Ad

Tag: Punjab Govt

पंजाब सरकार में सिक्योरिटी चूक पर बिना आग के ही दुआं उडाया जा रहा है

झल्ले दी गल्लां
उत्तेजित पंजाबी कांग्रेसी
ओए झल्लेया! ये भगवाधारियों ने पूरे मुल्क में हमे बदनाम कर छोड़ा है। सूत ना कपास और जुलाहों में लठ्मलठ् वाली बात कर के रख दी।अरे इनके प्रधानमंत्री को ना तो काले झंडे दिखाए गए ,ना ही नारे तक लगे और ये चिल्ला रहे हैं की मोदी जी की जान को खतरा होसकता था
झल्ला
मेरे चतुर सुजान! इसका मतलब है कि बिना आग के ही आप लोगों ने धुआँ उड़ा दिया,
पहले मुख्यमंत्री पीएम के प्रोग्राम में नहीं पहुंचे,
फिर सुरक्षा चूक पर खेड प्रगट किया,
फिर फिरोजपुर के बेचारे पुलिस कप्तान को निलंबित किया
फिर सात आई पी एस अधिकारी बदल डाले ,
और तो और आपके चहिते और अकाली बिक्रम सिंह मजीठिया के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराने वाले अपने खासुलखास डी आई जी को भी हटा दिया ,उसके बावजूद कहते हो कि आग तो लगी ही नहीं Jhalle Di Gallan
Agitated Punjabi Congressman
Oh jealous! These saffron people have defamed us all over the country. They put it in cotton, cotton and weavers by talking lath
Jhalla
O My Dear Clever It means you blew smoke without fire,???
The first Chief Minister did not reach the PM’s program,
Then revealed the pit on the security lapse,
Then the poor police captain of Ferozepur was suspended
Then seven IPS officers changed,
Moreover, he has also removed his special DIG who lodged an FIR against your favorite Opponent and Akali Bikram Singh Majithia, despite that you say that the fire did Not Even Start

पंजाबी हिन्दू वोट बैंक के लिए भाजपाई ठेकेदारी पर सिद्धू का हमला

                                                                            झल्ली गल्लां

पंजाब कांग्रेस का चेयरलीडर

ओए झल्लेया!देख तो पँजाब में अच्छी खासी दौड़ रही हसाडी सरकार में रौडे डाले जा रहे हैं ।ओए हसाडे मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और पंजाब कांग्रेस के जुझारू अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू दोनों एक साथ केदारनाथ की शरण मे हैं।और तो और प्रभारी हरीश चौधरी भी उनके संग संग धार्मिक स्थल पर है।

झल्ला

ओए !चतुर सुजाणा !! ये केयर टेकर और भावी मुख्यमंत्री का धार्मिक पर्यटन बेमतलब नही है।इन्होंने पूर्व प्रभारी हरीश रावत की नाराजगी दूर करने के साथ ही पंजाब में  भाजपा के हिन्दू वोट बैंक की ठेकेदारी पर भी हमला बोल दिया है। इसीलिए सिद्धू ने अपनी हिन्दू  मां और गुरसिख पिता का राज भी खोलना शुरू कर दिया है

 

Sidhu Questions Over Appointment Of DGP,AGP ;Pb Crisis

(Chd,Pb)Sidhu Questions Over Appointment Of  DGP,AGP ;Pb Crisis Punjab Congress chief, Navot Singh Sidhu on Wednesday raised questions over the appointments of the director general of police and the state’s advocate general.Plunging the Congress into a fresh crisis months ahead of the assembly elections in the state, Sidhu put in his papers on Tuesday shortly after the allocation of portfolios to the new ministers of the Charanjit Singh Channi cabinet.
Taking to Twitter a day later, Sidhu said his objective had always been to improve the lives of people and to make a difference .
My fight is for the issues and an agenda of Punjab, he said in an over four-minute video clip shared on his Twitter handle.
Apparently referring to senior IPS officer Iqbal Preet Singh Sahota, who has been given the additional charge of the director general of Punjab Police, Sidhu said, When I see those who gave clean chit to Badals six years back such persons have been given the responsibility for delivering justice. 
Sahota was the head of a special investigation team formed in 2015 by the then Akali government to probe the sacrilege incidents.
WSidhu also apparently questioned the appointment of A P S Deol as the state’s new advocate general.
“Those who secured blanket bails, they are advocate general,” he said.
Deol is a senior advocate of the Punjab and Haryana High Court and has been a counsel for former Punjab DGP Sumedh Singh Saini. He had been representing the ex-top cop in various cases against him.

Pb CM Channi Allocates Home Ministry to His Dy Randhawa

पँजांब की सियासत में सिद्धू असफल और राहुल+चन्नी सफल सियासतदां (व्यंग)

                                              झल्लीगल्लां

पंजाबीचिंतक

ओए झल्लेया!आज हसाडे सोने पँजांब की पृष्ठभूमि पर नाकाम सियासतदां और मुक़म्मल सियासतदां में फर्क समझा ।

झल्ला

भापा जी!पँजांब की सियासत में सिद्धू असफल और राहुल+चन्नी सफल सियासतदां (व्यंग)

नाकाम सियासतदां समझो लाफिंग जट्ट नवजोत सिंह सिद्धू।प्रदेश में सबसे लोक प्रिय+सबसे कर्मठ+ईमानदार लेकिन इनसे  पहले मंत्रिपद गया । अब सीएम की कुर्सी मिलते मिलते हाथों से खिसक गई।अब बेचारे ओनली सीएम के संलग्नक बने घूम रहे हैं

और मुकम्मल बोले तो आज की राजनीति में  सफल सियासतदां समझो तो चरणजीत सिंह चन्नी

निर्दलीय विधायक कांग्रेस में लौटे और  दो जट्टों की लड़ाई में मलाई दलित की थाली में आ गिरी।वैसे यहां एक और कहावत चरितार्थ होती है ।बोले तो पंजाबी बिल्लियों की लड़ाई में दिल्ली के बंदर मामा ने अपनी बिसात बिछा ली ।इसीलिएझोट्टों की लड़ाई में झुंडों का तो जो हुआ सो हुआ मगर  सबसे सफल  तो दिल्ली वाले ही हुए

सीएम चन्नी ने पँजांब में पुरानी कहावत को झुठलाया

झल्लीगल्लां

कांग्रेसीचेयरलीडर

ओए झल्लेया! मुबारकां!

ओए महाराजा पटियाला अमरिन्दर सिंह जी ने जो भसूड़ी पाई थी उसमें से पँजांब कांग्रेस बाहर निकल आई ।श्रीमती सोनिया गांधी+राहुल गांधी+हरीशरावत+नवजोतसिंहसिद्धू के अथक प्रयास और सूझबूझ से ना केवल संकट टल गया बल्कि पार्टी और मजबूत बन गई है। दलित चरणजीतसिंह चन्नी को सर्वसम्मति से  मुख्यमंत्री बना कर भजपा+बसपा+एसएडी को  सकते में डाल दिया।अब 2022 में भी हसाडी ही सरकार लौट के आएगी

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाणा !वाकई पुरानी सारी कहावतें+मान्यताएं+परम्पराएं धाराशाई हो गई।

सुनते आये थे  कि नालायक बच्चे का बस्ता भारी होता है लेकिन पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत  चन्नी ने इस कहावत को भी फिलहाल तो झु टला दिया

अरे भाई ५८ वर्षीय चन्नी साहब गरीब दलित परिवार से हैं लेकिन इनके बस्ते में

डिग्री इन लॉ

बिज़नेस प्रबंध और

पोलिटिकल साइंस की डिग्रियां है। इन सब से ऊपर दलित कार्ड और कांग्रेस हाईकमांड का हाथ है

 

चन्नी ने पहली पीसी में हाई कमान और सिद्धू के एजेंडे को आगे बढाया

पंजाब कांग्रेस के रामदासिया नेता चन्नी ने आज सीमांत प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

(चंडीगढ़)कांग्रेस के दलित नेता चन्नी ने आज पँजांब के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

चन्नी के भाग्य से छीक़ा टूटा।वोह छींका जिसपर नवजोत सिंह सिद्धू  नजर थी।आज चन्न चढ़ गया सो सारा जगत पहले दलित मुख्यमंत्री को देख रहा है।

क्योंकि चरणजीत सिंह चन्नी पँजांब में मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं। 
उनके अलावा सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओम प्रकाश सोनी ने भी शपथ ली जो राज्य के उप मुख्यमंत्री हो सकते हैं।
चन्नी दलित सिख (रामदसिया सिख) समुदाय से आते हैं और अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। वह रूपनगर जिले के चमकौर साहिब विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। वह इस क्षेत्र से साल 2007 में पहली बार विधायक बने और इसके बाद लगातार जीत दर्ज की। 

वह शिरोमणि अकाली दल-भाजपा गठबंधन के शासनकाल के दौरान साल 2015-16 में विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी थे।

कैप्टेन ने कप्तानी ही छोड़ी है अभी सियासी तलवार नही टांगी (व्यंग)

                                                  झल्लीगल्लां

कांग्रेसीचेयरलीडर 

ओए झल्लेया! हसाडी हाईकमान ने हथेली पर सरसों उगा के दिखा दी।ओए बगावती तेवर दिखा रहे कैप्टेन अमरिन्दर सिंह के नीचे से मुख्यमंत्री की कुर्सी खींच ली।अब तो 2022 को होने जा रहे चुनांवों में लगने जा रहे अनहोनी के ग्रहण से मुक्ति मिल जानी है।नया चेहरा ! नया चुनाव !! नई जीत

झल्ला

चतुर सुजाणा!बेशक एआप लोगों ने नवजोत के लिए इस पुरानी जोत को बुझा दिया मगर ये याद रखना की  कैप्टेन ने 79 वर्ष में भी अभी तलवार दीवार पर टांगी नही है।चुनांवों में नवजोतसिंहसिधू के खिलाफ म्यान से बाहर निकल भी सकती है

आप लोग सिद्धू बनाम कैप्टेन की लड़ाई में कूदे हो तो यह जान लो कि कैप्टेन ने कप्तानी ही छोड़ी है अभी सियासी तलवार नही टांगी ।समझे ?? के नही समझे???

पँजांब के गन्ना किसान राज्य सरकार के असली दांत देख कर ही आंदोलन जारी रखें