Ad

Tag: Corruption

शीर्ष अदालत ने फाइलें दबाने वालों पर ओनली नाराजगी व्यक्त करके ही इतिश्री कर ली

IMG-20201016-WA0018#1947कापीडित
ओए झल्लेया! अब तो #सुप्रीमकोर्ट ने भी फाइलें दबा कर रखने वाले अधिकारियों को लताड़ दिया ।ओए ये करप्शन का दाग कब मिटेगा?कब हमे न्याय मिलेगा??
#झल्ला
भापा जी !शीर्ष अदालत ने फाइलें दबाने वालों पर ओनली नाराजगी व्यक्त करके ही इतिश्री कर ली
आप जी की ये पीड़ा जायज़ है।लेकिन शीर्ष अदालत ने भी इन भृष्टाचारियों पर ओनली नाराजगी व्यक्त करके इतिश्री कर ली।काश विभागों/मंत्रालयों/राज्यों से ब्यौरा मांग कर न्याय का पहिया आगे खिसका दिया होता

सोने का अंडा पैदा करने वाले थानेदार को बिजली चोरी में किया सस्पेंड

यूपी #पुलिसाधिकारी
ओए झल्लेया! #यूपीपुलिस की ईमानदारी देख!!
हमने अपने ही थानेदार श्री धर्मेंद्र सिंह को निलंबित कर खुड्डे लेण लगा दिया ।अब इसके पूरे खानदान से सारी काली कमाई निकलवा लेनी है
#झल्ला
मामा गल सुण ध्यान से । चुभेगी दिलोदिमाग में! आप लोगों ने अपने थानेदार को अकूत सम्पत्ति अर्जन पर नही बल्कि बिजली चोरी पर सस्पेंड किया है । अर्थार्त जंगल मे मंगल मनाने के लिए नाजायज फार्म हाउस जायज है लेकिन दबाब पढ़ने पर बिजली चोरी पकड़ना मजबूरी है ।और सोने का अंडा पैदा करने वाले अपने खुद के अधिकारी को सस्पेंड करने के लिए कोई दूसरा आधार बनाना भी तो जरूरी है।

To End Corruption ,Revival of Vedas Truthfully is a Divine Necessity:Sabhlok

(New Delhi) To End Corruption ,Revival of Vedas Truthfully is a Divine Necessity :Prem Sabhlok
Vedas Penetrator Prem Kumar Sabhlok Says
“In the present age of widespread pious forgeries, revival of Vedas truthfully is a divine Necessity”
And In the absence of Vedas the world is becoming Spiritual Desert. Fighting against Corruption is the duty of all noble people (Rig Veda and Bhagavad Gita). For such noble fighters it is the open doorway to heaven (Bhagavad Gita). Not fighting against corruption one commits Sin (Rig Veda). Wake up India- the land of Bhagavad Gita, is becoming fast a very Corrupt country.
Vedic metaphysics can save the mankind from all kinds of social, economic and other depressions. Strengthen Sanatan Dharma (the eternal religion) through revival of Vedas.
Learnered Sabhlok Says
Our social interaction is limited to friends, relations etc but not to community so our houses are spotlessly clean and surroundings dirty as community welfare is never our Motto- Vedas take us to community welfare and “WE” Feeling.
2. In social service the concept of Success is difficult to define- so it is better to be a man of value than of success.
3. Research in social sciences and medical sciences has found that helping others not for recognition is good for heart. It is great way to exercise your heart and soul.
4. Vedas specifically guide us to TEACH (transparency, ethics, accountability, community and humanity welfare) principle. Most of the modern systems have failed in this regard.
5. Unless self rule at the grass root level is there in Democracy, the rulers tend to become autocratic, corrupt, hypocrite and tyrannical (Plato). There is no visible movement for swaraj- self rule in India.

भाजपा ने आज फिर कांग्रेस के भ्र्ष्टाचार को उजागर किया

[नई दिल्ली]भाजपा ने आज फिर कांग्रेस के भ्र्ष्टाचार को उजागर किया | संबित पात्रा के अनुसार दिल्ली में कांग्रेस के नेता डी के शिवकुमार के घर में मारे गए छापे में तीन फ्लैट्स की चाबियाँ मिली है | बीते अगस्त में डी के शिवकुमार के यहाँ से काले धन के करोड़ों रु मिले हैं
भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया के कर्णाटक कांग्रेस का ऐटीएम बन चूका है |इसी ऐटीएम से नोटबंदी के दौरान कांग्रेस के दफ्तर में किलो के हिसाब से ६०० करोड़ रु पहुंचाए गए | सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ता ने पूछा के कर्णाटक कांग्रेस के नेताओं के पास इतना रु कहाँ से आया|

स्वराज इंडिया ने भ्र्ष्टाचार रोकने के अन्य उपाय किये जाने की मांग की

[नई दिल्ली]स्वराज इंडिया ने भ्र्ष्टाचार रोकने के अन्य उपाय किये जाने की मांग की
स्वराज इंडिया ने आम लोगों के बीच जा जाकर “नोटबंदी पर नुक्कड़ जनसुनवाई” का आयोजन रविवार को भी जारी रखा।
जनसुनवाई का आयोजन दिल्ली के लगभग 100 नुक्कड़ों पर किया गया, जहां निम्नलिखित तीन बिंदुओं पर जनता से संवाद किया गया।
1. नोटबंदी का आप, आपके परिवार, आपके काम धंधे पर क्या असर हुआ?
2. क्या जनता की परेशानी काम हो सकती थी? या और कोई रास्ता ही नहीं था?
3. अब भी सरकार क्या करे जिससे जनता की तकलीफ़ दूर हो सके?
नोटबंदी पर नुक्कड़ जनसुनवाई के दौरान हर तरह के विचार सामने आये। इन बिंदुओं पर खुल कर लोगों ने अपनी बात रखी। जिससे स्पष्ट हुआ कि जनता इस निर्णय का समर्थन करे या विरोध लेकिन परेशानी तो हुई है।
स्वराज इंडिया ने हमेशा से किसी भी निर्णय का अंध-समर्थन या अंध-विरोध करने की बजाए देश हित की बात सबसे आगे रखी है। नोटबंदी के मसले पर भी स्वराज इंडिया ने सरकार की घोषणा का समर्थन किया, लेकिन ख़राब तैयारी और ढुल मुल क्रियान्वयन के कारण देश भर में हो रही परेशानी को भी सबके सामने रखा।
स्वराज इंडिया ने पिछले दिनों के अनुभव को देखते हुए देश के सामने एक सकारात्मक सुझाव रखा है। ऐसे समय में जब किसी सार्थक समाधान की बजाये सिर्फ़ आरोप प्रत्यारोप की राजनीति हो रही है, स्वराज इंडिया का प्रस्ताव देश की जनता की परेशानी और पीड़ा को हल करने में मददगार होगा।
पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने सरकार से मांग करते हुए कहा, “नोटबंदी की योजना को 31 दिसंबर से लागू किया जाए और तब तक सभी लोगों को पुराने नोट इस्तेमाल करने की छूट दे दी जाए। यानि जो छूट अभी रेल, पेट्रोल पम्प, सरकारी हस्पताल आदि को है, वो सभी को दे दिया जाए। सरकार चाहे तो इसकी कोई लिमिट बाँध दे ताकि कालेधन के बड़े खेल खेलने वाले फ़ायदा ना उठा सकें। लेकिन मेहनत की कमाई खाने वाले बिना परेशानी के अपने पुराने नोट बदल लें।
इससे काला धन पूरी तरह तो नहीं रुकेगा। इतने दिनों में कई काला धन वाले उसे सफ़ेद करने की तरकीब बना लेंगे। ये हो सकता है। लेकिन सरकार की वर्तमान नोटबंदी से भी तो फ़िलहाल यही हो रहा है। जाली नोट जरूर रुक रहे हैं, लेकिन जो काला धन कैश में लेकर बैठा है वो अपने नोटों को कहीं न कहीं से ‘ऐडजस्ट’ तो कर ही रहा है। असली परेशानी तो सिर्फ आम जनता को हो रही है। कितना अच्छा हो अगर सरकार इस सच को मान ले। उधर विपक्ष वाले भी नोटबंदी को वापिस लेने जैसी बातें बंद कर दें और इस घोषणा से जो फायदे सचमुच हो सकते हैं वो होने दें।
स्वराज इंडिया ने साथ ही मांग किया कि अब सरकार काला धन रोकने के लिए जल्द से जल्द बाक़ी बड़े कदम उठाये – जैसे मॉरीशस की खिड़की को बंद करे, विदेशों में जमा काला धन वापिस लाये, पी-नोट पर पाबन्दी लगाए, भ्रष्टाचार विरोधी कानून को कमजोर न करे, पार्टियों की विदेशी फंडिंग पर रोक लगाए, पूंजीपतियों का क़र्ज़ माफ़ी ना हो, लोकपाल की नियुक्ति करे

करप्शन के मामले में सीबीआई के घेरे में आये पूर्व महानिदेशक’बंसल’ने भी की आत्महत्या

[नयी दिल्ली]करप्शन के मामले में सी बी आई के घेरे में आये पूर्व महानिदेशक बंसल ने भी की आत्महत्या|इससे पूर्व बंसल की पत्नी और पुत्री ने भी आत्महत्या की थी
कॉरपोरेट मामलों के पूर्व महानिदेशक बी के बंसल ने पूर्व दिल्ली स्थित अपने आवास पर अपने बेटे के साथ कथित तौर पर आत्महत्या कर ली है। बंसल के खिलाफ भ्रष्टाचार के एक मामले में सीबीआई की जांच चल रही थी।
लगभग दो माह पहले ही बंसल की पत्नी और बेटी ने नीलकंठ अपार्टमेंट्स स्थित अपने आवास पर पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली थी। दोनों ने अलग-अलग सुसाइड नोट छोड़े थे, जिनमें कहा गया था कि ‘सीबीआई की छापेमारी’ से ‘भारी बदनामी’ हुई है और वे इसके बाद जीना नहीं चाहतीं।
हालांकि उन्होंने अपनी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया था।
सूत्रों के अनुसार बंसल और उनका बेटा आज अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए।
कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव स्तर के अधिकारी बंसल को एक प्रसिद्ध दवा कंपनी से कथित तौर पर रिश्वत लेने के आरोप में सीबीआई ने 16 जुलाई को गिरफ्तार किया था। इस मामले के सिलसिले में सीबीआई ने आठ स्थानों पर छापेमारी की थी। एजेंसी ने इस छापेमारी के दौरान नकदी बरामद करने का दावा किया था।
बंसल को बाद में गिरफ्तार किया गया था लेकिन फिर जमानत पर रिहा कर दिया गया था

AAP Led Delhi Govt Suspends Top Excise officer For Unclaimed Rs 50K+Bottle

[New Delhi]AAP Led Delhi Govt Suspends Top officer in Excise Dept For Recovery Of Unclaimed Rs 50K +Liquor Bottle From His Official Car
Assistant Commissioner of Excise, Entertainment and Luxury Tax has been suspended by Delhi government and the matter has been referred to the Anti-Corruption Branch (ACB)
.During search, Rs 50,000 cash and a liquor bottle was found in the vehicle of the officer.
However, the city government has accused the Centre of weakening the branch by putting LG-appointed M K Meena at its helm.

Supreme Court,Hammering Corruption,Verdicts NO Mercy to Any Corrupt

[New Delhi] Supreme Court, Hammering Corruption,Verdicts NO Mercy to Any Corrupt This Verdict Is Given In a Case Of 1992
In Which a bus without tickets was seized . SC Of India calling corruption like cancer.said that Corrupt should not get swayed by the concept of mercy while awarding punishment
The apex court’s observation came while terminating the services of a conductor employed in Uttar Pradesh State Transport Corporation for carrying 25 passengers without ticket in 1992.
A bench of justices Dipak Misra + Prafulla C Pant said.
“The whole act is reprehensible and such a situation does not even remotely commend any lenience,”
It said that both the labour court and Allahabad High Court committed error by imposing lesser punishment and granting chance of reformation to Gopal Shukla as the only punishment should have been dismissal.
The apex court said that the high court appeared to have been swayed by concept of forgiveness and mercy while remaining oblivious to the great harm caused to transport corporation.
It said.”When such kind of indiscipline causes financial loss to the Corporation, adequate punishment has to be imposed and in our view such misconduct does not stand on a lesser footing than embezzlement or corruption and more importantly results in loss of faith and breaches the trust,”
According to the bench, a number of persons were allowed to travel in the bus without tickets and if fares were paid, these were pocketed.
“We must not forget the fundamental duty and work,” the bench said, adding that the approach of the high court and labour court showing leniency towards the conductor is not judicially maintainable.

प्रधानमंत्री ने विपक्ष को ऍफ़एम नीति पर घेरा:रामचरितमानस का डिजिटल संस्‍करण जारी

[नई दिल्ली]प्रधानमंत्री ने विपक्ष को ऍफ़एम नीति पर घेरा:रामचरितमानस का डिजिटल संस्‍करण जारी
प्रधानमंत्री ने रामचरितमानस का डिजिटल संस्‍करण जारी करते हुए विपक्ष को ऍफ़एम नीति पर घेरा |आकाशवाणी द्वारा तैयार कराये गए रामचरितमानस के डिजिटल संस्‍करण को जारी करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऍफ़एम[रेडियो] नीति का उल्लेख भी कर दिया |उन्होंने भ्र्ष्टाचार पर प्रोग्रेस मांगने वालों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पहले ऍफ़ एम स्टेशनों की बाँट से मात्र ८० करोड़ रुपयों की आमद होनी थी लेकिन अब उनकी नीति के अनुसार ऍफ़एम स्टेशनों को नीलाम किया जा रहा है जिसके फलस्वरूप अब सरकार को २७०० करोड़ रुपये मिलेंगे |
प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज रामचरितमानस का डिजिटल संस्‍करण, आकाशवाणी द्वारा निर्मित डिजिटल सीडी का सेट जारी किया।
इस संगीतमय प्रस्‍तुति में योगदान देने वाले कलाकारों के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्‍होंने न सिर्फ संगीत साधना की है, अपितु संस्‍कृति साधना और संस्‍कार साधना भी की है।
फोटो कैप्शन
The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing the gathering at the release of the digital version of Ramcharitmanas, in New Delhi on August 31, 2015.
The Union Minister for Finance, Corporate Affairs and Information & Broadcasting, Shri Arun Jaitley and the Secretary, Ministry of Information and Broadcasting, Shri Bimal Julka are also seen.

Yogendra Yadav,Founder Of “AAP’s Parallel,Questioned Claim Of Scam Free Rule In Centre

[Varanasi]Yogendra Yadav [Founder Of AAP Parallel]Questioned Claim Of Scam Free Rule In Centre
Former AAP leader Yogendra Yadav has said Narendra Modi Government’s claim of scam-free rule is questionable when anti-corruption watchdogs are unable to function with full strength.
He also alleged that Modi government was “ashamedly anti-farmer” and its policies were no different from Dr Manmohan Singh
Yadav alleged that the government has not shown much will to take on corruption.
Yadav said the performance of the government Specially In The Field Of Employment+Corruption+Agriculture+Environment+Farmers has been a disappointment.
He Told to News Agency that The past records of corruption of both Congress and BJP are terrible but currently our focus is on BJP because it came to power on promises of reducing corruption, and they (BJP) have done no better till date,
He said “if you judge this government by what?it promised and its rhetoric, then of course nothing has come out from it and it is a joke.