Ad

Tag: gujrat

यूंपी+ऊख के हुकमरान गुजराती “तीस्ता”की शराब के लिए इम्पोर्टेड गलती को दोहरना नहीं चाहते होंगे

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

नशा विरोधी चिंतित नागरिक

ओये झल्लेया ये हसाडे हुकमरान क्या नया कुफ्र कमा रहे हैं|ओये हम लोग तो शराब बंदी के लिए दिनरात एक कर रहे हैं और ये लोग शराब की बिक्री बढ़वाने में ही लिप्त हैं |ओये उत्तराखंड के कांग्रेसी सीएम हरीश रावत के खासुलखास सचिव मोहम्मद शाहिद खुद शराब व्यापारियों से सौदे बाजी करतेहुए अपनी सी डी बनवाने में लगे हुए है |इनके पड़ौसी उत्तर प्रदेश में तो शराब की बिक्री बढ़वाने के लिए सीधे सीधे जिलाधिकारियों को निर्देश दिए जा रहे हैं |ओये एक तरफ तो शराब से बेगुनाह लोग मर रहे हैं तो दूसरी तरफ ये लोग मौज मस्ती करने में लगे हुए हैं

झल्ला

ओ मेरे भोले भापा जी आप जी का सामान्य ज्ञान तो मेरे से भी कम होता जा रहा है| भई गुजरात में कांग्रेसी खिलौना तीस्ता सीतलवाड और उसके पति ने अपनी शराब+वाइन+व्हिस्की+रम के लिए अपनी “सबरंग” के माध्यम से विदेशों से चन्दा उगाही का जुर्म कर दिया इसीलिए झल्लेविचारानुसार यूंपी+ऊख के हुकमरान गुजराती “तीस्ता”की शराब के लिए इम्पोर्टेड गलती को दोहरना नहीं चाहते होंगे इसीलिए देसी तरीके इस्तेमाल कर रहे हैं

गाय विज्ञान के पश्चिमी दृष्टिकोण से भी ,मानव जाति के लिए, कल्याणकारी हुई साबित

[वाशिंगटन]गाय अब वैज्ञानिक दृष्टि से भी मानव जाति के लिए कल्याणकारी साबित हुई है |
गाय की प्रतिरोध क्षमता प्रणाली ने मानव जाति के लिए नये उपचारों की संभावना जगाई |गाय के एंटीबॉडी को मिलाकर एक नयी संभावित चिकित्सा ईजाद की गई है
अभी तक भारत में हिन्दू विचारधारा द्वारा गाय को पवित्र माना जाता रहा है जिसके बचाव के लिए गुजरात में पशु हॉस्टल और हरियाणा में श्वेत क्रान्ति भी शुरू की जा चुकी है|
अब भारतीयों की इस मान्यता को एक और सपोर्ट मिल गई है |
एक नये अध्ययन के मुताबिक गाय अंदर पाई जाने वाली ‘एंटीबॉडी’ हार्मोन की कमी से ग्रसित मानव के लिए मददगार हो सकती है।
वैज्ञानिकों ने मानव हार्मोन और गाय के एंटीबॉडी को मिलाकर एक नयी संभावित चिकित्सा ईजाद की है।यह हार्मोन की कमी से ग्रसित मानव के लिए मददगार हो सकती है।.

Indian Citizenship Made Easy For Overseas Citizen of India: A Gift On PBD 2015

Indian Citizenship Made Easy For Overseas Citizen of India:A Gift On PBD 2015
A Day before Pravsi Bhartiy Diwas[PBD]2015 The President of India has promulgated the Citizenship (Amendment) Ordinance, 2015 on January 06, 2015 with immediate effect which provides for the following amendments to the Indian Citizen Act, 1955:
[1]At present one year continuous stay in India is mandatory for Indian Citizenship which is relaxed stating that if the Central Government is satisfied that special circumstances exist, it may, after recording such circumstances in writing, relax the period of twelve months specified upto a maximum of thirty days which may be in different breaks.
[2]To enable for registration as Overseas Citizen of India (OCI) by a minor, whose parents are Indian Citizens.
[3]To enable for registration as Overseas Citizen of India (OCI) by a child or a grand-child or a great grandchild of such a citizen.
[4]To enable for registration as Overseas Citizen of India (OCI) by such spouse of a citizen of India or spouse of an OCI registered under Section 7A and whose marriage has been registered and subsisted for a continuous period of not less than two years immediately preceding the presentation of the application under this section.
[5]In respect of existing PIO card holders central government may, by notification in Official Gazette, specify a particular date from which all existing PIO card holders will be deemed to be OCI card holders.
The Indian Citizenship Act, 1955 provides for acquisition, termination, deprivation, determination of Indian Citizenship and other related aspects. The Act provides for acquisition of Indian citizenship by birth, descent, registration, naturalization and incorporation of territory under certain circumstances, and also for the termination and deprivation of citizenship.
Pravasi Bhartiy Diwas 2015 Has been started in Gujrat TO Day In which Minister for external Affairs Smt Sushma Swaraj Has Appealed Overseas Indian Origins To Come And Know India And Contribute To Make One India

स्वावलंबन[२]स्वश्रेय[३]स्वाभिमान को श्रमेव जयते”भावना से अपनाएं:गुजरात में पी एम का सन्देश

स्वावलंबन[२]स्वश्रेय[३]स्वाभिमान को श्रमेव जयते”भावना से अपनाएं:गुजरात में पी एम का सन्देश
भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात सरकार की ११ नई गरीब हितकारी पहल-स्वावलंबन अभियान का शुभारंभ किया
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गांधीनगर के महात्मा मंदिर में गुजरात सरकार की 11 नई गरीब हितकारी पहलों-स्वावलंबन अभियान का आज शुभारंभ किया।
इस अवसर पर एक बड़ी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश भर में 17 सितंबर विश्वकर्मा दिवस के तौर पर मनाया जाता है और विश्वकर्मा सभी श्रमयोगियों के लिए पूजनीय रहे हैं। राज्य सरकार को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि राज्य सरकार ने ‘स्वावलंबन’ पहलों की शुरूआत के लिए आज का दिन चुना।
प्रधानमंत्री ने कहा कि श्रमयोगी के लिए तीन बातें महत्वपूर्ण हैः स्वावलंबन, स्वश्रेय और स्वाभिमान। उन्होंने कहा कि कोई भी “श्रमयोगी” निर्भर रहना पसंद नहीं करता। उन्होंने कहा कि गुजरात सरकार ने श्रमयोगियों, खासतौर पर महिलाओं और युवाओं के लाभ के लिए इन गरीब हितकारी पहलों की शुरूआत की है, ताकि वे गरीबी से लड़ने में सक्षम हो सकें। उन्होंने कहा कि इसे “श्रमेव जयते” की भावना के साथ अपनाना चाहिए।
प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात में महिलाएं पशुपालन और दुग्ध उत्पादन में आगे हैं। उन्हें इस योजना के माध्यम से लाभांवित और सशक्त बनाया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईटीआई सरल कौशल विकास पर ध्यान दे रहे हैं, ताकि छात्र अपने कौशल और योग्यताओं को सामने ला सकें।
श्री मोदी ने कहा कि मां-वात्सल्य योजना की स्वावलंबन पहल के माध्यम से नया मध्यम वर्ग भी सुरक्षा प्राप्त करेगा।
इस अवसर पर गुजरात के राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली, गुजरात की मुख्यमंत्री श्रीमती आनंदीबेन पटेल और कई राज्यमंत्री भी उपस्थित थे।
आज प्रधान मंत्री का जन्म दिन हैं उन्होंने अपनी माँ से आशीर्वाद भी प्राप्त किया
फोटो कैप्शन
The Prime Minister, Shri Narendra Modi handing over cheque to beneficiaries of Swavlamban Abhiyaan – new pro-poor initiatives of the Gujarat Government, at the Mahatma Mandir, in Gandhinagar, Gujarat on September 17, 2014.
The Chief Minister of Gujarat, Smt. Anandiben Patel is also seen.

कांग्रेस नेत्री रीता बहुगुणा जोशी ने भाजपा के अमित शाह को उ प्र के लिए एक फुका हुआ कारतूस बताया

कांग्रेस ने भाजपा के अमित शाह को एक फुका हुआ कारतूस बताते हुए शाह को भाजपा के लिए हानि कारक बताया | भाजपा ने बेशक राम बाण के रूप में अमित शाह को उत्तर प्रदेश में डेपुटेशन [प्रतिन्युक्ति]पर भेज कर २०१४ के चुनावो का बिगुल बजा दिया है लेकिन कांग्रेस का कहना है कि अमित शाह भाजपा के लिए ही नुक्सान दायक साबित होंगे|भाजपा चौथे स्थान पर थी और अभी भी इससे ऊपर नही उठ सकेगी| कांग्रेस की उ.प्र. में ६४ वर्षीय अनुभवी नेत्री और इलाहाबाद की पूर्व मेयर और केन्द्रीय वित्त मंत्री[ अब स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा की पुत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी आज इलाहाबाद में लाई जा रही स्वर्गीय वी सी शुक्ला की अस्थियों के प्रति श्रधान्जली अर्पित करने जा रही थी | रास्ते में उनसे बातचीत के दौरान जब भाजपा के उत्तर प्रदेश में नए चेहरे अमित शाह के प्रभाव के विषय में पूछा गया तो उन्होंने सटीक और सधे हुए शब्दों में अपनी प्रतिक्रया व्यक्त करते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश की मिटटी में भी सियासत है यहाँ का पान वाला भी राजनीती समझता है इसीलिए अमित शाह का कोई प्रभाव नही पडेगा|गुजरात के ठीक विपरीत उ. प्र की जनता सम्प्रादाईक सौहार्द से जीना चाहती है|बहजपा का अयोध्या मंदिर के निर्माण का पर्दा फाश हो चुका है|यह मुद्दा उनकी पार्टी के एजेंडा में तो है लेकिन जब सरकार बनाने की बात आती है तो सरकार के एजेंडा से यह मुद्दा गायब हो जाता है|इसके अलावा अमित शाह का पूरा कैरियर अपराधों से भरा हुआ है और अभी भी ये जमानत पर आये हुए हैं|उ प्र की जनता अपराधियों को कभी स्वीकार नहीकरेगी|इसीलिए अमित शाह के आने से भाजपा को ही नुक्सान होगा|
उ प्र में बिजली के लिए चलाये जा रहे आन्दोलनों के प्रति श्रीमती रीता ने बताया कि बिजल के मुद्दे पर प्रदेश भर में आन्दोलन चलाया जा रहा है गवर्नर महोदय को एक ज्ञापन भी दिया है|इस ज्ञापन के उत्तर कि प्रतीक्षा है उसके पश्चात आगे की कार्यवाही की जायेगी|
[फाइल फोटो]

चार प्रदेशों के उप चुनावों में कांग्रेस तो डूबी , उसके साथ सहानुभूति रखने वाले जे डी यु बसपा और लेफ्टिस्ट भी हारे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई

ओये झल्लेया देखा चार राज्यों में लोक सभा और विधान सभाओं के लिए हुए उपचुनावों में जनता ने केंद्र की भ्रष्ट सरकार के सभी उम्मीदवारों को नकार दिया है|[१]गुजरात में हसाड़े नरेन्द्र भाई मोदी ने दो लोक सभा और चार विधान सभाओं के चुनावों में कांग्रेस को करारी मात दे दी|
[२]उतर प्रदेश में कांग्रेस और बसपा की हंडिया खाली ही रह गई|और सपा वाले खीर खा गए
|[३]वेस्ट बंगाल में हावडा से लेफ्ट को धकेल कर ममता बेनर्जी ने झंडा फहरा दिया है|
[४]बिहार में हमारे से अलग होते जा रहे नितीश कुमार को महाराज गंज में लालू प्रसाद यादव ने रैंक बना दिया\ ओये अब तो मानता है न कि कंग्रेस गई और भाजपा आई आई आई

झल्ला

हाँ बाऊ जी दरअसल दो नावों सवारी करने वाले डूबते ही हैं|नितीश कुमार और बसपा दोनों ही कांग्रेस की झोली में बैठने का लोभ छोड़ नही पा रहे|इसीलिए अब खामियाजा तो भुगतना ही था|उत्तर प्रदेश में आप जी कि भी जमानत जब्त हुई है सो यहाँ काम करके दिखाना होगा|

नरेन्द्र मोदी ने समस्यायों के साथ उनके रोचक उपाय बता कर राष्ट्रीय न्रेतत्व की क्षमता का सराहनीय प्रदर्शन किया

गुजरात के मुख्य मंत्री नरेन्द्र मोदी ने राजधानी के होटल ताज में चल रहे इंडिया टुडे कॉनक्‍लेव में समस्यायों के साथ उनके हल बता कर अपनी राष्ट्रीय क्षमता का प्रदर्शन किया| अपने भाषण में मोदी चार बार पानी के घूँट भरते हुए हर एक मिनट को बांध कर रखा।उन्होंने इस कॉनक्‍लेव में पूर्व की भांति एक गुजराती या किसी वर्ग विशेष की तरह बात नहीं की बल्कि बतौर भारतीय भाषण दिया। हाँ उन्होंने गुजरात में कराये जा रहे विकास के कार्यों पर देश को चलाये जाने की इच्छा जरुर प्रगट की| उन्‍होंने कहा कि भारत को पड़ोसी देशों से मित्रवत रिश्‍ते बनाने की जरूरत है, लेकिन हमारे हितों को दरकिनार करके नहीं। उन्‍होंने कहा, “मेरा सपना है कि एक दिन भारत खुद हथियार बनाये और दूसरे देशों को सप्‍लाई करे। ऐसा करने से गंदे हथियार दलालों से छुटकारा मिलेगा,और हम आत्‍मनिर्भर भी होंगे, हमारा देश गर्व के साथ खड़ा हो[हथियारों कि यह बात उन्होंने पूर्व जनरल वी पी मालिक के एक प्रश्न के उत्तर में कही] लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आज फौज या आर्थिक शक्ति के बजाये ज्ञान के आधार पर विश्व में शिखर पर पहुंचा जा सकता है|और ज्ञान के मामले में भारत हमेशा आगे रहा है|इस अवसर पर दंगों और पी एम् के प्रश्नों पर बचते भी दिखाई दिए

नरेन्द्र मोदी ने समस्यायों के साथ उनके रोचक उपाय बता कर राष्ट्रीय न्रेतत्व की क्षमता का सराहनीय प्रदर्शन किया

नरेन्द्र मोदी ने समस्यायों के साथ उनके रोचक उपाय बता कर राष्ट्रीय न्रेतत्व की क्षमता का सराहनीय प्रदर्शन किया

उन्‍होंने गुड गवर्नेन्‍स से लेकर यूपीए सरकार की खामियों तक हर बात पर प्रकाश डाला और भारत के संघीय ढांचे को बनाये रखने पर जोर दिया। इस भाषण में आम आदमी को बहुत करीब से देखने वाले एक दूरदर्शी राजनीतिज्ञ की झलक मिली |जनता से संवाद कायम करने की अटल बिहारी वाजपई की झलक आज उनके [संभवत] उत्तराधिकारी मोदी में मिली |उन्होंने ना केवल विकास का मार्ग बताया वरन अपने भाषण में रोचकता बनाए रखने के लिए हलके फुल्के व्यंगात्मक तीर भी छोड़े| उन्‍होंने हर उस मुद्दे को उठया, जो आम जनता से जुड़े हैं| उन्‍होंने नरेगा की जगह डेवलपमेंट गारंटी स्‍कीम को जरुरी बताते हुए कहा कि इससे लोगों को खुद ब खुद रोजगार मिलता।
उन्‍होंने कहा कि देश का समुचित विकास तब तक नहीं हो सकता, जब तक हम लोगों को यह अहसास नहीं दिलायेंगे कि वो जो कर रहे हैं वो राष्‍ट्र के लिये कर रहे हैं।उन्होंने वोट बैंक की राजनीती से ऊपर उठ कर तकनीक+निज़ीकरण और यहाँ तक हथियारों के एक्सपोर्ट को जरुरी बताया| रेलवे की पटरियों पर निजी ट्रेन चलवाने के एक अनूठे मार्ग को उजागर किया| जब राहुल ने मोदी से पूछा कि क्‍या उनकी मां ने सोचा है कि आप प्रधानमंत्री बनें, मोदी ने जवाब दिया यहां चर्चा विकास की चल रही है, माता और पिता ऐसे में कोई मायने नहीं रखते| कोई भावुक्‍तापूर्ण कथा काम नहीं आती, कोई मां रोती नहीं, सिर्फ काम बोलता है। हर मुद्दे पर मोदी ने तथ्‍यों के साथ जवाब दिये। चाहे बात सॉलिड वेस्‍ट मैनेजमेंट की हो, या सोलर पावर प्रोजेक्‍ट की। मोदी ने आंकड़ों के साथ जवाब दिये। मोदी तैयारी के साथ नहीं आते, बल्कि वो हमेशा तैयार रहते हैं|उन्होंने अपने विपक्षपर कटाक्ष करने की परिपाटी का भी पालन किया |उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री ने मोदी के विकास के सुझाव स्वीकारे मगर उनपर अमल नहीं करवा पाए