Ad

Tag: Arun Jaitly

अन्ना हजारे की नौ दिन की अनशन पीड़ा के पश्चात संसद ने लोक पाल को जन्म दे ही दिया:अन्ना का अनशन भी समाप्त

नौ दिन की अनशन पीड़ा के पश्चात भारतीय संसद ने लोक पाल बिल को आज जन्म दे ही दिया अब केवल राष्ट्रपति के हस्ताक्षरों की ओपचारिकता रह गई है| कल राज्य सभा ने इसे पारित करके लोक सभा को लौटाया था और आज लोक सभा ने भी राज्य सभा का अनुसरण किया|
इसी ख़ुशी में अन्ना बाबू राव हजारे ने अपना ९ दिन का अनशन समाप्त कर दिया|और सभी दलों को[एस पी को छोड़ कर] बधाई और धन्यवाद पत्र भेजा है |अन्ना ने अरुण जेटली+ डॉ मन मोहन सिंह+ नारायण सामी+ सत्यव्रत चतुर्वेदी को पत्र लिख कर बिल के प्रति प्रतिबद्धता का स्वागत किया और सलेक्ट कमेटी के सभी सुझावों को बिल में शामिल करने का आग्रह किया|
बीते [५ ]दशकों में [८]असफल प्रयासों के बाद भारत ने आज आखिरकार भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से लोकपाल कानून बनाने का ऐतिहासिक कदम उठा लिया। इस कानून के जरिए अब लोकपाल बनेगा और उसके दायरे में प्रधानमंत्री कार्यालय [PMO]भी होगा। लोकसभा ने आज लोकपाल एवं लोकायुक्त विधेयक 2013 को ध्वनिमत से मंजूरी दी। राज्यसभा इसे कल ही मंजूरी देने के बाद लोकसभा को लौटा चुकी थी।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज नाथ सिंह ने इसे पार्लियामेंट्री डेमोक्रेसी में ऐतिहासिक उपलब्धि बताते हुए सांसदों को बधाई दी है|भाजपा अध्यक्ष ने अन्ना हजारे के अनशन की समाप्ति पर प्रसन्नता व्यक्त की है| उन्होंने स्मृमति सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को विशेषरूप से क्रेडिट दिया

बी सी सी आई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने सारी जाती देख आधी बाँट लीजिये के आधार पर मीटिंग मैच फिक्स करा कर अपनी कुर्सी बचा ही ली

सारी जाती देख आधी बाँट लीजिये के आधार पर मीटिंग मैच फिक्स करा कर बी सी सी आई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने अपनी कुर्सी बचा ही ली| भारतीय क्रिकेट के ३१ मालिकों की संस्था बी सी सी आई नामक क्लब की चेन्नई में हुई मीटिंग में एन सी पी सुप्रीमो और पूर्व अध्यक्ष शरद पवार के आगमन के डर से दो पुराने शत्रु [१]जगमोहन डालमिया +[२] एन श्रीनिवासन में सत्ता बाँट ली गई|प्राप्त जानकारी के अनुसार स्पॉट फिक्सिंग की जांच से श्रीनिवासन अलग रहेंगे और जग मोहन डालमिया बोर्ड का दैनिक काम काज देखेंगे| इंग्लैंड में चल रहे चैम्पियन ट्रौफी में आई सी सी के साथ संवाद स्थापित करने की जिम्मेदारी कौन संभालेगा यह यक्ष प्रश्न अभी भी अनुत्तरित ही है|
इसके साथ ही दिल्ली की राजनीती में अपने छत्रप होने का दम्भ भरने वाले और क्रिकेट के समस्त घटना क्रम की आलोचना करते फिर रहे केन्द्रीय संसदीय कार्यों के [१]राज्य मंत्री राजीव शुक्ला +[२]भाजपा के नेता अरुण जेटली+[३]भाजपा के ही अनुराग ठाकुर+[४]कांग्रेस के ज्योतिर्मय सिंधिया आदि ने मीटिंग से अलग रह कर बी सी सी आई रूपी जन्नत में अपनी मेंबर शिप कायम रखी है|
बीसीसआई की चेन्नई में हुई बैठक की पठकथा पहले ही लिखी जा चुकी थी जिसके आधार पर मीटिंग मैच को फिक्स कराया गया|प्राप्त जानकरी के अनुसार रविवार को बैठक से पहले भी श्रीनिवासन ने खुद दो घंटे तक डालमिया से बात की। इसके बाद श्रीनिवासन की ही चली|
चुनावी साल में अरुण जेटली खुद सीधे सीधे इस लड़ाई में नहीं कूदना चाहते थे। जिस शशांक मनोहर के नाम पर थोड़ी बहुत सहमति बन रही थी वो खुद ही पीछे हट गए थे। अपने पत्ते कमजोर पड़ते देख जेटली गुट ने एक कदम और पीछे खींचा। सुबह के करीब 9 बजे ये तय हो गया कि ना तो जेटली, ना ही शुक्ला और ना ही ठाकुर बैठक में शामिल होने के लिए चेन्नई जाएंगे। तीनों ने ही फेस सेविंग के जरिये वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का सहारा लिया|अर्थार्त रिंद के रिंद रहे और जन्नत भी हाथ से ना गई|शरद पवार का महाराष्ट्रियन गुट अब अलग थलग दिखाई देने लगा है इसीलिए निकट भविष्य में किसी प्रभावी कदम से इनकार नहीं किया जा सकता|
बीसीसीआई की आज की बैठक से पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी ने ट्वीट किया है कि क्रिकेट हमारे देश में धर्म है। लेकिन इसे श्रीनिवासन,राजीव शुक्ला, अरुण जेटली और अनुराग ठाकुर जैसे लोगों ने हाईजैक कर लिया है। ये देश और क्रिकेट प्रेमियों के साथ धोखा है। क्रिकेट में ये अब तक का सबसे बड़ा कवरअप है। श्रीनिवासन, जेटली और शुक्ला मिलकर साजिश रच रहे हैं। स्पॉट+मैच फिक्सिंग को लेकर मीडिया लागातार आवाज उठाता रहा है वरिष्ठ खेल विश्लेषक के अनुसार मीडिया ने इलेक्ट्रोनिक मीडिया पर १०० घंटे की कवरेज और टन प्रिंट मीडिया का इस्तेमाल हुआ है लेकिन यह दबाब बी सी सी आई को लेकर अभी तक बेकार ही गया है |अब सवाल यह उठता है कि क्या अब मीडिया को अपनी हार मान कर बैठ जाना चाहिए शायद नही मीडिया का काम ही गलत के विरुद्ध आवाज उठाना और जनता तक हकीकत को पहुँचाना है |

शरद पवार की धुआंधार बालिंग के सामने बोर्ड के सचिव शिर्के और कोषाध्यक्ष जगदाले पेवेलियन लौटे

बी सी सी आई के पूर्व अध्यक्ष शरद पवार धुआंधार बालिंग को देखते हुए अब बोर्ड की कई विकेट्स खुद ही गिरने लगी हैं | बोर्ड के सचिव संजय जगदाले और कोषाध्यक्ष अजय शिर्के ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया। श्रीनिवासन को भेजे इनके इस्तीफे में कहा गया है कि क्रिकेट में हाल ही के घटनाक्रम से वे लोग बेहद आहत हैं।इसके अलावा पवार की घोषणा के बाद सचिन तेंदुलकर ने भी स्वयम के आहत होने की बात कह दी है|
जॉइंट सेक्रेटरी अनुराग ठाकुर जो अभी तक एन श्रीनिवासन के लिए एम्पायरिंग करते फिर रहे थे उन्होंने भी अब बोर्ड की इमरजेंसी मीटिंग बुलाने की जरुरत स्वीकार कर ली है| भाजपा के नेता अरुण जेटली[नार्थ] और आई पी एल के चेयर मैन केन्द्रीय सरकार में संसदीय कार्यों के राज्य मंत्री राजीव शुक्ला अभी भी श्रीनिवासन को पेवेलियन लौटाने के लिए अपनी उंगली उठाने को तैयार नही दिख रहे|लेकिन प्रधान मंत्री डा. मन मोहन सिंह ने जब से खेल और राजनीती को अलग रखने की बात कही है और कांग्रेस पार्टी अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी पार्टी की इमेज सुधारने के लिए एडी चोटी का जोर लगा रही हैं|ऐसे में दागी आई पी एल के चेयर मैन पद से चिपके हुए राजीव शुक्ला के मंत्री पद जरूर खतरे में पड़ सकता है|
श्री जगदाले उस तीन सदस्यीय इनक्वायरी कमिटी से भी बाहर हो गए हैं, जो मयप्पन के खिलाफ आईपीएल में सट्टेबाजी के आरोपों की जांच के लिए बनाई गई है।हर तरफ से दबाव को देखते हुए श्रीनिवासन ने वर्किंग कमिटी की इमरजेंसी मीटिंग शनिवार को बुलाने की घोषणा की है लेकिन अविश्वास प्रस्ताव केवल आम सभा में ही लाया जा सकता है|

जय नंगई +जय दबंगई +जय जय बी सी सी आई +जय श्रीनिवासन + जय श्रीकांत +सबसे बड़ा पैसा राम

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

बी सी सीआई का चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे चेयर मैन एन श्रीनिवासन ने दरियादिली+न्यायप्रियता का कैसा सराहनीय प्रदर्शन किया है |एक तरफ तो अपने प्रिय दामाद को अलग किया दूसरे तुम लोग जो स्पॉट फिक्सिंग का भोंपू बजा रहे हो उसकी भी जांच करवाने के लिए कमेटी का गठन कर दिया गया है|कानून की बात करते हो तो हसाडे उपाध्यक्ष के साथ आई पी एल के चेयर मैन राजीव शुक्ला ने कड़े कानून बनाने की बात कर दी है| ओये अब तो हो जाना है दूध का दूध और पानी का पानी |श्रीनिवासन का इस्तीफा माँगने वालों को याद आ जायेगी उनके आस पास वालों की नानी वानी के साथ मामी शामी |

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी बकौल पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी क्रिकेट मनोरंजन के लिए बनाया गया था लेकिन अब इसे पैसे के लिए खेला जाता है और पैसे अगर लोगों को नचाता है तो अनेको को चुप भी कराता है|बी सी सी आई और आई पी एल के अनेकों पदाधिकारी दोषियों को आउट करने लिए अपनी उंगली को छुपाये फिर रहे हैं| आई ओ ऐ की नाक में दम करने वाले स्पोर्ट्स मिनिस्टर+कानून मंत्री [पूर्व कौंसिल ]भी वाईड बालिंग कर रहे हैं |अब जहाँ तक जाँच की बात है तो श्रीमान रवि शास्त्री जी [क्रिकेट के खेलों में ] बरसों से कमेंट्री के मोटे +चहेते कांट्रेक्ट से दबे हुए हैं| माफ़ कीजिएगा मुजरिम को अभी तक अपने लिए वकील माँगने की इजाजत थी लेकिन अब आपके श्रीनिवासन अपने लिए मुंसिफ भी खुद ही चुन रहे हैं
इसीलिए जय नंगई +जय दबंगई +जय जय बी सी सी आई +
जय हो आई पी एल ,जय जय जय मयपन्न गुरुनाथ+
जय गवास्कर+ जय श्रीनिवासन जय जय जय श्रीकांत +
जय सी एस के +जय मुम्बई + सबसे बड़ा पैसा राम