Ad

Tag: LGAnilBaijal

सीलिंग के दावानल को लेकर “आप” के नेता २९ को मार्च निकालेंगे और एलजी से भी मिलेंगे

[नईदिल्ली]सीलिंग के दावानल को लेकर सत्तारूढ़ “आप” के नेता अब एलजी से मिलेंगे |
सीलिंग के ख़िलाफ़ 29 जनवरी को आम आदमी पार्टी ने संसद मार्च का एलान किया है जबकि एल जी से मुलाक़ात के लिए भी २९ जनवरी का ही समय माँगा गया है| पूर्व में आहत दिल्ली बंद में भी पार्टी ने हिस्सा लिया था|पार्टी के प्रवक्ता दिलीप पांडे के अनुसार
भाजपा शासित एमसीडी संयुक्त सत्र के माध्यम से सीलिंग को लेकर सिर्फ़ नाटक कर रही है, जहां तक प्रश्न कन्वर्जन चार्ज का है तो उसे एमसीडी बिना सत्र के कर सकती है और व्यापारियों को राहत दे सकती है, और मास्टर प्लान को लेकर सारे अधिकार उनकी ही शासित केंद्र सरकार के पास है ना कि एमसीडी के पास, केंद्र अध्यादेश लाकर मास्टर प्लान में तब्दीली करके व्यापारियों को राहत दे सकता है लेकिन अफ़सोस कि भाजपा इसे लेकर गंभीर नहीं दिख रही है
आम आदमी पार्टी के कई विधायकों ने सीलिंग के मुद्दे को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से आगामी 29 जनवरी को मिलने का वक्त मांगा है। ताकि दिल्ली के व्यापारियों को राहत देने के लिए उसके समाधान पर सार्थक चर्चा की जा सके।
आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और दिल्ली के ग्रेटर कैलाश से विधायक सौरभ भारद्वाज के अनुसार ‘दिल्ली में इस वक्त व्यापारियों पर सीलिंग का हथौड़ा चलाकर उनके काम-धंधों को ख़त्म किया जा रहा है, भाजपा इस पूरे मुद्दे पर लगातार व्यापारियों से झूठ बोल रही है जबकि सीलिंग का समाधान भाजपा शासित एमसीडी और उनकी ही केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में है।
दिल्ली में मास्टर प्लान के अंदर तब्दीली करने का अधिकार डीडीए के पास है और डीडीए सीधा भाजपा शासित केंद्र सरकार और केंद्र सरकार के प्रतिनिधि एंव दिल्ली के उपराज्यपाल के अधिकार क्षेत्र में काम करता है, ।
इसके अलावा इस सत्तारूढ़ पार्टी ने शनिवार को सीलिंग के ख़िलाफ़ सिविक सेंटर तक मार्च किया।
इस विरोध मार्च में तीनों एमसीडी में पार्टी के पार्षद, निगमों के नेता विपक्ष एंव आप पार्षद, एल्डरमैन और आप के पूर्व विधायक जरनैल सिंह एंव अनिल बाजपेई शामिल हुए।

डीडीऐ की नई उज्जवल हाउसिंग स्कीम का भविष्य क्या होगा?

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

ओऐ झल्लेया मुबारकां! हसाड़े कर्मठ वेंकैय्या नायडू साहिब के अथक प्रयासों से दिल्ली विकास प्राधिकरण[डीडीऐ]अगले महीने से १२ हजार नए मकानों की स्कीम ला रहा है|ओऐ! अब बिल्डर्स के शिकंजे से मुक्त होंगे और सब जरुरत मंदों को सस्ते मकान मिल जायेगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी !खैर मुबारक जी! लेकिन १९७९ में भी ऐसी ही स्कीम निकाली गई थी जिसे २००६ में पूरा किया गया लेकिन उनकी फाइलें अभी भी डी डी ऐ के एकाउंट्स सेक्शन में फसी हैं |डी डी ऐ में किसी को यह नहीं पता के
कितने मकान दिए गए+
कितनों से पैसा वसूला गया +
कितनों को माफ़ किया गया
और लंबित पैसे वसूलने के लिए क्या कार्यवाही की गई
इसके पार्श्व में डीडीऐ की नई उज्जवल हाउसिंग स्कीम के भविष्य का क्या होगा?