुण जैटली के नजदीकी माने जाते हैं|इन्होने डीडीसीए को करप्शन मुक्त बनाने के अपने संकल्प को दोहराया है|
वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने इस पद के लिए पूर्व क्रिकेटर मदन लाल को 517 वोट से हराया है
रजत शर्मा के समूह ने सभी 12 सीटें जीत लीं।
शर्मा को 1,531 वोट मिले जबकि मदन लाल को 1,004 वोट से संतोष करना पड़ा। मुकाबले में खड़े तीसरे उम्मीदवार वकील विकास सिंह को महज 232 वोट मिले।
बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सी के खन्ना की पत्नी शशि राकेश बंसल से उपाध्यक्ष पद का चुनाव हार गयीं। राकेश डीडीसीए के पूर्व अध्यक्ष स्नेह बंसल के छोटे भाई हैं।
राकेश ने शशि को 278 वोट से हराया। उन्हें 1,364 जबकि शशि को 1,086 वोट मिले।
हार के साथ डीडीसीए में खन्ना के लिए अब रास्ते बंद हो सकते हैं जहां करीब तीन दशकों से उनका वर्चस्व रहा है।

Jethmalani Failed To Get Stay For Kejriwal In a Defamation Case

[New Delhi]Jethmalani Failed To Get Stay For Kejriwal In a Defamation Case Filed By Arun Jaitely
Ram Jethmalani Failed To Get Stay On Defamation Case Against Delhi CM Arvind Kejriwal
A court today rejected the plea of Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal to stay the proceedings in a criminal defamation case filed against him and five other AAP leaders by Union minister Arun Jaitley.
The application moved by senior advocate Ram Jethmalani on behalf of Kejriwal before Chief Metropolitan Magistrate Sumit Dass said there are two cases — one civil and the other criminal — filed against the AAP leaders on same allegations and one of them should be stayed.
“Adjourn the matter, so that I can approach the High Court in this regard… I don’t want to face both the cases simultaneously,” Jethmalani said.
The court, however, rejected the plea saying, “The matter has to proceed further… the application is dismissed. Put up for further hearing on July 16 for framing notice.”
The court, meanwhile, directed the complainant’s counsel to supply the copies of the documents, filed along with the complaint, to the accused persons.
“In the larger interest of justice and to cut short the controversy, copies be supplied today itself,” the court said.
The application seeking documents was moved by senior advocate H S Phoolka, appearing for one of the AAP leaders, who said that legible documents were not given to them.
Senior advocate Siddharth Luthra, appearing for Jaitley, however, claimed all the documents have been supplied to the accused persons (AAP leaders) and “they are just trying to delay the proceedings.The documents sought by the accused persons are not a part of the complaint.
He said, “They (accused) have come with a fictitious story that the copies were not complete,” and requested the court to conduct day-to-day proceedings in the case.
During the proceedings, Kejriwal, AAP leaders Kumar Vishwas and Raghav Chadha were present in the court room.
The court had on April 7 granted bail to Kejriwal and AAP leaders Ashutosh, Sanjay Singh, Vishwas, Chadha and Deepak Bajpai.
Jaitley had filed the criminal defamation complaint alleging Kejriwal and the five AAP leaders had allegedly defamed him in Delhi District Cricket Association (DDCA) controversy.
While recording his statement, Jaitley, who was the DDCA president from December 1999 to December 2013, said the claims against him and his family members lowered his dignity in the eyes of the public, adding their statements were false.
Jaitley had on December 21, 2015 filed the criminal defamation case against them and sought their prosecution for offences that entail a punishment of up to two years in jail.
Besides the criminal defamation case,
Jaitley has also filed a civil defamation suit before the Delhi High Court seeking Rs 10 crore in damages from Kejriwal and the five AAP leaders, for issuing allegedly false and defamatory statements against him and his family in connection with alleged irregularities in DDCA when he was its President

आशा के अनुरूप केंद्र ने डीडीसीए जांच के लिए दिल्ली के गोपाल सुब्रमनियम आयोग अवैध बताया

[नयी दिल्ली]आशा के अनुरूप केंद्र ने डीडीसीए जांच के लिए दिल्ली के गोपाल सुब्रमनियम आयोग अवैध बताया
केंद्र सरकार ने डीडीसीए मामलों की जांच के लिए दिल्ली की “आप “सरकार द्वारा गठित एक सदस्यीय जांच आयोग को ‘‘असंवैधानिक और अवैध’’ घोषित कर दिया है।
इस अपेक्षित निर्णय से अवगत कराते हुए दिल्ली के उपराज्यपाल के कार्यालय की तरफ से जारी किये गये एक पत्र में कहा गया है ‘‘भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने कहा है कि दिल्ली सरकार के सतर्कता निदेशालय की तरफ से जारी अधिसूचना असंवैधानिक और गैर-कानूनी है इसलिए कानूनी रूप से इसका कोई प्रभाव नहीं होगा।’’
दिल्ली सचिवालय पर एक माह पहले छापेमारी के बाद अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आप सरकार और केंद्र सरकार के बीच टकराव चरम पर पहुंच गया था और इसी दरम्यान दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ [डीडीसीए]मामलों की जांच के दिल्ली सरकार के निर्णय को नामंजूर किया गया है।अब दोनों सरकारों के बीच जारी आरोप प्रत्यारोप के और बढ़ने की आशंका हो गयी है।
छापेमारी के बाद दोनों सरकारों के बीच तकरार शुरू हो गयी थी। केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि छापेमारी का उद्देश्य ऐसे दस्तावेजों को जब्त करना था जिसमें डीडीसीए में कथित भ्रष्टाचार का ब्यौरा दर्ज था। उन्होंने कहा कि ये दस्तावेज कथित तौर पर उस दौरान के थे जब वित्त मंत्री अरूण जेटली डीडीसीए के प्रमुख थे।
केजरीवाल ने इसके बाद पूर्व सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रमण्यम की अध्यक्षता में एक जांच आयोग गठित करने का निर्णय लिया, तब सुब्रमण्यम ने कहा था कि दिल्ली सरकार को इस तरह के जांच आयोग के गठन का अधिकार है

जेटली ने आज अदालत में केजरीवाल सहित छह के खिलाफ झूठे बयान देने के आरोप लगाये

[नयी दिल्ली]अरुण जेटली ने आज अदालत में अरविन्द केजरीवाल सहित छह पर झूठे बयान देने के आरोप लगाये |
केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के पांच अन्य नेताओं के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत के मामले में दिल्ली की एक अदालत में आज अपना बयान दर्ज कराया। जेटली ने आरोप लगाया कि ‘आप’ पार्टी के इन नेताओं ने उनके और उनके परिवार के खिलाफ झूठे बयान दिए हैं।
अपना बयान दर्ज कराने के दौरान जेटली ने मुख्य मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट संजय खनगवाल को बताया कि केजरीवाल और इन पांच लोगों ने उनके और उनके परिवार के खिलाफ ‘झूठे’ और ‘अपमानजनक’ बयान दिए थे।
कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत आए जेटली ने यह भी कहा कि ये बयान इसलिए दिए गए हैं ताकि केजरीवाल के साथ काम करने वाले एक व्यक्ति विशेष के खिलाफ सीबीआई जांच से ध्यान भटकाया जा सके।
सुरक्षाकर्मियों ने किसी भी मीडियाकर्मी को अदालत कक्ष में दाखिल नहीं होने दिया। बंद कमरे में हो रही इस सुनवाई में सिर्फ वकीलों को ही मौजूद रहने की अनुमति दी गई
गौरतलब हे के डी डी सी ऐ में भ्रष्टाचार के आरोप प्रत्यारोप को लेकर केजरीवाल और जेटली में छिड़ी जुबानी जंग अब अदालत में है

My Lord! This Kejriwal,Gave False Statements:Jaitley On DDCA Defamation Case

[New Delhi] My Lord! Kejriwal,+5 Gave False statements Against me: Jaitley In Delhi Court On DDCA Episode
Union Finance Minister Arun Jaitley today recorded his statement in a Delhi court in a criminal defamation complaint filed by him against Chief Minister Arvind Kejriwal and five other AAP leaders, accusing them of making false statements against him and his family members.
During the recording of his statement, Jaitley told Chief Metropolitan Magistrate Sanjay Khanagwal that Kejriwal and these five persons had given “false” and “defamatory” statements against him and his family members.
Jaitley, who appeared before the court amidst tight security, also said that statements have been made to deflect attention from CBI probe against a particular person who is working with Kejriwal,
The security personnel did not allow any mediaperson to enter the court room and only the advocates have been allowed to attend the closed-door proceedings.
Jaitley had on December 21 filed criminal defamation case against Kejriwal and five other AAP leaders — Kumar Vishwas, Ashutosh, Sanjay Singh, Raghav Chadha and Deepak Bajpai — for allegedly defaming him and sought their prosecution for offences that entail a punishment of upto two years in jail.
The complaint was filed under various sections of the IPC including 499 (defamation), 500 (punishment), 501 and 502 (printing and sale of defamatory matter).
The complaint referred to some of the allegations made by AAP leaders in press conferences, including one that claimed that the CBI raided the office of Delhi government official looking for Jaitley’s “tax scam files” and that there was corruption worth several hundred crores under Jaitley’s tenure and that he had shielded DDCA for over 15 years.
Jaitley had said such statements have been made orally and through Twitter handle of the AAP leaders which have been carried by electronic and print media from December 15 to December 20.

Subramanium Hurriedly Demands Staff For DDCA Probe:Flutes Whose Tune

[New Delhi]Gopal Subramanium Demands Staff From Doval For DDCA Probe:Flutes Whose Tune
Subramanium Hurriedly[Without Getting Centre’s Approval To His Appointment]has demanded officers to become part of the investigation Of DDCA
Former Solicitor General Gopal Subramanium, who is heading the Commission of Inquiry probing the alleged irregularities in DDCA affairs, has written to National Security Adviser Ajit Doval, seeking names of competent officers to become part of the investigation.
He said.”I have written to him because he is the National Security Adviser. Apart from that, he is a very distinguished police officer…he is in the position to identify who are competent people in various organisations and to send names of independent police officers who can investigate meticulously,”
He Added “The reason to seek his help is also his ability to judge if there is any issue relating to the security which I am very particular about in the matter as anything may come up during the investigation,”
The noted lawyer said that his request to Doval is part of the procedure which calls for appropriate “logistical infrastructure” before beginning the probe.
“I dont want my hindsight to feel that he (Doval) was not sufficiently addressed in the beginning as he is a person who understands the ramifications correctly and that is why I wrote to him.
He told a TV channel.”I cannot judge by my personal imagination who can be a competent person to investigate,”
Subramanium further said that he is neither in the department of personnel nor in the government to know about that.”I do not want to pick someone I know but only someone who is competent enough. This is part of any enquiry procedure that you need to have logistical infrastructure in place to beginning the probe,”
However, Subramanium did not clarify about the number of officers he has asked for.
Yesterday, the former Solicitor General had strongly pitched for live telecast of the proceedings to make it transparent.
Arvind Kejriwal has appointed one man inquiry commission to investigate DDCA Episode.This has not yet been approved by The LG

डीडीसीए विवाद में केजरीवाल खुद ही उलझे:आयोग ने जांच का सीधा प्रसारण माँगा

[नयी दिल्ली]डीडीसीए विवाद में केजरीवाल खुद ही उलझे:आयोग ने जांच का सीधा प्रसारण माँगा
डीडीसीए विवाद को उछाल कर अरविन्द केजरीवाल खुद ही उलझते जा रहे हैं|
डीडीसीए में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए दिल्ली सरकार द्वारा गठित जांच आयोग के अध्यक्ष पूर्व सॉलीसीटर जनरल गोपाल सुब्रह्मण्यम ने सुनवाई को पारदर्शी बनाने के लिए इसका सीधा प्रसारण करने की जोरदार वकालत की है|
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भेजे गए पत्र में उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह भी साफ करना चाहूंगा कि मैंने पहले ही सार्वजनिक जांच का वादा किया है। वह उपयुक्त स्थान पर होना चाहिए। मैं इसका टेलीविजन पर प्रसारण करने की पेशकश करना चाहता हूं ताकि दुनिया में कोई भी देख सके कि कैसे आयोग इस मामले से निपटने के लिए आगे बढ़ता है।’’
उन्होंने कहा, ‘मैंने हमेशा माना है कि दुनिया के कई हिस्सों में जहां अदालत की कार्यवाही का टेलीविजन पर प्रसारण किया गया है, खासतौर पर ब्रिटेन और कनाडा में न्यायपालिका ने बिल्कुल पारदर्शी रहकर कुछ हासिल ही किया है।’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं देखता हूं कि क्यों किसी मामले में जिसमें क्रिकेट शामिल है और खासतौर पर जिसका दीर्घकालिक प्रभाव है उससे उसी तरीके से क्यों नहीं निपटा जाना चाहिए।भाजपा का आरोप है के कांग्रेस के इशारे पर कीर्ति आज़ाद और आप पार्टी ने अरुण जेटली को बदनाम करने के लिए यह मुद्दा उछाला है|भाजपा का यह भी दावा है के इस मामले में जेटली को यूं पी ऐ सरकार द्वारा पहले ही क्लीन चिट दी जा चुकी है

मोदी भापे!कांग्रेस ने’आप’+कीर्ति को कॉंग्रेसकोल से जोड़ा है ये गठजोड़ आसानी से नहीं टूटेगा

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

भाजपा चैयर लीडर

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ?ओये हसाडे अरुण जेटली साहिब को बिना सबूतों के ही डीडीसीऐ घोटाले में घसीटा जा रहा है|इतनी जिल्लत सहने के बावजूद कीर्ति आज़ाद ढीठ बन कर सीबीआई की जाँच मांग रहे हैं और अरविन्द केजरीवाल बेशर्मी से माफ़ी मांगने से इंकार कर रहे हैं |ओये सूत न कपास और इन तीनों की चल रही हैं लट्ठम लट्ठा

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी!कांग्रेस ने “आप” और कीर्ति को जिस आज़ाद कॉंग्रेसकोल से जोड़ा है वोह गठजोड़ आसानी से नहीं टूटेगा

“आप” ने मात्र अराजकता फ़ैलाने के लिए ही”एक्ट”के विरुद्ध आयोग गठित कर दिया?डीडीसीऐ

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

आप पार्टी चेयर लीडर

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है?ओये हसाडे सी एम अरविन्द केजरीवाल साहिब ने डी डी सी ऐ घोटाले की जांच के लिए भरी असेंबली में जांच आयोग को पारित करायाऔर अब ये उपराज्यपाल नजीब जंग अरुण जेटली को बचाने के लिए हसाडे असेंबली में पास कराये गए गोपाल सुब्रामियम आयोग को ही असंवैधानिक बता रहे|कहा जा रहा है के कमीशन आफ इन्क्वायरी एक्ट के अनुसार दिल्ली की सरकार को आयोग गठन करने की इजाजत नहीं है हैं

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान “आप” ने मात्र अराजकता फ़ैलाने के लिए ही “एक्ट”के विरुद्ध आयोग गठित कर दियाक्या ?
आप ये कहना चाहते हो के कमीशन आफ इन्क्वायरी एक्ट की जानकारी आपलोगों को नहीं है और आपने डी डी सी ऐ जैसे महत्वपूर्ण विषय पर आयोग गठित कर दिया तो आप लोग सत्ता सुख भोगने के काबिल ही नही हो और अगर जानबूझ कर अराजकता फैला रहे हो तो भी आपकी जगह विपक्ष में ही होनी चाहिए

राहुल गांधी ने भी पीएम पर कीर्ति आज़ाद “बॉल” बाउंसर फेंका

[लखनऊ ,उ प्र]राहुल गांधी ने भी पीएम पर कीर्ति आज़ाद “बॉल” बाउंसर फेंका और डी डी सी ऐ की जाँच की मांग की|कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कीर्ति आज़ाद के सस्पेंशन को लेकर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की |कीर्ति ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है| राहुल ने अमेठी से लौटते हुए मोदी के स्लोगन “न खाऊंगा न खाने दूंगा” पर भी मीडिया के समक्ष सवाल उठाये और डी डी सी ऐ में घोटालों की जाँच की मांग की