Ad

Tag: Urdu Journalism

उर्दू अखबारों की गुणवत्‍ता में सुधार के लिए नई टैक्‍नोलॉजी को अपनाएँ :उप-राष्‍ट्रपति

उप-राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद हामिद अंसारी ने आज उर्दू अखबारों की गुणवत्‍ता में सुधार के लिए नई टैक्‍नोलॉजी को अपनाने पर बल दिया |
उप-राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद हामिद अंसारी ने उर्दू पत्रकारिता के छात्रों से कहा है कि वे मीडिया में आई नई टैक्‍नोलॉजी को अपनायें, ताकि उर्दू अखबारों की गुणवत्‍ता में सुधार हो। श्री अंसारी ने यह बात भारतीय जनसंचार संस्‍थान के उर्दू पत्रकारिता के छात्रों के शिष्‍टमंडल से कही, जो संस्‍थान के महानिदेशक श्री सुमित टंडन के साथ आज नई दिल्‍ली में उनसे मिलने आया था। शिष्‍टमंडल ने संस्‍थान में उर्दू पत्रकारिता के छात्रों द्वारा निकाले गये ‘’लैब जर्नल’’ की एक प्रति भी श्री अंसारी को भेंट की।
उप-राष्‍ट्रपति ने छात्रों से बातचीत के दौरान उनके पाठ्यक्रम और भविष्‍य की योजनाओं के बारे में भी बातचीत की। श्री अंसारी ने कहा कि उर्दू अखबारों की संख्‍या बढ़ रही है, लेकिन उन्‍होंने इस बात पर चिंता व्‍यक्‍त की कि उर्दू अखबारों के पाठकों की संख्‍या कम होती जा रही है। उन्‍होंने छात्रों से कहा कि वे आम लोगों में उर्दू अखबारों की लोकप्रियता को बढ़ाने के तरीके तलाश करें।
छात्रों ने उर्दू भाषा के संसाधनों में कमी और उर्दू सॉफ्टवेयर आदि की गुणवत्‍ता अच्‍छी न होने जैसी उर्दू पत्रकारिता से जुड़ी समस्‍याओं के बारे में भी जिक्र किया। श्री अंसारी ने उर्दू पत्रकारिता में सुधार के लिए इन समस्‍याओं का हल निकालने में छात्रों को पूरे सहयोग का आश्‍वासन दिया।
फ़ोटो कैप्शन
The Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari meeting with the Students pursuing Urdu Journalism Course at India Institute of Mass Communication (IIMC), in New Delhi on March 27, २०१४
.[कर्टसी ब्यूरो]

उपराष्‍ट्रपति‍ ने ‘उर्दू पत्रकारि‍ता को नव जीवन प्रदान करने के लि‍ए ८ पत्रकारों को नई दुनि‍या पुरस्‍कार’ प्रदान कि‍ए

उपराष्‍ट्रपति‍ ने ‘उर्दू पत्रकारि‍ता में उत्‍कृष्‍टता के लि‍ए ८ पुरुस्कार प्रदान कि‍ए |इनमे एक पुरूस्कार स्‍व. श्री असगर अली इंजीनि‍यर को मृत्‍योपरांत दिया गया|
उपराष्‍ट्रपति‍ श्री मो. हामि‍द अंसारी ने आज आयोजि‍त एक समारोह में उर्दू पत्रकारि‍ता के क्षेत्र में उत्‍कृष्‍ट कार्य करने वाले पत्रकारों को ‘उर्दू पत्रकारि‍ता में उत्‍कृष्‍टता के लि‍ए नई दुनि‍या पुरस्‍कार’ प्रदान कि‍या। उर्दू साप्‍ताहि‍क ‘नई दुनि‍या’ द्वारा स्‍थापि‍त ये पुरस्‍कार अलग-अलग संवर्गों में प्रत्‍येक वर्ष दि‍ए जाते हैं। समारोह को संबोधि‍त करते हुए उप राष्ट्रपति ने स्‍कूलों में नयी पीढी के छात्रों के बीच उर्दू भाषा को बढ़ावा देने के लि‍ए प्रौद्योगि‍की को शामि‍ल करने का आग्रह कि‍या। उन्‍होंने कहा कि‍ उर्दू भाषा समाप्‍ति‍ के कगार पर है, लेकि‍न कुछ वि‍द्वानों की प्रयासों के चलते इसे नया जीवन मि‍ला है। उन्‍होंने बताया कि‍ स्‍क्रि‍प्‍टों और गीतों के माध्‍यम से उर्दू भाषा को बढ़ावा देने में हिंदी फि‍ल्‍म उद्योग को भी उचि‍त श्रेय दि‍या जाना चाहि‍ए। उन्‍होंने उर्दू भाषा के क्षेत्र में काम कर रहे सभी पुरस्‍कृत पत्रकारों को बधाई दी।
पुरस्‍कार प्राप्‍तकर्ताओं की सूची:-
1. दैनि‍क सि‍यासत, हैदराबाद को बेहतरीन उर्दू पत्रकारि‍ता के लि‍ए अजमत-ए-सहाफत पुरस्‍कार
2. दैनि‍क इंकलाब को बेहतरीन संपादकीय सामग्री के लि‍ए वकार-ए-सहाफत पुरस्‍कार 3. उर्दू राष्‍ट्रीय सहारा को बेहतरीन रि‍पोर्टिंग के लि‍ए अदाब-ए-सहाफत पुरस्‍कार
4. उर्दू टाइम्‍स, मुंबई को बेहतरीन ले-आउट एवं डि‍जाईन के लि‍ए ताजीन-ए-सहाफत पुरस्‍कार
5. श्री बि‍नोद मेहता, संपादक, आउटलुक को राष्‍ट्रीय एकता में योगदान के लि‍ए कौमी यकजाहती पुरस्‍कार
6. श्री संजीव सर्राफ, रेखता को उर्दू भाषा के वि‍कास के लि‍ए फरोघ-ए-उर्दू पुरस्‍कार
7. स्‍व. श्री असगर अली इंजीनि‍यर को मृत्‍योपरांत उर्दू भाषा में राष्‍ट्रीय एकता पर लेखन के लि‍ए सम्‍मान
8. श्री अहमद सईद मलीहाबादी को उर्दू पत्रकारि‍ता में योगदान के लि‍ए लाईफ टाईम एचीवमेंट पुरस्‍कार
photo caption
[1]The Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari presented the ‘Nai Duniya Awards for Excellence in Urdu Journalism” to outstanding media persons in Urdu Journalism, at a function, in New Delhi on September 13, 2013.
The Union Minister for Civil Aviation, Shri Ajit Singh, the Minister of State for Agriculture & Food Processing Industries, Shri Tariq Anwar and other dignitaries are also seen.

उर्दू पत्रकारों में क्षमता, निर्माण और कौशल को बढ़ावा देने के लिए आईआईएमसी करेगा पाठ्यक्रम की शुरूआत

उर्दू पत्रकारिता में आईआईएमसी [ IIMC] द्वारा लघु-अवधि पाठ्यक्रम की शुरूआत की जाएगी| भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) ने उर्दू अखबारों के श्रमजीवी पत्रकारों की दक्षता और उर्दू भाषा में मीडियाकर्मियों की क्षमताओं में वृद्धि के लिए उर्दू पत्रकारिता में लघु अवधि के पाठ्यक्रम की शुरूआत करने का निर्णय लिया है। हाल ही में संपन्न अखिल भारतीय उर्दू संपादक सम्मेलन में सूचना और प्रसारण के युवा मंत्री मनीष तिवारी द्वारा उर्दू अखबारों के पत्रकारों और संपादकों के साथ हुई विस्तारपूर्ण चर्चा के बाद इस पाठ्कयक्रम को शुरू करने का निर्णय लिया गया । चर्चा के दौरान उर्दू अखबारों के प्रतिनिधियों ने इस माध्यम में लघु अवधि पाठ्यक्रम के जरिए कौशल और क्षमता निर्माण के उपायों को शुरू करने का अनुरोध किया था जिसके फलस्वरूप सूचना और प्रसारण मंत्रालय में सचिव तथा आईआईएमसी के अध्यक्ष श्री उदय कुमार वर्मा की अध्यक्षता में 26 जून 2013 को आईआईएमसी की कार्यकारी परिषद की 124वीं बैठक में उर्दू पत्रकारिता में प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया गया।
बताया गया है कि यह पाठ्यक्रम गैर आवासीय होगा और उर्दू भाषा के सभी श्रमजीवी/स्वतंत्र पत्रकार इसे कर सकेंगे। इस पाठ्यक्रम में पत्रकारिता की नवीनतम कार्यप्रणाली, तकनीक, कॉपी लेखन और टेलीविजन के लिए लेखन पर बल होगा। इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य उर्दू पत्रकारिता में कार्यरत लोगों की क्षमता निर्माण और कौशल को बढ़ाना है। संस्थान पाठ्यक्रम अवधि, पाठ्यक्रम सामग्री तथा शुल्क आदि को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है। अगले शैक्षणिक सत्र से इस पाठ्यक्रम की शुरुआत की संभावना है।