Ad

Tag: RALOD

राहुल अमेठी बचाने औरअजित अपनी चौधराहट कब्जाने को मैदान में उतरेंगे

[नयी दिल्ली]राहुल अमेठी बचाने और अजित अपने गढ़ को कब्जाने को मैदान मैं उतरेंगे
कांग्रेस के मजबूत गढ़ अमेठी से एक बार फिर राहुल बनाम स्मृति ईरानी में रोचक मुकाबिला होने की उम्मीद हैं
भाजपा ने अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को चुनाव मैदान में उतारा है जिससे इस सीट पर दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है।
तो ऐसी ही रोचकता मुजफ्फरनगर में लोकसभा सीट पर भी देखने को मिल सकती है
यहाँ भाजपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री संजीव बालियान को सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के उम्मीदवार अजीत सिंह के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारा है। सिंह रालोद के प्रमुख हैं और पूर्व प्रधान मंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह के वारिस हैं |
भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की, जिसमें अमेठी से स्मृति ईरानी को ही टिकट दिया गया है।
श्रीमती ईरानी 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी से हार गई थी लेकिन इनके बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिला था।
वर्ष 2014 में गांधी को 4,08,651 वोट मिले थे और
श्रीमती ईरानी को 3,00,748 मत हासिल हुए थे।
smriti clean india इस तरह ईरानी को 1,07,903 वोटों से हार का सामना करना पड़ा थालेकिन पराजय के पश्चात् भी उन्होंने अमेठी में आना जाना और विकास कार्य जारी रखे |अब ये प्रयास वोटों को खींच पाएंगे ये चुनावों के नतीजे ही बताएँगे
उधर चौधरी अजित सिंह मोदी लहर में प्रदेश में अपनी चौधराहट बचाने में नाकामयाब रहे जिसके फलस्वरूप उन्हने दिल्ली आवास भी छोड़ना पढ़ा |इसके पश्चात् चौधरी अजित के पुत्र जयंत चौधरी ने कमान संभाली और मथुरा से हारने के पश्चात् भी अपने पारम्परिक वोट बैंक को साधने में जुट गए
सूत्रों की माने तो उन्होंने जाट लैंड में सहानुभूति प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की हैं| इस उपलब्धि को वोटों में कितना तब्दील कर पाएंगे ये तो नतीजे ही बताएँगे लेकिन वर्तमान सांसद और मंत्री बालियान [जाट] और अजित सिंह में रोचक मुकाबिले की उम्मीद तो है
फाइल फोटो

सपा +बसपा गठबंधन के दरवाजे ,कांग्रेस+रालोद+शिवपाल के लिए नहीं खुले

[लखनऊ,यूपी] बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज सपा अध्यक्ष अखिलेशयादव के साथ आयौजित अपनी संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जिस गठबंधन की घोषणा की उसके दरवाजे कांग्रेस ,शिवपाल यादव और रालोद के लिए बन्द दिखाए
कांग्रेस को बसपा की वोटकटुआ और शिवपालयादव को भाजपा के पैसे का खेल बताया |
कांग्रेस की बात पर अखिलेश असहज दिखे मगर चाचा शिवपाल के नाम पर खिलखिला कर हंसते दिखाई दिए|
लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा के इस गठबंधन के दोनों सहयोगियों ने यूपी की ८० सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान किया|
बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव के लिए शनिवार को उत्तर प्रदेश में गठबंधन का ऐलान किया ।
इस गठबंधन से दोनों ही दलों ने कांग्रेस को अलग रखा लेकिन कहा कि वे अमेठी और रायबरेली सीट पर उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। इन सीटों का प्रतिनिधित्व क्रमश: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी करती हैं।बेशक कांग्रेस के लिए दरवाजे नहीं खुले मगर खिड़की जरूर खुली रखी गई है|
गठबंधन ने दो अन्य सीटें छोटे दलों के लिए छोड़ी हैं।
संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में गठबंधन का ऐलान करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस गठबंधन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ जाएगी।
गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में मायावती ने कहा कि उनके शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई ।
इस मौके पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि यह सपा—बसपा का केवल चुनावी गठबंधन नहीं है बल्कि गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है । ‘भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था ।’

रालोद के निष्काषित [एकमात्र]विधायक ने भाजपा का दामन थामा

[लखनऊ,यूपी] रालोद के निष्काषित [एकमात्र]विधायक ने भाजपा का दामन थामा| किसी समय छपरौली को च चरण सिंह की छपरौली कहा जाता था लेकिन अब यह गढ़ भी ढह गया |च. चरण सिंह के पुत्र च. अजित सिंह की पार्टी रालोद के एक मात्र विधायक
सहेंद्र सिंह रमालाअपने सैंकड़ों समर्थकों सहित भाजपा में शामिल हो गये।
बागपत जिले की छपरौली सीट से चुने गये रालोद विधायक सहेंद्र सिंह रमाला भाजपा के प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय के समक्ष पार्टी में शामिल हुये। इस पाला बदलने से रालोद की बची खुची छवि को ठेस पहुँच सकती है
भाजपा की प्रदेश इकाई के प्रवक्ता मनीष शुक्ला के अनुसार ‘कैराना और नूरपुर का उपचुनाव घोषित हो चुका है। सहेंद्र सिंह रमाला के पार्टी में शामिल होने से इन दोनों सीटों पर पार्टी को मजबूती मिलेगी और पार्टी दोनों सीटों पर निश्चित ही विजय हासिल करेगी।’ कैराना लोकसभा सीट और नूरपूर विधानसभा सीट पर 28 मई को उपचुनाव होगा और 31 मई को मतगणना होगी।
मालूम हो के विधायक रमाला को राज्यसभा में क्रास वोटिंग के कारण पहले ही पार्टी से निकाला जा चुका है।

मायावती ने राज्यसभा चुनाव में हार के लिए “रालोद” पर भी भड़ास निकाली

[नई दिल्ली]मायावती ने यूपी में राज्य सभा चुनाव में हार के लिए “रालोद” पर भड़ास निकाली |राज्यसभा के लिए हुए चुनावों में बसपा के एक मात्र उम्मीदवार भीमराव अम्बेडकर की हार पर प्रेस कांफ्रेंस में बोलते हुए कहा के रालोद ने जानबूझ कर अपना एक मात्र वोट निरस्त कराया |अब इस दल पर विश्वास नहीं किया जा सकता|उन्होंने बताया के रालोद के सदस्य ने बसपा के उम्मीदवार को वोट देने के बजाय भाजपा और बसपा दोनों के नाम के आगे निशान लगा आकर अपने खुद के वोट को निरस्त करा लिया जिसके फलस्वरूप बसपा के उम्मीदवार की जीत से दूरी बनाई गई|

रालोद ने अपने “हैंडपंप” को गंगा सफाई सवाल पर लगाया

[लखनऊ,यूपी ]रालोद ने अपने “हैंडपंप” को गंगा सफाई पर सवाल लगाया
राष्ट्रीय लोकदल[रालोद] के प्रदेश अध्यक्ष मसूद अहमद ने उत्तर प्रदेश में चलाये जा रहे गंगा सफाई अभियान पर खर्च हो चुके अरबों रुपयों पर सवाल उठाया
रालोद ने प्रधानमंत्री के बयानों का उपहास उड़ाते हुए कहा के पी एम् ने लोकसभा चुनाव के समय कहा था कि मां गंगा ने बुलाया है। मां का इतना ध्यान रखा गया कि वाराणसी में गंगा भीषण गर्मी में घाटों से दूर होती थी, जो अब जाडों में ही घाटों से दूर जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि तलहटी की रेत और गंदगी नहीं निकाली गयी तथा ‘मां गंगा के बेटे’ ने उनकी सुध लेने का प्रयास नहीं किया। केवल औपचारिकता में जिस प्रकार अपनी जन्म देने वाली मां से मिलने जाते हैं, उसी प्रकार मां गंगा का भी ध्यान रखा।
प्रदेश की योगी सरकार अभी तक इस सन्दर्भ में कोई ठोस योजना प्रस्तुत नहीं कर सकी है। तालाबों और खलिहानों पर दबंगों ने अवैध कब्जे कर रखे हैं जिससे छोटे और सीमान्त किसानों के पास सिंचाई के साधनों का अभाव है।

RLD’s Jayant Chaudhary Violates Model Code Of Conduct:Booked

[Muzaffarnagar,UP] Jayant Chaudhary Violates Model Code :Booked
RLD general secretary Jayant Chaudhary and party candidate from Shamli, Bijender Malik, have been booked for violation of the model code of conduct in Shamli district,
The two RLD leaders were booked in connection with their election rally in Kanjerheri village under Babri police station in the said district,
As per Local Police ,Both Chaudhary, son of RLD chief Ajit Singh, and Malik have been booked for holding public meeting without prior permission from the administration,
File,Symbolic,Photo

डॉ मेराजुद्दीन ने कांग्रेस का हाथ झटक कर सपाई साईकिल से उतारे गए रालोद का दामन थामा

[मेरठ,यूपी]डॉ मेराजुद्दीन ने कांग्रेस का हाथ झटक कर सपाई साईकिल से उतारे गए रालोद का दामन थामा
रालोद के महासचिव जयंत चौधरी और पूर्व विधायक राजेंद्र शर्मा की उपस्थिति में कांग्रेसी नेता डॉ मेराजुद्दीन ने रालोद ज्वाइन की
पूर्व सिंचाई मंत्री डा मेराजउद्दीन अहमद ने कहा कि जिस विश्वास के साथ उन्हें लोकदल में शामिल किया गया है वोह पार्टी के लिये कड़ी महनत से कसौटी पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करेंगे। आज के इस शो में ब्राह्मण+मोमीन और जाट का समीकरण दिखने का प्रयास किया गया

चो.अजित’ ने भाई ‘मोदी’ को आंकड़ों का अज्ञानी बताया

[लखनउ,यूपी]चौधरी अजित’ ने ‘भाई मोदी’ को आंकड़ों का अज्ञानी बताते हुए कहा के मोदी को नहीं है आंकड़ों की जानकारी
राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया और पूर्व सिविल एविएशन मंत्री अजित सिंह ने कहा कि अक्सर अपने बयानों में विरोधाभासी आंकड़े देने वाले मोदी को तथ्यों की जानकारी नहीं रहती।
सिंह ने यहां प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रधानमंत्री ने हाल में सहारनपुर में अपनी रैली के दौरान कहा कि किसानों का 700 करोड़ रपये गन्ना मूल्य बकाया रह गया है।
खबरों में आया कि 700 नहीं बल्कि पांच हजार करोड़ रपये बकाया है।
फिर मोदी स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले से कहते हैं कि उन्होंने किसानों के बकाया का 99 % मूल्य अदा करवा दिया है।
सिंह ने उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार पर हमाल बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार, गुंडागर्दी और अपराध चरम पर है।
यह खुद सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव स्वीकार कर रहे हैं।
सवाल यह है कि इस स्थिति के लिये जिम्मेदार कौन है।
पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने अजित प्रदेश में विकराल हुई बाढ़ के लिये भ्रष्टाचार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि बांधों के रखरखाव के लिये आबंटित धनराशि को जिम्मेदार लोग हड़प कर गये।
उत्तर प्रदेश के बंटवारे की वकालत करते हुए राज्य पुनर्गठन की मांग एक बार फिर उठाई |उन्होंने कहा कि आबादी के लिहाज से उत्तर प्रदेश की प्रशासनिक व्यवस्था को बेहतर करने के लिये उसका पुनर्गठन जरूरी है
फाइल फोटो

बसपा का हाथी किस और करवट लेगा:राज्यसभा के द्विवार्षिक चुनाव

[लखनऊ,यूपी]राज्य सभा के लिए यूपी में केवल दो दिन पश्चात चुनाव होने हैं लेकिन अभी तक राजनितिक दल अपने सियासी पत्ते नहीं खोल रहे| यहाँ तक बसपा सुप्रीमो मायावती भी अपने अतिरिक्त १२ वोटों को लेकर मोलभाव की जुगत में लगी हैं |
उन्होंने अभी तक सस्पेंस बनाए रखा है| पूछने पर जवाब दिया रिजल्ट आने दो हमारी वोटों के पैटर्न का पता चल जाएगा |४०३ विधायकों वाली असेंबली में बहुजन समाज पार्टी[BSP] के खाते में ८० विधायक हैं |पहले ३४ प्रति वोट की दर से उनके दो सदस्यों की जीत निश्चित है, जिनमे से सतीश चन्द्र मिश्रा +अशोक सिद्धार्थ की जीत के पश्चात भी [८०-६८] १२ विधायक अतिरिक्त हैं | इन वोटों का महत्व कांग्रेस के कपिल सिब्बल और निर्दलीय धन कुबेर प्रीटी महापात्रा के लिए बढ़ जाता है |कपिल सिब्बल के लिए रालोद का नल पानी देने को तैयार हो गया है |महापात्रा से धन की प्राप्ति हो सकती है |
इसके साथ ही लेजिस्लेटिव कौंसिल में तीन सदस्य जितवाने के लिए उसके पास [८०-[29X3]८७] ७ वोट कम हैं |जिसके लिए राजनितिक सौदा हो सकता है |
कौंसिल में अंतर सिंह राव+दिनेश चन्द्र + सुरेश कश्यप को मैदान में उतारा गया हैं|इसका चुनाव १० जून को होगा |

चौ अजित सिंह वाया माननीय मुलायम जाएंगे राज्यसभा?

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

रालोदाई चीयर लीडर

उररे झल्लेया मुबारकां!अरे म्हारे वड्डे चौधरी साहब के आशीर्वाद से म्हारे छोटे चौधरी अजित सिंह की मुलाकात माननीय मुलायम सिंह यादव से हो गई है |अब यूपी की कमान म्हारे हाथों में आई समझो

झल्ला

ओ मेरे भोले चौधरिया! तवाड़े चौधरी अजित सिंह के गमछे में यूपी की २.५% वोट और ९ विधायक ही हैं, इनके बल पर गन्ना किसानों का बकाया भी नहीं दिलवाया जा सका तो ३०% वालों से यूपी भी नहीं हथियाई जा सकेगी| हाँ झल्लेविचारानुसार सपा मुखिया के पाले में जाकर एक आध राज्यसभा की सीट जरूर कब्जाई जा सकती है इसीलिए प्रश्न है के चौ अजित सिंह वाया माननीय मुलायम जाएंगे राज्यसभा?