Ad

Tag: DelhiGovt

मेरा स्वास्थ्य तेरे स्वास्थ्य से गिरा:दिल्ली में अहंकारी राजनिति की नौटंकी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

दिल्ली वासी

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है? यारा दिल्ली राज्य में सत्तारूढ़ “आप” और केंद्र में राज कर रही भाजपा के आपस के कॉम्पिटिशन में हम तो पिसे जा रहे हैं |
गर्मी में प्यासे+बिना बिजली के भीषण प्रदुषण में मरे जा रहे हैं और ये आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी वाले एयर कंडीशंड कमरों में हफ्ते से पावँ पसारे पढ़े हुए है|वहीँ से एक दूसरे पर बयानबाजी में समय नष्ट कर रहे हैं|

झल्ला

भापा जी! फ़िक्र नॉट!! अभी ये कम्पटीशन इनके स्वास्थ्य को लेकर भी शुरू होगा |आप के कद्दावर मगर दागी मंत्री सत्येंद्र जैन, जिनका एल जी ऑफिस में आमरण अनशन के दौरान वजन बढ़ रहा था , अस्पताल में पहुंचाए जा चुके हैं |
दिल्ली सी एम् के ऑफिस में धरनारत भाजपा के विजेंदर गुप्ता+मनजिंदर सिरसा + जगदीश प्रधान +पश्चिम दिल्ली के सांसद परवेश वर्मा और आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा की तबियत भी बिगड़नेके समाचार आने लगे है |
इस राजनीतिक नौटंकी +अहंकार के चलते अब टैक्स पयेर्स का पैसा इनके स्वास्थ्य पर भी खर्च होगा|

केजरीवाल सुरक्षा की नौटंकी छोड़ ,पिटे आईऐएस से माफ़ी भर मांगलें

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

आप पार्टी चेयर लीडर

औए झल्लेया अब तो हसाड़े सीएम केजरीवाल साहिब ने भी हड़ताली आई ऐ एस अधिकारीयों को सुरक्षा का भरोसा दे दिया अब तो दिल्ली वासिये के लिए इन्हें काम पर लौट आना चाहिए

झल्ला

मी चतुर महाराज ! केजरीवाल सुरक्षा की नौटंकी छोड़ कर पिटे आईऐएस से माफ़ी भर मांगलें
आप तो कहते फिर रहे हो के पुलिस आपके अंडर नहीं है ,ऐसे में कैसे सुरक्षा का भरोसा दे रहे हो|हाँ पिटे आई ऐ एस से केजरीवाल जी माफ़ी भर मांगलें तो सात दिन से चली आ रही नौटंकी समाप्त हो जाएगी

“आप”ने केंद्र के खिलाफ बयानबाजी के लिए किससे सुपारी उठाई

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

दिल्ली में सत्तारूढ़ आप पार्टी चेयर लीडर

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है?औए इस प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) कार्यालय को हमारे सिवा कुछ दिखता है के नहीं?? देख तो केंद्र सरकार की सारी एजेंसियों को हसाड़े खिलाफ लगा रखा है |आये दिन आई ऐ एस+सी बी आई+ईडी +इनकम टैक्स के साथ ही दिल्ली पुलिस को भी हम पर ही छोड़ रखा है|राज्यपाल अनिल बैजल को तो विशेष रूप से हमारे खिलाफ कार्य करने के आदेश दिए गए हैं | ऐसे कैसे चलेगा लोक तंत्र ???

झल्ला

ओ मेरे चतुर शतुरमुर्ग ! आप लोगों ने ही केंद्र के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है|अब तो आप की सरकार ही धरना -धरना खेलने लग गई है |इसीलिए पहले ये बताओ के केंद्र के खिलाफ आये दिन बयानबाजी के लिए आप लोगों ने किस्से सुपारी ली हुई है????

शिमला+पंजाब+दिल्ली के नेताओं में पानी समाप्त

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

आम पीड़ित नागरिक

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है? औए अभी तक तो रेगिस्तानों में पानी की कमी की सुनते आये थे अब ये खुशहाल शहरों में भी पानी के लिए हाहाकरा मच रही है |हिमांचल प्रदेश के शिमला+पंजाब के लुधियाना+दिल्ली में पानी के लिए मारामारी हो रही है और ये भाजपा+कांग्रेस +आप की सरकारें एक दूसरे पर दोषारोपण में ही लिप्त हैं

झल्ला

भापा जी ये पानी की कमी किसी एक प्रदेश या किसी एक राजनितिक पार्टी की सरकार में नहीं हैं| ऐसा लगता है के राजनितिक दलों के अंदर पानी समाप्त होने लगा गया है|

एलजी+एमसीडी पर 15000 करोड़ की भूमि के घोटाले का आरोप

[नई दिल्ली] दिल्ली में सत्तारूढ़ “आप” ने एलजी और एमसीडी पर भूमि घोटाले का आरोप लगाया
बुधवार को आप पार्टी कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए आम आदमी पार्टी [आप]के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिलीप पाण्डेय ने कहा कि दिल्ली की भाजपा शासित निगम में भाजपा के आशीर्वाद से दिल्ली के इतिहास का सबसे बड़ा भूमि घोटाला हुआ है। नॉर्थ एमसीडी की एडिशनल कमिश्नर रेनू जगदेव की चिट्ठी का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि नॉर्थ दिल्ली में स्थित खैबर-पास गांव इलाके के नज़दीक स्थित 95 एकड़ ज़मीन का एक टुकड़ा जिसकी अनुमानित कीमत 15000 करोड़ है, अवैध तरीके से कुछ निजी लोगों को फायदा पहुंचाने के इरादे से एक प्राइवेट बिल्डर को दे दिया।
दिलीप पाण्डेय ने कहा कि चूँकि ये सरकारी संस्थान उप-राज्यपाल साहब के अधीन आते हैं, तो ये संभव ही नहीं है कि इसकी जानकारी उपराज्यपाल साहब को नहीं है। *इस पूरे प्रकरण की जानकारी दिल्ली के उप-राज्यपाल साहब के साथ-साथ एमसीडी के कमिश्नर और अधिकारियों और भाजपा के सचिव साहब को भी थी। तो सवाल ये उठता है कि भाजपा इस भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है।
आतिशी मारलीना ने भाजपा, उपराज्यपाल और मुख्य सचिव के समक्ष कुछ सवाल रखे…
१]ये 95 एकड़ ज़मीन किसकी थी और किसने ये ज़मीन प्राइवेट बिल्डर को दी?
२]क्या भाजपा, उप-राज्यपाल और मुख्य सचिव को इस महा-घोटाले की जानकारी नहीं थी?
३]क्या इस ज़मीन का आबंटन बिना भाजपा, उपराज्यपाल और मुख्य सचिव की जानकारी के दिल्ली मेट्रो को कर दिया गया?
४]वो कौन सा अधिकारी है जिसने इस ज़मीन के आबंटन को मंज़ूरी दी?
५] भाजपा से लेकर सभी संसथान इस महा घोटाले पर चुप क्यों हैं?
आप नेताओं ने पूछा के इस ज़मीन के 15000 करोड़ रूपए किस-किस की जेब में गए?
फाइल सिंबॉलिक फोटो

आप पार्टी पर दिल्ली के मजदूरों का हक़ हड़पने के आरोप

[नई दिल्ली] आप पार्टी पर दिल्ली के मजदूरों का हक़ हड़पने के आरोप केजरीवाल की “आप” पार्टी पर भ्र्ष्टाचार के आरोप
करप्शन पर जीरो टोलेरेंस निति का दवा करने वाली आम आदमी पार्टी [आप] पर एक के बाद एक आरोप लगाने शुरू हो गए हैं|
सीसीटीवी प्रोजेक्ट में अरबों रु के करप्शन के पश्चात् अब लेबर फंड्स में १३९ करोड़ रु के घोटाले को उजागर किया गया है|
यद्पि सी सी टी वी मामले में अभी आरोप प्रत्यरोप का दौर चल रहा है लेकिन एंटी करप्शन बोर्ड[ऐ सी बी] ने दिल्ली के श्रम विभाग के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर लिया है |दिल्ली के लेबर वेलफेयर बोर्ड के पूर्व अधिकारी सुखबीर शर्मा की शिकायत पर यह कार्यवाही की गई है |बताया जा रहा है के पार्टी के कार्यकर्ताओं को अवैध तरीके से मजदूर वर्ग में पंजीकृत करवा कर उन्हें आर्थिक लाभ पहुँचाया गया|
२००२ में मजदूरों को लगभग १७ सुविधाएँ देने के लिए दिल्ली लेबर वेलफेयर बोर्ड का गठन किया गया था|इस लाभ को अपने कार्यकर्ताओं तक पहुँचाने के लिए उन्हें अवैध तरीके से पंजीकृत करवाया गया |इस प्रकार नौकरी करने वाले भी श्रमिकों को मिलने वाले लाभ को हड़पने में सफल हो गए

“आप” के २० विधायकों के निरस्तीकरण के मामले को न्यायालय ने चुनाव आयोग को भेजा

[नयी दिल्ली]”आप” के २० विधायकों के निरस्तीकरण के मामले को न्यायालय ने चुनाव आयोग को भेजा
दिल्ली में सत्तारूढ़ आप के 20 विधायकों को अयोग्य ठहराने वाली अधिसूचना पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग को दोबारा सुनवाई करने के लिए
कहा |इससे आप पार्टी खेमे में जश्न का माहौल है |मिठाइयां बांटी जा रही है| आह्लादित मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसे सच्चाई की जीत करार दिया।
न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति चंद्रशेखर की पीठ ने कहा कि आप विधायकों को अयोग्य ठहराने वाली अधिसूचना कानूनन सही नहीं थी और उनका मामला फिर सेसुनवाई के लिये चुनाव आयोग के पास भेज दिया।
इसमें नैसर्गिक न्याय के उल्लंघन का हवाला दिया गया है |
दागी विधायकों की यह दलील थी के चुनाव आयोग ने इन विधायकों को दिल्ली विधानसभा की सदस्यता के लिये अयोग्य ठहराने की सिफारिश करने से पहले कोई मौखिक सुनवाई का अवसर नहीं दिया।

चीफ सेक्रेटरी प्रकरण पर स्वराज इंडिया बोले!”सर्कस चला रहे हैं केजरीवाल जी”

[नई दिल्ली]चीफ सेक्रेटरी प्रकरण पर स्वराज इंडिया बोले! “सर्कस चला रहे हैं केजरीवाल जी
स्वराज इंडिया ने आम आदमी पार्टी और दिल्ली के मुख्य सचिव के बीच चल रहे विवाद को बेहद शर्मनाक बताते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सरकार की जगह सर्कस चलाने का आरोप लगाया |
पार्टी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अनुपम ने कहा कि पहली बार नहीं है जब ऐसी कोई घटना सामने आयी हो। पहले भी आम आदमी पार्टी के सदस्यों और उनके सुप्रिमो अरविंद केजरीवाल ने प्रशासनिक अधिकारियों को अपमानित किया है और झूठे आरोप लगाए हैं। चाहे
शकुंतला गैमलिन का मामला रहा हो या
आशीष जोशी का वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बदतमीज़ी और अपमानित पहले भी किया जाता रहा है। दरअसल, अरविंद केजरीवाल ऐसे हाई वोल्टेज़ ड्रामा हमेशा चालू रखना चाहते हैं ताकि सार्वजनिक हितों से जुड़े असल मुद्दों पर सवालों से बचा जाता रहे।
अमानतुल्लाह ख़ान जैसे विधायकों या केजरीवाल जी के पिछले ट्रैक रिकॉर्ड को देखें तो इनकी राजनीति में अपमानजनक और अभद्र व्यवहार का योगदान साफ़ दिखता है। अत: मुख्य सचिव के आरोपों ओर आश्चर्य नहीं होता।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद इस बैठक में उपस्थित थे, जहां उनके विधायकों ने मुख्य सचिव के साथ दुर्व्यवहार किया। अगर ये आरोप ग़लत हैं तो मुख्य मंत्री जनता के समक्ष आकर सार्वजनिक तौर पर सफाई क्यों नहीं दे रहे हैं?

गृहमंत्रालय ने केजरीवाल के गृह में चीफसेक्रेटरी से हुई बदसुलूकी की रिपोर्ट मंगवाई

[नई दिल्ली] केंद्र ने केजरीवाल के घर में चीफ सेक्रेटरी से बदसुलूकी की रिपोर्ट एलजी से मंगवाई |
गौरतलब हे के बीतीरात मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल के निवास पर उनके सामने उनके ही विधायकों द्वारा चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश से बदसुलूकी की गई जिसे केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गंभीरता से लेते हुए इनकी मॉनिटरिंग शुरू कर दी है ,जिसके अंतर्गत दिल्ली के एलजी अनिल बैजल से रिपोर्ट मंगवाई गई है |दिल्ली सरकार में तैनात आईऐएस अधिकारीयों के दल से भी मुलाक़ात किये जाने के समाचार हैं |प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली सरकार के विज्ञापनों को सरकार की इच्छानुसार प्रकाशित करवाने के लिए अधिकारियोंपर दबाब बनाय जा रहा है | इसी उद्द्श्य की प्राप्ति के लिए बीती रात लगभग बारह बजे चीफ सेक्रेटरी को मुख्य मंत्री निवास पर बुलवाया गया जहाँ आप के दो विधायकों दुवारा दिल्ली के सर्वोच्च अधिकारी को थप्पड़ भी मारे गए |इस दुर्व्यवहार के फलस्वरूप अधिकारी का चश्मा भी टूट कर गिरने के समाचार हैं|इस बुरे बर्ताव से नौकरशाही में आक्रोश हैं | इस वर्ग ने एल जी अनिल बैजल से मुलाकात करके विधायकों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की मांग की है| दिल्ली में भाजपा और कांग्रेस ने भी दिल्ली की “आप” पार्टी की सरकार पर हमले करने शुरू कर दिए हैं

सीलिंग के दावानल को लेकर “आप” के नेता २९ को मार्च निकालेंगे और एलजी से भी मिलेंगे

[नईदिल्ली]सीलिंग के दावानल को लेकर सत्तारूढ़ “आप” के नेता अब एलजी से मिलेंगे |
सीलिंग के ख़िलाफ़ 29 जनवरी को आम आदमी पार्टी ने संसद मार्च का एलान किया है जबकि एल जी से मुलाक़ात के लिए भी २९ जनवरी का ही समय माँगा गया है| पूर्व में आहत दिल्ली बंद में भी पार्टी ने हिस्सा लिया था|पार्टी के प्रवक्ता दिलीप पांडे के अनुसार
भाजपा शासित एमसीडी संयुक्त सत्र के माध्यम से सीलिंग को लेकर सिर्फ़ नाटक कर रही है, जहां तक प्रश्न कन्वर्जन चार्ज का है तो उसे एमसीडी बिना सत्र के कर सकती है और व्यापारियों को राहत दे सकती है, और मास्टर प्लान को लेकर सारे अधिकार उनकी ही शासित केंद्र सरकार के पास है ना कि एमसीडी के पास, केंद्र अध्यादेश लाकर मास्टर प्लान में तब्दीली करके व्यापारियों को राहत दे सकता है लेकिन अफ़सोस कि भाजपा इसे लेकर गंभीर नहीं दिख रही है
आम आदमी पार्टी के कई विधायकों ने सीलिंग के मुद्दे को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से आगामी 29 जनवरी को मिलने का वक्त मांगा है। ताकि दिल्ली के व्यापारियों को राहत देने के लिए उसके समाधान पर सार्थक चर्चा की जा सके।
आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और दिल्ली के ग्रेटर कैलाश से विधायक सौरभ भारद्वाज के अनुसार ‘दिल्ली में इस वक्त व्यापारियों पर सीलिंग का हथौड़ा चलाकर उनके काम-धंधों को ख़त्म किया जा रहा है, भाजपा इस पूरे मुद्दे पर लगातार व्यापारियों से झूठ बोल रही है जबकि सीलिंग का समाधान भाजपा शासित एमसीडी और उनकी ही केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में है।
दिल्ली में मास्टर प्लान के अंदर तब्दीली करने का अधिकार डीडीए के पास है और डीडीए सीधा भाजपा शासित केंद्र सरकार और केंद्र सरकार के प्रतिनिधि एंव दिल्ली के उपराज्यपाल के अधिकार क्षेत्र में काम करता है, ।
इसके अलावा इस सत्तारूढ़ पार्टी ने शनिवार को सीलिंग के ख़िलाफ़ सिविक सेंटर तक मार्च किया।
इस विरोध मार्च में तीनों एमसीडी में पार्टी के पार्षद, निगमों के नेता विपक्ष एंव आप पार्षद, एल्डरमैन और आप के पूर्व विधायक जरनैल सिंह एंव अनिल बाजपेई शामिल हुए।