Ad

Tag: SupremeCourt

दूसरों को नुक्सान पहुंचा कर इडब्लूएस को १०% आरक्षण नहीं :सुप्रीम कोर्ट

[नई दिल्ली]दूसरों को नुक्सान पहुंचा कर इडब्लूएस को १०% आरक्षण नहीं :सुप्रीम कोर्ट
उच्चतम न्यायालय ने कहा कि आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग को मिलने वाला 10 प्रतिशत आरक्षण शिक्षण सत्र 2019-20 में महाराष्ट्र के पीजी मेडिकल पाठ्यक्रमों में दाखिले पर लागू नहीं होगा
क्योंकि जब तक एमसीआई अतिरिक्त सीटों का सृजन नहीं करता, दूसरों को नुकसान पहुंचा कर 10 प्रतिशित ईडब्ल्यूएस आरक्षण नहीं दिया जा सकता
उच्चतम न्यायालय ने कहा कि ईडब्ल्यूएस के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण लागू होने से पहले ही महाराष्ट्र में पीजी मेडिकल पाठ्यक्रमों में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई थी

सुप्रीम कोर्ट ने अमेज़न+फ्लिपकार्ट को अधिक प्रदुषण वाले पटाखे बेचने से रोका

[नई दिल्ली] सुप्रीम कोर्ट ने अमेज़न+फ्लिपकार्ट को अधिक प्रदुषण वाले पटाखे बेचने से रोका
न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने फ्लिपकार्ट और एमेजन जैसी ई-व्यापारिक वेबसाइटों को उन पटाखों की बिक्री करने से रोक दिया है जो निर्धारित सीमा से अधिक शोर करते हैं।
उच्चतम न्यायालय ने दीपावली, दूसरे त्यौहारों पर पटाखे फोड़ने के लिए रात आठ बजे से दस बजे की समय सीमा निर्धारित करते हुये देशभर में कम प्रदूषण उत्पन्न करने वाले हरित पटाखे बनाने की अनुमति दे दी।
अब प्रतिबंधित पटाखे फोड़े जाने की स्थिति में संबंधित इलाके के थाना प्रभारी जिम्मेदार होंगे।
शीर्ष अदालत ने पिछले साल नौ अक्टूबर को दीपावली से पहले पटाखों की बिक्री पर अस्थाई प्रतिबंध लगा दिया था परंतु बाद में न्यायालय ने कारोबारियों की याचिका खारिज करते हुये 19 अक्टूबर, 2017 के अपने आदेश में किसी प्रकार की ढील देने से इंकार कर दिया था

गुजाराभत्ता से तिरस्कृत महिला का सम्मान+गरिमा बची रहती है???

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कांग्रेसी चिंतक

औए झल्लेया मुबारकां! औए उच्च न्यायालय ने भी विवाहिता को पति की संपत्ति मानने से इंकार करते हुए व्यभिचार को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया है |औए अब सोशल पोलिसिंग वाले किसी का उत्पीड़न नहीं कर सकेंगे|कोई मोब लिंचिंग नहीं होगी |

झल्ला

मेरे चतुर सुजान ! सुन लो खोल कर दोनों कान !सुप्रीम कोर्ट की सार्री बातें सिरमाथे लेकिन पतनाला कहाँ गिरेगा ये तो बताओ ?अरे बाबा माना के व्यभिचार प्राचीन अवशेष मात्र हैं लेकिन सामान्य तलाक +डिवोर्स+तीन तलाक देने वालों के हाथों त्यागी गई महिला को गुजाराभत्ता दिलवाने से क्या तिरस्कृत महिला का सम्मान + गरिमा बची रहती है?अरे बाबा ये भी तो बाबा डीएम के ज़माने के अवशेष हैं इसे भी हटवाओ

My Lord! Power COs Also Playing Dirty With Zodiac’s Residents

[New Delhi]My Lord! Power COs Also Playing Dirty With Zodiac’s Residents
Supreme court yesterday warned Amrapali group not to play smart with court but it is also true that apart from Amarpali Group Power Companies are also playing dirty with the 1700 Honest Tax Payers Families
Yesterday The top court, asked the power companies to restore the electricity at two projects of the group which was disconnected owing to arrears. One of them is Amarpali Zodiac Unfortunately Connection has not been restored till this morning So Residents are forced to pay Power Backup Charges @ Rs 17

आम्रपाली बिल्डर्स को बेघर करने की लीगल चेतावनी

amar pali zodiac[दिल्ली,नॉएडा] सुप्रीम कोर्ट ने खरीदारों से खिलवाड़ कर रहे आम्रपाली बिल्डर्स को बेघर करने की चेतावनी दी |सुप्रीम कोर्ट ने आज तीखी टिप्पणी करते हुए आम्रपाली ग्रुप से कहा के ज्यादा स्मार्ट न बने, एक एक सम्पत्ति बेच कर आपको बेघर कर देंगे | इसके साथ ही सर्वोच्च न्यायालय ने बिजली कंपनियों को प्रोजेक्ट से कनेक्शन जोड़ने के निर्देश जारी किये हैं |गौरतलब हे के आये दिन विशाल सोसायटियों के बिजली कनेक्शन काट दिए जाते हैं ,जिसके फलस्वरूप बिजली का भुगतान करने पर भी नागरिकों को अँधेरे में रहना पढता है या फिर रु १७ की दर से पावर बैकअप लेना पढता है |इसके अलावा इस ग्रुप के ४०००० खरीददारों को वक्त पर कब्जा नहीं दिया गया है| ग्रुप पर २७६४ करोड़ रु का फंड दूसरे प्रोजेक्टों में लगाने का भी आरोप है|
इसीको लेकर पीड़ितों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया है| जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस ललित की बेंच द्वारा पूछे जाने पर ड्रॉप ने बताया के उन्हें अपने लंबित प्रोजेट्स को पूरा करने के लिए ४००० करोड़ रु की जरूरत होगी|

सुप्रीम कोर्ट ने “आप” और दिल्ली के उपराज्यपाल दोनों को खुश किया

[नई दिल्ली] सुप्रीम कोर्ट ने “आप” और दिल्ली के उपराज्यपाल दोनों को खुश किया|सुप्रीम कोर्ट में “आप” पार्टी द्वारा दिल्ली पर पूर्ण कब्जे के लिए यह मुकद्दमा दो सालों से चलाया जा रहा था|
सुप्रीम कोर्ट ने “आप” और एलजी दोनों को खुश करते हुए कहा के दिल्ली के प्रशासक उपराज्यपाल हैं लेकिन वे चुनी हुई सरकार की केबिनेट की सलाह पर काम करें

कर्नाटक पर फैंसला संविधान की जीत और लोकतंत्र की बहाली :कांग्रेस

[नयी दिल्ली] एससी का कर्नाटक पर फैंसला संविधान की जीत और लोकतंत्र की बहाली :कांग्रेस
उच्चतम न्यायालय द्वारा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को कल बहुमत साबित करने का आदेश दिए जाने के बाद कांग्रेस ने आज कहा कि संविधान की जीत हुई और लोकतंत्र बहाल हुआ।
पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आज कहा कि येदियुरप्पा ‘एक दिन के मुख्यमंत्री’ साबित होंगे।
सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘संविधान की जीत हुई, लोकतंत्र बहाल हुआ।’’
उन्होंने कहा, ‘‘बीएस येदियुरप्पा एक दिन के मुख्यमंत्री होंगे। संविधान एक गैरकानूनी मुख्यमंत्री तथा कर्नाटक के राज्यपाल के असंवैधानिक निर्णय को भी खारिज करता है।’’
इसी प्रकार के एक रोचक घटना क्रम में जगदम्बिकापाल भी तीन दिवस तक सीएम पद सुख भोग चुके हैं |कांग्रेस के थिंक टैंक और तत्कालीन गवर्नर रोमेश भंडारी[अब स्वर्गीय] ने भाजपा के कल्याण सिंह को मुख्य मंत्री पद से हटा कर नई लोकतांत्रिक कांग्रेस के जगदम्बिकापाल को मुख्य मंत्री बनाया था | जिसके फलस्वरूप २१ फरवरी १९९८ से २३ फरवरी १९९८ तक जगदम्बिका पाल मुख्य मंत्री रहे | उसकेपश्चात वे कांग्रेस में रहे और आजकल भाजपा के सांसद हैं|
गौरतलब है कि शीर्ष अदालत ने आज कहा कि येदियुरप्पा कल शाम चार बजे सदन में बहुमत साबित करें।
कर्नाटक राज्य में विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। प्रदेश की
224 सदस्यीय विधानसभा में
222 सीटों पर हुए चुनाव में
भाजपा को 104,
कांग्रेस को 78 और
जदएस+ को 38 सीटें मिली हैं।
फिलहाल, बहुमत के लिए जादुई आंकड़ा 112 है।

हत्या के मुकदद्मों का फैंसला दबाने वाले माननीय जुडिशरी पर चिंतित हैं

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी माननीय वकील

औए झल्लेया ये मोदी सरकार में जुडिशरी के साथ क्या खिलवाड़ हो रहा है?
कोलेजियम की रिकमेन्डेशन को भी केंद्र सरकार दरकिनार कर रही है |ये तो जुडिशरी की सम्प्रभुता पर सीधे सीधे आघात है

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान ! आपके ये कथित कोलेजियम वाले माननीय न्यायाधीश महोदय पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के विरुद्ध हत्या के मुकदद्मे का फैंसला दबा कर बैठे है|प्रमोशन के लिए जोसफ जैसे जूनियर जजों के नाम फॉरवर्ड कर रहे हैं |यहाँ तक के न्यायालयों में माननीय जजों रिक्तियों से बेहद कम ,वोह भी चुनिंदा,जजों के नामों की सिफारिश कर रहे हैं | औजी कमल हो गया, राष्ट्रपति के आदेशों को उलटने वाले और हत्या के मुकदद्मों का फैंसला दबाने वाले माननीय जुडिशरी पर चिंतित हैं

बगावती न्यायमूर्ति चेलमेश्वर आज गए छुट्टी पर

[नयी दिल्ली] बगावती न्यायमूर्ति चेलमेश्वर आज गए छुट्टी पर
न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर उच्चतम न्यायालय के कामकाज की खुले तौर पर आलोचना करने वाले चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों में से एक हैं
सूत्रों के अनुसार न्यायमूर्ति चेलमेश्वर आज अदालत का कामकाज नहीं देखेंगे।
ऐसी उम्मीद की जा रही थी कि प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा आज सुबह सभी चारों वरिष्ठतम न्यायाधीशों के साथ बैठक करेंगे। उन्होंने कल इन चारों न्यायाधीशों के साथ 15 मिनट तक बातचीत की थी।
न्यायमूर्ति चेलमेश्वर के अलावा 12 जनवरी को संवाददाता सम्मेलन करने वाले तीन अन्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ हैं।
इन चारों न्यायाधीशों ने कल शाम को न्यायमूर्ति चेलमेश्वर के आवास पर मुलाकात की थी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार न्यायमूर्ति यू यू ललित और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ भी देर शाम को न्यायमूर्ति चेलमेश्वर के आवास पर गए।

अक्षय की जॉली एलएलबी भी हो सकती है”सोशल”सेंसरशिप का शिकार

Judiciary[नई दिल्ली]पद्मावती के बाद अब जॉली एलएलबी भी हो सकती है सोशल सेंसरशिप का शिकार
अक्षय कुमार की निर्माणाधीन फिल्म जॉली एल एल बी की फिल्म पर वकीलों द्वारा उठाई गई आपत्ति पर सुप्रीम कोर्ट ३ फरवरी को सुनवाई करेगा|
चीफ जस्टिस जे एस खेहर +जस्टिस ऍन वी रमन +.डी वाई चंद्रचूड़ की बेंच ने फॉक्स स्टूडियो की अपील पर ३ फरवरी को सुनवाई के लिए सहमति दे दी है |गौरतलब हे के यह फिल्म सी बी एफ सी द्वार क्लियर कर दी गई है लेकिन उसके पश्चात् मुम्बई हाई कोर्ट द्वारा इस फिल्म की समीक्षा के लिए ३ सदस्यीय पैनल गठित कर दिया गया है|आरोप है के फिल्म में लीगल और जुडिशल सिस्टम का मजाक उड़ाया गया है | गौरतलब हे के अनेकों फिल्मों में इस सिस्टम को उजागर किया जा चूका है यहां तक जॉली एल एल भाग एक में भी न्यायिक व्यवस्था पर तीखे तंज कैसे जा चुके हैं
इससे पूर्व अभी हाल ही मैं संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती की शूटिंग के दौरान जयगढ़ में करनी सेना द्वारा बवाल मचाया जा चूका है |
फाइल फोटो