Ad

Tag: Indian PM Narendra Modi

PM Modi’s Last “Mann Ki Baat” Of the Year on 26th December

(New Delhi) PM Modi’s “Mann Ki Baat” on 26th December

Prime Minister, Shri Narendra Modi has called citizens to share their views for Mann ki Baat which will take place on Sunday, 26th December 2021.

In a tweet, the Prime Minister said;

“I have been receiving several inputs for this month’s #MannKiBaat on the 26th, which will be the last one of 2021. The inputs cover so many different areas and celebrate the life journeys of several people working to bring grassroots level changes. Keep sharing your views.”

 

PM Modi Honoured With Bhutan’s Highest Civilian Award : Druk Gyalpo

(New Delhi)PM Modi Honoured With Bhutan’s Highest Civilian Award : Druk Gyalpo

PM  express grateful thanks to King of Bhutan

The King of Bhutan, His Majesty Jigme Khesar Namgyel Wangchuck, conferred its highest civilian award, the Order of the Druk Gyalpo, on Prime Minister, Shri Narendra Modi on the occasion of the country’s National Day. Shri Modi has expressed his gratitude to His Majesty the King of Bhutan 

In reply to a tweet by PM of Bhutan, the Prime Minister in a series of tweets said;

“Thank you, Lyonchhen @PMBhutan! I am deeply touched by this warm gesture, and express my grateful thanks to His Majesty the King of Bhutan.

I have been privileged to receive the utmost love and affection from our Bhutanese brother and sisters, and take this occasion to convey my greetings to all of them on the auspicious occasion of the National Day of Bhutan.

 

मोदीभापे !पीएमओ की घृणित औपचारिकता में 7 दशकों के पीड़ित तरस रहे हैं

विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस

दिल के फफोले

मोदीभापे !

सात बरस पहले सुना था इक मसीहा आया मुल्क का पीएम बन कर

पीएमओ की घृणित औपचारिकता में 7 दशकों के पीड़ित तरस रहे हैं

www..jamosnews.com

Rehabilitation Claim of Partition Horrors Victims

मोदीभापे !मुल्क में तंत्र के लिए ही अब लोक जिंदा है

विभाजन पश्चात विभीषिका की स्मृतियां

दिल के फफोले

मोदीभापे !

लोकतंत्र के जुमले से अब ‘लोक’ हटा लो,

मुल्क में तंत्र के लिए ही अब लोक जिंदा है

रिहैबिलिटेशन क्लेम

भारत के प्रधानमंत्री मोदी के नाम विभाजनपश्चात विभीषिका पीड़ित का खुला पत्र

Post Partition Horrors सेवा में
श्री नरेन्द्र भाई दामोदर दास मोदी
प्रधान मंत्री भारत सरकार
नई दिल्ली

विषय :भारत के प्रधानमंत्री मोदी के नाम विभाजन विभीषिका पीड़ित का खुला पत्र

आदरणीय
विभाजन विभीषिका स्मृतिदिवस की घोषणा के लिए कृपया विभाजन विभीषिका पीड़ित परिवारों का हृदय से प्रेषित धन्यवाद स्वीकार करें ।
विश्व की सबसे बड़ी विभीषिका के साढ़े सात दशकों पश्चात आपने हमारी पीड़ा को महसूस करके सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया।इसके लिए हम हृदय से आपका आभार मानते हैं।आपने ट्विटर और फिर लाल किले की प्राचीर और उसके पश्चात जलियांवाला बाग स्मारक के पुनरद्धार वर्चुअल समारोह में भी हमारी पीड़ा को शेयर किया।इससे हमारे दुखों के प्रति आपकी गंभीर प्रतिबद्धता साफ दिखाई देती है।
माननीय,
सर्व विदित है कि विश्व की इस सबसे बड़ी त्रासदी पर तत्कालिक अनेकों राजनीतिक और साहित्यक पुरोधाओं ने इतिहास से छेड़छाड़ की है जिसके फलस्वरूप हजारों पीड़ितों को उनके हक के रिहैबिलिटेशन/कम्पेनसेशन क्लेम तक लूट लिए गए। उनकी तीसरी पीढ़ी न्याय के लिए आज भी दर दर भटक रही है।मालूम हो कि तत्कालीन भारत सरकार द्वारा पाकिस्तान से evacuee प्रॉपर्टी के रूप में मुआवजा लिया जा चुका है लेकिन अमानती सरकार द्वारा उस मुआवजे को पीड़ितों तक नही पहुंचाया गया।

जाहिर है इसी कारण वर्तमान पीढ़ी तक विभाजन और उसके पश्चात की विभीषिका के   वास्तविक पृष्ठ इतिहास में नही आ पाए
आपसे कर बद्ध अनुरोध है कि विश्व के सबसे पढ़े त्रासद पलायन और उसके पश्चात मची सियासी लूट पर संसद में शवेत पत्र ला कर कृतार्थ करें धन्यवाद

जगमोहन सबलोक

(विभाजनविभिषिका पीड़ित परिवार का सदस्य)

PM Modi Opens His Treasure Of Gifts+Momentos For Auction

(New Delhi)PM Modi Opens His Treasure Of Gifts+Momentos For Auction 

The Prime Minister, of India Narendra Modi has called citizens to take part in the auction of gifts and mementos. He said that the proceeds would go to the Namami Gange initiative.

In a tweet, the Prime Minister said;

“Over time, I have received several gifts and mementos which are being auctioned. This includes the special mementos given by our Olympics heroes. Do take part in the auction. The proceeds would go to the Namami Gange initiative.”

मोदीभापे ! विभाजनविभिषिकास्मृतिदिवस सम्बंधित खुला e निवेदन

मोदीभापे ! विभाजनविभिषिकास्मृतिदिवस सम्बंधित खुला e निवेदन

निवेदन

आदरणीय श्री नरेन्द्रमोदी जी

प्रधानमंत्री भारत सरकार

नई दिल्ली

Claimसर्वप्रथम विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस की घोषणा के लिए धन्यवाद स्वीकार करें

आपने हमारे दर्द को महसूस किया उसे स्वीकार किया ,इसके लिए दिल से धन्यवाद

इस संदर्भ में निवेदन है कि अब हमें दशकों से लम्बित हमारे हक के अलॉटमेंट क्लेम दिलवा कर कृतार्थ करें ।इसके लिए 5 सितंबर 2005 को ब्लैक संशोधन एक्ट 38 को समाप्त किया जाए

विश्व की इस सबसे बड़ी दुःखद त्रासदी के हजारों पीड़ित आज भी अपने हक के कम्पेनसशन/रिहैबिलिटेशन क्लेम के लिए दर दर भटक रहे है।जबकि भारत सरकार द्वारा evacuee property के जरिये पाकिस्तान से वसूला जा चुका है राज्य सरकारों एवम अधिकारियों द्वारा केवल लटकाया,टरकाया,भटकाया  जा रहा है। इस कथन के समर्थन में कुछ पत्र ध्यानाकर्षण हेतु  संलग्न है

आपने काले माह अगस्त में राष्ट्र को  तीन  अवसरों पर सम्बोधित करके विभाजनविभिषिका पीड़ितों को कुछ राहत पहुंचाई

(1) ट्विटर

(2)लाल किले की प्राचीर

(3)जलियांवाला बाग का  वर्चुअल लोकार्पण

इन तीनो सम्बोधनों में आपने विभाजनविभिषिका की पीड़ा को सांझा किया।इससे आपकी हमारे कल्याण के प्रति प्रतिबद्धता साफ प्रगट होती है

वर्ष का यह आठवाँ महीना सोलह कला सम्पूर्ण श्री कृष्ण के जन्म  से विभोर कर रहा है ।आपका अमृतमहोत्सव भी जन कल्याणकारी हो रहा है।

इसीलिए आपसे करबद्ध निवेदन है कि इस अमृत महोत्सव में न्याय अमृत की चंद बूंदें विभाजनविभिषिका पीड़ितों को देकर कृतार्थ करें

कृपया

(1)देश  विभाजन से लम्बित हमारा रिहैबिलिटेशन/कम्पेनसशन/अलॉटमेंट क्लेम दिलवा कर हमारी दशकों की तृष्णा को तृप्ति प्रदान करें

(2)5 सितंबर 2005 के काले संशोधन( 38 )को समाप्त कराएं

(3)विभीषिका के पश्चात आज़ाद भारत मे दी गई evacuee property  लूट की आज़ादी को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए।

(!)Evacuee Property (!!)अलोटटेड (!!!)परंतु कब्जा नही दिए गए

आदि प्रॉपर्टी को  on line करवाएँ

(!!!!) रिहैबिलिटेशन / कम्पेनसशन सम्बंधित लम्बित मामलों के निबटारे को एक केंद्रीय संस्था का गठन हो

अपराध/गलती की स्वीकारोक्ति तो आपने कर ली अब इसके प्रायश्चिय स्वरूप कृपया

(A)भारत सरकार द्वारा 14 अगस्त 1947 के निर्णय के लिए क्षमा याचना पश्चाताप करे और संसद में श्वेत पत्र ला कर चर्चा कराएं

अपने दिल के इस फफोले के साथ

पुनः धन्यवाद

आपका

जगमोहन सबलोक

185 ग्लोबल सिटी गंगानगर

मेरठ उत्तरप्रदेश 250001

मोदीभापे

“भादों गरज रहा है,कान्हा भी चमक रहा है

तुम हो अमृतमहोत्सव में,पीड़ित तरस रहा है “

यूट्यूब लिंक

https://youtu.be/ZRJLEmI8Tvo

मोदीभापे !राखी धागों का त्यौहार,हक रक्षा दो उपहार

#मोदीभापे

#दिलकेफफोले

#राखी

कांटो पर चल रहा हूँ,फूलों की नही आस

अपना हक मांग रहा ,खैरात की नही चाह

भाग्य में लिखा मिलेगा,आएगा 1पालनहार

राखी धागों का त्यौहार,हक रक्षा दो उपहार

ModiBhape

Dil Ke Fafole

Rakhi

Kaanto par Chal Rahaa Hoon, Foolon Foolon Ki Nahi Aas

Apna Haq Maang Rahaa Khairat Ki Nahi Chaa

Bhaag Me Likha Milega, Aayega Paalanhaar

Rakhi Dhagon ka Tyohar,Haq Vachan Chahiye Uphaar

#www.jamosnews.com

#MoHA 35/33/2020/R&SO

#PMOPG/E/2016/0125052

#कम्पेनसशन/#रिहैबिलिटेशन/#अलॉटमेंट क्लेम की लूट

 

मोदीभापे !विभाजन विभीषिका को याद करके खुशी तो जरूर मिली होगी

#मोदीभापे !

दिलकेफफोले
#विभाजन विभीषिका को याद करके खुशी तो जरूर मिली होगी
हक के #रिहैबिलिटेशनक्लेम दो तो पीड़ितों को भी शांति मिले

ModiBhape

Vibhajan Vibhishika KoYaad Karke Khushi To Jarur Mili Hogi

Hak Ke Rehabilitation Claim Do To Piditon Ko Bhi Shanti Mile
#MoHA 35/33/2020/R&SO दिनांक 16/11/2020
#PMOPG/E/2016/0125052 दिनांक 4/2016
#RTIs

PM Modi Declares 14th August as Partition Horrors Remembrance Day

(New Delhi)PM Modi Declares 14th August as Partition Horrors Remembrance Day 

Government of India has decided to observe 14th August every year as the day

In a series of tweets, the Prime Minister, Narendra Modi made the solemn announcement.

The Prime Minister tweeted

Partition’s pains can never be forgotten. Millions of our sisters and brothers were displaced and many lost their lives due to mindless hate and violence. In memory of the struggles and sacrifices of our people, 14th August will be observed as Partition Horrors Remembrance Day.

May the #PartitionHorrorsRemembranceDay keep reminding us of the need to remove the poison of social divisions, disharmony and further strengthen the spirit of oneness, social harmony and human emp

India attained its freedom from British rule on 15th August, 1947. Independence Day, which is celebrated on 15th August every year, is a joyous and proud occasion for any nation; however, with the sweetness of freedom came also the trauma of partition.  The birth of the newly independent Indian nation was accompanied by violent pangs of partition that left permanent scars on millions of Indians.

The partition caused amongst the largest migrations in human history affecting about 20 million people. Millions of families had to abandon their ancestral villages/towns/cities and were forced to find a new life as refugees.  

While at the stroke of midnight of 14th-15th August, 2021, the entire nation will be celebrating the 75th Independence Day, the pain and violence of partition has remained deeply etched in the nation’s memory. While the country has moved on, to become the largest democracy and the third-largest economy of the world, the pain of partition suffered by the nation can never be forgotten.