Ad

Tag: Food Security bill

बिहार में खाद्य आपूर्ति सम्बन्धी विभागों में अनेकों स्वीकृत पद रिक्त हैं और दुकानदार राशन नहीं उठा रहे

बिहार में खाद्य आपूर्ति सम्बन्धी विभागों में अनेकों स्वीकृत पद रिक्त हैं और दुकानदार राशन नहीं उठा रहे |
फ़ूड सिक्यूरिटी बिल की हिमायती जे डी यूं के अपने बिहार में खाद्य आपूर्ति सम्बन्धी विभागों में राज्य खाद्य निगम के स्वीकृत १२८ और २६६ प्रखंड आपूर्ति [नए] पदों पर भी रिक्तियां हैं| इसके अलावा पांच राज्यों के ८६५ राशन दुकानदारों ने राशन नहीं उठाया है| यह स्वीकोरोक्ति आज खाद्य एवं उपभोक्ता सरंक्षण विभाग के मंत्री श्याम रजक ने स्वयम की है|उन्होंने इन पदों को शीघ्र भरने का आश्वासन भी दिया है|मंत्री श्याम रजक ने इन रिक्तियों को भरने के लिए आदेश दिए जाने का दावा भी किया है| मंत्रालय में समीक्षा बैठक में मंत्री ने बताया कि गौदाम निर्माण के सम्बन्ध में राज्य सरकार कि यौजना के अंतर्गत ५ लाख में.टन के प्रीफेब्रिकेटेड [ Prefabricated ]गौदाम निर्माण की यौजना नाबार्ड को भेजी जा चुकी हैं |राज्य खाद्य निगम के अपर प्रबंध निदेशक ने मंत्री को अवगत कराया कि पांच जिलों से ८६५ दुकानदार खाद्यान के उठाव के लिए नहीं आये हैं|इनका विवरण निम्न है :
[१]जहानाबाद से १५
[२]अरवल से १००
[३]बक्सर में ५३
[४]रोहतास से ५८६
[५]मुजफ्फर पुर से २११
२ करोड़ १९ लाख राशन कार्ड का विवरण बेल्तोन को उपलब्ध कराया जा चुका हैं|और १ करोड़ ७८ लाख डाटा एंट्री हो भी चुकी है| बैठक में प्रधान सचिव शिशिर सिन्हा +सत्यानन्द +संजय कुमार+दिलीप कुमार+डॉ सिद्धार्थ +आदि अनेको वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे|

खाद्य सुरक्षा के बोझ से भारतीय रूपया आज फिर रोया और सेंसेक्स भी सिसका

खाद्य सुरक्षा के बोझ से भारतीय रूपया आज फिर रोया और सेंसेक्स भी सिसका|
शेयर बाजार में पिछले तीन दिन के दौरान रुपये ने डॉलर के मुकाबिले कमर सीधी करने का प्रयास किया लेकिन आज फ़ूड सिक्यूरिटी बिल के दबाब से डालर के मुकाबले रुपये में भारी गिरावट देखी गई|एक डॉलर को खरीदने के लिए ६६.३० भारतीय रुपये का भुगतान किया गया|
इससे शेयर भी औंधे मुंह गिरे | बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 590 अंक से अधिक का गोता लगा गया।

संशोधनों के ईंधन पर पकाए बगैर ही कच्चे अनाज की सिक्यूरिटी से भ्रष्टाचार के अपच से देर सबेर ढिड[पेट] में दर्द होनी ही है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कुलांचे भरता एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झाल्लेया मुबारकां ओये देखा हसाडी नेत्री श्रीमती सोनिया गाँधी जी ने दिन रात एक करकेयहाँ तक के खुद बीमार पड़ कर भी फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को लोक सभा में अपनी अनुपस्थिति में पास करवा लिया| ओये आज के नो घंटे के मंथन [ बहस] से निकले फ़ूड सिक्यूरिटी के अमृत से देश की ८२ करोड़ जनता को सस्ता अनाज उपलब्ध हो सकेगा|अब कोई भूखा नहीं सोयेगा|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी आप जी के इस फ़ूड सिक्यूरिटी बिल से आप जी की चुनावों में दाल तो गल जायेगी और विपक्ष की हांडी टूट जायेगी लेकिन आप जी ने विपक्ष के ३०० से ज्यादा संशोधनों के ईंधन पर पकाए बगैर ही कच्चे अनाज की व्यवस्था कराई है इससे देर सबेर भ्रष्टाचार के अपच से आपलोगों के ढिड[पेट] में दर्द होनी ही है|

संसद में कोयले की कालिख में सरकार के महत्वकांक्षी फ़ूड सिक्यूरिटी बिल भी सफेदी नही पा सके

[नई दिल्ली] संसद में आज कोयले की कालिख में सरकार के महत्वकांक्षी फ़ूड सिक्यूरिटी बिल भी सफेदी नही पा सके | : कोयला ब्लाक आवंटन से जुड़ी फाइलों के गुम होने पर कांग्रेस नीत संप्रग सरकार को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास करते हुए भाजपा ने आज प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से पूरे घटनाक्रम पर जवाब देने की मांग की।
सरकार की ओर से हालांकि आश्वासन दिया गया कि गायब दस्तावेजों का पता लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी लेकिन कोयला घोटाले से जुडी महत्वपूर्ण [१५७]फाइलें कोयला मंत्रालय से गुम हो जाने के मुद्दे पर भाजपा सहित विभिन्न दलों के सदस्यों ने आज सरकार पर हमला जारी रखा और प्रधानमंत्री से जवाब मांगा।
भारी हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक चार बार के स्थगन के बाद अंतत: दिन भर के लिए स्थगित कर दी गयी।
कोलगेट के इस मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे के कारण लोक सभा में भी कार्यवाही बाधित रही | सरकार का हालांकि कहना था कि वह दस्तावेजों का पता लगाने में कोई कोर कसर नहीं बाकी रखेगी।
जनता दल [यूनाइटेड] आज खाद्य सुरक्षा विधेयक के समर्थन में आया तो दूसरी ओर सपा अपनी कुछ शर्तों के अनुसार इसमें संशोधन पर अड़े हैं| गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों कोयला मंत्री श्री प्रकाश जायसवाल ने मीडिया में ब्यान दिया था कि कोयला घोटाले से जुडी अनेको महत्वपूर्ण फाईले मंत्रालय से गुम है जिसे लेकर विपक्ष ने प्रधान मंत्री और कोयला मंत्री की घेरा बंदी तेज कर दी |इसका असर संसद में भी दिखाई दिया|विपक्ष ने इसे लेकर संसद की कार्यवाही ठप्प रखी|गौरतलब है कि स्वर्गीय राजीव गाँधी के जन्म दिवस पर यूं पी ऐ सरकार फ़ूड सिक्यूरिटी जैसे महत्वपूर्ण बिल को पास करना चाहती थी लेकिन यह महत्वकांक्षा फ़िलहाल कोयले की कालिख में गुम ही रही |

फ़ूड सिक्यूरिटी बिल के लिए भाजपा ने संसद के मानसून सत्र को जल्द बुला कर व्यापक बहस की मांग को दोहराया

भाजपा ने आज खाद्य सुरक्षा यौजना पर अपना रुख साफ़ करते हुए इस महत्वपूर्ण बिल पर बहस के लिए संसद के मानसून सत्र को शीघ्र बुलाये जाने की मांग की है| पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीमति निर्मला सीतारमण ने प्रेस स्टेटमेंट जारी की है जिसमे फ़ूड सिक्यूरिटी बिल पर बहस और अन्य राजनितिक दलों की राय जानने को आवश्यक बताया गया है|. भाजपा ने समान्य ऑर्डिनेंस की भांति इसे भी पास किये जाने पर आपत्ति दर्ज़ कराई है| इसी बीच वित्त मंत्री ने फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को स्तगित किये जाने की सूचना दी है और संसद में बहस के लिए हामी भर दी है| यही लोक तंत्र का तकाजा भी है|

मुलायम सिंह यादव ने भी बिना बहस कराये खाद्य सुरक्षा अध्यादेश लाये जाने के विरोध में ताल ठोंकी : सरकार से समर्थन वापिसी की धमकी

केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी खाद्य सुरक्षा अध्यादेश के विरोध में अब सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने भी ताल ठोंक दी है|एन सी पी के अध्यक्ष और कृषि मंत्री शरद पवार के बाद अब मुलायम सिंह का विरोध सरकर के लिए जोखिम पैदा कर सकता है|
मुलायम सिंह ने एलानिया कह दिया है कि सरकार इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर बेक डोर से अध्यादेश लाने का प्रयास नहीं करें वरना सपा किसी भी सीमा तक जा सकती है| गौरतलब है कि सपा ने सरकार को बाहर से समर्थन दिया हुआ है| और सपा के विड्रावल से सरकर खतरे में आ सकती है |उत्तर प्रदेश के मंत्री और सपा के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने अपनी पार्टी का रुख साफ़ करते हुए बताया कि यह महत्वपूर्ण मुद्दा है और १०० करोड़ लोगों से जुडा हुआ है| इसीलिए इसे हडबडी में लाने के बजाये इस पर व्यापक बहस होनी चाहिए मानसून सत्र में इसके व्यवहारिक पक्ष को सामने लाना चाहिए| सपा पार्टी का मानना है कि चुनावों में राजनीतिक लाभ पाने के लिए ही हडबडी में बिल को लाया जा रहा है जिसका भरपूर विरोध किया जाएगा|
इससे पूर्व सी पी आई+एन सी पी +भाजपा+जे डी यू बहस की मांग करती आ रही हैं लेकिन केंद्र सरकार खाद्य सुरक्षा यौजना को गेम चेंजर के रूप में देख रही है और बकौल संसदीय कार्य मंत्री कमल नाथ सरकार भी किसी हद तक जा सकती है|

विश्व में सबसे बड़े लोक तंत्र की प्रहरी भारतीय संसद अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

विश्व के सबसे बड़े लोक तंत्र भारत की संसद के दोनों सदन राजनितिक दलों के अहम् के चलते निश्चित अवधि से दो दिन पूर्व बुधवार को अनिश्चितकालीन अवधि के लिए स्थगित कर दिए गए| |गरीबों के हितों के लिए कार्य करने का दावा करने वाली कांग्रेस और भाजपा दोनों प्रमुख दल देश की ६५% गरीब जनता की भलाई के लिए लाया जा रहा फ़ूड सिक्यूरिटी बिल तक पास नही करा पाए |
राज्य सभा को सुचारू रूप से चला पाने में असमर्थ चेयर मैन हामिद मोहम्मद अंसारी ने तल्ख टिपण्णी करते हुए कहा है के सदन की उपलब्धि या हानि का विवरण सभी कुछ जनता के सामने है इसीलिए इस पर कमेंटरी करने की कोई आवश्यकता नही है| इसके साथ ही उन्होंने यह भी सवाल उठाया है के संसदीय प्रणाली के लिए आवश्यक तीन नियमो [१]व्यवस्था [२]+विचार विमर्श+[३]जवाब देही की अब कोई प्रासंगिकता नहीं रह गई है?[Regulation+Deliberation+Accountability]
लोक सभा में भी कोई कार्यवाही नही होने से क्षुब्ध स्पीकर मीरा कुमार ने बजट सत्र के दूसरे चरण की गैर परम्परागत स्थगन पर कोई विदाई भाषण नही दिया |सदन का कार्यकाल १० मई तक था| बुधवार को भी दोनों सदनों में कोल गेट और रेल गेट को लेकर हंगामा रहा जिसके चलते दो बार स्थगन का चाबुक चलाया गया |

विश्व के सबसे बड़े लोक तंत्र की संसद आज भी नहीं चली:Parliament Adjourned

विश्व के सबसे बड़े लोक तंत्र भारत की संसद आज भी नहीं चली |आज का दिन भी हंगामे की भेंट चढ़ गया| विपक्ष ने वेल में कोल गेट और रेलगेट को लेकर सम्बंधित मंत्रियों के इस्तीफे की मांग उठाई| चेयर पर आसीन स्पीकर मीरा कुमार +फ्रांसिस्को सर्दिन्हा लोक सभा में और पी जे कुरियन राज्य सभा में शोर शाराबे के सामने असहाय नज़र आये| भक्त चरण दास फ़ूड सिक्यूरिटी बिल पर अपना भाषण नही दे पाए|
भाजपा ने अपनी घोषणा के अनुसार संसद को चलने नहीं दिया| कोल गेट पर कानून मंत्री अश्विनी कुमार और रेलगेट पर रेल मंत्री पवन बंसल के इस्तीफे के बगैर संसद की कार्यवाही में कोई सहयोग देने को तैयार नही हुई| अब एन डी ऐ भ्रष्टाचार के मुद्दे को छोड़ने को तैयार नही है और यूं पी ऐ सत्ता में वापिसी के लिए पास पोर्ट के रूप में फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को पास कराना चाह रही है| सत्ता पक्ष को इस महत्पूर्ण बिल के भरोसे देश के ६५% लोगों तक पहुँचने की आशा है|इसीलिए कांग्रेस ने अपने सांसदों को संसद में हाज़िर रहने के लिए व्हिप जारी कर दिया है इसीलिए बुधवार का दिन भारतीय संसद के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है|

भाजपा के पूर्व मुखिया के एक दामाद के भ्रष्टाचार के बदले कांग्रेस के एक दामाद के साथ एक भांजे की मांग करना उचित नही है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक बौखलाया कांग्रेसी

ओये झल्लेया ये डेमोक्रेसी के साथ क्या मजाक हो रहा है ?ओये हमने भाजपाई अटल बिहारी वाजपाई के दामाद के भ्रष्टाचार को कभी मुद्दा नहीं बनाया और ये नाशुक्रे आये दिन हमारे मंत्रियों के बच्चों पर अटैक करने लग गए हैं|और तो और कोलगेट और रेलगेट को लेकर संसद भी चलने नहीं दे रहे|और कोई नही मिला तो हसाड़े बेचारे रेल मिनिस्टर पवन बंसल के भांजे को लेकर गरीबों के लिए फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को भी पास नही होने दे रहे|ओये ऐसे संसद चलती है कभी?

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी हिसाब क़िताब बराबरी पर होना चाहिए |आपने भाजपा केपूर्व मुखिया के दामाद को छोड़ाइन भाजपाइयों ने आपजी के राबर्ट वढेरा को छोड़ कर हिसाब बराबर कर दिया अब एक के बदले एक दामाद के साथ भांजे की भी मांग करना तो ज्यादती ही होगी|