Ad

Tag: RSS

पीएम की डिनर डिप्लोमेसी मिशन २०१९ के लिए अच्छी शुरुआत

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े धाकड़ प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी ने मिशन २०१९ के तहत पार्टी के नेताओं के कसबल कसने शुरू कर दिए |उन्होंने आरएसएस और भाजपा के नेताओं को एक साथ आज डिनर पर बुलाया है

झल्ला

पीएम की डिनर डिप्लोमेसी मिशन २०१९ के लिए अच्छी शुरुआत कही जा सकती है|
आपके पीएम साहिब इफ्तार की दावत तो देने से रहे |अब चूँकि मिशन २०१९ शुरू हो चूका है ,सो भगवा ब्रिगेडों को एक जुट करने के लिए डिनर से अच्छी शुरुआत हो सकती है |

प्रणब ने आरएसएस में हाजरी दी,शर्मिष्ठा ने विरोध ट्वीट कर दिया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

औए झल्लेया देखा कांग्रेसी आखिर कार कांग्रेसी ही होता है | प्रणब मुख़र्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी अपने पिता की आरएसएस की सभा में उपस्थिति को लेकर फैलाये जा रहे भरम पर आरएसएस और भाजपा को करारा जवाब दे दिया है |औए हमें तो पहले ही शक था के ये भगवा वाले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी को लेकर कोई गेम खेलेंगे और इन्होने सोशल मीडिया पर प्रणब को गणवेश में दिखा कर उसे सही साबित भी कर दिया

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान ! प्रणब मुख़र्जी ने आरएसएस की सभा में हाजरी दे दी | शर्मिष्ठा ने उसका
विरोध कर दिया |बोले तो “रिन्द के रिन्द रहे और जन्नत भी हाथ से ना गई” लेकिन आपलोगों के हाथों से आरएसएस को लेकर मोदी सरकार पर अटैक करने का मुद्दा निकल गया |
फाइल फोटो
प्रणब मुख़र्जी डॉ मनमोहन सिंह कोहली के साथ

Cong VP Rahul Gets Bail in RSS Defamation Case

[Thane,Maha] Cong VP Rahul Gets Bail in RSS Defamation Case
Congress Vice President Rahul Gandhi was today granted bail by a court in Bhiwandi in a defamation case over his alleged comment against the RSS on Mahatma Gandhi’s assassination.
Rahul, who reached the Bhiwandi magistrate court in neighbouring Thane district around 10.30 AM amid tight security along with his supporters, appeared before Judge Tushar Waze, who adjourned the case till January 30, 2017.
Former Union Minister Shivraj Patil stood as surety for the bail for the Congress leader.
The case against Rahul was filed by a local RSS functionary, Rajesh Kunte, over the former’s speech in Bhiwandi on March 6, 2014 in the run up to Lok Sabha polls.
During the rally, Rahul had allegedly claimed, “The RSS people had killed Gandhi.”
The apex court however declined Rahul’s plea that he be exempted from personal appearance before the Bhiwandi court which had taken cognisance of the complaint of an RSS functionary by summoning him as an accused in the case.
Last evening, Rahul reached Mumbai to a rousing welcome by party workers and state leaders.
Several party workers carried placards which read: “Bapu ke samman mein, Rahul Gandhi maidan mein” (For Mahatma Gandhi’s honour, Rahul Gandhi joins fight”; “Gandhiji ke hatyaro se sangharsh rahega jari” (fight against Gandhi’s killers will continue) and “Rahul Gandhi sangharsh karo, hum tumhare saath hai” (Rahul Gandhi carry on the fight, we are with you).

जनसंघ के पूर्व अध्यक्ष+वयोवृद्ध प्रो.बलराज मधोक[९३] नहीं रहे

[नयी दिल्ली]जनसंघ के पूर्व अध्यक्ष+वयोवृद्ध प्रो.बलराज मधोक नहीं रहे |वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् [एबीवीपी]के संस्थापक सचिव भी थे।
भारतीय जनसंघ के पूर्व अध्यक्ष और आरएसएस के दिग्गज नेता बलराज मधोक[९६] का आज एम्स में निधन हो गया।
मधोक कुछ समय से बीमार चल रहे थे और एक महीने से एम्स में भर्ती थे जहां आज सुबह नौ बजे उनका निधन हो गया। आज शाम में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
दो बार सांसद रहे श्री मधोक ने 1961 और 1967 में क्रमश: दिल्ली एनसीटी और दक्षिण दिल्ली का दूसरे और चौथे लोकसभा में प्रतिनिधित्व किया था।
वर्ष 1966 में उन्हें भारतीय जनसंघ का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया।
वह नयी दिल्ली के पीजीडीएवी कॉलेज में इतिहास विभाग में शिक्षक थे और 1947..48 में उन्होंने ‘‘आर्गेनाइजर’’ तथा 1948 में उन्होंने ‘‘वीर अजरुन’’ हिंदी साप्ताहिक का संपादन किया। वह जम्मू,कश्मीर प्रजा परिषद् के संस्थापक सचिव भी थे।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मधोक के निधन पर दुख जताया है और कहा कि उनकी वैचारिक प्रतिबद्धता मजबूत थी, विचारों में सुस्पष्टता थी और उन्होंने नि:स्वार्थ भाव से खुद को राष्ट्र और समाज को समर्पित कर दिया था।
मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘जनसंघ के दिग्गज नेता श्री बलराज मधोक के दुखद निधन पर शोक जताता हूं। बलराज मधोक जी की वैचारिक प्रतिबद्धता मजबूत थी और विचार काफी स्पष्ट थे। वह नि:स्वार्थ भाव से देश और समाज की सेवा में समर्पित थे।’’
उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कई मौके पर बलराज मधोक जी से वार्तालाप करने का अवसर मिला। उनका निधन दुखद है। उनके परिवार के प्रति संवेदना। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।
वे गणमान्य शिक्षाविद, विचारक, इतिहासवेत्ता, लेखक एवं राजनीतिक विश्लेषक भी हैं।
उनका जन्म २५ फ़रवरी १९२० को जम्मू एवं काश्मीर राज्य के अस्कार्डू में हुआ था। उनकी उच्च शिक्षा लाहौर विश्वविद्यालय में हुई।
१८ वर्ष की आयु में ही वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सम्पर्क में आये। सन १९४२ में भारतीय सेना में सेवा (कमीशन) का प्रस्ताव ठुकराते हुए उन्होने आर एस एस के प्रचारक के रूप में देश की सेवा करने का व्रत लिया।उन्होंने ३० से अधिक किताबें लिखी हैं
फरवरी, 1973 में कानपुर में जनसंघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सामने एक नोट पेश किया। उस नोट में मधोक ने आर्थिक नीति, बैंकों के राष्ट्रीयकरण पर अपनी अलग बातें कही थीं।मधोक ने संगठन मंत्रियों को हटाकर जनसंघ की कार्यप्रणाली को ज्यादा लोकतांत्रिक बनाने की मांग भी उठाई थी। लालकृष्ण आडवाणी उस समय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। वे मधोक की इन बातों से इतने नाराज हो गए कि आडवाणी ने मधोक को पार्टी का अनुशासन तोड़ने और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की वजह से उन्हें तीन साल के लिये पार्टी से बाहर कर दिया गया। इस घटना से बलराज मधोक इतने आहत हुए थे कि फिर कभी नहीं लौटे।
मधोक जनसंघ के जनता पार्टी में विलय के खिलाफ थे। 1979 में उन्होंने ‘भारतीय जनसंघ’ को जनता पार्टी से अलग कर लिया। उन्होंने अपनी पार्टी को बढ़ाने की हर संभव कोशिश की, लेकिन सफलता हासिल नहीं हुई।

Prime Minister Of India Greets Nation+RSS Swayamsevaks And Amit Shah

[New Delhi]Prime Minister Of India Greets Nation+RSS Swayamsevaks And Above All Amit Shah
Prime Minister Of India Greets Nation On Auspicious Occasion Vijaya Dashmi
PM Narendra Modi Has Also Greeted His Party President And Swayamsevaks Of RSS
The Prime Minister, Narendra Modi has Tweeted In Hindi&English Both
[1]“विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं।
Greetings & best wishes on the auspicious occasion of Vijaya Dashmi.”
[2]Modi Tweeted Birthday greetings To BJP President AmitShah.
PM Said “His contribution to the Party is immense. I pray for his long life & good health”
.[3]PM Modi Has also Greeted Swayamsevaks
Modi Tweeted My greetings to all Swayamsevaks as the RSS completes 90 years in service of the Nation.

Azam Khan Bounce Back at Opponents for Slamming his UN Remark On Dadri Issue

[Lucknow]Azam Bounce Back at Opponents for Slamming his UN Remark On Dadri Issue
Facing flak for taking the Dadri issue to the United Nations, senior UP minister Mohd Azam Khan today hit back at his political opponents asking where were the ‘thekedaars'[Contractors] of the society when Badaun case and those related to child labour were raised before the UN.
“Barely clenching fist and showing a punch doesn’t give the power reality cannot be described by playing with words something concrete has to be done,” Khan said at a programme here.
“When the hanging of two cousin sisters in Badaun was taken before the United Nations and the Chief Minister had to reply to a letter from its Secretary General, where were these so called ‘thekedaars’ of the society,” he said.
Khan posed, “When several issues of labour movements and child labour were raised before the UN and Kailash Satyarthi got Nobel prize, where were these people?”
“Lakhs of cases related to health were taken before the UN, but at that time nobody said people doing so were Pakistan agents and they should leave India. But when a person is mourning death of an innocent person because people want to end democracy and turn the country into a Hindu Rashtra, no democratic force is ready for it,” he said.Taking strong exception to Khan’s letter, BJP has demanded his dismissal and said he should be tried for treachery for taking the Dadri issue to the UN and tarnishing the image of the country at the global level.
Controversial AIMIM leader Asaduddin Owaisi has said Khan has committed a blunder by taking up India’s internal issue with the UN.
Amidst outcry over lynching of a 50-year-old Muslim in Dadri, Khan had sought intervention of United Nations to look into the “miseries” of minorities in India.
In a letter to UN Secretary General Ban Ki-moon, Khan also attacked RSS accusing it of working to turn secular and pluralistic India into a majoritarian theocratic nation as ‘Hindu Rashtra’.
“Fascist forces are attempting to create a divide in the society by launching a hate campaign against Muslims and Dadri incident is an example of this,” Khan had said.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी आरएसएस की वार्षिक बैठक में भाग लिया

[नयी दिल्ली] प्रधान मंत्री ने भी आरएसएस की वार्षिक बैठक में भाग लिया |
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सरकार के बीच चल रही बैठक के तीसरे और अंतिम दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज इसमें शामिल हुए। भाजपा की सरकार बनाने के पश्चात अपनी तरह की यह पहली बैठक है जिसमें अनेकों मुद्दों पर चर्चा होने की चर्चा है
सूत्रों के अनुसार मोदी सरकार के कई शीर्ष मंत्रियों ने आंतरिक सुरक्षा+नक्सल समस्या+जम्मू+कश्मीर की स्थिति सहित अनेकों मुद्दों पर हुई
चर्चा में शिरकत की।केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह+वित्त मंत्री अरूण जेटली+विदेश मंत्री सुषमा स्वराज+रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर+वेंकैया नायडू+अनंत कुमार इस बैठक में शामिल हुए

Rahul Gandhi Lends Open Support To Agitating Students In FTII And Targets RSS

[Pune]Rahul Gandhi Lends Open Support To Agitating Students In FTII And Targets RSS .He visited FTII And assured students that he would raise their voice in Parliament.
Lending his support to students agitating at the Film and Television Institute here against appointment of Gajendra [Yudhisthir]Chauhan, Congress VP Rahul Gandhi today said the RSS is “undermining” the institution’s stature by promoting “mediocrity”.
Interacting with the students, the Congress Vice President asked why the “little school” was “disturbing” the government’s peace of mind and flayed the RSS, saying it wants to promote its idea and would brand the protesting students as “anti-national”.
“RSS and its ideologues are promoting mediocre people in the system
Rahul assured the students that he would raise their voice in Parliament.
“RSS wants to promote their idea. They will call you anti-national, anti-Hindu. They are scared of you. That is the nature of a bully,” he said.
As Gandhi visited the prestigious institution, BJP workers raised slogans outside.
FTII students have been on strike for the past 50 days objecting to appointment of Film+TV actor Chauhan as institution’s chairman.
Gandhi also used the platform to draw comparisons between the Congress and the BJP regime saying, “In Congress whenever there is an issue, it is discussed…some agree some don’t.
But in BJP if the Prime Minister has decided, no one can say anything”.
Earlier this month, the students body had written to leaders from various political parties requesting them to intervene and urge the government to revoke the appointments of ‘unfit’ people and to set up a transparent procedure for future appointments. .

मुक़द्दस रामजान में इफ्तार दावतों के नाम पर सेकुलरिज्म का ढोंग रचने वालों को”संघ”ने आड़े हाथों लिया

[नयी दिल्ली] मुक़द्दस रामजान के महीने में इफ्तार दावतों के नाम पर सेकुलरिज्म का ढोंग करने वाले नेताओं को राष्ट्रीय सेवक संघ[आर एस एस] ने आड़े हाथों लिया
रमजान के पवित्र महीने में अलग अलग राजनीतिक हस्तियों की ओर से इफ्तार पार्टी देने के चलन है जिसे कोसते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखपत्र ‘आर्गनाइजर’ ने आज कहा कि इफ्तार पार्टियां तथाकथित धर्मनिरपेक्षता का ‘प्रतीक’ भर हैं । ऐसी पार्टियां इफ्तार की मूल भावना के भी खिलाफ हैं, जिनमें गरीबों को भोजन कराने के विपरीत ‘‘पेट भरे’’ राजनीतिक मेहमानों को खिलाया जाता है ।
आर्गनाइजर के संपादकीय ‘दि सेक्युलर टोकेनिज्म’ में कहा गया है कि धर्मनिरपेक्षता के नाम पर होने वाली ये रस्म अदायगी हास्यास्पद है और यह ‘प्रतीकवाद’ अल्पसंख्यकवाद को प्रोत्साहित करता है और पहचान की राजनीति को हावी कर भारतीय मूल्यों को कमतर करता है ।
संपादकीय में कहा गया कि राजनीतिक प्रतीकवाद के ऐसे आयोजन में ‘दुआओं और माफी’ का वास्तविक संदेश कहीं पीछे छूट जाता है । यह धर्म का मजाक है । गरीबों और वंचितों को जहां साथ बिठाकर भोजन कराया जाना चाहिए, जहां उनके प्रति रहम और उदारता की उम्मीद रखनी चाहिए, वहीं राजनीतिक नफा नुकसान के लिए पेट भर खाकर आये मेहमानों को रोजा नहीं रखने वाले भोजन कराते हैं । यह हास्यास्पद परंपरा किसी भी धार्मिक रीति रिवाज की भावना के खिलाफ है ।
संपादकीय में कहा गया कि किसी व्यक्ति या संगठन द्वारा धार्मिक कार्यक्रम करना ठीक है लेकिन धर्मनिरपेक्षता के नाम पर ऐसे कार्यक्रम को सही ठहराना हास्यास्पद है ।इसमें कहा गया कि दिलचस्प बात यह है कि वोट बैंक की राजनीति को प्रोत्साहित करने के लिए सभी हिन्दू राजनीतिज्ञ ऐसे आयोजन कराते हैं ।

मधुमेह मुक्त भारत अभियान सप्ताह में २हजार रोगियों की निशुल्क जांच के साथ योगाभ्यास भी कराया

[कंकरखेड़ा/मेरठ]मधुमेह मुक्त भारत अभियान सप्ताह में २हजार रोगियों की निशुल्क जांच के साथ योगाभ्यास भी कराया
भारतीय कंकरखेड़ा+भारतीय योग संस्थान के तत्वाधान में आयोजित मधुमेह मुक्त भारत अभियान योग सप्ताह में चिकित्स्कों द्वारा २००० रोगियों की निशुल्क जांच की गई योगाचार्यों द्वारा योग के माध्यम से जीवन शैली जीने के गुर सिखाये |
आयोजन का २८ जून को विधिवत समापन हुआ|आरोग्य भारती के अध्यक्ष डॉ रवि दत्त भाटिया+महानगर संघ चालक विनोद भारती सर्वांगीण विकास के लिए योग अपनाने का आह्वाहन किया |