Ad

Tag: Prakash javadekar

बेसिक शिक्षा तो सुधरी नहीं चले हैं उच्च शिक्षा को सुधारने

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया मुबारकां! औए हसाड़े प्रकाश जावड़ेकर जी ने देश में उच्च शिक्षा के स्तर को ऊपर उठाने के लिए कमर कस ली है|उन्होंने घोषणा कर दी है के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग [यूंजीसी]को समाप्त करके उच्च शिक्षा आयोग बनाया जायेगा| अब देखना सब कुछ पारदर्शी हो जाएगा|
Jamos Cartoon

झल्ला

वाह रे मेरे भोले सेठ जी ! बेसिक शिक्षा को तो सुधार नहीं सके चले हो उच्च शिक्षा को उठाने |अरे बाबा ! कमजोर नीवं पर खड़ी इमारत का हमेशा गिरने का खतरा बना रहता है |शायद उच्च शिक्षा के नाम पर डिग्रियां बेचने वालों के साथ समझौते के आसार जयादा होते होंगे तभी इसी दिशा में सभी चलते दिखाई देते हैं

Maneka Locks Horn With Colleague Javdekar On Killing Of Vermins

[New Delhi] Maneka Locks Horn With Colleague Javdekar On Culling of Animals
Union Minister Smt Maneka Sanjay Gandhi today slammed the Environment Ministry for allowing culling of wild animals, saying she cannot understand this “lust” for killing,
Whereas Environment Minister Prakash Javadekar defended the action Passing the buck on States
He said it is done on request of states to protect crops.
The outburst from Maneka, who holds the Women and Child Development portfolio and is an animal rights activist, came after the recent killing of ‘nilgai’ (blue bulls) in Bihar, which she termed as “biggest ever massacre”, even as the row led to criticism from opposition which alleged that there is no cohesion in the government.
Maneka said the Union Environment Ministry “is writing to every state government, allowing them to provide a list of animals that can be killed so that the Centre can give permission.
“This is happening for the first time. I don’t understand this lust for killing of animals.”
However, Javadekar insisted that it was “scientific management” of animal population and the permissions for killing animals designated as ‘vermin’ were restricted to particular areas and time period.
Maneka claimed the Centre has allowed killing of ‘nilgai’ in Bihar, elephants in West Bengal, monkeys in Himachal Pradesh, peacocks in Goa and wild boars in Chandrapur even when the wildlife departments of states are saying they do not wish to kill animals.
On the ‘nilgai’ killing in Bihar, she said it has happened when neither the village head nor the farmers have called for their killing.
Responding to the charge, Javadekar said it is being done as per existing law and is not a central government programme.
Maneka said 53 wild boars have been killed in drought-hit Chandrapur in Maharashtra and the Environment Ministry has allowed killing of 50 more, even when the state wildlife department does not want that.

PM Appeals For Harmony with Nature To Avoid a Catastrophic Situation on Mother Earth:World Environment Day

[New Delhi]PM Appeals For Harmony with Nature To Avoid a Catastrophic Situation on Mother Earth:World Environment Day PM ,To Mark World Environment Day, Planted “Kadam” Sapling at His Official Address 7RCR
PM Narendra Modi planted “Kadamb” sapling on World Environment Day
The Prime Minister, Shri Modi, today planted a Kadamb sapling (Neolamarckia Cadamba), at the Race Course Road lawns, to mark the occasion of World Environment Day.
Speaking on the occasion, the Prime Minister exhorted each family to plant trees in the coming monsoon season, and to take pride in the number of trees planted by the family, just the same way as they take pride in worldly possessions. The Prime Minister said that living in harmony with nature is the only way to avoid a catastrophic situation on Mother Earth.
The Prime Minister also placed a traditional earthen-pot (matka) along with the sapling, which is a traditional way of conserving water, and ensuring that the sapling has regular water supply.
Planting the Kadamb sapling, the Prime Minister recalled the poem of Subhadra Kumari Chauhan, on the subject:
यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे।
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे।।
The Union Minister for Environment and Forests, Shri Prakash Javadekar, was present on the occasion.
Photo Caption
The Prime Minister, Shri Narendra Modi planting a Kadamb sapling (Neolamarckia Cadamba), at the Race Course Road lawns, to mark the occasion of the World Environment Day, in New Delhi on June 05, 2015.
The Minister of State for Environment, Forest and Climate Change (Independent Charge), Shri Prakash Javadekar is also seen.

जब्‍त किए गए अवैध वन्‍य जीवों के उत्‍पादों को राष्‍ट्रीय प्राणी विज्ञान उद्यान में जलाया

[नई दिल्ली]पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्रीप्रकाश जावडेकर की उपस्थिति में आज बढ़ी संख्या में अवैध वन्‍य जीव उत्‍पाद राष्‍ट्रीय प्राणी विज्ञान उद्यान में जलाए गए |इस अवसर पर मंत्री ने सरकार वन्‍य जीवों के चोरी छिपे शिकार और वन्‍य उत्‍पादों के अवैध व्‍यापार पर कड़े रुख का प्रदर्शन भी किया
प्रकाश जावड़ेकर ने वन्‍य जीव उत्‍पादों के अवैध व्‍यापार से जैव विविधता को गंभीर खतरा बताया
पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावेडकर ने कहा है कि सरकार वन्‍य जीवों के चोरी छिपे शिकार और वन्‍य उत्‍पादों के अवैध व्‍यापार को बर्दाश्‍त नहीं करेगी क्‍योंकि वन्‍य जीव उत्‍पादों के अवैध व्‍यापार से जैव विविधता को गंभीर खतरा है.
धरती पर सभी जीव समूहों के सामंजस्‍यपूर्ण सह-अस्तित्‍व की आवश्‍यकता पर बल देते हुए श्री जावेडकर ने कहा कि सरकार जब्‍त किए गए उत्‍पादों को सार्वजनिक रूप में भस्‍म करके वन्‍यजीवों के अनैतिक और अवैध व्‍यापार के खिलाफ सुदृढ़ संदेश देना चाहती है
वे आज नई दिल्‍ली में राष्‍ट्रीय प्राणी विज्ञान उद्यान में जब्‍त किए गए अवैध उत्‍पादों को जलाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम की अध्‍यक्षता कर रहे थे. उन्‍होंने कहा कि पशुओं की तस्‍करी और चोरी-छिपे शिकार से अर्जित धन हमेशा अवैध गतिविधियों में लगाया जाता है|
पर्यावरण और वन मंत्रालय द्वारा नष्‍ट किए गए वन्‍यजीव उत्‍पादों में ऐसे उत्‍पाद शामिल हैं जो बाघों+हाथियों+तेंदुओं+शेरों+ सांपों,+हिरणों +नेवलों+उल्‍लुओं आदि वन्‍य जीवों से निकाले गए थे. इस उद्यान में उपलब्‍ध कुछ वन्‍य जीव उत्‍पाद भी इस अवसर पर जलाए गए.
इस अवसर पर वन्‍यजीवों से सम्‍बद्ध विभागों+वन्‍य जीव अपराध नियंत्रण ब्‍यूरो+पुलिस+सीमा शुल्‍क जैसी कानून लागू करने वाली एजेंसियों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए
फोटो कैप्शन
The Minister of State for Information and Broadcasting (I/C), Environment, Forest and Climate Change (I/C) and Parliamentary Affairs, Shri Prakash Javadekar consigning the illegal wildlife products to flames in the incinerator, at the National Zoological Park, in New Delhi on November 02, 2014.

प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस को जिम्मेदारी निभाने के लिए, सनसनी फ़ैलाने+पेडन्यूज की बुराई से लड़ने का आह्वाहन किया

प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस को जिम्मेदारी निभाने के लिए, सनसनी फ़ैलाने+पेडन्यूज की बुराई से लड़ने का आह्वाहन किया
उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि प्रेस की स्वतंत्रता जिम्मेदारी से जुड़ी है|इसीलिए हर खबर को सनसनी खेज बनाने से बचने और पेड न्यूज की बुराई से लड़ने पर विशेष बल दिया केंद्रीय मंत्री ने आईआईएमसी को ‘’संचार विश्वविद्यालय’’ के रूप में उन्नत किये जाने का आश्वासन भी दिया |
सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस को पत्रकारिता की जिम्मेदारियों के साथ ही पेड न्यूज की बुराई से लड़ने का आह्वाहन किया|
श्री जावड़ेकर ने प्रेस को आइना दिखाते हुए कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता जिम्मेदारी से जुड़ी है। पूरे इतिहास में प्रेस की जिम्मेदारी विभिन्न अवसरों पर दिखी भी है। उन्होंने डिप्लोमा प्रदान किए गए विधार्थियों से कहा कि वह हर कीमत पर समाचारों को सनसनीखेज बनाने से बचें और पेड न्यूज़ की बुराई से लड़े। उन्होंने कहा कि एक युवा पत्रकार को बिना कमीशन के लगन और करुणा के साथ काम करना चाहिए। उन्होंने विधार्थियों से कहा कि वे विभिन्न मीडिया स्रोतों से मिली सूचनाओं के बीच संतुलन बनाएं। इन स्रोतों में नई और परंपरागत मीडिया भी है। उन्होंने कहा कि यह पक्ष भविष्य में नीति सम्मत पत्रकारिता का आधारभूत ढांचा तैयार करेगा।
भारतीय जनसंचार संस्थान में दीक्षांत समारोह में बोलते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आश्वासन दिया कि भारतीय संचार संस्थान को ‘संचार विश्वविद्यालय’ के रूप में उन्नत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रक्रिया शुरू करने के कदम उठाए जाएंगे तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय शीघ्र रोडमैप तैयार करेगा। श्री जावड़ेकर ने आम लोगों विशेषकर नई पीढ़ी के लोगों से सुझाव मांगते हुए कहा कि ऐसे सुझावों के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की वेबसाइट पर अलग स्थान विकसित किया जाएगा और मंत्रालय इन सुझावों पर आगे कार्रवाई करेगा। पूरी प्रक्रिया प्रधानमंत्री की संचार दृष्टि का हिस्सा है और इसका जोर भागीदारी मूलक संचार प्रक्रिया पर है ताकि मीडिया समुदाय सहित सभी हितधारक जुड़ सकें। श्री जावड़ेकर ने आज यहां भारतीय जनसंचार के 47वें दीक्षांत समारोह में भाषण और स्वर्ण जयंती समारोह लॉन्च करते हुए यह जानकारी दी।
श्री जावड़ेकर ने कहा कि देश में हुए हाल के चुनाव निर्वाचन व्यवहारों तथा मतदाताओं के व्यवहार पर अध्ययन करने का सटीक विषय प्रस्तुत करते हैं। उन्होंने भारतीय जनसंचार संस्थान से चुनाव संबंधी संचार प्रक्रिया तथा निर्वाचन प्रणाली के विभिन्न पक्षों को समझने के लिए अध्ययन कार्यक्रम चलाने का आग्रह किया। सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने आईआईएमसी की स्वर्ण जयंती समारोह पर एक नया लोगो जारी किया। उन्होंने आईआईएमसी की दो भाषाओं वाली वेबसाइट का भी उद्घाटन किया।
आईआईएमसी पत्रकारिता, मीडिया तथा जनसंचार शिक्षण, प्रशिक्षण और अनुसंधान के क्षेत्र में उत्कृष्ट केन्द्र के रूप में जाना जाता है। आईआईएमसी के छह केन्द्रों तथा मिजोरम के आईजोल, महाराष्ट्र के अमरावती, जम्मू-कश्मीर के जम्मू तथा केरल के कोट्यम स्थित नए क्षेत्रीय केन्द्रों के 341 विधार्थियों को डिप्लोमा प्रदान किया गया। पी.जी.डिप्लोमा उपाधि हिन्दी एवं अंग्रेजी पत्रकारिता, विज्ञापन एवं जनसंपर्क, उड़ीया तथा उर्दू पत्रकारिता में दिया गया। सभी पाठ्यक्रमों की विभिन्न श्रेणियों में 31 विधार्थियों को विशेष पुरस्कार दिए गए।
फोटो कैप्शन
The Minister of State for Information and Broadcasting (I/C), Environment, Forest and Climate Change (I/C) and Parliamentary Affairs, Shri Prakash Javadekar presented the PG diplomas to the successful students of various courses for the academic year 2013-14, at the 47th Convocation and launch of Golden Jubilee Celebrations of Indian Institute of Mass Communication, in New Delhi on October 20, 2014.
The Secretary, Ministry of Information and Broadcasting, Shri Bimal Julka is also seen.

सर्वदलीय बैठक में प्रथक तेलंगाना के लिए केंद्र सरकार ने एक माह का समय लिया:भाजपा ने दोहरी नीति बताया

प्रथक तेलंगाना Separate Telangana State

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने आज शुक्रवार को आश्वासन दिया कि आंध्र प्रदेश से पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के मुद्दे पर एक महीने के भीतर निर्णय ले लिया जाएगा|भाजपा ने इसे कांग्रेस की दोहरी नीति बताकर इसकी आलोचना की है जबकि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शनिवार को क्षेत्र में बंद का आह्वान किया है ।
श्री शिन्दे ने कहा कि उन्होंने आंध्र प्रदेश की आठ राजनीतिक पार्टियों के साथ आज बैठक की और सभी का नजरिया जाना । पार्टियों के प्रतिनिधियों ने सुझाव दिया कि तेलंगाना मुद्दे पर फैसला जल्द से जल्द किया जाएगा ।
६० साल पुराने इस मुद्दे पर बुलाई गई सर्वदलीय अंतिम बैठक के बाद श्री शिंदे ने संवाददाताओं से कहा कि एक महीने के भीतर कोई निर्णय लिया जाएगा। हमने विभिन्न दलों के प्रतिनिधियों के पक्ष सुने हैं। हमने उनके विचारों पर गौर किया है और उसके बारे में सरकार को जानकारी देंगे।
आंध्र प्रदेश के लोगों की समस्याओं को देखते हुए शिंदे ने युवाओं से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा कि सरकार इस मुद्दे पर निर्णय ले रही है। उधर इस मसले पर सर्वदलीय बैठक के नतीजे से नाखुश तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शनिवार को इस क्षेत्र में बंद का आह्वान किया है। टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने आज शुक्रवार को दिल्ली में सर्वदलीय बैठक से बाहर निकल केंद्र सरकार द्वारा इस मामले में की जा रही देरी के विरोध में बंद का आह्वान किया।
केसीआर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस तेलंगाना के मुद्दे पर ड्रामा कर रही है। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे द्वारा एक महीने में इस पर निर्णय लिए जाने की बात कहने वाले वक्तव्य का जिक्र करते हुए कहा कि बीते तीन साल में हजारों बार ऐसा कहा जा चुका है|
उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर गंभीर होगी तो वह आज शाम तक इस पर निर्णय ले सकती है। केसीआर ने सर्वदलीय बैठक को व्यर्थ बताया। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियां अपने पुराने रुख पर ही अड़ी हैं।
आंध्र प्रदेश के बंटवारे और अलग तेलंगाना राज्य की 60 साल पुरानी मांग है| इसके लिए पिछले संसद सत्र में तेलंगाना के सांसदों नेनारे लगाए और प्ले कार्ड्स दिखाए और मतदान में भी भाग नहीं लिया था| आज सर्वदलीय बैठक के बाद भाजपा ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके केंद्र सरकार की नीतिओं की आलोचना की |प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने पत्रकारों को बताया कि तीन वर्ष पूर्व तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदम्बरम ने यह कहा था कि प्रथक तेलंगाना के लिए प्रतिक्रिया प्रारम्भ हो चुकी है इस के बाद भी अनेको बैठकें हुई और हर बार कांग्रेस शेष पार्टियों की राय लेने के बाद मुद्दे को टालती रही है और आज भी वोही दोहरी नीति अपना कर मुद्दे को टाल दिया गया है |उन्होंने कहा कि प्रथक तेलगाना क लिए भाजपा पूरी तरह से सपोर्ट करेगी