Ad

Tag: V P HAMID ANSARI

उपराष्‍ट्रपति‍ ने ‘उर्दू पत्रकारि‍ता को नव जीवन प्रदान करने के लि‍ए ८ पत्रकारों को नई दुनि‍या पुरस्‍कार’ प्रदान कि‍ए

उपराष्‍ट्रपति‍ ने ‘उर्दू पत्रकारि‍ता में उत्‍कृष्‍टता के लि‍ए ८ पुरुस्कार प्रदान कि‍ए |इनमे एक पुरूस्कार स्‍व. श्री असगर अली इंजीनि‍यर को मृत्‍योपरांत दिया गया|
उपराष्‍ट्रपति‍ श्री मो. हामि‍द अंसारी ने आज आयोजि‍त एक समारोह में उर्दू पत्रकारि‍ता के क्षेत्र में उत्‍कृष्‍ट कार्य करने वाले पत्रकारों को ‘उर्दू पत्रकारि‍ता में उत्‍कृष्‍टता के लि‍ए नई दुनि‍या पुरस्‍कार’ प्रदान कि‍या। उर्दू साप्‍ताहि‍क ‘नई दुनि‍या’ द्वारा स्‍थापि‍त ये पुरस्‍कार अलग-अलग संवर्गों में प्रत्‍येक वर्ष दि‍ए जाते हैं। समारोह को संबोधि‍त करते हुए उप राष्ट्रपति ने स्‍कूलों में नयी पीढी के छात्रों के बीच उर्दू भाषा को बढ़ावा देने के लि‍ए प्रौद्योगि‍की को शामि‍ल करने का आग्रह कि‍या। उन्‍होंने कहा कि‍ उर्दू भाषा समाप्‍ति‍ के कगार पर है, लेकि‍न कुछ वि‍द्वानों की प्रयासों के चलते इसे नया जीवन मि‍ला है। उन्‍होंने बताया कि‍ स्‍क्रि‍प्‍टों और गीतों के माध्‍यम से उर्दू भाषा को बढ़ावा देने में हिंदी फि‍ल्‍म उद्योग को भी उचि‍त श्रेय दि‍या जाना चाहि‍ए। उन्‍होंने उर्दू भाषा के क्षेत्र में काम कर रहे सभी पुरस्‍कृत पत्रकारों को बधाई दी।
पुरस्‍कार प्राप्‍तकर्ताओं की सूची:-
1. दैनि‍क सि‍यासत, हैदराबाद को बेहतरीन उर्दू पत्रकारि‍ता के लि‍ए अजमत-ए-सहाफत पुरस्‍कार
2. दैनि‍क इंकलाब को बेहतरीन संपादकीय सामग्री के लि‍ए वकार-ए-सहाफत पुरस्‍कार 3. उर्दू राष्‍ट्रीय सहारा को बेहतरीन रि‍पोर्टिंग के लि‍ए अदाब-ए-सहाफत पुरस्‍कार
4. उर्दू टाइम्‍स, मुंबई को बेहतरीन ले-आउट एवं डि‍जाईन के लि‍ए ताजीन-ए-सहाफत पुरस्‍कार
5. श्री बि‍नोद मेहता, संपादक, आउटलुक को राष्‍ट्रीय एकता में योगदान के लि‍ए कौमी यकजाहती पुरस्‍कार
6. श्री संजीव सर्राफ, रेखता को उर्दू भाषा के वि‍कास के लि‍ए फरोघ-ए-उर्दू पुरस्‍कार
7. स्‍व. श्री असगर अली इंजीनि‍यर को मृत्‍योपरांत उर्दू भाषा में राष्‍ट्रीय एकता पर लेखन के लि‍ए सम्‍मान
8. श्री अहमद सईद मलीहाबादी को उर्दू पत्रकारि‍ता में योगदान के लि‍ए लाईफ टाईम एचीवमेंट पुरस्‍कार
photo caption
[1]The Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari presented the ‘Nai Duniya Awards for Excellence in Urdu Journalism” to outstanding media persons in Urdu Journalism, at a function, in New Delhi on September 13, 2013.
The Union Minister for Civil Aviation, Shri Ajit Singh, the Minister of State for Agriculture & Food Processing Industries, Shri Tariq Anwar and other dignitaries are also seen.

केन्द्रीय मंत्री डॉ शशि‍ थरूर को पहला श्री नारायण गुरू वैश्‍वि‍क धर्मनि‍रपेक्ष एवं शांति‍ पुरस्‍कार, 2013

उपराष्‍ट्रपति‍ हामि‍द अंसारी ने केन्द्रीय मंत्री डॉ शशि‍ थरूर को प्रथम श्री नारायण गुरू वैश्‍वि‍क धर्मनि‍रपेक्ष एवं शांति‍ पुरस्‍कार, 2013 प्रदान कि‍या और लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत अपरि‍हार्य बताते हुए कहा कि श्री थरूर ने इस दिशा में एक आदर्श स्‍थापि‍त कि‍या है और भारत में और विदेशों में उन्‍होंने इन आदर्शों के प्रति‍ अपने लेखन और अपने सार्वजनिक जीवन के कार्य में अपनी प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया है|
इस अवसर पर उपराष्‍ट्रपति‍ श्री अंसारी ने कहा है कि‍ धर्मनि‍रपेक्षता और लोकतंत्र वे आधारभूत सि‍द्धांत हैं जि‍नपर हमारे लोकतंत्र की स्‍थापना हुई है। वे हमारे संवि‍धान की प्रस्‍तावना में अंतर्नि‍हि‍त हैं। वास्‍तव में वे सब सामाजि‍क, आर्थि‍क और राजनीति‍क न्‍याय के सि‍द्धांत+वि‍चारों+ अभि‍व्‍यक्‍ति‍+ मत+आस्‍था और पूजा की स्‍वतंत्रता+ स्‍थि‍ति‍‍ और अवसर की समानता से जुड़ी हैं।
उप राष्ट्रपति ने आज ति‍रुअनंतपुरम, केरल में मानव संसाधन वि‍कास राज्‍यमंत्री श्री शशि‍ थरूर को ‘’ प्रथम श्री नारायण गुरु वैश्‍वि‍क धर्मनि‍रपेक्ष और शांति‍ पुरस्‍कार, 2013’’ प्रदान कि‍या।
उन्‍होंने अपने संबोधन में कहा कि‍ हमारे पूर्वज वास्‍तवि‍कता को जानते थे। वे जानते थे कि‍ एक एकीकृत, आधुनि‍क और बहुल भारत के नि‍र्माण के लि‍ए हमारे प्राचीन और विविधतापूर्ण देश में, लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत अपरि‍हार्य थे।
श्री अंसारी ने कहा कि‍ उल्‍लेखनीय है कि‍ 19 वीं सदी के अंति‍म और 20 वीं सदी के आरंभ के वर्षों के अपने जीवनकाल के दौरान, श्री नारायण गुरु इसी सामाजिक न्याय और समानता, धर्मनिरपेक्षता, उत्पीड़न से मुक्‍ति‍ और गरीबों के सशक्तिकरण तथा हाशिए पर पड़े लोगों के सामाज-आर्थिक उत्थान और शिक्षा का प्रचार-प्रसार कर रहे थे। उन्‍होंने कहा कि‍ पि‍छले 65 वर्षों में सामाजि‍क न्‍याय, आर्थि‍क वि‍कास और राजनीति‍क सशक्‍ति‍करण के लि‍ए बहुत कुछ कि‍या गया है, फि‍र भी भारत को एक आधुनिक, प्रगतिशील और सामंजस्यपूर्ण समाज बनाने के लिए और भी बहुत कुछ कि‍या जाना बाकी है।
उपराष्‍ट्रपति‍ ने कहा कि‍ आज के पुरस्‍कार का उद्देश्‍य एक प्रतिष्ठित व्यक्तित्व को सम्‍मान देना है जि‍न्‍होंने एक धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक समाज के निर्माण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्‍होंने कहा कि‍ महान समाज सुधारक श्री नारायण गुरु ने सभी मानव जाति‍ के प्रति‍ एकता और समानता का पाठ पढ़ाकर केरल के सामाजिक ढांचे को बदल दि‍या। उन्‍होंने योग्‍य प्राप्‍तकर्ता के रूप में श्री थरूर के चयन के लि‍ए प्रति‍ष्‍ठि‍त ज्‍यूरी की सराहना की। उन्‍होंने कहा कि‍ श्री थरूर ने एक आदर्श स्‍थापि‍त कि‍या है और भारत में और विदेशों में उन्‍होंने इन आदर्शों के प्रति‍ अपने लेखन और अपने सार्वजनिक जीवन के कार्य में अपनी प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया है।
PHOTO CAPTION
[1] The Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari presenting the “First Sree Narayan Guru Global Secular & Peace Award 2013” to the Minister of State for Human Resource Development, Dr. Shashi Tharoor, at a function, at Thiruvananthapuram, Kerala on September 10, 2013.
The Governor of Kerala, Shri Nikhil Kumar is also seen.

राष्ट्रीय न्रेतत्व ने भगवान कृष्ण की जन्‍माष्‍टमी पर शुभकामनाएं देते हुए राष्ट्र को निष्‍काम कर्म का सन्देश दिया

राष्ट्रीय न्रेतत्व ने राष्ट्र को भगवान कृष्ण की जन्‍माष्‍टमी पर शुभकामनाएं दी और भगवान कृष्ण के उपदेशों का अनुसरण करते हुए निष्‍काम कर्म करने का सन्देश दिया|
राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ,प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह और उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कृष्ण जन्‍माष्‍टमी पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।

President of India extends greetings on the Occasion of the Janmashtmi

President of India extends greetings on the Occasion of the Janmashtmi

[१]राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने अपने संदेश में कहा है कि इस पवित्र दिन पर हमें भगवान कृष्‍ण के उपदेशों को याद करना चाहिए, जो शताब्दियों से हमारे लिए प्रेरणा रहे हैं ताकि, हम मन, वचन और कर्म से सही रास्‍ते पर चलते रहें।
श्री मुखर्जी ने कहा है कि भगवान कृ‍ष्‍ण का बिना किसी फल की इच्‍छा किये ‘निष्‍काम कर्म’ का संदेश हमें देश में शांति, खुशहाली और प्रगति के लिए नि:स्‍वार्थ भाव से मिलकर काम करने की प्रेरणा दे।
[2]उपराष्‍ट्रपति श्री एम. हामिद अंसारी ने अपने सन्देश में कहा कि यह त्‍यौहार देशभर में उत्‍साह और धर्मनिष्‍ठता के साथ मनाया जाता है। उन्‍होंने कहा कि यह भगवान कृष्‍ण के इस महत्‍वपूर्ण संदेश को याद करने का उचित अवसर है कि जो व्‍यक्ति किसी से जुडे बिना या किसी घटना से प्रभावित हुए बिना अपने कर्तव्‍य को कारगर ढंग से पूरा करता है वह जीवन में प्रसन्‍नता और बंधन से मुक्ति प्राप्‍त करता है।
उप-राष्ट्रपति श्री एम हामिद अंसारी

उप-राष्ट्रपति श्री एम हामिद अंसारी


prime minister dr man mohan singh

prime minister dr man mohan singh

प्रधानमंत्री डॉ मन मोहन सिंह ने जन्माष्टमी के मौके पर देशवासियों को बधाई देते हुए अपने बधाई संदेश में कहा कि जन्माष्टमी बुराई पर अच्छाई की जीत का उत्सव है। उन्होंने कहा कि इस मौके पर हमें भगवान श्रीकृष्ण का वह सनातन संदेश स्मरण करना चाहिए जिसमें फल की चिंता किए बगैर अपना कर्तव्य निभाने की बात कही गई है। प्रधानमंत्री ने लोगों को जीवन में खुशहाली, शांति और विकास की शुभकामनाएं दी।

शांति दूत महात्मा बुद्ध की तपस्थली महा बोधि मंदिर में हुए बम धमाकों की सर्वत्र निंदा

शांति दूत महात्मा गौतम बुद्ध की तपस्थली महा बोधि मंदिर में लगातार ९ बम धमाकों की सर्वत्र निंदा की गई है |
भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी+,प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह+उपराष्‍ट्रपति हामिद अंसारी +केंद्रीय संस्‍क‍ृति मंत्री, श्रीमती चंद्रेश कुमारी कटोच आदि ने बिहार स्थित दुनिया भर के बौद्धों के परम पूजनीय महा बोधि मंदिर में 7 जुलाई २०१३ की प्रात हुए सीरियल विस्फोटों पर दुःख और गहरी चिंता व्यक्त की है।
[१] राष्ट्रपति ने विस्फोटों में घायल होने वालों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने जनता से शांति बनाए रखने और संयम बरतने तथा दोषियों को दंड दिलाने में प्रशासन के साथ सहयोग करने का भी आह्वान किया।
[२]प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी मिली-जुली संस्कृति और परंपराएं हमें सभी धर्मों का सम्मान करना सिखाती हैं। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों पर ऐसे हमले बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। उन्होंने बोध गया की हिंसा में घायल होने वालों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की ।
[३]उपराष्‍ट्रपति ने अपने बयान में कहा कि यह नृंशस और कायराना कृत्‍य इसलिए और भी ज्यादा निंदनीय है, क्‍योंकि इसमें पूजा स्‍थल और वहां मौजूद श्रद्धालुओं को निशाना बनाया गया है।उन्होंने इन विस्फोटों को शांति के महान दूत गौतम बुद्ध को समर्पित मंदिर में पूजा अर्चना के लिए एकत्र हुए श्रद्धालुओं और भिक्षुओं को निशाना बनाकर किया गया नृशंस कृत्य करार देते हुए इनकी निंदा की।
[४]केंद्रीय संस्‍क‍ृति मंत्री, श्रीमती चंद्रेश कुमारी कटोच ने पवित्र स्‍थल पर हुए हमले की कड़े शब्‍दों में निं‍दा की है और घायलों के शीघ्र स्‍वस्‍थ होने की कामना की है। उन्‍होंने कहा कि भले ही बोध गया मंदिर केंद्रीय संरक्षित स्‍मारक नहीं है, यह एक विश्व धरोहर स्‍थल है। उन्‍होंने भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण (एएसआई) को फौरन इस बात का आकलन करने को कहा है कि कहीं स्‍थल को किसी तरह का नुकसान तो नहीं पहुंचा है। उन्‍होंने एएसआई को जरूरत पड़ने पर सुधार के कदम उठाने का निर्देश दिया है।
[५] बिहार के मुख्य मंत्री नितीश कुमार ने घटना स्थल का दौरा किया
[६] गुजरात के मुख्य मंत्री नरेन्द्र भाई मोदी ने ट्विटर पर ट्विट करते हुए इस आतंक वादी घटना को कायरता पूर्ण हमला बताया है| उन्होंने इसे विश्व के बोद्ध समाज और भारत के लिए दुखद बताया है
बिहार के बोध गया में आज 7 जुलाई, 2013 को प्रात सवा पांच बजे से लेकर छह बजे तक मंदिर+और टूरिस्ट बस में सिलसिलेवार बम धमाके हुए। इस घटना में लोग घायल हुए हैं, लेकिन बोध गया मंदिर, बोधि वृक्ष और मंदिर के समीप स्थित ढांचों को सुरक्षित बताया जा रहा है| इसकी सुरक्षा का दाईत्व वहां की एक सुरक्षा एजेंसी के जिम्मे है| अब जांच एन आई ऐ को सौंप दी गई है|