Ad

Tag: LalooPrasadYadav

कैदी लालू से मुलाकत से पहले क्या राहुल के हाथ पर मोहर लगी थी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

औए झल्लेया! मोदी राज में ये क्या हो रहा है? हसाड़े राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी जी ने राजद सुप्रीमो श्रीमान आदरणीय लालू प्रसाद यादव जी से AIIMSअस्पताल में क्षणिक मुलाक़ात क्या कर ली ,इस मरकजी हुकूमत में भूंचाल आगया| बीमार लालू जी को वापिस रांची भेज दिया |औए ये तो जनसेवकों का सरासर अनादर है उनके साथ नाइंसाफी है

झल्ला

मेरे चतुर सुजान!क्यों हो रहे हो इतना हलकान| पहले ये आपके लालू जी AIIMS में आना नहीं कहते थे अब यहाँ से जाना नहीं चाहते | अरे इनकी लालटेन में काम हो रहे तेल की भरपाई के लिए राहुल गाँधी आने लग गए तो सरकार भी रोटी को चोची नहीं कहते | शुक्र मनाओ कैदी लालू से मुलाकात के लिए राहुल गाँधी को आज्ञा मिल गई वर्ना जेल के गेट पर ही मुलाकाती के हाथ में रबर की मोहर लगाईं जाती है| कैदी लालू से मुलाकत से पहले क्या राहुल के हाथ पर मोहर लगी थी ???

लालू अस्पताल में भर्ती,पर सहानुभूति नहीं, ,चौथे केस में भी अपराधी घोषित

[रांची,पटना,बिहार]लालू अस्पताल में भर्ती,पर सहानुभूति नहीं, ,चौथे केस में भी अपराधी घोषित लालू को अस्पताल में भर्ती होने पर भी सहानुभूति नहीं मिली ,चौथे केस में भी अपराधी घोषित
दुमका ट्रेज़री घोटाले में भी आज अदालत ने लालू यादव को दोषी घोषित किया गया है |रिम्स अस्पताल से अदालत परिसर में पहुंचे लालू स्वयं पैदल चल कर अदालत के समक्ष प्रस्तुत हुए और सजा सुनी जिसके पश्चात् उन्हें वापिस अस्पताल भेज दिया गया|चारा घोटाले के इस चौथे घोटाले में में यद्पि गुरु जगन्नाथ मिश्रा को बरी किया गया मगर उनके शिष्य बिहार के कद्दावर नेता लालू प्रसाद यादव को इस भ्र्ष्टाचार के केस में कोई राहत नहीं मिली |गाय चारा के नाम पर पिछले सदी के नौंवे दशक में बिहार में किये गए घोटाले में ३० अन्य भी दोषी हैं | RJDप्रमुख लालू प्रसाद यादव को ,एक अन्य केस में ,२०१३ में पांच साल की सजा मिली हुई है २०१७ में साढ़े तीन साल की सजा मिली हुई है |तीसरे चैबासा केस में पांच साल की सजा भी मिली हुई है |

नितीश सरकार ने पशुपालन निदेशालय की गुम हुई फाइलों को चिकित्सकों से सम्बंधित फाईले बताया

[पटना,बिहार]नितीश सरकार ने पशुपालन निदेशालय की गुम हुई फाइलों को चिकित्सकों से सम्बंधित फाईले बताते हुए कहा के गुम हुई फाइलें चारा घोटाले से सम्बंधित नहीं थी |निदेशालय के निदेशक राधे श्याम शाह ने यह जानकारी दी है |गौरतलब हे के निदेशालय की ५०० फाइलें गुम हुई है जिसकी एफ आई आर आज दर्ज कराइ गए|जिसके कारन आजसरकार की किरकिरी हुई

चारा घोटाले की ५०० फाइलों का सुराग नहीं,एफआईआर दर्ज

[पटना,बिहार] बिहार के पशुपालन विभाग में चारा घोटाले की गुम हुई ५०० फाइलों का नहीं लगा सुराग ,एफआईआर दर्ज
पशुपालन विभाग[ Bihar’s animal husbandry directorate] की गुम हुई ५०० फाइलों की चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है|
ये फाइलें करोड़ों रुपयों के चारा घोटाले से सम्बंधित बताई जा रही हैं |विभाग के अनुभाग अधिकारी सत्येंद्र कुमार द्वारा दायर एफ आई आर में बताया गया है के ये फाइलें १६ मई से गायब हैं|गौरतलब हे के वर्ष १९९६ में ९५० करोड़ रुपयों के चारा घोटाला उजागर हुआ था जिसमे तत्कालीन मुख्य मंत्री और वर्तमान सरकार में सहयोगी लालू प्रसाद यादव को जेल भी हुई|वर्तमान नितीश कुमार की सरकार भी लालू प्रसाद यादव के सहयोग से ही चल रही है

T

बाबा रामदेव ने अपने विरोधी रहे लालू का फेशियल किया और चॉकलेट भी खिलाई

[नई दिल्ली]योग गुरु बाबा रामदेव ने अपने विरोधी रहे लालू का फेशियल किया और चॉकलेट भी खिलाई |लालू अपने मुख्य मंत्रित्वकाल में बेशक बिहार की सडकों को सिनेतारिका सांसद हेमा मालिनी के गालों की तरह नहीं बना पाए परन्तु आज अपने स्वयं के चेहरे को हेमा जैसा बनाने के लिए पतंजलि उत्पाद के “पाश” में बंधे दिखाई दिए|लालू और बाबा की इस मुलाकात के पीछे राजनितिक समीकरण तो भविष्य के गर्भ में हैं लेकिन फिलहाल लालू प्रसाद यादव को पतंजलि का ब्रांड एम्बेसडर कहा जाने लगा है और बाबा के अनुसार वे लालू के दिल्ली स्थित निवास पर २१ जून के अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए निमंत्रण देने आये थे|लालू ने भी मीडिया के समक्ष बाबा की शान में कसीदे पढ़े
कहते हैं के राजनीती और व्यवसाय में कोई स्थाई दुश्मन नहीं होता सम्भवत इसी के फलस्वरूप आज बाबा रामदेव अपनी पतंजलि के उत्पादों की खेपलेकर लालू प्रसाद यादव के निवास पर पहुंचे और मीडिया के समक्ष लालू के चेहरे को गोल्ड क्रीम से चमकाया और पतंजलि की चॉकलेट भी खिलाई|जबकि पूर्व में बाबा रामदेव लालू को कृष्ण के बजाय कंस के वंशज बता चुके हैं

बच गए !हां हां हा !अरविन्द+अमित+लालू तीनों बच गए

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

चिंतित आम नागरिक

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है?ओये आम आदमी के अच्छे दिन तो अभी आये नहीं और ये पॉलिटीशियनों की रोजाना अंधी लग रही है |वोटरों को रिशवत लेने को उकसाने वाले “आप” के सर्वेसर्वा अरविन्द केजरीवाल+हैट स्पीच देने वाले भाजपा के दुबारा अध्यक्ष बनने जा रहे अमित शाह +बिहार सत्ता में भागीदार [चारा प्रसिद्द]लालू प्रसाद यादवको विभिन्न अदालतों ने क्लीन चिट देदी और हसाडे जैसे दुखी सेवी भावना अरोड़ा को भ्रष्ट सीएम पर CNG फ्रॉड के विरोध में स्याही फेंकने के अपराध में जेल हो गई |ओये ये कैसे अच्छे दिन आ रहे हैं?

झल्ला

बच गए !हां हां हा !अरविन्द+अमित+लालू तीनों बच गए

अरविन्द केजरीवाल आखिरकार”चारा फेम”लालू की प्यार की झप्पी में आ ही गए

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

आम आदमी पार्टी चेयर लीडर

ओये झल्लेया ए क्या ष्टराग मचा हुआ है?ओये हसाडे मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल जी को बिहारी लालू प्रसाद यादव ने जफ्फी क्या पाली ये सारे के सारे उनके पीछे ही पढ़ गए हैं |ओये आज केजरीवाल जी ने भी स्पष्ट कर दिया है के उन्होंने भ्रष्ट लालू को जफ्फी नहीं डाली बल्कि लालू ने खुद ही स्टेज पर आगे बढ़ कर केजरीवाल जी को गले लगाया था|

झल्ला

ओ मेरे भोले भापा जी आप जी के सारे विरोधी और समर्थक यही तो कह रहे हैं के आपजी के केजरीवाल जी भ्रष्ट लालू प्रसाद यादव के गले मिल गए+जफ्फी पा ली +उनकी झोली में जाने के लिए बिहारी मंच पर चले ही गए +आखिरकार”चारा फेम”लालू की प्यार की झप्पी में आ ही गए

बिहार में जाकर लालू के गले मिलने को योगेन्द्र यादव ने शर्मनाक बताया

[नयी दिल्ली]बिहार में जाकर केजरीवाल द्वारा लालू के गले मिलने को योगेन्द्र यादव ने शर्मनाक बताया
लालू से गले मिलने को लेकर केजरीवाल पर निशानों की बौछार लग रही है उनके अपने निकट सहयोगी रहे योगेन्द्र यादव ने भी इसे शर्मनाक बताया है
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान राजद प्रमुख लालू प्रसाद से गले मिलने को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आज उनके पूर्व सहयोगी योगेंद्र यादव ने इसे ‘शर्मनाक’ कार्य करार दिया।
आम आदमी पार्टी से निष्कासित किए गए यादव ने कहा कि यह महज गले मिलना नहीं था, बल्कि भाजपा के खिलाफ समूह बनाने के लिए आदर्शों की तिलांजलि दे दी गई है ।
यादव ने फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘आंदोलन की राजनीतिक पूंजी को राजनीतिक भ्रष्टाचार के प्रतीकों को बेच दिया गया। शर्मिंदा।’’
उन्होंने कहा, ‘‘यही तर्क कांग्रेस के समर्थक लोकपाल आंदोलन के समय दिया करते थे। वे कहेंगे कि वे :कांग्रेस: भ्रष्ट हैं, लेकिन लोकपाल आंदोलन का समर्थन नहीं करना चाहिए था क्योंकि इससे भाजपा को मदद मिलेगी। केजरीवाल ने इसी तर्क का इस्तेमाल किया, लेकिन उन लोगों को शर्मिंदा किया जिन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रयास किया।’’
लोजपा नेता चिराग पासवान ने कहा, ‘‘आप लालूजी को संदेह का लाभ नहीं दे सकते क्योंकि वह भ्रष्टाचार के मामले में दोषी करार दिए गए। केजरीवाल भ्रष्टाचार निरोधक रूख के लिए जाने जाते हैं और उनका लालू जी से गले मिलना इसका संकेत है कि उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई रोक दी है।’’ भाजपा के संबित पात्रा ने केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि आप प्रमुख कभी लालू को सबसे भ्रष्ट नेता करार दिया करते थे।

Lalu’s Elder Son Fumbled Twice While Taking Oath For Health Minister

[Patna,Bihar]Lalu’s Elder Son Fumbles While Taking Oath For Health Minister
RJD chief Lalu Prasad’s son Tej Pratap Yadav fumbled twice as the first time MLA while taking oath as a minister in Nitish Kumar government in Bihar today, prompting Governor Ram Nath Kovind to correct him.
Yadav (25) uttered the word ‘upekshit’ उपेक्षित (neglect) instead of ‘अपेक्षित ‘ apekshit (expectation), virtually turning around the meaning of the sentence.
The Governor pointed this out and asked Tej Pratap, older of Prasad’s two sons, to take the oath again.
In his second attempt, he said ‘jab’ जब (when) instead of ‘tab’ तब (then) and Kovind corrected him again.
The intermediate, equivalent to Class XII, pass out took his oath in Hindi like Kumar and all 28 members of his cabinet.
Tej Pratap has been given the portfolio of Health.
Among 28 ministers, there were only two women with one each coming from RJD and JD(U).

पीएम ने सीएम नितीश को अक्षम बतायाऔर उनके गठबंधन पर सवालाख करोड़ रुपयों के पैकेज का”आरा”चलाया

[आरा,बिहार,नई दिल्ली]पीएम ने सीएम नितीश को अक्षम बतायाऔर उनके गठबंधन में सवालाख करोड़ रुपयों के पैकेज का”आरा”चलाया पीएम ने सवालाख करोड़ के पैकेज के साथ जेडी[यूं]+आरजेडी+कांग्रेस गठबंधन की जड़ों में आरा चलाया|आत हजार करोड़ रुपयों का पैकेज खर्च न कर पाने वाली सरकार में सवालाख करोड़ के खर्च करने की क़ाबलियत पर प्रश्न चिन्ह लगाये| इसके अलावा उन्होंने नव नियुक्त राज्यपाल [R. N. Kovind ]आर एन .कोविन्द की प्रशंसा करते हुए लालू और नितीश के मंडल कार्ड को काटा और दलित+पिछड़े+अति पिछड़े+वंचितों को लुभाया
पीएम नरेंद्र मोदी ने आज सवा लाख करोड़ रुपयों के पैकेज के साथ जे डी [यूं]+आरजे डी+कांग्रेस गठबंधन की राजनीतिक जड़ों में आरा चलाया
आरा में अनेक सरकारी सड़क योजनाओं का उद्घाटन करने पहुंचे पीएम ने बिहार के विकास के लिए विशेष पैकेज की घोषणा की उन्होंने बताया कि सवालाख करोड़ के अतिरिक्त वर्तमान में स्वीकृत ४० हजार करोड़ की योजनाओं को मिला कर कुल पैकेज १.६५ लाख करोड़ रुपयों का होगा |
इससे पूर्व प्रधान मंत्री मोदी ने बिहार के सीएम नितीश कुमार[जे डी यूं] उनके सहयोगी लालू प्रसाद यादव[आर जे डी] और कांग्रेस कि सरकारों को अक्षम साबित करने में कोई कसर नही छोड़ी |उन्होंने बताया कि बिहार से झारखंड के अलग होने पर अटल बिहारी वजपि सरकार द्वारा दिए गए १०,००० करोड़ के पैकेज में से
एक हजार करोड़ अभी तक खर्च नही किये गए इसके अलावा २०१३ में मिले बारह हजार करोड़ के पैकेज में से ८ हजार करोड़ तिजौरी में बंद हैं | यूंऐई की सफल यात्रा से उत्साह में लौटे पीएम मोदी ने इन आकड़ों के बहाने प्रदेश सरकार के न्रेतत्व की क्षमता पर एक के बाद एक अनेकों प्रश्न चिन्ह लगाये |
पीएम ने इस अवसर पर सी एम नितीश कुमार के आरोपों के जवाब में तीखे कटाक्ष भी किये|उन्होंने कहा कि उन्होंने बिहार को बीमारू राज्य कह दिया था तो उनके बाल नोँच डाले गए |अब सीएम साहब कह रहे हैं कि बिहार बीमारू राज्य नही रहा |इस पर पीएम ने ख़ुशी व्यक्त की और व्यंग करते हुए कहाकि चलो अच्छा हे कि बिहार अब बीमारू राज्य नही रहा तो फिर केंद्र से आये दिन एक से एक नए पैकेज की दवाइयाँ क्यूँ मांगी जा रही है |
पीएमओ के अनुसार इस पैकेज में बिहार के विकास के लिए रोड, रेल, वायुमार्ग, जलमार्ग तथा डिजिटल कनेक्टिविटी पर विशेष ध्यान दिया गया है। कनेक्टिविटी स्थापित करने से बिहार में इंडस्ट्रीज को बढ़ावा मिलेगा जोकि यहां के युवा वर्ग को रोज़गार उपलब्ध कराने में तथा किसानों को उनके उत्पाद का अधिक मूल्य दिलाने में काफी उपयोगी साबित होगा। राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास, महत्वपूर्ण नदियों पर पुल का काम तथा रेलवे ओवरब्रिज के निर्माण के लिये 54,713 करोड़ रु. का प्रावधान किया गया है। इसके अंतर्गत महात्मा गांधी सेतु के समानांतर गंगा नदी पर एक नए पुल का निर्माण, कोसी ओर सोन नदी के ऊपर पुल का निर्माण, धार्मिक पर्यटन से जुड़े क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण और रेलवे ओवरब्रिजेज का निर्माण शामिल है।
अनाज भंडारण क्षमता में विकास के लिए 814 करोड़ रु. का प्रावधान किया गया है तथा ग्रामीण सड़क के विकास के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 22,500 किलोमीटर सड़क के निर्माण हेतु 13,820 करोड़ रु. का प्रावधान किया गया है।
रेलवे सेवा को और तीव्र और बेहतर बनाने के लिए रेलवे दोहरीकरण/तिहरीकरण और विद्युतीकरण पर बल दिया गया है। 8109 करोड़ रु. की लागत पर 676 किलोमीटर का दोहरीकरण/तिहरीकरण की व्यवस्था किए जाने का प्रावधान है तथा 761 करोड़ रु. की लागत पर 574 किलोमीटर के विद्युतीकरण का प्रावधान किया गया है। इस तरह रेलवे के क्षेत्र में कुल 8870 करोड़ रु. का प्रावधान इस पैकेज में किया गया है। मोकामा में गंगा नदी के ऊपर रेल व रोड पुल के निर्माण के लिए प्रारंभिक कार्य आरंभ कर दिया गया है।
बिहार राज्य के विभिन्न क्षेत्रों को वायुमार्ग से देश और विदेश से जोड़ने हेतु पटना में नये एयरपोर्ट तथा गया, पूर्णिया और रक्सौल के एयरपोर्टों के विकास के लिए 2700 करोड़ रु. की राशि का प्रावधान किया गया है। डिजिटल बिहार कार्यक्रम के अन्तर्गत मोबाइल फोन की उत्तम सुविधा के लिए 1,000 नए बीटीएस टॉवर्स को स्थापित करने का प्रावधान है। इससे दूर के क्षेत्रों में जहाँ मोबाइल फोन की सुविधा नहीं है, वहाँ इस सुविधा में मदद मिलेगी। राज्य में इलेक्ट्रानिक मैन्यूफैक्चर कलस्टर की स्थापना के लिए 150 करोड़ रु. की सब्सिडी का प्रावधान किया गया है।
दरभंगा और भागलपुर में साफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क के दो केन्द्रों की स्थापना का प्रावधान है। दो नए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इलैक्ट्रोनिक्स ऐंड इन्फारमेशन टेक्नोलॉजी केन्द्र मुजफ्फरपुर और बक्सर में स्थापित करने का भी प्रावधान है। इसके साथ-साथ पटना के वर्तमान केन्द्र के विकास का भी प्रावधान है। ग्रामीण BPO को बढ़ावा देने का प्रावधान इस पैकेज में किया गया है। कनेक्टिविटी के ये सारे कार्यक्रम बिहार राज्य को विकास की दौड़ में लाने के लिए एक ट्रैक-फील्ड का काम करेंगे।
इस पैकेज के द्वारा बिहार के किसानों की एक और व्यापक समस्या जोकि उत्पादकता का कम होना है, के समाधान हेतु भी ध्यान दिया गया है। नए अनुसंधान और विकास तथा लैब टू फार्म को बढ़ावा देने के लिए राजेन्द्र प्रसाद कृषि विश्वविद्यालय पूसा को केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय में परिवर्तित करने का प्रावधान है। मत्स्य पालन, पानी के सही प्रबंधन, खेती के यांत्रिकीकरण, और गुणवत्ता वाले बीजों के उत्पादन के द्वारा किसानों की आय को बढ़ाने के लिए 1800 करोड़ रु. का प्रावधान किया गया है। एकीकृत कृषि पर शोध के लिए राष्ट्रीय संस्था का प्रावधान किया गया है।
युवा वर्ग को शिक्षा और स्किल
युवा वर्ग की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए “प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना” के अंतर्गत एक लाख युवक-युवतियों के प्रशिक्षण का प्रावधान किया गया है। बिहार राज्य में एक बड़े स्किल विश्वविद्यालय की स्थापना का भी प्रावधान है जिसकी कुल लागत 1,250 करोड़ रुपये होगी। शिक्षा के क्षेत्र में भागलपुर के निकट ऐतिहासिक विक्रमशिला विश्वविद्यालय की जगह एक नए केन्द्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए 500 करोड़ रुपये का प्रावधान है। साथ ही साथ बोध गया में एक नए इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM) की स्थापना का भी प्रावधान है। ट्रैक फील्ड के निर्माण के साथ-साथ सहभागियों को उत्तम दर्जे की शिक्षा एवं प्रशिक्षण दिये जाने के बाद प्रतिस्पर्धा को आरंभ कर लंबे समय तक कार्यान्वित करने के लिए राज्य को ऊर्जा की आवश्यकता होगी।
बिहार के लोगों को बिजली की व्यवस्था
इस पैकेज में ऊर्जा का उत्पादन, ट्रांसमीशन और वितरण की व्यवस्था पर काफी बल दिया गया है। बक्सर में 1300 मेगावाट के नए बिजली उत्पादन केन्द्र का प्रस्ताव है।
गाँव में बिजली – बेहतर जीवन की सुविधा
इसके साथ-साथ गाँव-गाँव में बिजली की व्यवस्था पहुंचाने के लिए दीन दयाल उपाध्याय ग्राम विद्युत योजना में राज्य के लिए 5,880 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। इस योजना का उद्देश्य खेतों में पर्याप्त और घरों में निरंतर बिजली देने का है। हर गांव में दो अलग-अलग लाइनों की व्यवस्था की जाएगी। Integrated Power Development Scheme के अंतर्गत शहरों में निरंतर बिजली देने का प्रावधान किया गया है। इस स्कीम के अन्तर्गत 250 करोड़ रुपये का प्रावधान राज्य के लिए किया गया है।
महिलाओं को बेहतर ईंधन की सुविधा
गैस की आपूर्ति के लिए जगदीशपुर-हल्दिया लाइन के लिए 2,300 करोड़ रुपये की लागत से 617 कि.मी. की पाइप-लाइन बनाने का प्रावधान किया गया है। पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर पाइप-लाइन का बिहार में विस्तार करने के लिए 1,800 करोड़ रुपये का प्रावधान है। मुजफ्फरपुर में 110 करोड़ रुपये की लागत से एक नए एलपीजी प्लाँट की स्थापना की जाएगी। बिहार राज्य में स्थित बरौनी रिफाइनरी की उत्पादन क्षमता को 12,000 करोड़ रुपये की लागत से 6 मिलियन टन से 9 मिलियन टन तक बढ़ाने का प्रावधान इस पैकेज में है तथा बरौनी में ही एक पेट्रोकेमिकल प्लांट की स्थापना का प्रावधान है। रक्सौल से नेपाल में अमलेसगंज तक पेट्रोल-डीजल पाइपलाइन का निर्माण किया जाएगा।
स्वास्थ्य की सुविधा
पटना, गया और भागलपुर के तीन चिकित्सा महाविद्यालयों को बेहतर बनाने के लिए 600 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।
पर्यटन में रोजगार के अवसर
बिहार के युवा वर्ग को रोजगार के नए अवसर प्रदान करने हेतु पर्यटन के क्षेत्र में 600 करोड़ रुपये की लागत से वैशाली, बोध गया, चम्पारण, विक्रमशिला, सुल्तानगंज, पटना इत्यादि जगहों पर हैरिटेज टूरिस्ट सर्किल के विकास का प्रावधान किया गया है।
औद्योगिक निवेश से रोजगार – युवा वर्ग को स्वावलम्ब बनाने की प्रक्रिया
राज्य के युवा वर्ग को रोजगार देने के लिए राज्य में अधिक से अधिक औद्योगिक यूनिट्स की स्थापना हो, यह सरकार का लक्ष्य है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए इनकम टैक्स एक्ट में संशोधन कर बिहार के पिछड़े क्षेत्रों में नए उद्योग स्थापित करने हेतु प्लांट और मशीनरी की लागत में 15% की राशि के बराबर टैक्स में अतिरिक्त कटौती का प्रावधान किया गया है। यह कटौती 1 अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2020 तक की अवधि के बीच हुए निवेश पर लागू होगी।
इसके साथ ही साथ नए प्लांट और मशीनरी में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए भी 1 अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2020 तक की अवधि के बीच पिछड़े क्षेत्रों में निवेश की 15% अतिरिक्त राशि डेप्रिसिएशन अलाउंस के तौर पर पहले वर्ष में दी जाएगी।
बिहार राज्य की ऊर्जा की जरूरतों को देखते हुए निजी क्षेत्र को भी ऊर्जा उत्पादन के क्षेत्र में भागीदार बनाया जा रहा है। बाँका में 4,000 मेगावाट का एक अल्ट्रा मेगा पॉवर प्लांट(Ultra Mega Power Plant) निजी क्षेत्र की भागीदारी के साथ 20,000 करोड़ रु. की लागत पर प्रस्तावित है।
वर्ष 2013 में 12,000 करोड़ रु. की लागत से बिहार के लिए एक स्पेशल प्लान की घोषणा की गई थी। सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों से इन कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में अब तीव्रता लाई गई है। बचे हुए कार्यक्रमों को 8,282 करोड़ रुपये की धनराशि मुहैया कराकर पूरा किया जाएगा।
फोटो कैप्शन
The Prime Minister, Shri Narendra Modi unveiling the plaques for the inauguration of skill training centers, at Ara, in Bihar on August 18, 2015.
The Governor of Bihar, Shri Ram Nath Kovind and the Union Ministers are also seen.