Ad

Tag: mayavati

बसपा के मजबूत स्थम्भ ‘मौर्य’ने पार्टी छोड़ी,माया ने कहा- धन्यवाद

[लखनऊ,यूपी] बहुजन समाज पार्टी [बीएसपी]के मजबूत स्थम्भ मौर्य ने पार्टी छोड़ी ,माया ने पार्टी छोड़ कर जाने के लिए धन्यवाद कहा |मौर्य ने मायावती पर टिकटों की नीलामी का आरोप लगाते हुए दौलत की बेटी कहा तो मायावती ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके कहा के मौर्य पूरे परिवार के लिए टिकट चाहते थे |
चुनावी मोड में आ चुके यूपी में बसपा के लिए यह बढ़ा झटका हो सकता है |पार्टी के वरिष्ठ लीडर स्वामी प्रसाद मौर्या ने पार्टी में टिकटों की नीलामी का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ने का एलान किया| मौर्य ने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर टिकटों की नीलामी का आरोप लगाते हुए कहा के पार्टी में उनका दम घुट रहा है |मौर्य एसेंबली में नेता प्रतिपक्ष हैं |मंत्रीमंडल में होने जा रहे ७ वे विस्तार के मद्देनजर अब मौर्य के सत्तारूढ़ सपा में जाने की सुगबुहाट शुरू हो गई है|प्रेस कांफ्रेंस में असंतुष्ट नेता ने कहा के आगामी चुनावों के लिए मायावती द्वारा खुले रूप से टिकटों की बिक्री नहीं वरन नीलामी की जा रही है जिसके फलस्वरूप उचित उम्मीदवारों का चयन नहीं हो पा रहा

बसपा का हाथी किस और करवट लेगा:राज्यसभा के द्विवार्षिक चुनाव

[लखनऊ,यूपी]राज्य सभा के लिए यूपी में केवल दो दिन पश्चात चुनाव होने हैं लेकिन अभी तक राजनितिक दल अपने सियासी पत्ते नहीं खोल रहे| यहाँ तक बसपा सुप्रीमो मायावती भी अपने अतिरिक्त १२ वोटों को लेकर मोलभाव की जुगत में लगी हैं |
उन्होंने अभी तक सस्पेंस बनाए रखा है| पूछने पर जवाब दिया रिजल्ट आने दो हमारी वोटों के पैटर्न का पता चल जाएगा |४०३ विधायकों वाली असेंबली में बहुजन समाज पार्टी[BSP] के खाते में ८० विधायक हैं |पहले ३४ प्रति वोट की दर से उनके दो सदस्यों की जीत निश्चित है, जिनमे से सतीश चन्द्र मिश्रा +अशोक सिद्धार्थ की जीत के पश्चात भी [८०-६८] १२ विधायक अतिरिक्त हैं | इन वोटों का महत्व कांग्रेस के कपिल सिब्बल और निर्दलीय धन कुबेर प्रीटी महापात्रा के लिए बढ़ जाता है |कपिल सिब्बल के लिए रालोद का नल पानी देने को तैयार हो गया है |महापात्रा से धन की प्राप्ति हो सकती है |
इसके साथ ही लेजिस्लेटिव कौंसिल में तीन सदस्य जितवाने के लिए उसके पास [८०-[29X3]८७] ७ वोट कम हैं |जिसके लिए राजनितिक सौदा हो सकता है |
कौंसिल में अंतर सिंह राव+दिनेश चन्द्र + सुरेश कश्यप को मैदान में उतारा गया हैं|इसका चुनाव १० जून को होगा |

CM Digging at PM Says People Still Awaiting “Acche Din”

[Allahabad,]CM Digging at PM Says People Still Awaiting “Acche Din”
Taking a dig at the BJP led NDA government at the Centre, Chief Minister Akhilesh Yadav today said that the people are still awaiting for ‘Acche Din’ as promised by Prime Minister Narendra Modi during the Lok Sabha elections held two years ago.
“The people of UP must be cautious. BJP and the BSP are likely to come to you soon with tall claims and false allegations against Samajwadi Party government as they are wary of its popularity which has grown over the years.
The Chief Minister was addressing a public meeting at Dandupur village in the district’s trans-Yamuna region, about 40 km from the city, where he also launched a number of schemes involving a total expenditure of Rs 200 crore.

BSP Supremo MayaVati,Breaking Silence,Called Haryana govt”Insensitive”

[Lucknow,UP]BSP Supremo MayaVati, Breaking Her Silence, Called Haryana govt “Insensitive” towards Dalits:
BSP supremo and former Uttar Pradesh Chief Minister Mayawati today accused the Khattar Led BJP government in Haryana of being “insensitive” towards Dalits and termed as shameful the killing of two children who were burnt alive three days ago.
She said at a press conference “It clearly indicates that BJP is not at all concerned or sensitive towards Dalits,”
Describing the killing of two Dalit children in Faridabad in Haryana as “shameful”, Mayawati said, “It shows insensitivity of the Haryana government.”
She said the incident is more shocking because it happened despite the police deployment in the area.
Targeting the prevalence of feudalism in the area, she said, “Feudal lords of the area wanted dalits to live like slaves but they refused and fought back. They had to leave the village after that.”
However, after the change of the government in Haryana, the BJP government took them back in the village and the police was deployed there, she said, adding even though the police was present, they were killed.
Taking on BJP, she said when similar incidents happened during the Congress government then BJP was promising to protect Dalits to come to power.
She said atrocities on Dalits are happening everywhere, including in Uttar Pradesh and the government is protecting those who are committing crime against Dalits

दादरी में गोमांस की अफवाह पर हुई हत्या पर भी सियासी तीरंदाजी शुरू

[दादरी, नयी दिल्ली,लखनऊ]दादरी में गोमांस की अफवाह पर हुई हत्या पर भी सियासी तीरंदाजी शुरू गोमांस की अफवाह पर दादरी में हुई एक हत्या पर भी सियासत गरमा गई है|भाजपा+सपा+बसपा+आप पार्टी अपने अपने तरकश से तीर चलाने लग गए हैं| गौरतलब है के उत्तरप्रदेश में गोहत्या पर प्रतिबंध है।केंद्र ने भी यूं पी सरकार से इस पर रिपोर्ट तलब कर ली है |
गोमांस खाने की अफवाह के बाद 50 वर्षीय एक व्यक्ति की भीड़ द्वारा पीट..पीटकर हत्या किये जाने का समाचार आया है जिसे लेकर उपजे तनाव के बीच केंद्रीय राज्यमंत्री महेश शर्मा ने आज इस घटना को ‘‘एक हादसा’’ करार देते हुए सांप्रदायिक रंग न देने की ताकीद की। हालांकि इस घटना को लेकर भाजपा और सत्तारूढ़ सपा के बीच आरोप..प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया।
पुलिस द्वारा सुरक्षा कड़ी किए जाने के बीच इखलाक के हताश परिजन ने कहा कि और हमले की आशंका को देखते हुए वे उत्तरप्रदेश के ग्रेटर नोएडा के इस गांव को छोड़कर जाने की योजना बना रहे हैं।
केंद्रीय मंत्री शर्मा ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, ‘‘इसे :घटना: सांप्रदायिक रंग दिए बगैर एक हादसा समझा जाना चाहिए। मेरा मानना है कि किसी गलतफहमी से यह घटना हुई और जो भी जिम्मेदार हो उसके खिलाफ कानून को सच्चाई से काम करना चाहिए।’’ परिवार के लोगों के गोमांस खाने की अफवाह के बाद सोमवार की रात को 200 लोगों की भीड़ ने इखलाक के घर पर हमला किया और पीट..पीटकर उसकी हत्या कर दी। इस दौरान इखलाक का 22 वर्षीय पुत्र दानिश गंभीर रूप से जख्मी हो गया।
इलाके में तनाव के बीच सत्तारूढ़ पार्टी ने इखलाक की हत्या के लिए भाजपा पर प्रहार करते हुए 2017 विधानसभा चुनावों से पहले इस पर जानबूझकर हिंसा भड़काने का आरोप लगाया ताकि मतदाताओं का ध्रुवीकरण किया जा सके।
राज्य के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने कहा, ‘‘उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा बड़े पैमाने पर हिंसा भड़का रही है। मुजफ्फरनगर हिंसा के बाद इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति हो रही है।’’
सपा नेता के आरोपों पर प्रतिक्रिया जताते हुए भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य में ‘‘जंगलराज’’ के लिए उत्तरप्रदेश सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा, ‘‘उत्तरप्रदेश में जंगलराज है और अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए सरकार पेशेवर अपराधियों और माफिया को शह देती है। राज्य में पूरी तरह अराजकता है
“आप” ने दादरी की इस जघन्य हत्या पर शर्मा को बख्रास्त करने की मांग की है
आप: पार्टी ने आरोप लगाया कि यह घटना साल 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों की तरह भाजपा की ‘सांप्रदायिक साजिश’ का हिस्सा है।
आशुतोष ने दिल्ली के निकट दादरी इलाके में कथित तौर पर गौमांस खाने को लेकर 50 साल इखलाख की हत्या किए जाने की घटना को दुखद करार देते हुए कहा कि यह ‘देश को तोड़ने’ के लिए भाजपा द्वारा रची गई ‘साजिश’ का हिस्सा है।
’’ आशुतोष ने कहा, ‘‘अब, भाजपा इसको राजनीतिक रंग दे रही है और स्थानीय भाजपा विधायक इसे उचित ठहरा रहे हैं और पंचायत बुला रहे हैं। भाजपा और समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश मिलकर खेल रहे हैं।’’ आप नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सिलिकन वैली में एक तरह की छवि पेश कर रहे थे और दूसरी तरफ राष्ट्रीय राजधानी से कुछ किलोमीटर पर जघन्य अपराध हो रहा था।
आप प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि भाजपा नेता अपराधियों को छुड़ाने के लिए जांच अधिकारियों पर दबाव बना रहे हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब हमारे यहां इस पर राजनीति होगी कि कोई क्या खाता है।’’
उधर लखनऊ से बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि इसके लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के अराजक एवं अपराधी तत्वों से ज्यादा प्रदेश की सपा सरकार दोषी है।
मायावती ने एक बयान में कहा, ‘‘दादरी की दर्दनाक घटना के लिए आरएसएस और भाजपा के अराजक और आपराधिक तत्वों से ज्यादा उत्तर प्रदेश की सपा सरकार दोषी है .. पुलिस की विफलता के साथ साथ प्रदेश में बदतर कानून व्यवस्था की स्थिति की दूसरी मिसाल और क्या हो सकती है।’’ उन्होंने कहा कि दादरी ही नहीं बल्कि संपूर्ण प्रदेश में ऐसे सांप्रदायिक मुस्लिम विरोधी अराजक और अपराधी तत्व सक्रिय होकर माहौल को खराब करने में लगे हुए हैं मगर प्रदेश सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई करने की कौन कहे, नरम रूख अपनाती दिखती है।
मायावती ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘अखिलेश यादव सरकार ना तो खुद कार्रवाई करती है और ना ही स्थानीय स्तर पर सिविल और पुलिस अधिकारियों को अपने दायित्वों का सही ढंग से निर्वहन करने दे रही है। इसका खास कारण यह है कि प्रदेश की सपा सरकार का यह मानना है कि अराजकता, दंगा फसाद, बलात्कार और हत्याओं के माहौल में ही वह जिन्दा रह सकती है। कानून व्यवस्था और शांति का माहौल उसे कतई पसंद नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि इस घटना ने सपा तथा भाजपा एवं संघ की आपसी मिलीभगत के साथ साथ वर्तमान अखिलेश सरकार की लचर और बेलगाम कानून व्यवस्था की पोल खोल दी है।
बसपा प्रमुख ने कहा कि हर जघन्य घटना को रूपये में तौलना अखिलेश सरकार की खास खराब आदत बन गयी है क्योंकि उसे लगता है कि पीडितों की न्याय की अभिलाषा को रूपये में तौला खरीदा जा सकता है। यह एक सामंती एवं अमानवीय मानसिकता है और बसपा इसकी कड़े शब्दों में निन्दा करती है

माया ने मोदी पर एनआरएचएम घोटाले को लेकर सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया

[नयी दिल्ली] माया ने मोदी पर एनआरएचएम को लेकर सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया
बी एस पी सुप्रीमो सुश्री मायावती ने केन्द्र पर सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया, सरकार ने इससे इंकार किया है |
बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने आज उत्तर प्रदेश में करोड़ों रूपये के एनआरएचएम घोटला उजागर होने के चार साल बाद सीबीआई द्वारा उनसे पूछताछ करने का निर्णय किये जाने को लेकर भाजपा नेतृत्व वाली सरकार पर सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया और कहा कि इससे ‘‘राजनीतिक बदले की भावना’’ की बू आती है ।
केन्द्र सरकार ने मायावती के आरोपों को खारिज किया और कहा कि सीबीआई ‘‘सबूतों’’ के आधार पर अपना काम करती है । केन्द्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सीबीआई अपना काम ‘‘सबूतों’’ के आधार पर करती है । कोई अन्य निष्कर्ष :एजेंसी के कार्यों से: निकालने की जरूरत नहीं है ।’’ यह दावा करते हुए कि इस घोटाले से उनका कोई संबंध नहीं था, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने साथ ही कहा कि सीबीआई उनकी जांच करने को स्वतंत्र है और यह भी कहा कि वह घुटने टेकने वाली नहीं हैं ।
बसपा नेता ने उनके खिलाफ सीबीआई की जांच के समय को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि यह सब उनकी पार्टी का मनोबल गिराने और जनता से किये गये अपने वादे को पूरा करने में सरकार की ‘‘विफलता’’ से ध्यान हटाने का प्रयास है ।
मायावती ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन :एनआरएचएम: घोटाले से मेरा कोई संबंध नहीं है । भाजपा सीबीआई का इस्तेमाल करने का प्रयास कर रही है। उसे इस तरह की चालों से बाज आना चाहिए क्योंकि इस तरह के प्रयास उन्हें पहले भी भारी पड़ चुके हैं ।
सीबीआई के निदेशक अनिल सिन्हा ने कहा कि एनआरएचएम घोटाले की जांच में एजेंसी जरूरत के हिसाब से कदम बढ़ायेगी ।

कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने सौ सांसदों के साथ राष्ट्रपति से “मोदी” सरकार की शिकायत की

[नई दिल्ली] कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने आज सौ सांसदों के साथ ,राष्ट्रपति से ,मोदी सरकार की शिकायत की|
प्रमुख विपक्षी दल की नेत्री श्रीमती सोनिया गांधी ने आज अनेकों दलों के लगभग १०० सांसदों के साथ राष्ट्रपति भवन तक पैदल मार्च किया और भूमि अधिग्रहण बिल २०१३ पर लाये जा रहे संशोधनों के खिलाफ राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा |उन्होंने कहा कि एन डी ऐ सरकार द्वारा लाये जा रहे भूमि अधिग्रहण बिल संशोधनों के विरोध में आये हैं जिसे रोकने के लिए उन्होंने राष्ट्रपति से हस्तक्षेप की मांग भी की| सपा+टी एम सी+सी पी आई+सी पी आई [एम] आदि मार्च में शामिल हुए |बसपा प्रमुख सुश्री मायावती ने यूं पी में कांग्रेस से अलग दिखने के लिए मार्च में कांग्रेस के साथ खड़े होने से इंकार किया है |
इससे पूर्व कांग्रेस अध्यक्षा ने लोक सभा में आंध्र प्रदेश का मुद्दा भी उठाया |

सुरेशप्रभु ने किराया+नई रेल बढ़ाये बगैर८.५लाख करोड़ का रेलवे बजट दिया:एस यूजुअल ट्रेज़री खुश,विपक्ष निराश हुआ

[नई दिल्ली]भारतीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने बिना किराया बढ़ाये साढ़े आठ लाख करोड़ रुपये का रेल बजट प्रस्तुत किया |हमेशा की तरह सरकार ने इसकी तारीफ़ में पुल बांधे और तत्कालीन वाहवाही के मोह से बच करके पाँच साल की योजना वाला बजट बताया ।जबकि विपक्ष ने निराशा प्रगट की है |
पीएम नरेंद्र मोदी ने हिंदुस्तान के गरीब-से-गरीब मानव से जुड़ा हुआ अर्थतंत्र को गति के साथ सर्वांगीण विकास वाला बजट बताया
उन्होंने दावा किया के इस बजट से नौजवानों को रोजगार मिलेगा कांग्रेस ने बजट को निराशा जनक बताया पूर्व रेल मंत्री पवन बंसल ने चंडीगढ़ में मीडिया के समक्ष किराया नहीं बढ़ाने के सरकार के दावे पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए कहा के ईंधन की कीमतों में कमी के फलस्वरूप किराया कम किया जाना चाहिए था उन्होंने पी पी पी मॉडल के आधार पर विकास को अपनी सरकार की ही नीति बताया|
सपा प्रमुख ने पुरानी योजनाओं को पूरा करने के संकल्प की प्रशंसा की लेकिन बसप प्रमुख मायावती ने कांग्रेस के सुर में सुर मिलाते हुए निराशा प्रगट की है |
रेल बजट 2015-16 के मुख्य बिन्दु
आगामी पांच वर्षों में भारतीय रेल की कायाकल्प के लिए निर्धारित चार लक्ष्य-
ग्राहकों के अनुभव में स्थायी और मापनयोग्य सुधार लाना।
रेलवे को यात्रा का सुरक्षित साधन बनाना।
भारतीय रेलों की क्षमता में पर्याप्त विस्तार करना और इसकी अवसंरचना को आधुनिक बनाना।
भारतीय रेलवे को वित्तीय दृष्टि से आत्मनिर्भर बनाना।
कार्य निष्पादन योजना के लिए पांच महत्वपूर्ण उत्प्रेरक-
मध्यावति योजना को अपनाना
साझेदारी बनाना
·अतिरिक्त संसाधन जुटाना
· पद्धतियों, प्रणालियों, प्रक्रियाओं में सुधार करना और मानव संसाधन को समर्थ बनाना
· शासन व्यवस्था तथा पारदर्शिता मानक स्थापित करना
कार्य योजना के लिए ग्यारह प्रमुख क्षेत्र- सुखद यात्रा का आभास-
साफ-सफाई-स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छ रेल बनाने के कार्यक्रम पर जोर, 120 स्टेशनों की तुलना में 650 अतिरिक्त स्टेशनों पर नये शौचालय बनाये जाएंगे
· बिस्तर-बिस्तरों के डिजाइन के लिए निफ्ट दिल्ली से संपर्क किया जाएगा, इसके अलावा चुनिंदा स्टेशनों पर डिस्पोजेबल बिस्तर की ऑनलाइन सुविधा प्रदान की जाएगी
· हैल्प लाइन-यात्रियों की समस्याओं का वास्तविक समय के आधार पर निराकरण के लिए अखिल भारतीय चौबीस घंटे सातों दिन हैल्प लाइन नं. 138 की शुरुआत की जाएगी
· टिकट- अनारक्षित यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए पांच मिनट के भीतर टिकट खरीद सुनिश्चित करने के लिए ऑपेरशन फाइव मिनट।
· खानपान-ई-कैटरिंग की सुविधा और अधिक रेलगाड़ी में बढ़ाई जाएगी
· प्रौद्योगिकी का अधिकाधिक उपयोग करना- चल टिकट परीक्षकों को हैंड हेल्ड टर्मिनल उपलब्ध कराए जाएंगे। जिनका उपयोग यात्रियों का सत्यापन और चार्टों को डाउनलोड करने के लिए किया जा सकेगा। एकीकृत ग्राहक पोर्टल तैयार किया जाएगा। एसएमएस अलर्ट सेवा शुरू की जाएगी।
· निगरानी- महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए पायलट आधार पर मेनलाइन के चुनिंदा सवारी डिब्बों और उपनगरीय गाड़ियों में महिलाओं की डिब्बों में निगरानी रखने के लिए कैमरा लगाए जाएंगे, ऐसा करते समय उनकी प्राइवेसी का भी ख्याल रखा जाएगा।
· मनोरंजन- साधारण श्रेणी के सवारी डिब्बों में मोबाइल फोन को चार्ज करने की सुविधा प्रदान की जाएगी।
· गाड़ी क्षमता में वृद्धि – 24 सवारी डिब्बों के स्थान पर 26 सवारी डिब्बे जोड़ें जाएंगे।
· आरामदायक यात्रा- ऊपरी बर्थ पर चढ़ने के लिए सीढ़ियों का मौजूदा सीढ़ियां, जो यात्रियों के लिए असुविधाजनक हैं को बदल कर उसके स्थान पर यात्रियों के लिए सुविधाजनक सीढ़ियों की व्यवस्था का प्रस्ताव
· स्टेशन सुविधाएं- स्टेशन सुविधाओं में बढ़ोतरी की जाएगी।
रेल मंत्री ने भारतीय रेलवे के कायाकल्प हेतु अगले पांच वर्षों के लिए चार लक्ष्य निर्धारित किए
· यात्री और माल ढुलाई क्षमता में वृद्धि की जाएगी
· पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए गांधी सर्किट को बढ़ावा दिया जाएगा
· रेलवे की वार्षिक योजना के लिए वित्त मंत्रालय द्वारा 40,000 करोड़ रुपये
की बजटीय सहायता
· विदेशी रेल प्रौद्योगिकी सहयोग योजना शुरू करने का प्रस्‍ताव
· रेलवे में महत्‍वपूर्ण प्रबंधन प्रक्रियाओं और प्रणालियों में सुधार
· रेलवे के योजना बजट के आकार में 52 प्रतिशत की वृद्धि
· रेलवे विशेषज्ञों से परामर्श लेने के लिए वित्‍त व्‍यवस्‍था कक्ष स्‍थापित करेगा
· मुम्‍बई के लिए एमयूटीपी-III शुरू की जाएगी
· रेलवे का 2014-15 के दौरान वित्‍तीय निष्‍पादन
· आरओबी/आरयूबी के निर्माण के लिए वेब आधारित एप्‍लीकेशन शुरू किया गया
· भारतीय रेलवे के कायाकल्‍प के लिए रेल मंत्री द्वारा पांच सूत्री कार्य निष्‍पादन रणनीति का निर्धारण
चल टिकट परीक्षकों के लिए हैंड हैल्‍ड टर्मिनल्‍स का प्रावधान
साधारण श्रेणी के सवारी डिब्‍बों में मोबाइल फोन को चार्ज करने की सुविधा
चुनिंदा शताब्‍दी गाडि़यों पर ऑन बोर्ड मनोरंजन सुविधा उपलब्‍ध होगी
रेलवे मौजूदा लेखा प्रणाली में बदलाव के लिए कार्यदल का गठन करेगा
· रेलवे वेंडर इंटरफेस मैनेजमेंट सिस्टम को डिजिटल बनाएगा
· यात्रियों की शिकायतों के समाधान के लिए हैल्प लाइन नं. 138 चौबीस घंटे कार्य करेगा
· स्वच्छ रेल-स्वच्छ भारत के लिए काम करेगा रेलवे
· बिस्तरों के डिजाइन, गुणवत्ता और स्वच्छता को बेहतर बनाएगा रेलवे
· महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए निर्भया निधि का उपयोग करेगी रेलवे
· रेलवे परिचालन और व्यवसायिक कुशलता के उच्चतम मानक सुनिश्चित करेगा
· 2015-16 के लिए नौ वर्ष में सर्वश्रेष्ठ 88.5 प्रतिशत परिचालन औसत का प्रस्ताव
· रेल बजट 2015-16 के 9 मुख्य क्षेत्र
· यात्री भाड़े में कोई बढ़ोत्तरी नहीं
· अनारक्षित श्रेणी की टिकट खरीद सुगम बनाने के लिए “ऑपरेशन फाइव मिनट”
· भिन्न रुप से सक्षम यात्रियों के लिए एक बार रजिस्ट्रेशन कराने के बाद रियायती ई-टिकट ‘रक्षा यात्रा प्रणाली’ विकसित, वारंट समाप्त
· ई-कैटरिंग में सर्वोत्तम खाद्य श्रृंखलाओं को शामिल किया जाएगा
· रेल बजट में अधिक राजस्व और उपयुक्त निवेश सुनिश्चित करने तथा प्रणाली के संकुलन को कम और लाइन क्षमता बढ़ाने के लिए प्रावधान
· गाड़ियों के आगमन/प्रस्थान के समय के लिए ‘एसएमएस’ अलर्ट
· चुनिंदा मार्गों पर सुरक्षा चेतावनी प्रणाली और गाड़ियों की टक्कर से बचाव की प्रणाली

दिल्ली में बिखरी”कमल”पंखुड़ियों को बिहार में उगाने के लिए क्या गवर्नर राज लगेगा ?

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

बसपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है |ओये हसाडे सोणे बिहार में क्या गंद मचाया जा रहा है |ये भाजपाई लोग वहां भी अपना कमल खिलाना चाह रहे हैं|पहले तो वहां अपने विश्वास पात्र केसरी नाथ त्रिपाठी को गवर्नर बना दिया अब वहां और नितीश कुमार को तिगनी का नाच नचवा दिया अब वहां राष्ट्रपति शासन लागू करके सब की ऐसी की तैसी करने पे तुले हुए हैंओये हसाडे बहन मायावती जी ने भी केंद्र को चेतावनी दे दी है|ओये हमने इन भाजपाइयोंके “कमल” की और पंखुड़ियाँ खिलने नहीं देनी हैं

झल्ला

ओ भापा जी आप जी की बहन जी इतने अरसे बाद बोली और जब बोली तो कुछ भी तो नहीं बोली |
अरे भापा जी दिल्ली में भी तो गवर्नर]एल जी] राज था इसपर भी भाजपा शर्मनाक तीन पर ही अटक कर रह गई |
अब जब एक एक्सपेरिमेंट से पहले से खिली हुई कमल की पंखुड़िया दिल्ली में बिखर कर रह गई ऐसे में उस घातक एक्सपेरिमेंट को बिहार में दोहराया जाएगा इसमें झल्ले को तो पूरा शक है जी

भाजपा+सपा में हिन्दू मुस्लिम बँटें तो”बसपा”को बाबा जी के ठुल्लु से पिंड छुड़ाने को दलित कार्ड खेलना ही है

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

बसपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये मीडिया वाले हसाड़ी सोणी बहन मायावती की चुप्पी पर आये दिन वड्डे वड्डे सवाल उठाये जा रहे थे लो अब बहन जी ने मुंह खोल दिया है |भाजपा और सपा की ऐसी की तैसी कर दी है |बहन जी ने माननीय स्वर्गीय कााँशीराम जी को भारत रत्न नहीं देने के लिए लखनऊ में बैठ कर प्रेस के सामने खुल्ल्म खुल्ला दिल्ली की भाजपा सरकार की जम कर खिंचाई कर दी है|ओये सारे अवार्ड्स ब्राह्मणों [मालवीया+वाजपई]को दिए जा रहे हैं |दलित+पिछड़ों के लिए एक अवार्ड भी नही रह गया है क्या ?औए ये मुन्ना अखिलेश की सरकार में दलित और महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं।बदायूं ही इनसे नहीं सम्भल रहा आये दिन यहां बलात्कार होने लगे हैं |ओये सूबे में धर्मांतरण तो केंद्र +राज्य सरकार की मिलीभगत है| ओये यूंपी में सपाइयों द्वारा सैफई में बैठ कर जनता को ठगा जा रहा है और केन्द्र में भाजपाई पूरे देश में नौटंकी किये जा रहे हैं|

झल्ला

ओ मेरे भोले गुलफाम ये तो आप भी मान रहे हो कि भाजपा और सपा में मिली भगत है और अगर इसे सच भी मान लिया जाये तो फिल्म “पीके” के जरिये सपा ने मुस्लिम और भाजपा ने हिन्दू वोटों पर पकड़ मजबूत कर ली है +आप वालों ने भीअलग से ताल ठोक रखी है |
ऐसे में बसपा और आपकी कांग्रेस के हाथ में तो रह गया बाबा जी का ही ठुल्लु
|इसीलिए झल्लेविचारनुसार दिल्ली के चुनावों से पहले अपना दलित वोट कार्ड खेलना आपलोगों की मजबूरी है