Ad

Tag: Political Satire

हैल्थ आईडी के साथ हैल्थ इन्सुरेंस भी दीजिये (व्यंग)

                                                  झल्ली  गल्लां 

भजपाई चेयरलीडर

ओए झल्लेया! वोह मारा पापड़ वाले को!

ओए हसाडे ऐतिहासिक प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी ने एक और रिकॉर्ड उपलब्धि हासिल कर ली।अब जनता को हेल्थ आई डी कार्ड भी मिलने लगेगा।अब किसी को फाइलें उठा कर डॉक्टरों के यहां जांच पे जांच के लिए चक्कर नही लगाने होंगे।अब तो मोबाइल/लैपटॉप पर एक क्लिक से स्वास्थ्य पहचान पत्र से सारी हैल्थ हिस्ट्री खुल कर सामने आ जायेगी

झल्ला

मेरे भोले सेठ जी!हैल्थ आई डी के साथ हैल्थ इन्सुरेंस भी दीजिये

बेशक 2022 में यह एआप लोगों के लिए मास्टर स्ट्रोक का काम कर सकेगा लेकिन इस एप्प /वेबसाइट पर जितना खर्च होगा लगभग उतना ही और खर्च करके सबको दुर्घटना+जीवन बीमा की तर्ज पर स्वास्थ्य बीमा भी दिया जा सकता है।अब देखो लगभग ₹ 900 करोड़  बुक करके लगभग 2 करोड़ लोगों  को आयुष्मान कार्ड से सहायता दे चुके हो। आपके  एल्डर हेल्प जैसे कॉल सेंटर हैल्थ सम्बन्धी जानकारी जुटाने भी लग गए है।अब गुणा भाग करके देख लो इतने में हैल्थ  इन्सुरेंस भी दिया जा सकता है।

 

पँजांब की सियासत में सिद्धू असफल और राहुल+चन्नी सफल सियासतदां (व्यंग)

                                              झल्लीगल्लां

पंजाबीचिंतक

ओए झल्लेया!आज हसाडे सोने पँजांब की पृष्ठभूमि पर नाकाम सियासतदां और मुक़म्मल सियासतदां में फर्क समझा ।

झल्ला

भापा जी!पँजांब की सियासत में सिद्धू असफल और राहुल+चन्नी सफल सियासतदां (व्यंग)

नाकाम सियासतदां समझो लाफिंग जट्ट नवजोत सिंह सिद्धू।प्रदेश में सबसे लोक प्रिय+सबसे कर्मठ+ईमानदार लेकिन इनसे  पहले मंत्रिपद गया । अब सीएम की कुर्सी मिलते मिलते हाथों से खिसक गई।अब बेचारे ओनली सीएम के संलग्नक बने घूम रहे हैं

और मुकम्मल बोले तो आज की राजनीति में  सफल सियासतदां समझो तो चरणजीत सिंह चन्नी

निर्दलीय विधायक कांग्रेस में लौटे और  दो जट्टों की लड़ाई में मलाई दलित की थाली में आ गिरी।वैसे यहां एक और कहावत चरितार्थ होती है ।बोले तो पंजाबी बिल्लियों की लड़ाई में दिल्ली के बंदर मामा ने अपनी बिसात बिछा ली ।इसीलिएझोट्टों की लड़ाई में झुंडों का तो जो हुआ सो हुआ मगर  सबसे सफल  तो दिल्ली वाले ही हुए

सीएम चन्नी ने पँजांब में पुरानी कहावत को झुठलाया

झल्लीगल्लां

कांग्रेसीचेयरलीडर

ओए झल्लेया! मुबारकां!

ओए महाराजा पटियाला अमरिन्दर सिंह जी ने जो भसूड़ी पाई थी उसमें से पँजांब कांग्रेस बाहर निकल आई ।श्रीमती सोनिया गांधी+राहुल गांधी+हरीशरावत+नवजोतसिंहसिद्धू के अथक प्रयास और सूझबूझ से ना केवल संकट टल गया बल्कि पार्टी और मजबूत बन गई है। दलित चरणजीतसिंह चन्नी को सर्वसम्मति से  मुख्यमंत्री बना कर भजपा+बसपा+एसएडी को  सकते में डाल दिया।अब 2022 में भी हसाडी ही सरकार लौट के आएगी

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाणा !वाकई पुरानी सारी कहावतें+मान्यताएं+परम्पराएं धाराशाई हो गई।

सुनते आये थे  कि नालायक बच्चे का बस्ता भारी होता है लेकिन पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत  चन्नी ने इस कहावत को भी फिलहाल तो झु टला दिया

अरे भाई ५८ वर्षीय चन्नी साहब गरीब दलित परिवार से हैं लेकिन इनके बस्ते में

डिग्री इन लॉ

बिज़नेस प्रबंध और

पोलिटिकल साइंस की डिग्रियां है। इन सब से ऊपर दलित कार्ड और कांग्रेस हाईकमांड का हाथ है

 

कैप्टेन ने कप्तानी ही छोड़ी है अभी सियासी तलवार नही टांगी (व्यंग)

                                                  झल्लीगल्लां

कांग्रेसीचेयरलीडर 

ओए झल्लेया! हसाडी हाईकमान ने हथेली पर सरसों उगा के दिखा दी।ओए बगावती तेवर दिखा रहे कैप्टेन अमरिन्दर सिंह के नीचे से मुख्यमंत्री की कुर्सी खींच ली।अब तो 2022 को होने जा रहे चुनांवों में लगने जा रहे अनहोनी के ग्रहण से मुक्ति मिल जानी है।नया चेहरा ! नया चुनाव !! नई जीत

झल्ला

चतुर सुजाणा!बेशक एआप लोगों ने नवजोत के लिए इस पुरानी जोत को बुझा दिया मगर ये याद रखना की  कैप्टेन ने 79 वर्ष में भी अभी तलवार दीवार पर टांगी नही है।चुनांवों में नवजोतसिंहसिधू के खिलाफ म्यान से बाहर निकल भी सकती है

आप लोग सिद्धू बनाम कैप्टेन की लड़ाई में कूदे हो तो यह जान लो कि कैप्टेन ने कप्तानी ही छोड़ी है अभी सियासी तलवार नही टांगी ।समझे ?? के नही समझे???

राष्ट्र नायक राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय से कई सियासी लकीरें छोटी हुई

झल्लीगल्लां

जाटभजपाई

ओए झल्लेया !

इबलो तो घणा मज़्ज़ा आ गया।उरे म्हारे धाकड़ पीएम माननीय नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी ने म्हारे भुलाए जा चुके राष्ट्र नायक राजा महेंद्र प्रताप सिंह जी को सम्मान देते हुए राजा जी के नाम पर अलीगढ़ में राज्यविश्वविद्यालय का शिलान्यास कर दिया।म्हारा सीना और चौड़ा हो गया

झल्ला

चौधरी साहब!

आपके मोदी जी ने राष्ट्र नायक राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय से कई सियासी लकीरें छोटी कर दी

(1)AMU में  पाकिस्तान के संस्थापक और विभाजनविभिषिका के अपराधी मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर की पूजा करने वालों को आईना दिखा दिया

(2)प्रदेश में आपलोगों की 6% आबादी, जिसमे अनेकों विधायक जिताने की क्षमता है ,को अपनी तरफ मौड़ लिया

(3)रालोद के अध्यक्ष जयंत चौधरी को जाट वोटबैंक में भागदौड़ में पछाड़ दिया

(4)अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का नाम बदले बगैर दूसरा नया विश्वविद्यालय खोल कर मुस्लिमो के दिल से भजपा का डर भी कम कर लिया

By धर्म या By कर्म यूपी में गद्दी बचानी हैं (व्यंग)

                                               झल्ली गल्ला

By धर्म या By कर्म  यूपी में गद्दी बचानी हैं (व्यंग)

सपाई चीयरलीडर 

ओए झल्लेया!ये क्या हो रहा है?इन भजपाइयों ने तो गुरुपूर्णिमा जैसे पवित्र उत्सव का भी मजाक बना कर रख दिया। देख तो एक एक गुरु के दस दस छुटभैयों ने पैर पकड़ कर फोटो खिंचवा कर सोशल मीडिया भर दिया।और  तो और मंदिरों में विग्रहों को भी नही छोड़ा।

झल्ला

पहलवान जी! 2022 में आपको पछाड़ने के लिए ये पार्टी लाइन होगी । अब तो सियासत में सब जायज है। By धर्म या By कर्म  यूपी में गद्दी बचानी हैं (व्यंग)

कोरोना पीड़ित के हिस्से में भी मुआवजा नही,जुमले और सिर्फ जुमले

झल्लीगल्लां
उत्तेजितसमाजसेवी
ओए झल्लेया!ये क्या हो रहा है?ओए मुल्क में सरकारें कोरोना महामारी में भी पीड़ितों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों से भागने में ही लगी है। कोरोना संक्रमितों और उनकी मृत्यु के आंकड़े निरन्तर बढ़ते जा रहे है।अनेकों परिवारों में कमाने वाला कोई नही रहा।इलाज में व्यवसाय ठप्प हो गए।बच्चे अनाथ हो गए और केंद्र की सरकार कहती है कि पीड़ितों को मुआवजा नही देंगे। इस रवैये से दुखी होकर माननीय सुप्रीमकोर्ट ने कहा दिया है कि मुआवजा तो देना ही पड़ेगा।
झल्ला
झल्लाभापा जी!सरकारें तो स्मारकों पर अपने नाम के शिलापट लगाने को लालायित रहती आई है।इसीलिए बजट का बड़ा हिस्सा ऐसे ही कार्यों में जाता है और आम आदमी के हिस्से में आते हैं जुमले और सिर्फ जुमले ।अब देखो 1947 के रिफ्यूजी आज भी अपने हक का कंपनसेशन/रिहैबिलिटेशन क्लेम लेने को दर दर भटक रहे हैं

31 जुलाई तक राष्ट्र में एक राशनकार्ड जारी हो;सुप्रीमकोर्ट (व्यंग)

झल्लीगल्लां
सुप्रीमकोर्टकेउत्साहिवकील
ओएIMG-20210321-WA0014 झल्लेया!मुबारकां!!ओए माननीय,आदरणीय,सम्माननीय सुप्रीमकोर्ट के जस्टिस अशोकभूषण और जस्टिसएमआर शाह की सम्मानित पीठ ने जीवन के अधिकार में भोजन के अधिकार को जोड़ने को आवश्यक बताते हुए एक राष्ट्र एक राशनकार्ड का कार्य 31 जुलाई तक पूर्ण करने को कह दिया है।अब सभी गरीबों को भोजन मिलेगा। देश मे कोई भूख से नही मरेगा
झल्ला
MoHA Letterसाहिबजी! गरीबों को भोजन मुहैय्या करवाना सभी सरकारों की जिम्मेदारी है।लेकिन न्याय मंत्रालय+आवास मंत्रालय+श्रम एवं रोजगार मंत्रालय +पुनर्वास मंत्रालय आदि केवल थोड़े से भरे अपने ग्लास दिखा कर सीना ठोकने में लगे है।अभी तक गरीबी को परिभाशित ही नही किया जा सका।और तो और अभी तक दिए जा चुके न्याय,आवास,आदि के अधिकार आम जरूरत मन्दों तक नही पहुंच पाए हैं।।यहां तक झुग्गी झोपड़ियों में अग्निकांड आम हो चले है।1947 के रिफ्यूजी अपने हक के रिहैबिलिटेशन क्लेम को भटक रहे है।

पँजांब में माहिरों का विलक्षण समूह फिर भी मृत्यु दर सबसे अधिक

झल्लीगल्लां
पंजाबसरकारकाचेयरलीडर
ओए झल्लेया!हसाडे मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिन्दर सिंह जी की दूरदर्शिता में सीएस विनी महाजन और डॉ के के तलवार की निगरानी में बनाये गए माहिरों के विलक्षण समूह ने कोरोना मरीजों की देखभाल सम्बन्धी उल्लेखनीय कार्य करते हुए एक साल पूरा कर लिया।ओए इनके सुझावों से बहुत लाभ हुआ है।
यह समूह नियमित तौर पर हर मंगलवार, गुरूवार और रविवार शाम 7.30 बजे प्रशिक्षण और विचार-विमर्श संबंधी सैशन करवाता है। अब तक 50 से अधिक सैशन किये जा चुके हैं।
इन सैशनों के दौरान माहिरों द्वारा अमृतसर और पटियाला के जी.एम.सीज़, जी.जी.एस.एम.सी. फरीदकोट, डी.एम.सी. लुधियाना, सी.एम.सी. लुधियाना और निजी अस्पतालों में दर्मियाने से लेकर गंभीर मरीज़ों बारे विचार-विमर्श किया गया और मरीज़ों के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया गया।झल्ला
ओ भा जी!
मन मे दूने मन मे तीने मन मे रह गए आधे
वोह आधे भी कोविड अस्पतालों में नही दीखे
इतने माहिरों के होते हुए भी किसान आंदोलन से फैले कोविड को भांपा नही जा सका।ऑक्सीजन के उत्पादन में पँजांब को आत्म निर्भर नही बनाया जा सका।चिकित्सकों की कमी को पूरा नही किया गया।कोविड से हुई मृत्यु दर देश मे सबसे अधिक और आप माहिरों की महारत की गल कर रहे हो
भा जी!पँजांब में माहिरों का विलक्षण समूह फिर भी मृत्यु दर सबसे अधिक ऑक्सीजन उत्पादन में शून्य
टीकाकरण में फिसड्डी।

काश! सीएम योगी को तूफानी दौरे में दिव्यदृष्टि से कोरोनालूट दिख जाए

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर

कोरोनाकाल मेसीएम योगी का दौरा

कोरोनाकाल मेसीएम योगी का दौरा

ओए झल्लेया! ऐवें लोगी हसाडी सरकार के नाम पर नाक मुंह सिकोड़ते रहते हैं।देख मेरठ में कोरोना मरीजों की भलाई के लिए पहले माननीय स्वास्थ मंत्री सुरेश कुमार खन्ना जी आये फिर मेरठ के प्रभारी मंत्री जी आए और अब स्वयम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी आ रहे हैं।थोड़ा सब्र रखो सब ठीक हो जाणा है
झल्ला
झल्लाचतुर सेठ जी! काश आपके योगी जी की दिव्यदृष्टि प्राइवेट अस्पतालों में जम कर लूट के बावजूद हो रही मौतों के कारण और सरकारी अस्पतालों के बाहर एड़िया रगड़ते मरीज और शवों को कांधों पर ढोते परिजन और कालाबजारी दिख जाए तो शायद कुछ सुधार हो जाये।