Ad

भाजपा के पूर्व मुखिया के एक दामाद के भ्रष्टाचार के बदले कांग्रेस के एक दामाद के साथ एक भांजे की मांग करना उचित नही है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक बौखलाया कांग्रेसी

ओये झल्लेया ये डेमोक्रेसी के साथ क्या मजाक हो रहा है ?ओये हमने भाजपाई अटल बिहारी वाजपाई के दामाद के भ्रष्टाचार को कभी मुद्दा नहीं बनाया और ये नाशुक्रे आये दिन हमारे मंत्रियों के बच्चों पर अटैक करने लग गए हैं|और तो और कोलगेट और रेलगेट को लेकर संसद भी चलने नहीं दे रहे|और कोई नही मिला तो हसाड़े बेचारे रेल मिनिस्टर पवन बंसल के भांजे को लेकर गरीबों के लिए फ़ूड सिक्यूरिटी बिल को भी पास नही होने दे रहे|ओये ऐसे संसद चलती है कभी?

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी हिसाब क़िताब बराबरी पर होना चाहिए |आपने भाजपा केपूर्व मुखिया के दामाद को छोड़ाइन भाजपाइयों ने आपजी के राबर्ट वढेरा को छोड़ कर हिसाब बराबर कर दिया अब एक के बदले एक दामाद के साथ भांजे की भी मांग करना तो ज्यादती ही होगी|