Ad

Tag: NewSatire

ईवीएम के नतीजों के वीवीपैट -पर्ची से ५०% मिलान से तो कई चरणों में चुनाव होंगे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चेयर लीडर

औए झल्लेया! अब ईवीएम पर हसाडी बात का समर्थन करने के लिए २१ दल एक जुट हो गए हैं | इन सभी २१ दलों ने ई वीएम के ५०% मतों का मिलान वोटर्स वेरिफाइड पेपर्स ट्रेल [वी वी पैट -पर्ची ] से कराये जाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दल दल मचा दी है और माननीय कोर्ट ने भी चुनाव आयोग से जवाब तलब कर लिया है |मोदी की मोदी गिरी को भी अब देख लेंगे|

झल्ला

मेरे चतुर सुजान जी! अभी कुछ चरणों में चुनाव कराये जाने को लेकर आपलोगों ने चिल्पों मचानी शुरू करदी | अगर आपकी गल मान ली गई तो कई चरणों में चुनाव होंगे और उससे आपलोगों को ज्यादा कष्ट होगा

केजरीवाल साहब! कौन से खेत का #खरबूजा खाते हो ???[व्यंग]

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

आम आदमी पार्टी चेयर लीडर

औए झल्लेया! देखा हमारे अरविन्द केजरीवाल साहिब का कमाल!
कांग्रेस समझौते की टेबल पर आ ही गई| अब हमने दिल्ली में लोक सभा की सभी सातें सीटें जीत लेनी है

झल्ला

साहब जी पहले ये बताओ के कौन से खेत का खरबूजा खाते हो ???

बालाकोट को नकारने वाले ग्रुप ने भारत+पाक मीडिया को शामिल क्यों नहीं किया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्ला

कांग्रेसी पंगेबाज लीडर

औए झल्लेया! ये क्या हो रहा है|औए ये मोदी सरकार अब आतंकवाद के नाम पर वोटें बटोरने में लग गई है | बालाकोट एयर स्ट्राइक में ३०० आतंकवादियों के मारे जाने का दावा करके वाहवाही लूटने का कुप्रयास हो रहा है |
वाशिंटन पोस्ट + न्यूयॉर्क टाइम्स + गार्जियन +राइटर्स +टेलेग्राफ्स के साथ ही लन्दन की इनफार्मेशन ग्रुप जैसे अंतराष्ट्रीय मीडिया ने भी मोदी के एयर स्ट्राइक के दावों को नकार दिया है|

झल्ला

कथित अंतराष्ट्रीय मीडिया के इस ग्रुप ने भारतीय +पाकिस्तानी मीडिया घरानों को शामिल क्यों नहीं किया

चुनावी मौसम आया ! नोबल पुरूस्कार लौटाने की नींव तैयार-व्यंग

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कथित बुद्धिजीवी

औए झल्लेया !ये क्या हो रहा है?भारत और पकिस्तान में लगातार तनाव बढ़ता ही जा रहा है! इस तनाव को कम कराने के लिए “लॉरेट्स एडं लीडर्स फॉर चिल्ड्रेन्स” नामक एक प्लेटफॉर्म के तत्वाधान में नोबल विजेताओं ने एक पत्र पर हस्ताक्षर करके अपील भी कर दी है|ये अपील संयुक्त राष्ट्र में की गई है|

 IndoPakTension

IndoPakTension


झल्ला

भापा जी !चुनावी मौसम आ पहुंचा! लगता है कहीं नोबल पुरूस्कार वापिसी अभियान की नीव रखने की शुरुआत तो नहीं हो रही

योगी जी!आपके कोष से बरस रही आर्थिक सहायता लेकिन मेरठ में सूखा [व्यंग]

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया! देखा ! हसाड़े योगी मुख्य मंत्री ने इस महीने भी विभिन्न रोगों से पीड़ित 75 लोगों को 95 लाख 32 हजार रु0 की आर्थिक सहायता प्रदान की है

झल्ला

योगी जी!आपके कोष से बरस रही आर्थिक सहायता लेकिन मेरठ में सूखा [व्यंग]
मेरे चतुर सेठ जी!बेशक आपजी के मुख्यमंत्री जी प्रत्येक माह ये सहायता बाँट रहे हैं लेकिन पश्चिमी यूपी विशेषकर मेरठ में तो सूखा ही नजर आ रहा है

राजस्थान में सुशासनार्थ “कलम” पर पकड़ जरुरी है [व्यंग]

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

राजस्थानी चेयर लीडर

औए झल्लेया! मुबारकां!!औए हसाड़े पर्यटन मंत्री, विश्वेन्द्र सिंह ने पिंक सिटी प्रेस क्लब के सदस्यों लिए टॉप क्लास की टूरिज्म सुविधाओं को सुनिश्चित किया गया है
अब 40 पत्रकारों को (20 पत्रकार प्रति छह माह में) मय परिवार एक दिवस के लिए राजस्थान पर्यटन विकास निगम की होटलों में एक रात्रि आवास व भोजन राजस्थान पर्यटन के अतिथि के रूप में उपलब्ध करवाया जावेगा। भ्रमण उपरान्त पत्रकारों से सुझाव व प्रतिक्रियाएं आमंत्रित कर पर्यटन का प्रचार-प्रसार किया जायेगा।

झल्ला

मेरे चतुर सुजान जी !सुशासन दिखाने के लिए कलम को भी काबू रखना जरुरी है

देशद्रोह की परिभाषा तय करने के लिए केजरीवाल ने भी चुनावी मौसम पर ही नजरें गढ़ाई

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

आम आदमी पार्टी चेयर लीडर

औए झल्लेया! ये तो सरासर अलोकतांत्रिक है
देख तो! चुनावी फायदे के लिए कन्हैया कुमार के खिलाफ देश द्रोह की चार्जशीट दायर कर दी गई है |क्या ऐसे चुनाव जीते जाते है?

झल्ला

मेरे चतुर साहिब जी! आप भी तो देश द्रोह की परिभाषा तय करने के लिए चुनावी मौसम पर ही नजरें गढ़ाए हुए हो

‘लाल किताब’ को दफ़नाने के लिए “ममता” ने क्रूरता अपनाई

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

चिंतित बुद्धिजीवी

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है? अपने ही सोनार बंगाल में प्रदेश सरकार भ्र्ष्टाचारी अधिकारी को बचाने के लिए सडकों पर उत्तर आई है|औए ये लोक तंत्र के कथित रक्षक संवैधानिक संस्थाओं को तोड़ने पर तुले हुए हैं||बंगाल की सडकों को जाम करने के पश्चात टीएमसी के सांसदों ने लोक सभा और राज्य सभा कोभी स्थगित करवा दिया

झल्ला

सर जी ! बेशक बंगाल में फिलहाल लालरंग के पूजकों की सरकार नहीं है लेकिन बुद्धिजीविओं के प्रदेश में लाल रंग का महत्व अभी कम नहीं हुआ है| इसीलिए एक किताब जिसका रंग लाल बताया जा रहा है उसी को ही दफनाने के लिए मुख्य मंत्री ममता ने क्रूरता अपना ली है क्योंकि गरीबों का पैसा हड़पने वाली सारदा चिटफंड के करप्शन से जुडी किताब[लाल] खुल गई तो sabhi राज भी खुल जाएंगे और ममता के गरीबी हितकारी नारों की पोल खुल जाएगी |

मोदी भापे! बजट में जब हसाड़ा कुछ नहीं तो फिर हसानू कि ??????????

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया ये कांग्रेसियों ने क्या मखौल बनाया हुआ है? औए हसाड़े सोणे पीएम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी ने इतना बढ़िया सर्व सुख हिताय बजट पेश किया और राष्ट्रीय कांग्रेसियों के तो समझ ही नहीं आ रहा|इनके सीएम भी इसे जुमला बजट बता कर अपनी नग्न विवेकहीनता का परिचय दे रहे हैं |

झल्ला

मेरे चतुर सेठ जी!
पुराने सयानों का अखांण है !हसाड़ा कि ? जब हसाड़ा कुछ नहीं तो
हसानू कि ??????????

हर हर गंगे+नहीं रहे गंदे+सभी हुए चँगे+डटे रहो नंगें

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई उत्तेजित चेयर लीडर

औए झल्लेया ! ये कांग्रेसी तो अब हसाड़े धर्म आस्था पर भी कुठाराघात करने लग गए |देख तो ये शशि थरूर ने क्या अपमानजनक ट्वीट कर दिया |
“गंगा भी स्वच्छ रखनी है
और पाप भी यहीं धोने हैं।
इस संगम में सब नंगे हैं!
जय गंगा मैया की!”

झल्ला

हर हर गंगे
नहीं रहे गंदे
सभी हुए चँगे
डटे रहो नंगें