Ad

Category: India

कॉमनवेल्थ कन्ट्रीज क्लब की सदस्यता में नफा नुकसान देखने का समय आ गया

                                                   झल्ली गल्लां

राष्ट्रवादी चिंतक 

ओए झल्लेया! स्वाद आ गया।ये ब्रिटेन वाले अपनी ग्रेटनेस का रुआब झाड़ते हुए हसाडे मुल्क की विश्व स्वीकृत मानव मात्र की रक्षक वैक्सीन की उपलब्धि का अपमान कर रहे है।हसाडी सरकार ने भी टिट फ़ॉर टेट का इनका ही नियम इन पर लागू करते हुए ब्रिटेन से आ रहे 700 हवाई यात्रियों का RTPCR करवा के 10 दिन के क्वारंटाइन के लिए इनके चॉइस प्लेस पर भेज दिया।हमारी देसी भाषा मे इसे कहते है “जैसे को तैसा”

झल्ला

ओ भापा जी!कॉमनवेल्थ कन्ट्रीज क्लब की सदस्यता में नफा नुकसान देखने का समय आ गया

ये ब्रिटेन एक व्यापारी मुल्क है। इसीलिए इनकी ना के पीछे भी कोई व्यवसायिक कारण छुपा होणा है।आपको मालूम होणा चाहिए कि भारत को आजादी देते समय इसे अपने चंगुल के कॉमन वेल्थ कन्ट्रीज के क्लब में शामिल रखने को  ब्रिटिश क्राउन ने देश के दो टुकड़े करवा दिए।बिना पर्याप्त व्यवस्था के ही देश विभाजित कर दिया जिसने विश्व की सबसे बड़ी त्रासदी को जन्म दिया। दस लाख निर्दोष मारे गए और सवा करोड़ के लगभग विस्थापित हो गए।इतने बड़े बलिदान के बावजूद भारत का अपमान अब नही सहेगा हिंदुस्तान।कॉमन वेल्थ  कन्ट्रीज क्लब में रहने का नफा नुकसान देखना जरूरी हो गया है।जल्द ही गुणा भाग जरूरी हो गया है।

पाकिस्तान को तालिबान का एक और घर बनने से अब ख़ुदा ही बचा सकता है

                                                      झल्लीगल्लां

चिंतक

ओए झल्लेया! हसाडी नाक के नीचे पड़ोस में ये क्या खिचड़ी पक रही है ?पाकिस्तान के सफल रहे क्रिकेटर परंतु असफल प्रधानमंत्री इमरानखान  अफगानिस्तान पर काबिज तालिबान के प्रति हमदर्दी जता रहा है और उधर तालिबान सीना ठोक कर इमरान के पाकिस्तान को अपना दूसरा घर बता रहा है

ओये  ये दोनों तो आपस मे मिल गए अब हसाडे  कश्मीर का क्या होगा ???

झल्ला

भापा जी!हसाडा कश्मीर तो डोभाल जी  ,राजनाथ जी और नरेंद्रमोदी जी के सुरक्षित हाथों में है लेकिन अब अफगानिस्तान के पश्चात  पाकिस्तान को तालिबान के घर बनने से ख़ुदा ही बचा सकता है।

 

 

महाकुंभ स्नान के प्राचीन अमृत ज्ञान संग आधुनिक कोरोना विज्ञान का भी सहारा जरूरी

झल्लीगल्लां
आस्थावानहिन्दू

Mahakumbh

Mahakumbh

ओए झल्लेया मुबारकां! ओये आज के पवित्र ध्याड़े हरिद्वार में महाकुंभ मेला शुरू होने जा रहा है।ओये तुझे मलूम है कि अब की बार बारह के बजाय ग्यारह बरस में ही यह पवित्र मेला शुरू हो रहा है।यहां हसाडी प्राचीन संस्कृति की भव्यता के दर्शन और स्नान लाभ मिल सकेंगे। ओये हरिद्वार में ही कल्याणकारी अमृत की बूंदे गिरी थी ।यहीं देवताओं ने कुम्भ घटक दबाया हुआ है ।ओए कुम्भ स्नान से हसाडा जीवन सफल हो जाणा है
झल्ला
झल्लाभापा जी! आस्था के इस महाकुंभ की आप जी को भी लख लख वधाइयाँ। वैसे तो व्यवस्थापक आज कल कोरोना महामारी की आपदा में भी अवसर बनाने पर तुले हैं लेकिन आम नागरिक इन अवसरों में आपदा लेकर घरों को लौटते हैं इसीलिए झल्लेविचारानुसार प्राचीन अमृत ज्ञान के साथ साथ आधुनिक कोरोना विज्ञान का पालन करते हुए ही अवसरों का लाभ लेने को कदम बढाने चहिए इसीलिए कोरोना प्रोटोकॉल जरूरी है

हमने अमरीका को मलेरिया की दवाई दी और ये कोरोना के लिए कच्चामाल रोक रहे हैं

झल्लीगल्लां
भारतीयचिंतक
Jhalla Cartoonओए झल्लेया!ये अमरीकी सरकार को कौन सा कीड़ा काट गया। देख तो एक तरफ हसाडी सरकार विश्व मे जरूरतमन्दों को निशुल्क तक टीका
सप्लाई कर रहा है और ये नए राष्ट्रपति जो बिडेन भारत को कच्चे माल की सप्लाई रोक कर कॉरोनानुसरों के नाशक टीकों के उत्पादन को डिस्टर्ब करना चाह रहा है।ओए अगर इन्होंने टीका बनाने के लिए जरूरी कच्चेमाल की सप्लाई बंद कर दी तो यहां प्राण रक्षक टीकों की कमी हो जाएगी।अदालतों में केंद्र सरकार को घेरने के लिए पी आई एल की बाढ़ आ जायेगी।
झल्ला
झल्लाभापाजी! भारत सरकार ने अभी बीते साल ही अमरीकियों को कोरोना से बचाने के लिए मलेरिया की दवाई Hydroxychloroquine की बढ़ी खेप भेजी थी और वहां नई सरकार बनते ही भारत को आंखें दिखाने लग गए।भापा जी!इनकी शराफत कहां गई ??

मोदीभापे !स्वयम का भी नया इतिहास रचो ,फिर बेशक टाइमकैप्सूल में रचवाओ

भजपाईचिंतक
ओए झल्लेया! अब आएगा मजा। ओए हसाडे धाकड़ प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदी जी ने भी बहराइच में महाराजा सुहेलदेवजी के विशाल स्मारक के शिलान्यास समारोह में एलान कर दिया है कि गुलामी की मानसिकता वालों ने जो लिखा है वोही स्वतंत्रता संग्राम का वास्तविक इतिहास नही है ।ओए उन कथित इतिहास कारों ने नेताजीसुभाषचंद्रबोस,सरदारपटेल,बाबा अम्बेडकर,महाराजा सुहेलदेव जैसे अनेकों देश प्रेमियों को पार्श्व में डाल दिया। ओए अब लिखा जाएगा वास्तविक इतिहास और उसमी असली योद्धाओं को उचित स्थान दिया जाएगा
झल्ला चतुर सेठ जी!वास्तविकता ,बेशक किताबों में ही सही, बाहर तो आनी ही चाहिए लेकिन अच्छा होता कि स्वयम का नया इतिहास भी रच कर टाइमकैप्सूल में डलवाते

गाली गफतौर सोशल मीडिया+ट्विटर पर सख्त हुई केंद्र सरकार

(नईदिल्ली)#सोशलमीडिया पर सरकार हुई सख्त ।
केंद्रीय मंत्री #रविशंकरप्रसाद ने आज #राजयसभा में #ट्विटर और गालिगफ़तौर मीडिया को सीधी चेतावनी दी
सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सऐप और लिंक्डइन जैसे सोशल मीडिया मंचों को आगाह किया कि अगर उनका उपयोग भारत में झूठी खबरें फैलाने, हिंसा या वैमनस्य को बढ़ावा देने में किया जाता है तो उनके खिलाफ सख्ती की जाएगी।
प्रसाद ने राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान विभिन्न पूरक सवालों का जवाब देते हुए कहा कि सरकार सोशल मीडिया का सम्मान करती है और इस मंच से लोग अधिकार संपन्न हुए हैं। उन्होंने कहा कि भारत के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम में सोशल मीडिया की अहम भूमिका रही है।
सरकार आलोचना के अधिकार का भी सम्मान करती है लेकिन ऐसे मंचों को देश के संविधान तथा कानूनों का पालन करना होगा। उन्होंने कहा कि अगर सोशल मीडिया के जरिए चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने की कोशिश की जाती है तो चुनाव आयोग के अलावा सरकार भी कार्रवाई करेगी।
उन्होंने कहा कि पिछले दिनों अमेरिकी संसद भवन में हिंसा और यहां लाल किले में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा के समय ऐसे मंचों का आचरण विरोधाभासी रहा। उन्होंने कहा कि कई सोशल मीडिया मंचों ने अमेरिका में पुलिस की कार्रवाई का समर्थन किया लेकिन यहां भारत में उलटा रुख अपनाया। उन्होंने कहा कि ऐसा दोहरा मानदंड स्वीकार नहीं किया जा सकता।
प्रसाद ने कहा कि ऐसी कंपनियां भारत में काम करें, पैसे कमाएं लेकिन साथ ही वे संविधान और देश के कानूनों का भी पालन करें।
फ़ाइल फोटो

75 वें में ही सही देश के मतवालों का त्याग भारतीय नजरिये से मिल सकेगा

#भजपाईचेयरलीडर
ओए झल्लेया!हसाडे धाकड़ प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जीने आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर आजादी के नायकों को श्रद्धांजलि देने के लिए प्रतिभाओं को लेखन कौशल का अवसर प्रदान कर दिया है
ये लेखन आजादी के नायकों के प्रति उत्तम श्रद्दांजलि होगी।
#झल्ला
चतुर सेठ जी! मोदीभापे की यह पहल वाकई सराहनीय है।शायद अब देश के मतवालों के त्याग को भारतीय नजरिये से पढ़ने का अवसर मिल सकेगा।लेकिन सेठ जी!1947 के पीड़ितों को जो सरकारों द्वारा लूटा गया है उस विषय मे छप रहा सत्य भी तो पढ़ लेना चाहिए

Fellowships for Books on Post-Independence India

(New Delhi)Fellowships for Books on Post-Independence India
The New India Foundation fellowships are awarded biennially to Indian citizens for a period of one year and carry a stipend of Rs 1.5 lakh a month in addition to editorial and publishing support.
In a statement, the foundation has announced August 31 as the deadline for applications for the tenth edition of its fellowship programme. The selected fellows will join a community of 21 published authors.
The proposals for the fellowship need to be oriented towards publication and outline a road map towards that destination, it said.
Spearheaded by Ramachandra Guha, Nandan Nilekani, Srinath Raghavan, Manish Sabharwal and Niraja Gopal Jayal, the foundation strives to foster interest in documenting the dynamic and rich landscape of post-Independence India and to encourage high-quality research.
Some of the works of non-fiction supported by the foundation and published in recent years include Rahul Pandita’s “Our Moon Has Blood Clots”, Akshaya Mukul’s “Gita Press and the Making of Hindu India”, Amrita Shah’s “Ahmedabad: A City in the World”, and Saba Dewan’s “Tawaifnama” to name a few.
According to founding trustee Guha, the foundation has published “more than 20 outstanding works of history and non-fiction, many by younger writers that have won a sheaf of prestigious awards”.
“Our ongoing fellowship programme aims to catalyse and produce many more such books that will illuminate in different ways the history and politics of India since Independence,” he said.
Based in Bengaluru, the New India Foundation encourages breakthrough research on contemporary Indian history by awarding fellowships to gifted, energetic, scholars and writers.

PM Modi Opens Emergency Relief Fund for Coronavirus Fight

(New Delhi)PM Modi Opens Emergency Relief Fund for Coronavirus Fight
Prime Minister of India Narendra Modi on Saturday announced the creation of an assistance and emergency situation relief fund where people can contribute and help in the government’s fight against coronavirus.
The Prime Minister’s Citizen Assistance and Relief in Emergency Situations Fund will go a long way in creating a healthier India, PM said on Twitter.
“People from all walks of life expressed their desire to donate to India’s war against COVID-19,” he said, adding the fund has been constituted respecting that spirit.

Terorists Attacked Gurdwara Sahib in Kabul,India Condemns

(New Delhi) Terorists Attacked Gurdwara Sahib in Afghanistan,India Condemns
Heavily armed gunmen and suicide bombers stormed a Sikh gurdwara in the heart of Kabul on Wednesday, killing at least 11 worshippers and wounding as many, in one of the deadliest attacks on the minority community in the country.
India on Wednesday strongly condemned the terror attack on a gurdwara in Afghanistan’s Kabul, saying targeting of a religious place in the midst of the COVID-19 outbreak reflects the “diabolical mindset” of the perpetrators and their backers.
As per The External Affairs Ministry India conveyed its sincerest condolences to the immediate family members of the deceased and wished speedy recovery to the injured.
“India stands ready to extend all possible assistance to the affected families of the Hindu and Sikh community of Afghanistan,”
“Such cowardly attacks on the places of religious worship of the minority community, especially at this time of COVID-19 pandemic, is reflective of the diabolical mindset of the perpetrators and their backers,”