Ad

Category: Defence

कोरोना संकट को सेना के पाले में डालने को सियासी उधेड़बुन शुरू

झल्लीगल्लां
चिंतितबुद्धिजीवी
ओए झल्लेया!ये क्या भम्बड़भूसे में मुल्क को धकेला जा रहा है।पहले तो सियासतदां मीलों लम्बे दावे करके सत्ता कब्जा लेते हैं फिर जरा सी मुसीबत गले पड़ते ही सेना की मदद की गुहार लगाने लगते है।यहां तक माननीय न्यायालय भी सेना की बात करने लग गए।दिल्ली राज्य और हरयाणा पहले ही हाथ खड़े कर चुके है।
झल्ला
भापा जी!
मुश्किल वक्तों में सेना ने हमेशा मुल्क को उबारा है और कॉरोनानुसरों के वर्तमान संकट में तो सेवानिवर्त डिफेंस डॉक्टर्स ने e संजीवनी पर ओ पी डी भी सम्भाल ली है लेकिन ये कोरोना संकट किसी एक छेत्र में आये भूकम्प/बाढ़ आदि का नही वरण समूचे राष्टीय आपदा का है और पूरे राष्ट्र की कमान आर्मी को देने के दुष्परिणाम भी हो सकते है।इसीलिए विपक्ष+सरकारों और जनता को मिल कर ही कोरोना से मुकाबिला करना होगा ।

Veterans of Defence Answer Nation’s Call With OPD on Sanjeevani

(New Delhi)Veterans of Defence Answer Nation’s Call With OPD on Sanjeevani
Veterans of Defence Forces will now be available for “Online Consultation Service on e-Sanjeevani OPD” for all citizens of India.
e-Sanjeevani OPD is a Govt of India flagship telemedicine platform developed by the Centre for Development of Advance Computing (C-DAC), Mohali under the aegis of MoHFW, Govt of India and is functioning extremely well. It provides free consultations to any Indian citizen. However, with covid cases surging, the demand for doctors is up while the supply has reduced due to doctors being pulled out for covid ward duties. This is where the defence Veterans are stepping in to help.
The Medical Branch of HQ Integrated Defence Staff is providing telemedicine service for the serving and retired defence personnel and has coordinated with MoHFW and NIC to roll out this Ex-Defence OPD for civilian patients. The Dy Chief IDS Medical has urged all retired fraternity of retired AFMS doctors to join this platform and provide valuable consultation to the citizens of India in this time of crisis when the country is going through the difficult time.
There has been a good response from the retired defence doctors and more are expected to join soon. Subsequently, a separate Nationwide Ex Defence Doctors OPD is envisaged. Their vast experience and expertise will help the larger clientele to obtain consultation from their homes and tide over the crisis.

Army Disbands It’s Farms After Completing 132 Yrs

(New Delhi) Army Disbands Military Farms
Army on Wednesday disbanded its military farms after 132 years in service.These farms were set up by the British to ensure supply of milk to Army units.The farms were occupying around 20,000 acres of defence land and the Army was spending around Rs 300 crore annually for their maintenance Army decided to “transfer” all the cattle kept in the farms to government departments or dairy cooperatives at a nominal cost.
And personnel who were employed with the military farms have been redeployed within the Army.A flag ceremony for the closure of the facilities was held at Military Farms Records at Delhi Cantonment,
In August 2017, the defence ministry announced a series of reform measures for the Indian Army that included shutting down of the military farms, housing around 25,000 head of cattle, in the country.
It said the military farms with their dedication and commitment supplied 3.5 crore litres of milk during a period spanning over a century.
“First Military farm was raised on February 1, 1889 at Allahabad. After Independence, military farms flourished with 30,000 head of cattle in 130 military farms all over India in varied agro-climatic conditions,” the Army said.
“It is credited with pioneering the technique of artificial insemination of cattle and introduction of organised dairying in India, providing yeoman service during 1971 war, supplying milk at the Western and Eastern war fronts as well as during Kargil operations to the Northern Command,”
The Army said military farms were even established in Leh and Kargil in late 1990s, with the task of supplying fresh and hygienic milk to troops at their locations on a daily basis.

ताजमहल में बम की सूचना अफवाह निकली

(आगरा)ताजमहल में बम की सूचना अफवाह निकली
उत्तर प्रदेश पुलिस के आपात सेवा नंबर 112 नंबर पर एक अज्ञात व्यक्ति ने सुबह करीब नौ बजे फोन कर दावा किया कि ताज महल में बम है।
आगरा के ताज महल में बम होने की सूचना मिलने पर उसे खाली कराया गया, हालांकि फोन पर मिली यह जानकारी बाद में अफवाह साबित हुई।
प्राप्त जानकारी के अनुसार शरारती फोन उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद से किया गया था।
बम होने की झूठी सूचना देने के आरोप में एक व्यक्ति को फिरोजाबाद से हिरासत में लिया गया है
फ़ाइल फ़ोटो

India &Pak DGsMO Join Heads to Melt Ice on Hotline Contact

(New Delhi)India &Pak DGs Join Heads to Melt Ice on Hotline Contact and Border Flag Meetings
The Director Generals of Military Operations of India and Pakistan held discussions over the established mechanism of hotline contact. The two sides reviewed the situation along the Line of Control and all other sectors in a free, frank and cordial atmosphere.
In the interest of achieving mutually beneficial and sustainable peace along the borders, the two DGsMO agreed to address each other’s core issues and concerns which have propensity to disturb peace and lead to violence.Both sides agreed for strict observance of all agreements, understandings and cease firing along the Line of Control and all other sectors with effect from midnight 24/25 Feb 2021.
Both sides reiterated that existing mechanisms of hotline contact and border flag meetings will be utilised to resolve any unforeseen situation or misunderstanding.
File Photo

मोदी के मोदकों का स्वाद निकालने को सोशल साइट्स पर टूलकिट की सप्लाई

जिज्ञासूबुद्धिजीवी
ओए झल्लेया !ये टूलकिट का क्या बखेड़ा खड़ा हो गया? ओए युवाओं से लेकर अधेड़ भी ठक ठक करने लग गए ।
झल्ला
भापा जी! हमारे जमाने मे टूलकिट वाहनों की खराबी दुरुस्त करने के लिए+घर मे नल टोंटी ठीक करने वगैरह वगैरह के लिए डिग्गी+गैराज+स्टोर में सहेजे जाते थे लेकिन अब कुछ खाली घर वालों ने टूलकिट से शैतानियां शुरू कर दी है।पीएम मोदी के मोदकों को बेस्वाद करने के लिए और व्यवस्था को लूज करने के लिए सोशल साइट्स पर इनकी मार्केटिंग शुरू कर दी है

चीन तो सीमाओं से वापिस जा रहा ये किसान आंदोलनकारी कब बॉर्डर छोड़ेंगे

#सीमांतभोटियानागरिक
ओए झल्लेया!शुक्र है चीन को सद्बुद्धि आ गई।युद्ध की संभावनाओं को टालते हुए चीन ने अपनी अतिक्रमणकारी सेनाओं को पेंगोंग झील से वापिस बुलाने शुरू कर दिए।ओए अब इस छेत्र का भी आसानी से विकास हो पायेगा
झल्ला
भापे!ठाकुर राजनाथ सिंह के संसद में ब्यानानुसार चीन तो सीमाओं से अंगुल अंगुल (फिंगर) ही वापिस जा रहा है लेकिन ये किसान आंदोलनकारी कब राजधानी का बॉर्डर छोड़ेंगे?।कब घरों को शांति पूर्वक लौटेंगे??चीन तो चला जायेगा लेकिन संसद में और संसद के बाहर चीन को लेकर चिलपों करने वाले अतिक्रमणकारी जब अपनी अपनी सीटों पर बैठ जाएंगे तभी सही मायनों में विकास के कुछ मायने होंगे।

Journo Arrest: Journos Condemn Police Action

(New Delhi)Journo Arrest: Journos Condemn Police Action
Media bodies on Sunday condemned the police action against two journalists who were picked up during the farmers’ protests at Delhi’s Singhu border for allegedly misbehaving with police personnel.
They said such crackdowns impinge on the media’s right to report freely and interferes with its right to freedom of expression.
Freelance journalist Mandeep Punia and Dharmender Singh (with Online News India) were detained by Delhi Police last evening for allegedly misbehaving with personnel on duty.
While Singh was later released, the police arrested Punia on Sunday.
The Indian Women’s Press Corps, Press Club of India and the Press Association demanded Punia’s immediate release and said no journalist should be disturbed while carrying out their duties at any place.
Police had earlier said some people including the journalist were trying to remove the barricades, the police had alleged, adding the scribe also misbehaved with the police personnel there.

मोदीभापे !आंतरिक व्यवस्था का पतनाला तो अभी भी अराजकता ही गिरा रहा है।

FB_IMG_1611286829887#भजपाईचेयरलीडर
ओये झल्लेया! अब भारत बदल चुका है।शत्रुओं के समक्ष झुके रहने वाला हसाडा मजबूर मुल्क अब महामारी फैलाने वाले वायरस के खिलाफ या फिर पाकिस्तान और चीन जैसे बीमार मुल्कों से लगी सीमाओं पर मजबूती से खड़ा है।ओए !अब एनसीसी के 100000 कैडेट्स को सीमावर्ती इलाकों में तैनात करके सीमाओं को और मजबूत किया जाएगा। हसाडे राफल को संयुक्त अरब अमीरात जैसे मुल्क हवा में फ्यूल भर रहे हैं
#झल्ला
IMG_20210123_110130_539भापा जी!आप की सारी गल्लां सिर मत्थे लेकिन आंतरिक व्यवस्था का पतनाला तो अभी भी अराजकता ही गिरा रहा है।
सोर्स लिंक https://pib.gov.in/PressReleseDetailm.aspx?PRID=1692926

योगीजी!2022 से पहले मेरठ छावनी का बजट तो बढ़वा दो

FB_IMG_1611286829887#भजपाईचेयरलीडर
ओए झल्लेया!देखा हसाडे व्योवर्द्ध विधायक #सत्यप्रकाशअग्रवाल जी ने जवानों वाली एनर्जी का प्रदर्शन करके #मेरठछावनी में 11 स्थानों पर वसूले जाने वाले #टोलटैक्स पर बोर्ड को घुटनों पर ला दिया।ओए विधायक जी ने अपने स्वभाव और अनुभव से सदस्यों को भी एक कर लिया और आंदोलन छेड़े बगैर ही 3 स्थानों से टोलनाके हटवा दिए और हमारे विपक्षी बेफालतू में विधायक बदलने की रट लगाए हैं
#झल्ला
चतुर सेठ जी! बाहर से आने वाले व्यवसायिक वाहनों से वसूले जाने वाला टोलटैक्स छावनी की भलाई में ही खर्च होता।खैर 2022 से पहले अब अपनी प्रदेश सरकार से इस कटौती को तो पूरा करवा दो