Ad

Tag: SHRIMATI SONIA GANDHI

सोनिया ने स्वर्गीय राजीवगांधी की ७०वीं जयंती पर पी एम मोदी को नकली सपनों का सौदागर बताया

[नई दिल्ली]कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने अपने पति स्वर्गीय राजीव गांधी की ७० वीं जयंती पर महिला आरक्षण को लेकर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला बोला | आज उन्होंने लिखे भाषण को पढ़ते हुए भी श्रोताओं से सीधे संवाद स्थापित किये और बीच बीच में श्रोताओं से सवाल किये और जवाब भी जोर शोर से उनकी पसंद के ही आये | सोनिया ने यह भी कहा कि नकली सपने दिखाने वाले लोग आगे बढ़ गए हैं।
दिल्‍ली में वीर भूमि पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की 70वीं जयंती के अवसर पर प्रार्थना सभा में भाग लेने के पश्चात श्रीमति सोनिया ने कांग्रेस महिला के सम्मलेन में ओजस्वी भाषण दिया अपनी सरकार द्वारा किये गए महिला कल्याणकारी कार्यों का ब्योरा देने के लिए उन्होंने प्रश्नोत्तरी को माध्यम बनाया |पूछा कि महिला सशक्तिकरण के लिए कार्य किसने किये +शौचाल्य+महिला आरक्षण+पिता की संपत्ति में पुत्री के अधिकार आदि आदि किसने दिलाये इनके जवाब भी उनके फेवर में ही आये |गौरतलब है कि पिछले दिनों नरेंद्र मोदी की सभाओं में महाराष्ट्र +हरियाणा के कांग्रेसी मुख्य मंत्री हूट हो चुके हैं| सम्भत इसीलिए चार राज्यों की विधान सभाओं में होने वाले चुनावों और यूं पी में उपचुनावों में लड़ाई के लिए श्रीमती सोनिया ने कमान अपने हाथों में सम्भाल ली है |
पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की ७० वीं जयंती पर कांग्रेस के महिला सम्मेलन में नरेंद्र मोदी सरकार पर एक बार फिर निशाना साधते श्रीमती सोनिया ने कहा कि मौजूदा सरकार यूपीए सरकार की योजनाओं को ही लागू कर रही है।
सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस महिला आरक्षण के प्रण से पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा, हमलोगों ने बहुत कुछ किया, लेकिन ये बातें आम लोगों के सामने नहीं आ पाई और वे कुछ लोगों के झांसे में आ गए। नकली सपने दिखाने वाले लोग आगे बढ़ गए हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के संदर्भ में सोनिया ने कहा कि कौन नहीं जानता कि निर्मल भारत अभियान की शुरुआत यूपीए सरकार के कार्यकाल में ही की गई थी।
सोनिया ने कहा, कि कांग्रेस पार्टी महिलाओं को आरक्षण के लिए केंद्र की एनडीए सरकार पर लगातार दबाव डालेगी।
फोटो कैप्शन
PresidentPranab Mukherjee, the Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari, the former Prime Minister, Dr. Manmohan Singh and other dignitaries at a prayer meeting, at the Samadhi of former Prime Minister, late Shri Rajiv Gandhi, on his 70th birth anniversary, at Vir Bhoomi, in Delhi on August 20, 2014.

सोनिया जी अगर चुनावों में ओनली “मोदी” भापे पर नजर रखलेते तो ये दिन नहीं देखते

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखी हसाड़ी सोनिया गांधी जी की दरियादिली? सोनिया जी ने अपनी रायबरेली में ४००० लोगों को शुक्राना भोज छकाया|इसके साथ ही उन्होंने फिरोज गांधी मैदान में यह भी फरमाया है कि अब हम लोगों को पौने ग्यारह करोड़ भारत वासियों का समर्थन मिला है |अब भाजपाइयों को उनकी मनमानी नहीं करने देंगे उनके सभी कार्यों पर नजर रखेंगे और सोणी कांग्रेस की आन बान शान को वापिस ला कर रहेंगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी झल्लेविचारानुसार अगर आप लोग केवल एक भाजपाई नरेंद्र मोदी भापे के सियासी कदमो पर नजर रखलेते तो आप लोग ये दिन नहीं देखते|

उपिंदर तो बेशक”घुग्गु” पी एम की स्पोर्ट में हैं लेकिन प्रियंका तो वाकई “सुपर” पी एम को बचा रही हैं

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया अब तो मानता है ना कि बेटियां खानदान की पहचान होती हैं|ओये देख हसाडे सोणे ते मन मोहने पी एम की बेटी उपिंदर सिंह और माननीय सोनिया जी की बेटी प्रियंका वढेरा ने अपने माता पिता पर हमला करने वालों की बोलतीएक झटके में ही बंद कर दी है |उपिंदर ने अपने पिता के पूर्व सलाहकार संजय बारु को धोखे बाज और प्रियंका ने डॉ मन मोहन सिंह को सुपर पी एम बता कर अपने माता पिता का बचाव कर लिया है|बड़े आये थे पी सी परख और संजय बारू हसाडे सोणे पी एम को एक्सिडेंटल+ क्रूसेडर और सोनिया जी को सुपर पी एम बताने वाले |सारे के सारे किताबी योद्धा धराशाई हो गए|

झल्ला

वाकई चतुर सुजाण जी बेटियां खास तौर पर कांग्रेसी बेटियां किसी भी तरीके से किसी से कम नहीं हैं लेकिन झल्लेविचरानुसार उपिंदर सिंह को तो मजबूरन हमेशा घुग्गु बन खामोश रहने वाले पिता के बचाव में आगे आना पड़ा और संजय बारू को पीठ पर चुरा घोंपने वाला बताना पड़ा लेकिन प्रियंका गांधी को क्यूँ कर पी एम का बचाव करने के लिए पी एम को सुपर पी एम बताना पड़ गया “झल्ले” को लगता है कि अपने भाई को सपोर्ट कर रही प्रियंका ने अपनी मम्मी को भी बचाने के लिए यह शब्द बाण चलाया है

आर्थिक आधारित आरक्षण के सुझाव को बेशक रद्दी की टोकरी नसीब हुई मगर इसकी जड़ों की तलाश शुरू हो गई है

जाति आधारित आरक्षण के स्थान पर आर्थिक आधार बनाने के लिए कांग्रेस के महा सचिव जनार्दन द्विवेदी के सुझाव को पार्टी के चुनावी मेनिफेस्टो में शामिल करने के बजाय कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने उसे रद्दी की टोकरी में डाल दिया है लेकिन इस मुद्दे को लेकर आरक्षण के बल पर राजनीती करने वालों ने इस रिजेक्टेड सुझाव की संसद के बाहर और भीतर आलोचना करनी शुरू कर दी है |एक पत्रकारों का धड़ा इस सुझाव पर भाजपा के पी एम् प्रत्याशी नरेंद्र मोदी को घेरने में लग गया है | यह भी कहा जा रहा है कि चुनावों के मध्य नजर इस मुद्दे को उठाया जा रहा है |
अब ऊपरी तौर से दिख रहा है कि सूत या कपास के बिना ही लट्ठम लठ चल रहा है मगर इस सुझाव की जड़ों की खुदाई तो शुरू हो ही गई है|
चुनावो से ठीक पहले यह मुद्दा उछालना किसी भी तरह से किसी की भी निजी राय नहीं हो सकती और जनार्दन द्विवेदी सरीखे भरोसे मंद +गम्भीर और वरिष्ठ नेता से मजाक की भी उम्मीद नहीं की जा सकती तब ऐसा क्या कारण है कि मुद्दे को उछाला गया |जिस प्रकार से श्री मति सोनिए गांधी ने आगे आकर सामाजिक न्याय के नाम पर आरक्षण की वकालत करते हुए इस दिशा में और अधिक काम का आश्वासन दिया है उससे लगता है कि अपने पुराने और अब दूर छिटक चुके वोट बैंक [आरक्षण के लाभार्थियों] को बसपा+ सपा से काट कर कांग्रेस की तरफ मोड़ना एक कारण हो सकता है इसके अलावा इस मुद्दे पर भाजपा को घेरने की कवायद भी दिखाई दे रही है जिस तरह से आर्थिक आधार पर आरक्षण के विषय में भाजपा से राय पूछी जा रही है उससे यह भी दिखता है कि चुनावों के मध्यनजर भाजपा से आर्थिक आधार पर आरक्षण पर राय लेकर भाजपा से आरक्षण के लाभार्थी जातियों के वोट काटे जा सके
अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने अपने कांग्रेस महासचिव के इस सुझाव को सिरे से खारिज कर दिया है।अपने सबसे करीबी माने जाने वाले नेता की दलीलों को खारिज करते हुए सोनिया ने अनुसूचित जाति+ जनजाति + पिछड़े वर्गो को आरक्षण का श्रेय कांग्रेस को देते हुए इसे आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई।
संप्रग सरकार को बाहर से समर्थन दे रही सपा के रामगोपाल यादव+बसपा प्रमुख मायावती ने संसद के भीतर इसे लेकर हंगामा किया |प्रमुख विपक्षी दल भाजपा ने इसके समय को लेकर सवाल खड़ा कर दिया।
राज्यसभा में बसपा ने कांग्रेस से स्थिति साफ करने की मांग की और सपा ने केंद्र सरकार पर सामाजिक न्याय से भागने का आरोप लगा दिया।
कांग्रेस के भीतर पीएल पुनिया +अजीत जोगी जैसे दलित और पिछड़े नेताओं ने जनार्दन द्विवेदी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।
इस सबसे बचने के लिए सोनिया गांधी ने अपने बयान में साफ कर दिया कि कांग्रेस शुरू से अनुसूचित जातियों+ जनजातियों + पिछड़े वर्गो के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध रही है और आगे भी रहेगी।
श्रीमती सोनियागांधी ने सांत्वना देते हुए बताया कि कांग्रेस ने ही 1950 के दशक में अनुसूचित जातियों +जनजातियों को सरकारी नौकरियों व शिक्षा संस्थाओं के साथ-साथ संसद और विधानसभाओं में आरक्षण सुनिश्चित कराया था।
पिछड़े वर्गो के लिए आरक्षण भले ही वीपी सिंह की सरकार ने लागू किया हो मगर श्रीमती सोनिया गांधी ने इसका श्रेय भी कांग्रेस को ही दिया। उनके अनुसार अनुसूचित जाति+ जनजाति + पिछड़े वर्गो के लिए आरक्षण की प्रणाली पर कांग्रेस के रुख में कोई शक नहीं है।
उन्होंने निजी क्षेत्र में अनुसूचित जाति और जनजाति की भागीदारी बढ़ाने के लिए संप्रग सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की भी जानकारी दी। उन्होंने याद दिलाया कि संप्रग सरकार ने इन वर्गो के छात्रों के लिए विशेष छात्रवृति की शुरुआत की थी, जिसका लाभ हर महीने एक करोड़ से अधिक छात्र उठा रहे हैं। एक कदम आगे बढ़ते हुए सोनिया ने अनुसूचित जाति और जनजाति का विकास सुनिश्चित करने के लिए अलग से बजट आवंटित करने के प्रति भी प्रतिबद्धता जताई है ।

राबर्ट वढेरा का जमीनकाण्ड भी एक से ज्यादा राज्यों में हैतो क्या केंद्र इस पर भी जाँच आयोग बैठायेगा

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

भाजपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया अब देखना हम कांग्रेस के भ्रष्टाचार की पोल कैसे खोलते हैं| इसकी शुरुआत राजस्थान से की जायेगी इसके लिए केबिनेट सब कमिटी का भी गठनकर दिया गया है|इसके अध्यक्ष हसाडे जाने माने माननीय गुलाब चंद कटारिया जी हैंऔर इनकी मदद के लिए गजेन्द्र सिंह खिवंसर ने भी जमीनों के बही खाते टटोलने शुरू कर दिए हैं|
तौबा तौबा ये अशोक गहलौत ने तो अपनी सरकार के आखिरी दिनों में जिस तरह से अपने आकाओं का ऋण चुकाया है वोह सभी अब सबके सामने आ जायेगा |बताओ तो रिफायनरी की नीवं लीलाला के बजाय अपने गृह जिले पचपदरा में कांग्रेस अध्यक्षा श्री मति सोनिया गांधी से रखवा ली इससे बच थोड़े ना जायेंगे |सास तो सास दामाद भी बाप रे बाप |श्रीमती सोनिया के एक मात्र दामाद राबर्ट वढेरा को सोलर पॉवर कंपनी के नाम पर सैंकड़ों बीघा ,मीटर नहीं, जमीन रेवड़ियों के भाव दिलवा दी गई |

झल्ला

ठण्ड रखो सेठ जी ठण्ड आप बहुत जल्दी भूल जाते हो |अभी कल ही गुजरात के स्नूपिंग केस में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जाँच आयोग के गठन को मंजूरी दी है| अरे भापा जी जांच आयोग कानून 1952 के अनुसार एक अपराध अगर एक से ज्यादा राज्यों में होता है तो उसकी जाँच के लिए केंद्र सरकार ही तो जांच आयोग बैठायेगा और वढेरा बेचारे पर तो हरियाणा +दिल्ली और अब आपके राजस्थान में भी छींटे पड़ेंगे सो जांच तो केंद्र भी करेगा तो अब आप ही बताओ इससे आपजी को क्या मिलेगा बाबा जी का ठुल्लु ?

हफिंगटन पोस्ट की हवा निकल ही गई, सोनिया की १२००० करोड़ की संपत्ति के मामले में देखो कैसा हांफ रहा है

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया आ गया न ऊँठ पहाड़ के नीचे !ओये चुनावों के दौर में हसाड़ी माननीया श्रीमति सोनिया गांधी को बदनाम करने के लिए हफिंगटन पोस्ट ने नया पैंतरा खेल दिया और एक सूची जारी करके सोनिया जी की सवा करोड़ संपत्ति को १२००० करोड़ की बता दिया लेकिन हमने भी कोई कसर नहीं छोड़ी हमने भी हफिंगटन पोस्ट की हवा निकालते हुए उसके इस दावे को चुनौती दे डाली
अब देख हफिंगटन कैसा हांफ रहा है |पोस्ट के संपादक ने कहा कि माननीया सोनिया जी का नाम एक तीसरी वेबसाइट में दिए ब्योरे से लिया गया था जिस पर तमाम प्रश्न उठ रहे हैं। यही वजह है कि सोनिया गांधी का नाम वहां से हटा दिया गया है और खेद भी व्यक्त किया जा रहा है।

झल्ला

चतुर सुजाण जी ये भारत है यहाँ धूआं देख कर आग आग चिल्लाने की पुराणी परम्परा है |अब धूआं दिख गया है तो ये चिल्लाना चुनावों तक चलता ही रहेगा

विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह ने, भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन केलिए, डॉ मन मोहन सिंह को भी समन देने की ठानी

विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह ने भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन केलिए डॉ मन मोहन सिंह को भी समन देने की ठानी विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह [एस ऍफ़ जे]भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामलों को मीडिया की सुर्खियाँ देने में कोई कसर नहीं छोड़ता यह संगठन विशेष कर तब हरकत में आता है जब कोई भारतीय नेता अमेरिका की धरती पर कदम रखता है | भारतीय नेता का स्वागत ऐसे ही कोर्ट समन दवारा किया जाता है| प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह के न्यूयॉर्क यात्रा के दौरान भी यह प्रभाव शाली संगठन मीडिया में आ गया है|
अमेरिकी अदालत से प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह के खिलाफ 1990 में पंजाब में चलाए गए आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान कथित मानवाधिकार उल्लंघन के मामले में इस संगठन ने समन जारी करवाने की तैय्यारी कर ली है|
डॉ मनमोहन सिंह के अमेरिका में आगमन पर व्हाइट हाउस स्टाफ और सिंह की सुरक्षा टीम के सदस्यों को यह समन सौंपने की बात कही जा रही है|अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात के लिए भारतीय प्रधानमंत्री गुरुवार को अमेरिका पहुँच गए हैं |
इससे पूर्व 4/9/2013 अमेरिका में इलाज करवाने के लिए पहुंची यूं पी ऐ अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी को भी अस्पताल के स्टाफ के माध्यम से समन दिए जाने की बात उठी थी उस समय न्यूयॉर्क की एक संघीय अदालत ने 1984 के सिख विरोधी दंगों में कथित तौर पर शामिल कांग्रेस नेताओं को ‘बचाने’ को लेकर पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को समन जारी कियाथा जबकि एक निजी कार्यक्रम में पहुंचे पंजाब के मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल को भी इसी स्थिति का सामना करना पडा था| एसएफजे ने इसके अतिरिक्त केंद्रीय मंत्री कमलनाथ सहित कई भारतीय नेताओं के खिलाफ इस तरह के विफल प्रयास किए जा चुके हैं|

संशोधनों के ईंधन पर पकाए बगैर ही कच्चे अनाज की सिक्यूरिटी से भ्रष्टाचार के अपच से देर सबेर ढिड[पेट] में दर्द होनी ही है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कुलांचे भरता एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झाल्लेया मुबारकां ओये देखा हसाडी नेत्री श्रीमती सोनिया गाँधी जी ने दिन रात एक करकेयहाँ तक के खुद बीमार पड़ कर भी फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को लोक सभा में अपनी अनुपस्थिति में पास करवा लिया| ओये आज के नो घंटे के मंथन [ बहस] से निकले फ़ूड सिक्यूरिटी के अमृत से देश की ८२ करोड़ जनता को सस्ता अनाज उपलब्ध हो सकेगा|अब कोई भूखा नहीं सोयेगा|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी आप जी के इस फ़ूड सिक्यूरिटी बिल से आप जी की चुनावों में दाल तो गल जायेगी और विपक्ष की हांडी टूट जायेगी लेकिन आप जी ने विपक्ष के ३०० से ज्यादा संशोधनों के ईंधन पर पकाए बगैर ही कच्चे अनाज की व्यवस्था कराई है इससे देर सबेर भ्रष्टाचार के अपच से आपलोगों के ढिड[पेट] में दर्द होनी ही है|

श्रीमति सोनिया गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर १५ साल पूरे किये

देश कि सबसे शक्तिशाली महिला श्रीमति सोनिया गांधी ने आज १४ मार्च ,गुरुवार को सबसे बड़े और पुराणी पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर १५ साल पूरे कर लिए हैं| श्रीमति सोनिया गांधी ने पार्टी प्रमुख के तौर पर न सिर्फ कांग्रेस को दो बार केंद्र की सत्ता में वापस लौटाया बल्कि भारतीय राजनीति में एक दमदार भूमिका भी निभाई। 66 वर्षीया श्रीमति गांधी ने 1998 में 127 साल पुरानी इस पार्टी के अध्यक्ष पद को संभाला था और तब से वह लगातार इस पद पर बनी हुई हैं। लगातार सबसे अधिक समय तक पार्टी अध्यक्ष रहने का रिकॉर्ड अब उनके नाम के साथ जुड़ गया है।
इस दौरान परीक्षाओं की घड़ी कई बार आयीं लेकिन उन्‍होंने हमेशा उनका डट कर सामना किया,|लेकिनअनेकों परीक्षाएं ऐसी है जिन्‍हें वो कभी उतीर्ण नहीं कर पायीं।

श्रीमति सोनिया गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर १५ साल पूरे किये

श्रीमति सोनिया गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर १५ साल पूरे किये


[१]:नेतृत्व के लिए पार्टी हमेशा गांधी परिवार की मोहताज रही है। 1998 में भी कांग्रेस गांधी परिवार के नेतृत्व की मोहताज थी और 15 साल बाद भी पार्टी गांधी परिवार के ही वर्चस्व में है|
[ २]: 1998 में सीताराम केसरी के बाद से ज्यादातर प्रदेशों में कांग्रेसी नेता चुनावी जीत के लिए आलाकमान पर ही निर्भर हैं|अर्थार्त पार्टी में जी हुजूरी की परंपरा को खत्म नहीं किया जा सका है|।
[३]: ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के 2004 के करप्शन परसेप्शन इंडेक्स के आंकड़ों के मुताबिक भारत ईमानदार देशों की सूची में चार पायदान नीचे गिर कर 2012 में ९४ वें स्थान पर चला गया।
[ 4]: 1998 में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद सोनिया ने पार्टी की कमान संभाली और 2004 में कांग्रेस जब कांग्रेस सत्ता में आई उस समय देश में महंगाई दर 3.77 % थी। फरवरी, 2013 में यही आंकड़ा तीन गुना बढ कर 10.91 % पर पहुंच गया। [५] : सोनिया का अनुभवी नेतृत्व पार्टी को इस बीमारी से नहीं बचा पाया है । [ ६] हिंदी बेल्‍ट वाले राज्यों में इसकी पकड़ लगातार कमजोर होती जा रही है|1998 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का एक भी सांसद यूपी से संसद तक नहीं पहुंच पाया था। वहीं 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को यूपी में 21 सीटें मिली थीं। लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव में पार्टी की हालत फिर खराब हो गई। पार्टी सपा,+बसपा और यहाँ तक की बीजेपी से भी पीछे रही।
बेशक अनेकों परीक्षाओं में सोनिया फेल हुई हैं मगर यह भी सत्य है कि राजीव गाँधी की आकस्मिक दुखद मृत्यु के पश्चात [१]विदेशी भारत में रहने का निर्णय लिया [२]कांग्रेस की लगातार झुकती जा रही रीड की हड्डी को सीधा किया [३] केंद्र में दूसरों की सरकार गिराई [४] अपने विरोधियों तक को कांग्रेस के साथ, [बेशक बाहर से ही] ,जोड़ा और सरकार बनाई[५] लगातार ९ साल तक सरकार चलाई और अभी भी चल रही है| |हाँ इस दौरान कांग्रेस के डी एन ऐ में भ्रष्टाचार और राजनीतिक मजबूरी का दोष आ गया है शायद ऐसा इसीलिए हुआ है कि पालिसी बनाने के पश्चात उसके कार्यान्वन के लिए सुपरविजन की तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा| इससे अब आगे आने वाले समय में विशेष कर २०१४ के चुनावों में परेशानी आ सकती है|

देश की सबसे शक्ति शाली सोनिया ने ६७वे साल में प्रवेश किया:Happy Birth Day To Sonia Gandhi

:Happy Birth Day To Sonia Gandh

कांग्रेस और यूं .पी. ऐ. अध्यक्षा श्रीमति सोनिया गांधी आज 66 साल की हो गयी।ढोल बजाकर और पटाखे छोड़कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इस मौके पर मिठाइयां बांटी| केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे+ बेनी प्रसाद वर्मा,+गुलाम नबी आजाद+ कपिल सिब्बल+जनार्दन द्विवेदी और मोतीलाल वोरा आदि के साथ साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने बर्थडे लेडी [ श्रीमति गांधी] को शुभकामनाएं दी। खुद प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह ने उन्हें जन्मदिन पर बधाई दी.|यूं तो बधाई देने की प्रक्रिया बीते दिन से ही शुरू हो गई थी मगर आज बधाई देने के लिए बड़ी संख्या में पार्टी समर्थक+नेता और मंत्री उनके आधिकारिक आवास 10 जनपथ के बाहर जमा हो रहे हैं|
श्रीमति सोनिया गांधी को उनके ६७वे जन्मदिन की बधाई देने का सिलसिला शनिवार को ही शुरू हो गया था| श्रीमति गांधी की व्यस्तता को देखते हुए कुछ कांग्रेसियों और केंद्रीय मंत्रियों ने उन्हें शनिवार को ही अपनी शुभकामनाएं दे दीं| द्रमुक सुप्रीमो एम. करुणानिधि ने कांग्रेस अध्यक्षा को फूलों का गुलदस्ता भिजवाय हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी उन्हें बधाई दी है+ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी ने भी कांग्रेस अध्यक्षा से मुलाकात की.+ करुणानिधि ने अपने संदेश में कहा है कि देश पंथनिरपेक्ष और स्थिर सरकार के लिए संप्रग अध्यक्ष की ओर देख रहा है.