Ad

Tag: PMO India

मोदीभापे !उपेक्षित हूँ ,साल दर साल बढ़ते बोझ से व्याकुल हूँ

#दिलकेफफोले
#विभाजनपश्चातविभीषिकास्मृतियां
#मोदीभापे !
भृष्टाचारियों से उत्पीड़ित ,उम्मीदों की गठरी लादे हूँ
उपेक्षित हूँ ,साल दर साल बढ़ते बोझ से व्याकुल हूँ
#रिहैबिलिटेशन/#कम्पेनसेशन क्लेम की लूट

मोदीभापे !निज़ाम की तीमारदारी को रौजाना पत्र की ख़ुराक मजबूरी है

#दिलकेफफोले

##दिलकेफफोले

#विभाजनपश्चातविभीषिकास्मृतियां

#मोदीभापे !

ना पत्रों का उत्तर ना पीड़ितों की समस्या का कोई निदान

हाय री हमारी भेड़ी किस्मत ,हाय रे तेरा भी बीमार निज़ाम

हुक्मरानों को भूलने की बीमारी सो रौज लिखना हुआ लाज़िम

निज़ाम की तीमारदारी को रौजाना पत्र की ख़ुराक मजबूरी है

मोदीभापे ! दलों ने लूट कर बांट लिया विभाजन पीड़ित का रिहैबिलिटेशन क्लेम

#दिलकेफफोले

#विभाजनपश्चातविभीषिकास्मृति

#मोदीभापे !

दलों ने लूट कर बांट लिया रिहैबिलिटेशन क्लेम जो विभाजन विभीषिका के पीड़ित का था

तभी 75 सालों से ना समाजिक अपील ,ना ही सरकारी दलील,सियासी वकील तक नही,

www.jamosnews.com

#रिहैबिलिटेशनक्लेम की लूट

मोदीभापे !पीएमओ की घृणित औपचारिकता में 7 दशकों के पीड़ित तरस रहे हैं

विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस

दिल के फफोले

मोदीभापे !

सात बरस पहले सुना था इक मसीहा आया मुल्क का पीएम बन कर

पीएमओ की घृणित औपचारिकता में 7 दशकों के पीड़ित तरस रहे हैं

www..jamosnews.com

Rehabilitation Claim of Partition Horrors Victims

भारत मे भारी सरकार ,पीड़ितों के लिए अकर्मण्य शासन की भरमार


Minimum Governance

Minimum Governance

(नई दिल्ली)भारत मे भारी सरकार ,पीड़ितों के लिए शासन का अभाव

दुर्भाग्य से अकर्मण्य अधिकारियों की अकर्मण्यता के फलस्वरूप सात दशकों की दौड़ विभाजनविभिषिका के पीड़ित को फिर  वहीं ले आई जहां से शुरूआत हुई थी।अपने इस कथन के समर्थन में भारत सरकार के गृह मंत्रालय के दो पत्र प्रस्तुत कर रहा हूँ।

1947 की विभीषिका के दर्द को महसूस करके प्रधान मंत्री नरेंद्रमोदी ने लाल किले की प्राचीर से( दुर्भाग्यपूर्ण 14 अगस्त को )विभाजनविभिषिका स्मृति दिवस के रूप में घोषित किया तो  विभीषिका पीड़ितो की सोई उम्मीद जग उठी।हजारों विस्थापित परिजनों कोलगने लगा कि अब  उनके हक के कम्पेनसशन क्लेम मिल जाएंगे।

लेकिन शासन में बैठे अकर्मण्य अधिकारियों की अकर्मण्यता से सब धूमिल होती जा रही है।

एक उदहारण प्रस्तुत है

PMOPG/E/2016/0125052अप्रैल 2016 में PMOPG के पोर्टल पर दुखड़ा रोया गया (PMOPG/E/2016/0125052)जिसे कुशल पोस्ट आफिस की भांति  तत्काल पँजांब सरकार को भेज दिया गया लेकिन शासन में इच्छाशक्ति के अभाव के चलते उसका उत्तर अभी तक प्राप्त नही हुआ है।

PMO और केंद्रीयगृहमंत्रालय से 17 और 21 जून को अलग अलग RTI के माध्यम से अपने हक के क्लेम और उसकी जानकारी मांगी गई

PMO द्वारा RTI को ग्रह मंत्रालय में भेज दिया गया वहां से  जवाब ना आने पर फोन किये तो जवा मिले

कि अभी स्टेनो नही आई हैं

आपकी आरटीआई ट्रेस नही हो रही

एआप एक प्रति भेज देवें

फलां सेक्शन से सम्पर्क करें

दो माह के पश्चात दिनांक शून्य के पत्रक 36/20/2021/R& SO जिसे श्री बलजीत सिंह (डिप्टी सेक्रेटरी व CPIO )द्वारा 16/8/2021 को हस्ताक्षरित पत्र प्राप्त हुआ।गौरतलब है कि हाई वे बनने के फलस्वरूप मेरठ और दिल्ली की दूरी महज एक घण्टे की बताई जा रही है लेकिन इस  स्पीडपोस्ट पत्र को पहुंचने में 10 दिन लग गए ।

इस पत्र में भी पूर्व की भांति ही टरकाया,भटकाया,नकारा गया है। डिप्टी सेक्रेटरी रैंक के अधिकारी ने रिकॉर्ड ट्रेस  कराने में असमर्थता जताई है।जो सरकार  एक लाख करोड़ रु की एनिमी प्रॉपर्टी को ट्रेस सकती है।पूर्व मंत्री आजमखान के वक्फ का पोस्टमार्टम करा सकती है उसी सरकार के लिए विभाजनविभिषिका के पीड़ित के लिए इच्छाशक्तिका सर्वथा अभाव दुख दाई है

यहां गृहमंत्रालय के ही एक और पत्र का उल्लेख जरूरी है 

35/33/2020/R&SO दिनांक 16/11/2020 के माध्यम से पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी गई जिसके उत्तर अभी भी प्रतीक्षा में है

ऐसे में श्री बलजीत सिंह तथ्यों को परख लेते तो सम्भवत समस्या का हल निकल आता

 

मोदीभापे !प्रधान मंत्री हो ढूंढो उपचार पीड़ितों पर खुल कर करो उपकार

#मोदीभापे !
इस्तीफे ले लिए,वजीफे दे दिए,हो गया मंत्रिमंडल का विस्तार
विश्व को उत्तेजित करने में हो सक्षम,पीड़ा हरने का क्यूँ विकार
दिलीपकुमार भी कह गए किरदार से बढ़ा नही कोई कलाकार
प्रधान मंत्री हो ढूंढो उपचार पीड़ितों पर खुल कर करो उपकार
www.jamosnews.com
#कम्पेनसशन/#रिहैबिलिटेशन/#अलॉटमेंट क्लेम की लूट
#ModiBhape
Isteefe Le Liye , Vazeefe De Diye, HoGya Mantrimandal Ka Vistaar
Vishv ko Uttejit Karne Me Ho Saksham ,Peedaa HarneKa Kyoon Vikaar
DilipKumar Bhi Kah Gaye,Kirdaar Se Badhaa Nahiin Koi Kalaakaar
PradhanMantri Ho,Dhoondo Upchaar,Piditon Par Khul Kar Karo Upkaar

मोदीभापे !कुछ तो मल्हम दे ओ मुल्क के पसंदीदा हाक़िम

#मोदीभापे
कंठ सूख गए,दवात सफेद हो गई,
दिल के फफोले अब चीखने लग गए
पीड़ित को हर रोज मरना क्यूँ हो रहा लाज़िम,
कुछ तो मल्हम दे ओ मुल्क के पसंदीदा हाक़िम
www.jamosnews.com
#कम्पेनसशन/#रिहैबिलिटेशन/#अलॉटमेंट क्लेम लूट
#PMOPG/E/2016/0125052
फेसबुक पर निम्न को टैग किया
G.Kishan Reddy MoS Home Affairs Narendra Modi Dr. Sambit Patra Dr. Subramanian Swamy Raj Kumar Makkad Anil Pahwa
Captain Amarinder Singh Navjot Singh Sidhu Aam Aadmi Party – Punjab Preneet Kaur Nityanand Rai Dr Daljit Singh Cheema Baldev Singh Aulakh Laxmikant Bajpai J.P.Nadda Akhilesh Yadav Manish Sisodia Ravneet Singh Bittu Raveen Thukral Jamosnews.com Manohar Lal PMO India Devender Nagpal Kapil Sibal Sunil Jakhar Arvind Kejriwal Akhil Bhatnagar Amar Ujala Noida Amit Shah Rahul Gandhi Rajendra Agarwal Rajendra Tripathi Rajendra Singh

मोदीभापे! वफादारी की पुरानी आदत हम पीड़ितों की कहीं छूट ना जाये

#मोदीभापे
तुम्हारे आने पर भी हमे इंसाफ तक मिलता दिखाई नही देता
हमारे दिल जल रहे हैं ,तुम्हारा दावा है कि समुंदर लुटा दिए
कोरोना पीड़ितों को मुआवजा नही,नॉकरियों को बाध्य नही
मुल्क के अवाम में नही रही अब पहले वाली सी मासूमियत
वफादारी की पुरानी आदत हमपीड़ितों की कहीं छूट ना जाये
www.jamosnews.com
#कम्पेनसशन/#रिहैबिलिटेशन/#अलॉटमेंट क्लेम

मोदीभापे !अभिमन्यु की तरह तीरों से बिंधे है,अर्जुन बनने का हुनर न आया

#मोदीभापे
मंजिल पाने को रास्ते बने हैँ ढेर ये चक्रव्यूह में ही घूमते रहते है
अभिमन्यु की तरह तीरों से बिंधे है,अर्जुन बनने का हुनर न आया
www.jamosnews.com
#कम्पेनसशन/#रिहैबिलिटेशन क्लेम की सरकारी लूट
#PMOPG/E/2016/0125052

RajnathAsks To Give Information To All Applicants

[New Delhi]Rajnath,For Transparency,Asks To Give Information To All Applicants
Central Home Minister Rajnath Singh said
Officials should reply to every RTI application irrespective of what kind of information has been sought by the applicant, He asserted that the importance of the transparency law has increased in present times.
Addressing the inaugural function of the 11th annual Central Information Commission convention, Singh said his ministry was recently asked what is the action plan of the government against “a zombie or alien attack” and he had ensured that response is given to it.
Singh also inaugurated the e-court system in the Central Information Commission which will make the transparency panel go paperless in matters of appeals and complaints being processed by it.
The new system has come into place as the Commission has digitised over 1.5 lakh files with it, allowing people to file appeals and complaints online without any requirement of hard copy.
.Singh said over 40,000 suggestions were received on GST.
Speaking on the occasion, Minister of State for Prime Minister’s Office Dr Jitendra Singh said although there is no pend ency, the filing of such grievances has gone up from about two lakh annually when the new government was formed to eight lakh now.
Quoting a couplet of Mirza Ghalib, Singh, while taking a veiled dig at UPA government, said people file grievances because they have hope of them being resolved.
He said a higher number of RTI applications are being processed but still the numbers are increasing.
“We cannot check corruption by laws,” Singh said.
Underlining the menace of frivolous RTI applications, Singh said one must test it on a couple of parameters to “avoid the avoidable” RTI applications like whether the motive is public or personal.
Chief Information Commissioner Radha Krishna Mathur also highlighted the system being choked by a single RTI user as among 35,000 pending cases before the Commissioner, about 4,000 have been filed by a single person.