Ad

Tag: AajKaSatire

योगी जी! भ्र्ष्टाचार के खात्मे और लोकतंत्र के सशक्तिकरण को पोर्टल नही मंत्रालय बनाईये

झल्ली गल्लां

भजपाई चेयरलीडर

ओए झल्लेया! मुबारकां!! ओए हसाडे धाकड़ मुख्यमंत्री  पूजनीय महंत आदित्यनाथ योगी जी ने भ्र्ष्टाचार के खात्मे और लोकतंत्र के सशक्तिकरण के लिए नया शक्तिशाली पोर्टल up.mygov.in लांच किया है। ओए पीएम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी के mygov.in के सात साल की सफलता के स्थापना दिवस पर लांच किया गया यह पोर्टल भी सफलता के झंडे गाडेगा।

झल्ला

चतुर सेठ जी!ये झल्ला भी दशकों से यही कहता आ रहा है कि भ्र्ष्टाचार की जड़ों में प्रहार करने के लिए evacuee प्रॉपर्टी (1947 में पाक गए मुस्लिमो की )को ऑनलाइन करके Grievance Solution पोर्टल/मंत्रालय/थाना/ बनाया जाना चाहिए ।वैसे ऐसे महंगे 163 करोड़ ₹ के IT पोर्टल जैसों की उपयोगिता पर प्रश्न चिन्ह लगने शुरू हो गए है!

31 जुलाई तक राष्ट्र में एक राशनकार्ड जारी हो;सुप्रीमकोर्ट (व्यंग)

झल्लीगल्लां
सुप्रीमकोर्टकेउत्साहिवकील
ओएIMG-20210321-WA0014 झल्लेया!मुबारकां!!ओए माननीय,आदरणीय,सम्माननीय सुप्रीमकोर्ट के जस्टिस अशोकभूषण और जस्टिसएमआर शाह की सम्मानित पीठ ने जीवन के अधिकार में भोजन के अधिकार को जोड़ने को आवश्यक बताते हुए एक राष्ट्र एक राशनकार्ड का कार्य 31 जुलाई तक पूर्ण करने को कह दिया है।अब सभी गरीबों को भोजन मिलेगा। देश मे कोई भूख से नही मरेगा
झल्ला
MoHA Letterसाहिबजी! गरीबों को भोजन मुहैय्या करवाना सभी सरकारों की जिम्मेदारी है।लेकिन न्याय मंत्रालय+आवास मंत्रालय+श्रम एवं रोजगार मंत्रालय +पुनर्वास मंत्रालय आदि केवल थोड़े से भरे अपने ग्लास दिखा कर सीना ठोकने में लगे है।अभी तक गरीबी को परिभाशित ही नही किया जा सका।और तो और अभी तक दिए जा चुके न्याय,आवास,आदि के अधिकार आम जरूरत मन्दों तक नही पहुंच पाए हैं।।यहां तक झुग्गी झोपड़ियों में अग्निकांड आम हो चले है।1947 के रिफ्यूजी अपने हक के रिहैबिलिटेशन क्लेम को भटक रहे है।

अयोध्या में बैनामे का गोरखधंधा,कांग्रेस का पाला पोसा

झल्लीगल्लां
उत्साहितकांग्रेसी

Ram Mandir

Ram Mandir

राम! राम !!राम !!!
घोर अनर्थ।ओए झल्लेया !राम के नाम पर इतनी बड़ी लूट।अयोध्या मे बन्न रहे भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए बनाए गए राममंदिरट्रस्ट ने दो करोड़ ₹ की भूमि साढ़े अठारह करोड़ में खरीद डाली।ये तो घोर कलयुग है ।राम के नाम पर केंद्र और यूपी में सत्ता कब्जाने वालों का असली चेहरा सामने आ गया।
झल्ला
चतुरसुजाण जी।
झल्लाचलो मौके की इंतज़ार में बैठे आपलोगों को बैठे बिठाए 2022 तक चिल्लाने के लिए मौका मिल गया लेकिन झल्लेविचारानुसार यह सारा गोरखधंदा बैनामे का है जिसे आपलोगों की सरकारों ने ही पाला पोसा है।
बैनामे रूपी रुमाल रख कर पहले जमीत घेर लो फिर वहां यौजनाएँ बनाओ और मनचाहा लूट लो

मुँडेर पर बैठे जाट वोटबैंक की भरपाई के लिए ख़ानदानी ब्राह्मण चेहरा जितिन

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर

जितिन प्रसाद

जितिन प्रसाद

ओए झल्लेया!वोह मारा पापडवाले को।ओए विश्व मे सबसे वड्डी हसाडी भारतीयजनतापार्टी में राहुल गांधी के खासुलखास जितिन प्रसाद भी आ गए।अब हमने यूपी में 2022 का विधानसभा चुनाव निर्विघ्नं जीत लेणा है।
झल्ला
अरे चतुर सेठ जी!
झल्लाकृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन से विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश का जाट वोट बैंक खिसक कर मुँडेर पर आ बैठा है।चुनांवों में करवट बदल सकता है।ऐसे में इसकी भरपाई के लिए प्रदेश के लगभग 13% ब्राह्मण वोटों को रिझाने के लिए जितिन प्रसाद सरीखे चुम्बक भी तो जरूरी है।

कोरोनिलबाबा भगवाधारी को (आईएमए से) माफी मांगने में कैसी शर्म

झल्लीगल्लां
एलोपैथीसमर्थक
ओए झल्लेया!हमने इस व्यवसायी बाबा को सबक सिखा देणा है।इस कोरोनिल बाबा ने हमारे चिकित्सा धर्म और व्यवसाय को गाली दी है।अब हमने इस बाबा को छोड़ना नही।आईएमए देहरादून ने तो मानहानि का नोटिस भी भिजवा दिया।यदि बाबा ने माफ़ी योग नही किया तो इसे शीर्षासन करा के ही मानेंगे।प्रति सदस्य को 50 लाख ₹ की मानहानि राशि देकर ही छूटेगा।
झल्ला
डॉक्टरसाहब!आपके राज्य में आपलोगों का ध्यान क्यूँ भटक रहा है?अरे भाई
उत्तराखण्ड में अब तक कुल 6113 कोरोना संक्रमित अपनी जान गंवा चुके हैं और 43520 मामले उपचाराधीन हैं।कहीं आप लोग अपने उन साथियों को आर्थिक सहायता तो नही पहुंचाना चाहते जो बेचारे कैपिटेशन फी देकर मेडिकल कॉलेज में घुसे थे और आजकल क्लीनिक में मखियाँ मार रहे है।रहा सवाल माफ़ी का तो भगवाधारी को मांगने में कैसी शर्म देर सबेर मांग ही लेंगे

लोजी!अब भारतीय भी चाँद पर प्लाट खरीदने लगे

झल्लीगल्लां
बुद्धिजीवी
Jhalla Cartoonओए झल्लेया!
ये हिंदुस्तानियों को कौन सा कीड़ा काटने लग गया ? देख तो अब हिंदुस्तानियों ने भी दाग वाले चाँद पर प्लाट खरीदने शुरू कर दिए।सहारनपुर के बिल्डर श्री अश्विनी सखूजा तो प्लाट के लिए 5 लाख ₹ की ऑनलाइन रजिस्ट्री का भी दावा कर रहे है।बेचने वाले का नाम लूना सोसाइटी बताया है।
झल्ला
इसे कहते है “सूत ना कपास जुलाहों में लठ्म लठ “वैसे यह जांच केविषय है।कही ये साइबरकरेंसी/क्रिप्टोकरेंसी जैसा ही तो कोई खेल नही ???अगर ऐसा हुआ तो भापा जी “मन मे दूने मन मे तीने मन मे रह गए अधे,अक्लमंद वोही कहलाया जिस बेच पल्ले नालबन्धे “

पँजांब में माहिरों का विलक्षण समूह फिर भी मृत्यु दर सबसे अधिक

झल्लीगल्लां
पंजाबसरकारकाचेयरलीडर
ओए झल्लेया!हसाडे मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिन्दर सिंह जी की दूरदर्शिता में सीएस विनी महाजन और डॉ के के तलवार की निगरानी में बनाये गए माहिरों के विलक्षण समूह ने कोरोना मरीजों की देखभाल सम्बन्धी उल्लेखनीय कार्य करते हुए एक साल पूरा कर लिया।ओए इनके सुझावों से बहुत लाभ हुआ है।
यह समूह नियमित तौर पर हर मंगलवार, गुरूवार और रविवार शाम 7.30 बजे प्रशिक्षण और विचार-विमर्श संबंधी सैशन करवाता है। अब तक 50 से अधिक सैशन किये जा चुके हैं।
इन सैशनों के दौरान माहिरों द्वारा अमृतसर और पटियाला के जी.एम.सीज़, जी.जी.एस.एम.सी. फरीदकोट, डी.एम.सी. लुधियाना, सी.एम.सी. लुधियाना और निजी अस्पतालों में दर्मियाने से लेकर गंभीर मरीज़ों बारे विचार-विमर्श किया गया और मरीज़ों के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया गया।झल्ला
ओ भा जी!
मन मे दूने मन मे तीने मन मे रह गए आधे
वोह आधे भी कोविड अस्पतालों में नही दीखे
इतने माहिरों के होते हुए भी किसान आंदोलन से फैले कोविड को भांपा नही जा सका।ऑक्सीजन के उत्पादन में पँजांब को आत्म निर्भर नही बनाया जा सका।चिकित्सकों की कमी को पूरा नही किया गया।कोविड से हुई मृत्यु दर देश मे सबसे अधिक और आप माहिरों की महारत की गल कर रहे हो
भा जी!पँजांब में माहिरों का विलक्षण समूह फिर भी मृत्यु दर सबसे अधिक ऑक्सीजन उत्पादन में शून्य
टीकाकरण में फिसड्डी।

ये कैसा लोकतंत्र?विधायकों को केंद्र तो सीएम को संयुक्तराष्ट्र ही बचाने आएगा क्या ?

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
Jamos Cartoon ओए झल्लेया । मजा आ गया।ओए बेशक वेस्ट बंगाल में हसाडी सरकार नही बनी लेकिन हसाडे सारे 77 के 77 विधायकों को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जी सुरक्षा मुहैया करवा रहे हैं।अब तो सीआरपीएफ और सीआईएसएफ आदि के ज्वान टीएमसी के गुंडों से हसाडे विधायकों की रक्षा कर लेंगे।
झल्लाझल्ला
चतुर सुजाणा! ये कैसा लोकतंत्र है???विधायकों को केंद्र तो सीएम को संयुक्त राष्ट्र ही बचाने आएगा क्या ???

O2 अलॉटमेंट को गठित टास्क फोर्स चरमराई व्यवस्था पर ही निर्भर रहेगी ?

झल्लीगल्लां
रिटायर्डन्यायाधीश
Judiciaryओए झल्लेया! आखिरकार अदालतों ने ही लोक तन्त्र की रक्षा करनी है ।कोरोना महामारी में तीनों स्तम्भ बेशक धाराशाई हो गए लेकिन सुप्रीमकोर्ट ने ऑक्सीजन अलॉटमेंट के लिए 10 डॉक्टरों वाली 12 सदस्यीय स्पेशल टास्क फोर्स बना कर सबको राहत दी है।ओए हुण ऑक्सीजन के लिए हायतौबा बन्द हो जाणी है
झल्ला
झल्लाभापा जी!ये तो सराहनीय है लेकिन टास्क फोर्स निर्भर तो उपलब्ध चरमराई व्यवस्था पर ही रहेगी

कोरोना संकट को सेना के पाले में डालने को सियासी उधेड़बुन शुरू

झल्लीगल्लां
चिंतितबुद्धिजीवी
ओए झल्लेया!ये क्या भम्बड़भूसे में मुल्क को धकेला जा रहा है।पहले तो सियासतदां मीलों लम्बे दावे करके सत्ता कब्जा लेते हैं फिर जरा सी मुसीबत गले पड़ते ही सेना की मदद की गुहार लगाने लगते है।यहां तक माननीय न्यायालय भी सेना की बात करने लग गए।दिल्ली राज्य और हरयाणा पहले ही हाथ खड़े कर चुके है।
झल्ला
भापा जी!
मुश्किल वक्तों में सेना ने हमेशा मुल्क को उबारा है और कॉरोनानुसरों के वर्तमान संकट में तो सेवानिवर्त डिफेंस डॉक्टर्स ने e संजीवनी पर ओ पी डी भी सम्भाल ली है लेकिन ये कोरोना संकट किसी एक छेत्र में आये भूकम्प/बाढ़ आदि का नही वरण समूचे राष्टीय आपदा का है और पूरे राष्ट्र की कमान आर्मी को देने के दुष्परिणाम भी हो सकते है।इसीलिए विपक्ष+सरकारों और जनता को मिल कर ही कोरोना से मुकाबिला करना होगा ।