Ad

Tag: RetdGeneralVKSingh

पाकिस्तान की जेलों में अभी बंद हैं साढ़े चारसौ भारतीय:१९७१ से बंदियों की भी संभावना

[नयी दिल्ली] पाकिस्तान की जेलों में बंद हैं साढ़े चारसौ भारतीय|इनमे से अधिकतर मछुआरे हैं लेकिन १९७१ से बंदियों [रक्षा कर्मी]की संभावना भी व्यक्त की जा रही हैं
केंद्र सरकार ने आज राज्य सभा में बताया कि फिलहाल 445 भारतीय नागरिक पाकिस्तान की जेलों में बंद हैं जिनमें से अधिकतर मछुआरे हैं।
विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि समझा जाता है कि 1971 से लापता 74 रक्षा कर्मी जिनमें 54 युद्धबंदी शामिल हैं, पाकिस्तानी जेलों में बंद हैं।
उन्होंने कहा कि 392 भारतीय मछुआरों एवं 53 अन्य भारतीय असैन्य बंदी फिलहाल पाकिस्तान की हिरासत में है।
इनकी जल्द रिहाई +प्रत्यर्पण के लिए सरकार द्वारा इस मुद्दे को नियमित रूप से पाकिस्तान के साथ उठाया जाता रहा है।
युद्धबंदियों के बारे में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान उन्हें अपनी हिरासत में होने की बात को स्वीकार नहीं करता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 में 1262 भारतीय मछुआरों को विदेशी जल सीमा में गिरफ्तार किया गया था।
उन्होंने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि विदेशों में विभिन्न त्रासदियों में पिछले तीन साल के दौरान 2102 भारतीय घायल हुए या मारे गये। इनमें से 1575 को वापस लाया गया।
सिंह ने कहा कि इसके अलावा पिछले साल अप्रैल में आये विनाशकारी भूकंप में 35 हजार लोगों को नेपाल से निकाला गया।

Rahul Led Cong Protest Outside Parliament Demanding VK Singh’s Ouster

[New Delhi]Rahul Led Cong Protest Outside Parliament Demanding VK Singh’s Ouster
Congress Not willing To Leave Gen.VK Singh Issue Easily Not Atleast During Parliament Session
Congress Today Protested Demanding Action Against BJP Leader VK Singh
MPs led by Rahul Gandhi today staged a protest outside Parliament house demanding removal of Union Minister V K Singh for his “dog” remarks.
Leader of the Opposition in Rajya Sabha Ghulam Nabi Azad, Leader of Congress in Lok Sabha Mallikarjun Kharge, party leaders Anand Sharma, Deepender Hooda and several others participated in the protest held shortly before the Lok Sabha and Rajya Sabha assembled for the day.
VK Singh had kicked up a storm in October with his comments that the Centre cannot be blamed if somebody throws a stone at a dog to shield it from criticism for the Faridabad Dalit burning incident, prompting opposition to demand his ouster.
Singh, who is Minister of State for External Affairs, has been under opposition fire for allegedly using ‘dog analogy’ to refute allegations of inaction levelled against the government in the aftermath of two Dalit children being burned alive in Haryana.
The government side has been insisting that Singh had not made any such comment about Dalits and there is no reason for the Opposition to raise the issue

केंद्रीयमंत्री वीके सिंह के विरुद्ध संसद और अदालत में आज भी बहाई गई गर्म हवाएँ

[नई दिल्ली]सेवानिवृत जनरल वीके सिंह के विरुद्ध बहाई जा रही गर्म हवाएँ अभी थमने का नाम नहीं ले रही हैं |संसद में लगातार विरोध झेल रहे सिंह के खिलाफ दायर प्राथमिकी की याचिका पर अदालत ने भी आदेश सुरक्षित रख लिया है |फौज से राजनीती में आये वीके सिंह द्वारा सार्वजानिक रूप से माफ़ी मांगे जाने और संसद में भी स्पष्टीकरण देने के पश्चात भी मामले को लेकर पहले लोक सबह और अब राज्य सभा को बाधित किया जा रहा है |पहले कांग्रेस और आज सपा बसपा द्वारा शोर शराबा किया गया |इसके साथ ही अदालत द्वारा फैसला सुरक्षित रखे जाने से ऐसे आभास होने लगे हैं के कहीं अदालत पर दबाब बनाने के लिए परशेप्शन तो नहीं गढ़ा जा रहा ?
प्राप्त समाचार के अनुसार दिल्ली की एक अदालत ने केंद्रीय मंत्री वी के सिंह के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करने की मांग करने वाली याचिका पर फैसला आज सुरक्षित रख लिया। यह याचिका दरअसल फरीदाबाद में दलित परिवार के दो बच्चों को कथित तौर पर जिंदा जला दिए जाने के बाद सिंह की कथित ‘कुत्ते’ वाली टिप्पणी को लेकर लगाई गई है।
मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट मुनीश गर्ग ने शिकायतकर्ता वकील सत्यप्रकाश गौतम की दलीलें सुनने के बाद इस मामले पर फैसला सात दिसंबर के लिए सुरक्षित रख लिया । गौतम के अनुसार विदेश राज्य मंत्री ने दलित समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।
वकील ने कहा, ‘‘सिंह ने दलित समुदाय के उन नाबालिग बच्चों को ‘कुत्ते’ कहा था।
इसके अलावा राज्यसभा में आज भी केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के इसी ब्यान का भारी विरोध करते हुए बसपा+सपा +कांग्रेस सदस्यों ने उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर भारी हंगामा किया जिससे जिससे सदन की कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद दोपहर एक बजे के लिए स्थगित कर दी गयी। इस मुद्दे में आज मोहन भागवत के बयान को भी जोड़ लिया गया है|
हालांकि सरकार की ओर से कहा गया कि सिंह के सफाई देने के बाद यह मुद्दा खत्म हो जाना चाहिए जबकि भागवत के बयान में राममंदिर का संकल्प दोहराया गया है तथा संकल्प करना संविधान के तहत मूलभूत अधिकार है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राममंदिर का निर्माण न्यायालय के निर्णय के तहत ही होगा।’
फाइल फोटो

PM Greets General Rescue V K Singh,On His Birth Day

PM Greets General Rescue Vijay Kumar Singh,On His Birth Day
General Vijay Kumar Singh[ PVSM, AVSM, YSM] is an Indian politician and a retired four star general in the Indian Army
He Was Born On May 10, 1951
Writer Of Books Courage and Conviction General Singh Is a Minister of Development of North Eastern Region In The Central Govt Of Bharatiya Janata Party
PM Narendra Modi Has Tweeted
” wishing you a very happy birthday. I pray that Almighty blesses you with a long life full of good health”.
File Photo

सुपारी जर्नलिज्म से आहत जनरल वीके सिंह के जख्मों पर पीएम मोदी ने प्रशंसा की मलहम लगाईं

[नई दिल्ली]सुपारी जर्नलिज्म से आहत जनरल विजय कुमार सिंह के जख्मों पर पी एम नरेंद्र मोदी ने प्रशंसा की मलहम लगाईं जिससे अविभूत होकर जनरल सिंह ने धन्यवाद ट्वीट किया| नरेंद्र मोदी ने भाजपा के सांसदों की मीटिंग में ऑपरेशन यमन की सफलता के लिए अपने विदेश राज्य मंत्री [रिटायर्ड]जनरल वी के सिंह और श्रीमती सुषमा स्वराज की विशेष रूप से सराहना की|उन्होंने कहा की सम्भवत यह पहली बार हुआ है जब एक मंत्री स्वयं ज़ीरो पॉइंट पर गया हो और वहां से ऑपरेशन की कमान संभाली हो| इसके उत्तर में जनरल सिंह ने भी शिष्टाचार निभाते हुए अपने पी एम को उनके न्रेतत्व क्षमता के लिए धन्यवाद दिया
“Thanku @narendramodi ji @PMOIndia 4the kind words of appreciation,none of this would hv been possible without ur able leadership & Guidance”गौरतलब है के बीते दिनों ऑपरेशन यमन की सफलता के बावजूद प्रेस के एक सेक्शन में जनरल सिंह की कड़ी आलोचना की गई थी जिसे जनरल ने तत्काल प्रेसटीट्यूट बता दिया जिसे बाद में सुपारी जर्नलिज्म का नाम दिया गया जनरल सिंह ने मीडिया के एक सेक्शन पर हथियारों के सप्लायर्स के इशारों पर का करने के आरोप भी लगाये

Yemen Operation Hero VK Singh Again Launched Allegation Missile On Yellow Journalism

[New Delhi] Yemen Operation Hero VK Singh Again Launched Allegation Missile On Yellow Journalism
General Turned Minister Vijay Kumar Singh today Again Launched Allegation Missile On Yellow Journalism
He alleged that an”insidious campaign” is being run against him by a section of media at the behest of the arms lobby that is working overtime to subdue him
Minister Said that he has briefed Prime Minister Narendra Modi regarding it.
It is only an insidious campaign in which the arms lobby is working overtime. Hero Of Yemen Operation Shri Singh Said that They were not able to subdue me when I was the Army chief.
Minister Told To PTI That “I have briefed PM Narendra Modi on the orchestrated campaign against me”
But He Did not Disclosed the relationship Of Section Of Media and Arms Dealers
After Pakistan Day Reception controversy [on March 23] General Singh is again at the centre of a controversy over his own remarks calling media”Presstitutes”Although He has regretted his remarks but With Caveat .

Govt Provides Defence Line For[Gen] MoS V K Singh On Pakistan National Day Episode

[New Delhi]Govt Provides Defence Line For [Gen] MoS V K Singh On Pakistan National Day Episode
Government Of India ,Today,Provided Strong Defence Line To Minister [Gen]VK Singh On Pakistan National Day Reception By Saying that
“MoS External Affairs V K Singh attended Pakistan National Day reception at the instruction of govt after a “considered decision”:
Soldier Turned Minister VK Singh has already Advocated His Distinguished Duty In Pakistan National Day He has said It Was Protocol Duty.
Minister has tweeted “he was asked by the government to represent it at the Pakistan National Day reception”.Now This version has been supported by the govt.it self.
This Event Witnessed several Kashmiri separatist leaders including Mirwaiz Umer Farooq+Syed Ali Shah Geelani +Yaseen Malik Masarat Kept Himself Out Of This Event

भारत के पासपोर्ट विभाग में क्लर्क से लेकर पासपोर्ट अफसर स्तर के एक चौथाई से ज्यादा पद रिक्त हैं

भारतीय विदेश मंत्रालय के पासपोर्ट विभाग में क्लर्क से लेकर पासपोर्ट अफसर स्तर के एक चौथाई से ज्यादा पद रिक्त हैं
विदेश मामलों के मंत्रालय के पास पोर्ट कार्यालय में क्लर्क से लेकर पासपोर्ट अफसर स्तर तक के लिए अधिकृत २६९७ पदों में से ७४५ पद रिक्त हैं| इन रिक्तियों का विवरण निम्न है :
पद Post===================रिक्ति No. of vacancies====
[1]Passport Officer=========4
[2]Deputy Passport Officer===11
[3]Assistant Passport Officer==76
[4]Passport Granting Officer==50
[5]Assistant===============208
[6]UDC===================316
[7]UDC (Hindi)===============04
[8]LDC=====================57
[9]Stenographer=============09
[10]Hindi Translator==========10
Total==============================745
यह जानकारी मिनिस्ट्री ऑफ़ एक्सटर्नल अफेयर्स के राज्य मंत्री रिटायर्ड जनरल वी के सिंह ने लोक सभा में दी उन्होंने बताया कि इन रिक्तियों को भरने के लिए प्रयास जारी हैं उन्होंने बताय कि ४५० डाटा एंट्री ऑपरेटर्स रखे गए हैं
.

जले भुने बैठे जनरल वी के सिंह के समधाने वाले भी नए जनरल की न्युक्ति की छाज में फूंक मारने लगे हैं

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

तपा हुआ कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये क्या हसाडे खिलाफ अनाप शनाप ख़बरें उछाली जा रही हैं ओये जनरल बिक्रम सिंह अभी रिटायर हुए नहीं उनके उत्तराधिकारी तय नहीं हुआ और पत्रकारों में लट्ठम लट्ठ होने लग गई हैकोई कह रहा है की “ऐ” बनेगा तो कोई “बी” को बाहर निकाले जाने की भविष्य वाणी कर रहा हैओये हसाडे रक्षा मंत्रालय ने अब स्पष्ट कर दिया है कि अगले थल सेनाध्‍यक्ष की नियुक्ति के लिए थल सेना उपाध्‍यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह सुहाग के नाम की सिफारिश की खबर बिल्‍कुल निराधार है और लगे हाथों इस का खंडन भी कर दिया हैं।

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण ,आप जी ने नेवी नियुक्ति में ऐसा चमत्कार आलरेडी कर दिया हैइसी लिए पहले से ही जले भुने बैठे जनरल [रिटायर्ड]वी के सिंह के समधाने वाले भी छाज में फूंक मारने लगे हैं|

कश्मीर में खानदानी फेल चीफ मिनिस्टर जनरल वी के सिंह की जाँच के साथ ही सुव्यवस्था की मांग भी करते तो ज्यादा अच्छा लगता

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

चिंतित दुखी और पीड़ित फौजी

ओये झाल्लेया ये हसाड़े साथ क्या जुल्म कमाया जा रहा है ओये हसाड़े सोणे जनरल वी के सिंह साहब ने कश्मीर में फौजी पैसे के खर्च की बात क्या कह दी ये सारे अब उनके पीछे ही पड़ गए हैं कोई उनसे तोपखाने के कर्नल का पद छीनने की बात कर रहा है तो कोई उनके कम काज के लिए जांच की मांग करने लगा है | जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने तो सेना के टेक्नीकल सर्विसेज डिवीजन के कामकाज की जांच के लिए निर्देश देने का अनुरोध भी कर दिया हैओये ये खानदानी पोलिटिशियंस अब फौज को भी नंगा करना चाह रहे हैं क्या

झल्ला

हाँ साथी तुम्हारी यह पीड़ा वाजिब ही है क्योंकि कश्मीर में टोटली ये खानदानी फेल होने वाले ये मुख्य मंत्री अगर कश्मीर में सुव्यवस्था और कश्मीरी पंडितों को वापिस बुलवाने के लिए केंद्र से मांग करते तो ज्यादा अच्छा लगता लेकिन इन्होने अपनी असफलताओं को छुपाने के लिए जनरल वी के सिंह पर निशाना साधा है यह बेहद चिंता का विषय है