Ad

Tag: shashi tharoor

ऑक्सफोर्ड+भारत बायोटेक कोविड-19 टीकों के इस्तेमाल को मंजूरी मिली;विपक्ष का आपातकाल

Read more

Ravi Shanker Prasad Hits Out at Tharoor Over Shiv Linga Remarks

[New Delhi]Ravi Shanker Prasad Hits Out at Tharoor Over Shiv Linga Remarks
The BJP’s this reaction came a day after Tharoor reportedly claimed an unnamed RSS source had told a journalist that Prime Minister Modi was like a scorpion sitting on a Shiv Linga who cannot be removed by hand or hit with a chappal (slipper).
Prasad said while he would not like to comment on Tharoor’s remarks “against whom a charge sheet has been filed in a murder case”, but he would like to know where Rahul Gandhi, who claims to be a Shiv Bhakt, stands on the issue.
Tharoor had made these remarks Saturday while speaking at the Bengaluru Literature Festival on his recently launched book “The Paradoxical Prime Minister: Narendra Modi And His India”.

DyCM Badal Lambasts Shashi Tharoor&Demands Bharat Ratn For Bhagat Singh

[Ferozepur,Punjab]Dy CM Badal Lambasts Shashi Tharoor & Demands Bharat Ratn For Shaheede Azam Bhagat Singh
Punjab Deputy Chief Minister Sukhbir Singh Badal today demanded that the Congress give its views on the issue saying it “reflects the real thinking of the party”. Congress leader Shashi Tharoor equated Sedition Accused Kanhayia Kumar with Bhagat Singh,
Talking to media after addressing the political conference organised to mark the Martyrdom Day of Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev at Khatkar Kalan, Sukhbir said that his party would soon write to the Centre to award ‘Bharat Ratna’ to Bhagat Singh.
Speaking in Ferozepur, Sukhbir advocated ‘Bharat Ratna’ for Shaheed-E-Azam Bhagat Singh, saying it will be a real tribute to the great martyr.
He inaugurated the ‘Amar Shahed Jyoti’ at Hussainiwala.
The International Airport at Mohali would be named after Shaheed Bhagat Singh as both Punjab and Haryana government had given consent for this and the Centre has already taken a decision in this regard, Sukhbir Badal claimed.
He said to educate people visiting Hussainiwala about its historical importance, a light and sound system would be set up here soon.
Badal said it’s a matter of great pride that out of total sacrifices in freedom struggle, contribution of Punjabis was more than 80 per cent and for paying tribute to their sacrifices, the Punjab government is constructing Jang-E-Azadi Memorial in the state.

सुनंदा पुष्कर की मौत को दिल्ली पोलिस ने१साल बाद अस्वाभाविक स्वीकार किया:जहर की जाँच विदेश में होगी

[नई दिल्ली]सुनंदा पुष्कर की मौत को दिल्ली पोलिस ने१साल बाद अस्वाभाविक स्वीकार किया:जहर की जाँच विदेश में होगी एक साल बाद सुनंदा पुष्कर [५०]की मौत को दिल्ली पोलिस ने अस्वाभाविक मौत स्वीकार किया |लेकिन मौत के कारण बने जहर की क्वांटिटी और क़्वालिटी और शरीर में प्रवेश कराये जाने के तरीके की जाँच विदेश में कराई जानी है|
कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्नी व्यवसाई श्रीमती सुनंदा पुष्कर की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत के मामले में आज एक नया सनसनीखेज मोड़ आ गया है |
दिल्ली पुलिस ने आज इस संबंध में हत्या का मामला अज्ञात के विरुद्ध दर्ज किया।
पुलिस ने एम्स की मेडिकल रिपोर्ट के बाद यह मामला दर्ज किया जिसमें कहा गया है कि सुनंदा की मौत स्वाभाविक नहीं थी और जहर के कारण मौत हुयी। हालांकि अभी तक जहर का प्रकार + क्वांटिटी और किसी संदिग्ध के रूप में कोई जानकारी नही दी गई है |
दिल्ली पोलिसके टॉप अधिकारी बी एस बस्सी के अनुसार हत्या की वजह शरीर में जहर का पाया जाना है।
श्रीमती सुनंदा कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्नी थी।
शशि थरूर ने अपनी पत्नी के पोस्टमार्टम रिपोर्ट समेत अन्य रिपोर्ट की मांग की है
इस नए मोड़ पर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है।
भाजपा नेता सुब्रहमण्यम स्वामी ने शशि थरूर की गिरफ्तारी की मांग की है वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने मामले को सनसनीखेज बनाने से परहेज किया रशीद अल्वी ने निष्पक्ष जांच की बात कही है|
पिछले साल की 17 जनवरी को दिल्ली के “लाली” होटल के एक कमरे में सुनंदा पुष्कर की रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी।
उस वक्त दवाओं के ओवरडोज को मौत की वजह बताया गया था। मौत के बाद कई सवाल उठे थे। विसरा रिपोर्ट को दोबारा एम्स के तीन डॉक्टरों के पास जांच के लिए भेजा गया था जिसमे मृतका के शरीर में जहर के अंश मिले थे।

शशिथरूर तो राहुलगांधी के बजाय धुर्र विरोधी नरेंद्र मोदी के नेड़े लुढ़कने लगे

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

भाजपाईचीयर लीडर

ओये झल्लेया ये हारे हुए कांग्रेसियों की तो मति मारी गई है देख तो प्रधान मंत्री के स्वच्छ भारत अभियान में सहयोग तो दे नहीं रहे उलटे पी एम को सहयोग देने के लिए आश्वासन देने भर पर ही अपने नेता शशि थरूर को पार्टी प्रवक्ता पद से हटा दिया |अरे इसी शशि थरूर ने कभी कांग्रेस की सरकार के मितव्यता[Austerity] अभियान की खिल्ली उड़ाई थी+आम आदमी के जख्मों पर नमक छिड़कने के लिए एयर प्लेन में कैटल क्लास पर नाक मुह सिकोड़ा था+ अपनी पत्नी सुनंदा [अब स्वर्गीय]को आई पी एल में घुसवाया था+इसी पत्नी की हत्या का आरोप लगा तब भी कांग्रेसी शशि की शीतलता का आनंद लेते रहे लेकिन अब शशि थरूर को पी एम ने ९ सफाई रत्नों में शामिल कर लिया और उन्होंने स्वीकार भी कर लिया तो कांग्रेसियों के एक धड़े को मिर्ची लग गई और शशि थरूर को ग्रहण लगा दिया

झल्ला

ओ मेरे भोले सेठ जी पुरानी कहावत है कि दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है लेकिन शशि तो राहुल के बजाय धुर्र विरोधी नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी के नेड़े सिरकते जा रहे हैं अब दुश्मन का दोस्त तो दोस्त नहीं रहता|

शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए शिक्षकों की गैर शैक्षिक प्रयोजनों में तैनाती को रोका जाना चाहिए

– राष्ट्रीय ज्ञान आयोग ने शिक्षकों का महत्त्व बताते हुए यह स्वीकार कर लिया है कि शिक्षकों को गैर शैक्षिक प्रयोजनों के लिए तैनात नहीं किया जाना चाहिए |मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री डॉ. शशि थरूर ने भी शिक्षकों के व्यावसायिक स्तर को कम करके आंके जाने कि प्रवर्ती पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि 2009 के राष्ट्रीय शिक्षा अधिकार अधिनियम (आरटीई) के अनुसार किसी भी शिक्षक को [१]जनगणना,[२] आपदा राहत ड्यूटी [३] स्थानीय निकायों [४]राज्य विधान मंडल या संसद के चुनावों से संबंधित ड्यूटी को छोड़ कर किसी अन्य गैर शैक्षिक प्रयोजन के लिए तैनात नहीं किया जा सकता।
उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय ज्ञान आयोग ने भी सिफारिश की है कि मतदान केंद्रों के प्रबंधन और सर्वेक्षणों आदि के लिए आंकड़े एकत्र करने जैसे अनेक प्रकार के गैर शैक्षिक कार्यों में शिक्षकों को तैनात करने से शिक्षण के लिए समय में कटौती होती है और शिक्षकों के व्यावसायिक स्तर को कम करके आंका जाता है। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यों में अन्य श्रेणियों के सरकारी कर्मचारियों को लगाया जा सकता है या इन प्रयोजनों के लिए विशेष रूप से कर्मचारी नियोजित किए जा सकते हैं। शिक्षकों पर ऐसे दायित्वों का बोझ कम किया जाना चाहिए। यह जानकारी मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री श्री शशि थरूर ने लोकसभा में एक लिखित उत्तर में दी।

जनता से सीधे संवाद कायम करना तो अब किसी के बस का नहीं रहा इसीलिए ब्यान बाजी का सहारा लिया जाता है

झल्ले दी झल्लियाँ गलां

एक आम नागरिक

ओये झल्लेया ये हसाडे सोणे मुल्क को किस की बुरी नज़र लग गई है जिसे देखो मुह में आग लिए घूम रहा है जहां देखा आग उगल दी जाती है | अभिजित मुखर्जी+शशि थरूर+++कांग्रेसियों के बयानों की आग अभी ठंडी भी नही पड़ी कि अब संघ परिवार भी इस मैदान में कूद पड़ा है|आर एस एस प्रमुख मोहन भागवत+ एम् पी के नंबर दो के मंत्री कैलाश विजयवर्गीय अपने दिए बयानों को रफ्फू करने में लगे हैं +भाजपा और संघ इन्हें ड्राई क्लीन करके बयानों को नया करने को आगे आई ही थी की मोहन भागवत ने शादी को पति पत्नी के बीच कांट्रेक्ट बता कर फिर से चर्चा छेड़ दी| बड़े मियाँ तो बड़े मियां छोटे मियां भी सुभानल्लाहजी हाँ हिमाचली युवा सांसद अनुराग ठाकुर और महाराष्ट्री मनसे सुप्रीमो राज ठाकरे ने भी अपने लपलपाते मुह खौल दिए हैं| ठाकरे ने तो दिल्ली में चलती बस में हुए सामूहिक दुष्कर्म के लिए दोषियों का राज खोलते हुए सभी बलात्कारियों को बिहारी बता दिया है|ओये ये नेता देश की सेवा को समर्पित हैं या देश को तोड़ने वाले हैं|

जनता से सीधे संवाद कायम करना तो अब किसी के बस का नहीं रहा इसीलिए ब्यान बाजी का सहारा लिया जाता है


झल्ला

भईय्या जी जनता से सीधे संवाद कायम करना तो अब सत्ता या विपक्ष में किसी के बस का नहीं रहा इसीलिए ब्यान बाजी का सहारा लिया जाता है|क्योंकि मीडिया भी अपने नेताओंके भड़काऊ बयानों को नमक मिर्च[चर्चा]लगा कर पेश करने को सदैव आतुर रहता है इसीलिए ये देश तोड़ने वाले ब्यान २४*७ हवा में तैरते रहते हैं|अगर कहीं ज्यादा पंगा हो जाता है तो कांग्रेसियों की तरह बहादुरी से पीछे हट जाते हैं और मीडिया पर ब्यान को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगा कर अपना पल्ला झाड लेते हैं| झल्लेविचारानुसार अभी थोड़ी देर में ही मोहन भागवत +अनुराग ठाकुर और राज ठाकरे के खंडन की बाईट एयर पर आती ही होगी|