Ad

Tag: IsonWorkshop

आइजोन कार्यशाला कार्यशाला में खगोलीय विज्ञान के प्रति बच्चो में जिज्ञासा बनाने पर बल दिया गया

[मेरठ]आइजोन पर आधारित दो दिवसीय आइजोन कार्यशाला कार्यशाला में खगोलीय विज्ञान के प्रति बच्चो में जिज्ञासा बनाने पर बल दिया गया
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय नई दिल्ली और विज्ञान प्रसार द्वारा उत्प्रेरित हरियाणा विज्ञान मंच व प्रगति विज्ञान संस्था द्वारा धूमकेतु आइजोन पर आधारित दो दिवसीय कार्यशाला की शुरुआत आज स्थानीय राधा गोविन्द इंजीनियरिगं कालिज मे की गयी।
कार्यशाला मे उत्तर प्रदेश के 10 जनपदो के 55 शिक्षक प्रतिभागिता कर रहे है। कार्यशाला का शुभांरम्भ जाने माने भौतिक शास्त्री प्रो. एस.पी. खरे ने किया। शिक्षको को सम्बोधित करते हुए प्रो. खरे ने कहा कि “आप बच्चो की जिज्ञासा बनाये बाकि काम आप उन पर छोड दिजिये वे अपनी मंजिल स्वंय तलाश लेगे। महान वैज्ञानिक सी.वी. रमन के बाद भारत वर्ष मे भारत मे रहते हुए कोई वैज्ञानिक नोबल पुरुस्कार प्राप्त नही कर पाया है इसलिये अब समय आ गया है कि हम सही दिशा मे कदम उठाये ओर भारत को विज्ञान के क्षेत्र मे अग्रणी देश बनाये।”
हरियाणा विज्ञान मंच के सचिव सतबीर नागल ने बताया कि यह संस्था उत्तर भारत में आइजोन कार्यशाला के लिये नोडल एंजेसी के रुप मे कार्य कर रही है । कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए राधा गोविंद इंजीनियरिगं कालिज के निदेशक प्रो. ईकराम हुसैन ने कहा साइंस को समझने के लिये हमे प्रकृति को नजदीक से समझना होगा। प्रकृति की छोटी से छोटी वस्तु मे विज्ञान निहित है हमे अपने छात्र-छात्राओ मे वैज्ञानिक दृष्टिकोण पैदा करने की आज भारतवर्ष को सबसे ज्यादा जरुरत है।
इससे पूर्व दीपक शर्मा ने खगोल के अपडेट रखने के लिए प्रयोग की जाने वाली वेबसाईट के बारे मे जानकारी दी। पृथ्वी की परिधी नापने का प्रयोग किया गया। सबसे छोटी परछाई 12 बजकर 25 मिनट पर आई सबसे छोटी परछाई ने उत्तर दिशा और स्थानीय अक्षान्तर के बारे मे भी बता दिया।
हरियाणा से आयी वैज्ञानिक डां दीपा ने खगोल के रहस्यो पर से विस्तार से पर्त दर पर्त रहस्य खोला।
शिक्षक मंतीन अंसारी, मनोज कुमार व रोहिणी ने सभी को हाइड्रो राकेट बनाना सिखाया। हरियाणा विज्ञान मंच ने मोबाईल तारामंडल के माध्यम से राशियो पर प्रकाश डाला। सभी ने टेलिस्कोप से मंगल,बृहस्पति,शनि आदि ग्रहो को भी देखा।
कल सुबह[बुधवार] 10 बजे प्रयोगशाला के बिना कैसे समझे विज्ञान इस पर प्रदर्शकारी सम्बोधन होगा साथ ही विज्ञान ओर हम पर भी चर्चा होगी। जिसमे सभी प्रतिभागियो को प्रमाण पत्र भी दिये जायेगे।
आज कार्यशाला में राधा गोविन्द ग्रुप के निदेशक प्रो. ईकराम हुसैन, डीन डा. राजेश तिवारी, डा. अमित शर्मा तथा शिक्षक डी.के.पाल,नेत्रपाल,ऋषिपाल,माला,पूनम,मंतीनअंसारी,सीमा, योगेश, मोहित आदि ने भाग लिया