Ad

Tag: SugarCaneFarmers

योगी जी! किसानों का लोटा -नमक होने से पहले ही तिजोरियों से रेवड़ियां बाहर निकाल लो

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया! मुबारकां!! औए हसाड़े कर्मठ मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रदेश के गन्ना किसानों के बचे खुचे बकाये के भुगतान के भी आदेश जारी कर दिए हैं | औए हसाड़े उत्तर प्रदेश में ५० हजार करोड़ रु का भुगतान किया भी जा चुका है इसके बावजूद जो बचा रहा गया उसका भुगतान भी जल्द से जल्द हो जायेगा |मानता है ना के हमारे नेतागण सबके विकास के लिए सबके साथ हैं|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी !जब सामने वाला मुफ्त में शतप्रतिशत कर्ज माफ़ी का आश्वासन दे रहा हो तो आपकी ये घोषणाएं कहाँ ठहर पाएंगी? पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गन्ना व्यवसाय अधिकतर जाटों के हाथो में हैं और इसे पहले इनका भी लौटा नमक हो जाये मई २०१९ से पहले तिजोरियों से रेवड़ियां निकाल लो

५०० दिन में ही मोदी सरकर की असलियत देखते हुए अब उसे “बस”कहना होगा :मणिशंकर अय्यर

[मेरठ] ५०० दिन में ही मोदी सरकर की असलियत देखते हुए अब उसे “बस”कहना होगा :मणिशंकर अय्यर|
१० जनपथ के करीबी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर ने मोदी सरकार की आर्थिक+ विदेश के अलावा धार्मिक नीति पर जम कर निशाना बनाया| एक प्रकार से वे अपनी पार्टी के खोये आधार वोट बैंक[मुस्लिम+किसान+दलित] को बटोरते दिखाई दिए | पूर्व केंद्रीय मंत्री उत्साही युवाओं की भीड़ से गदगद दिखे|लेकिन महिलाओं के सशक्तिकरण के दावे करने वाली कांग्रेस के कार्यक्रम में महिलाओं का प्रतिनिधित्व नगण्य ही रहा |
वरिष्ठ कांग्रेसी नेता चौधरी यशपाल सिंह के मंच सञ्चालन में मणि शंकर अय्यर बोल रहे थे
पूर्व प्रशासक+पूर्व केन्द्रीय मंत्री+कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने अपने स्वयं के स्वागत समारोह में भाजपा की ही आलोचना की
इस अवसर पर उन्होंने विपक्ष की भूमिका निभाते हुए भाजपा की केन्द्र सरकार पर निशाना साधा |
श्री अय्यर ने कहा कि जनता ने 500 दिनों में ही भाजपा की केंद्र में सरकार को देख लिया है इसकी कथनी और करनी में अंतर को देखते हुए अब उसे “बस” [और नहीं]कह देना चाहिए |श्री मणि ने किसानों की भूमि अधिग्रहण से लेकर गन्ना+और प्याज किसानों के मुद्दे भी छूए लेकिन अधिकाँश समय उन्होंने धार्मिक असंतोष को भुनाने में ही लगाया |इसके समर्थन में उन्होंने जवाहर लाल नेहरू से लेकर राजीव गांधी की सरकार के उदारहण भी दिए
उन्होने कहा की केन्द्र की भाजपा सरकार 5 साल चलने वाली नही है। उन्होेने सांसद ओवैसी को अपना मित्र बताते हुए कहा कि वह यूपी मेें मुस्लिमों की बात कर भाजपा को लाभ पहुंचा रहे है। वह उनसे इस संबंध में वार्ता करेंगे तथा उन्हे समझायेंगे। इस दौरान कांग्रेस जिलाध्यक्ष विनय प्रधान,केके त्यागी, दीपक शर्मा, किशनी आदि भी पार्टी के दर्जनों नेता उपस्थित रहे।ग्लोबल सिटी निवासी कमल नाथ त्यागी द्वारा गंगा नगर की ग्लोबल सिटी में समारोह का आयोजन किया गया था

रालोद ने आज फिर उत्पीड़क गन्ना मिलों के खिलाफ कमिश्नर के समक्ष आवाज उठाई

[मेरठ]रालोद की स्थनीय इकाई ने आज फिर उत्पीड़क गन्ना मीलों के खिलाफ आवाज उठाई |कमिश्नर ने इसे गंभीर मामला बता कर शीघ्र कार्यवाही का भरोसा दिलाया|
राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष चौधरी यशवीर सिंह के न्रेतत्व में पार्टी डेलीगेट्स ने मवाना व नंगलामल चीनी मिल पर रिसीवर नियुक्त करने की मांग की है
आवंटित गन्ना आपूर्ति बीच में छोड पेरई बंद करने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए मेरठ की मवाना व नंगलामल चीनी मिल पर रिसीवर नियुक्त करने की मांग को लेकर राष्ट्रीय लोकदल नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल आज मेरठ मंडल के कमिश्नर आलोक सिन्हा से मिला
डेलीगेट्स ने उत्पीड़क मिल मालिकों पर अपराधिक मुकदमा कायम कर उनकी गिरफ्तारी की मांग भी की |कहा जा रहा है के गन्ना खेतों में खड़ा है ऐसे में मिलों द्वारा मजबूर किसानो का उत्पीड़न किया जा रहा है | शुगर केन कंट्रोल एक्ट के नियमों के साथ माननीय उच्च न्यायलय का भी उलंघन किया जा रहा है
राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष चौधरी यशवीर सिंह के साथ+प्रदेश सचिव डा0राजकुमार सांगवान+पूर्व विधायक परवेज हलीम+नरेन्द्र खजूरी+एनुदीन शाह+गौरव जटौली आदि शामिल थे |

रालोद ने गन्ना किसानो के बकाये के भुगतान के लिए एक दिसंबर से चक्का जाम करने की चेतावनी दी

गन्ना किसानो के बकाये के भुगतान के लिए राष्ट्रीय लोकदल [रालोद]ने एक दिसंबर से गन्ना प्रधान जिलों में चक्का जाम करने की चेतावनी दी है
राष्ट्रीय लोकदल महासचिव एवं लोकसभा सांसद जयन्त चौधरी ने एक बयान में कहा है कि राज्य सरकार जल्द से जल्द गन्ना किसानों का बकाया भुगतान करे। यदि ऐसा नहीं होता है तो रालोद 1 दिसम्बर को राज्य के गन्ना प्रधान जिलों में चक्का जाम करेगा। उन्होंने किसानों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में इस आन्दोलन शामिल होने का आवाहन किया है। उन्होंने कहा है कि आम लोगों, व्यापारियों तथा विद्यार्थियों को परेशानी न हो इसलिए यह आन्दोलन दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक होगा तथा आपातकालीन सेवाओं तथा रेल यातायात में बाधा नहीं पहुंचाई जाएगी।
श्री जयन्त ने राज्य सरकार से मांग की है कि प्रदेश में चीनी मिलें समय पर चालू हों जिससे गन्ना किसानों को समय से गन्ने का मूल्य मिल सके और वे गेहूं की बुवाई शुरू कर सकें। इसके अलावा उन्होंने राज्य सरकार से उत्तर प्रदेश उच्च न्यायालय के ब्याज सहित बकाया भुगतान के आदेश का पालन करने की भी मांग की है।
रालोद राष्ट्रीय महासचिव ने कहा है कि प्रदेश की 90 चीनी मिलों में से 66 चीनी मिलों ने राज्य सरकार को लिखकर दिया है कि वे किसानों का बकाया भुगतान करने में असमर्थ हैं तथा सरकारी मिलें भी सुचारू रूप से नहीं चल रही हैं। अतः राज्य सरकार को इस समस्या का समाधान जल्द से जल्द करने की भी मांग की है। गन्ना शोध संस्थान, शाहजहांपुर की रिपोर्ट के अनुसार इस बार गन्ने की फसल लागत में 23 रुपए प्रति क्विंटल की बढोत्तरी हुई है। अतः सांसद जयन्त चौधरी ने राज्य सरकार से गन्ना किसानों को लाभकारी मूल्य देने की मांग करते हुए बताया की
उन्होंने बताया कि हरियाणा और पंजाब में गन्ने का मूल्य क्रमशः 301 और 300 रुपए प्रति क्विंटल है। युवा सांसद ने केन्द्र सरकार से चीनी के आयात पर रोक लगाने तथा एथेनाॅल के उत्पादन में 5 से 10 % गन्ने के उपयोग की मांग की है।
रालोद ने २४ नवम्बर को मेरठ आगमन पर मुख्य मंत्री का विरोध करते हुए गिरफ्तारी दी थी इसके अलावा 21 नवम्बर को गन्ना किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए लखनऊ में गन्ना आयुक्त का घेराव किया था। इससे पहले रालोद ने 19 नवम्बर 2009 को जन्तर मन्तर पर आन्दोलन करके गन्ना नियंत्रण संशोधन आदेश, 2009 का विरोध किया था। इस आदेश के तहत केन्द्र सरकार एसएपी और एफआरपी के अन्तर का भुगतान राज्य सरकार पर डालना चाहती थी जबकि पहले इस अंतर का भुगतान सरकारी और निजी सुगर मिलों द्वारा किया जाता था।