Ad

Category: Education

राजस्थान के 36 मदरसों को नववर्ष की सौगात;विनिर्माण के लिए ₹ 538 लाख

(जयपुर,राजस्थान)राजस्थान के 36 मदरसों को नववर्ष की सौगात;विनिर्माण के लिए ₹ 538 लाख
अल्पसंख्यक मामलात मंत्री शाले मोहम्मद के अनुसार नववर्ष 2021 के आगाज पर ‘‘मुख्यमंत्री मदरसा आधुनिकीकरण योजना‘‘ के तहत 36 मदरसों को सौगात के रूप में विनिर्माण कार्यों के लिए 538 लाख रूपये की प्रशासनिक स्वीकृति जारी की है।
मंत्री के अनुसार प्रत्येक मदरसे में कक्षा-कक्ष,रसोई घर, हॉल, बरामदा एवं शौचालय का निर्माण करवाया जाएगा ताकि इन मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को गुणवत्तापूर्वक शिक्षा मिल सके।

Pb Edu Minister Singla to Sit on Hunger Strike on Dec 23rd

(Chd,Pb)Pb Edu Minister Singla to Sit on Hunger Strike on Dec 23rd
Punjab School Education Minister Vijay Inder Singla, on Tuesday, tweeted, “On the occasion of #KisaanDiwas, I shall be sitting on a hunger strike in protest against @BJP4India Govt’s unfair farm laws, in complete solidarity with our farmers & arthiyas’ demands!
My humble appeal to all to stand in unity against a tyrannical govt & its unjust policies!”

पीएम मोदी ने एएमयू में राष्ट्रवाद की जड़ों को सकारात्मक विचारों से सींचा

(अलीगढ़,यूपी) पीएम मोदी ने एएमयू में राष्ट्रवाद की जड़ों को सकारात्मक विचारों से सींचा
पीएम नरेन्द्रमोदी ने कहा कि विकास को राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए, राजनीति इंतजार कर सकती है विकास नहीं ।पीएम ने स्वतंत्रतासेनानियों पर शोध करने का भी आह्वाहन किया
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के शताब्‍दी समारोह को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने बिना किसी का नाम लिए विपक्षी दलों पर भी निशाना साधा और कहा कि मतभेदों के नाम पर बहुत समय पहले ही गंवाया जा चुका है, अब सभी को एक लक्ष्य के साथ मिलकर नया भारत, आत्मनिर्भर भारत बनाना है।
उन्होंने कहा कि समाज में वैचारिक मतभेद होते हैं लेकिन जब बात राष्ट्रीय लक्ष्यों की प्राप्ति की हो तो हर मतभेद किनारे रख देने चाहिए।
प्रधानमंत्री का यह बयान ऐसे समय में आया है जब दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर किसान तीन कृषि कानूनों को रद्द किए जाने की मांग को लेकर पिछले कुछ हफ्तों से आंदोलन कर रहे हैं। सरकार इस आंदोलन को विपक्षी दलों की साजिश करार देती रही है।
उन्होंने कहा कि पिछली शताब्दी में मतभेदों के नाम पर बहुत वक्त पहले ही जाया हो चुका है, अब वक्त नहीं गंवाना है तथा सभी को मिलकर, एक लक्ष्य के साथ मिलकर नया भारत, आत्मनिर्भर भारत बनाना है
मालूम हो कि यह पहली बार है जब पांच दशक से भी ज्यादा वक्त में किसी प्रधानमंत्री ने एएमयू के कार्यक्रम में शिरकत की है। 1964 में तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने एएमयू के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया था।
शास्त्री से पहले पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने पहली बार 1948 में एएमयू का दौरा किया था। इसके बाद उन्होंने 1955, 1960 और 1963 में यहां का दौरा किया।
सर सैयद अहमद खान ने 1877 में मोहम्मडन एंग्लो ऑरिएंटल (एमएओ) स्कूल की स्थापना की थी। 1920 में उसी स्कूल ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का रूप लिया। इसका कैंपस उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 467.6 हेक्टेयर में फैला हुआ है। कैंपस से इतर केरल के मल्लपुरम, पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद-जांगीपुर और बिहार के किशनगंज में भी इसके केंद्र हैं।

IISF Educates Present Generation to become Vishwa Guru :Dr Harsh Vardhan

IISF Educates Present Generation to become Vishwa Guru :Dr Harsh Vardhan
The Union Minister for Science & Technology, Health & Family Welfare, and Earth Sciences e-inaugurated the curtain raiser programme of CSIR-IMMT, Bhuwaneswar for the 6th India International Science Festival 2020 (IISF-2020) today. The Union Minister of Petroleum and Natural Gas, Minister of Steel. Shri Dharmendra Pradhan was the Chief Guest at the event.
Delivering the inaugural address, Dr HarshaVardhan said, “The proposed theme of IISF-2020 – Science for Self-Reliant India and Global Welfare is very relevant in the present context when the nation is looking towards science and technology for spearheading growth and for implementing the vision of our Prime Minister, Shri Narendra Modi Ji of an “Atmanirbhar Bharat” playing a significant role in the global economy. Many great scientific discoveries and technological advancements in various fields have showcased the excellence of our efforts in science and technology to the world”.

Book on PM Modi+Govt’s Spl Relationship with Sikhs Released

(New Delhi) Book on PM Modi+Govt’s Spl Relationship with Sikhs Released
Union Minister for Information and Broadcasting Prakash Javadekar today released a booklet ‘PM Modi and his Government’s special relationship with Sikhs’ along with Union Minister for Civil Aviation and Housing and Urban Affairs Shri Hardeep Singh Puri. The book was release in three languages Hindi, Punjabi and English.
Shri Puri listed out the path-breaking decisions taken a year ago for celebrating 550th birth anniversary of Shri Guru Nanak Dev Ji, which comprise the booklet released today.
Speaking on the decisions the Minister said that it was decided to establish a Chair on Guru Nanak Dev Ji’s teachings in a University in United Kingdom and Canada and talks are underway to establish it in Canada. The Minster added that whatever decisions have been taken, have been implemented in record time. He credited the Prime Minister for personally supervising the smallest of arrangements and personally seeing off the first Jattha for Kartarpur Corridor.
Minister highlighted the decision on no taxation on Langars, FCRA Registration to Sri Harmandir Sahib, allowing global Sangat participation, revision of ‘Blacklist’ as per demand of Sikh community
Amit Khare, Secretary, Ministry of I&B was also present on the occasion. The booklet produced by Bureau of Outreach Communication under Ministry of I&B has been released on the occasion of birth anniversary of Shri Guru Nanak Dev Ji.

पंजाब में नकल कराने वाले 7 फार्मेसी कालेजों की मान्यता रद्द होगी

(चंडीगढ़) पंजाब में नकल कराने वाले 7 फार्मेसी कालेजों की मान्यता रद्द होगी
पैसे लेकर नकल कराने का मामला सामने आने पर सचिव, पंजाब राज तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण बोर्ड से जांच रिपोर्ट माँगी गई थी जिसमे नकल कराए जाने की पुष्टि की गई है
विनायका कालेज आफ फार्मेसी लहरागागा,
आर्य भट्ट कालेज आफ फार्मेसी संगरूर,
मॉडर्न कालेज आफ फार्मेसी संगरूर,
विद्या सागर पैरामेडिकल कालेज लहरागागा,
महाराजा अग्रसेन इंस. आफ फार्मेसी लहरागागा,
लार्ड कृष्णा कालेज आफ फार्मेसी लहरागागा और
कृष्णा कालेज आफ फार्मेसी, लहरागागा
में सितम्बर /अक्तूबर 2020 में हुई परीक्षाओं के दौरान सामूहिक नकल हुई है। इस मामले में उडऩ दस्ते के इंचार्जों नवनीत वालिया प्रिंसिपल सरकारी बहु -तकनीकी कालेज बरेटा और अनिल कुमार सैक्शन अफ़सर को भी चार्जशीट करने के लिए आदेश जारी किये गए हैं।
इन संस्थाओंं में महीना सितम्बर-अक्तूबर 2020 में हुई परीक्षाओं को रद्द करते हुए इन संस्थाओं के विद्यार्थियों की दोबारा परीक्षा लेने के भी आदेश हुए हैं । अब जो परीक्षा के लिए सैंटर केवल सरकारी इंजीनियरिंग कालेज पॉलिटेक्निक आई.टी.आई संस्थाओं में ही बनाऐ जाएंगे और वहां इनवीजीलेशन स्टाफ भी केवल सरकारी संस्थाओं का ही लगाया जाएगा ।यह परीक्षाएं सी.सी.टी.वी की निगरानी अधीन करवाई जा जाएगी

राजस्थानी सैनिकस्कूल के छात्रों की आय सीमा+छात्रवृति राशि में 50% की वृद्धि

(जयपुर)#सैनिकस्कूल के छात्रों के लिए आय सीमा और #छात्रवृति राशि में 50% की वृद्धि
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने #चित्तौड़गढ़ एवं #झुन्झुनू स्थित सैनिक स्कूलों में अध्ययनरत राजस्थानी विद्यार्थियों को अब राज्य सरकार की ओर से शिक्षण शुल्क के लिए छात्रवृति राशि 10000-25000 रूपये से बढ़ाकर 15000-37500 रूपये कर दी है
वर्तमान में सैनिक स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों की वार्षिक पारिवारिक आय 1.2 लाख रूपये तक होने पर पूर्ण छात्रवृति के रूप में शिक्षण शुल्क के लिए 25,000 रूपये की राशि देय है। राज्य सरकार ने पूर्ण छात्रवृति की पात्रता के लिए पारिवारिक आय सीमा को बढ़ाकर 3 लाख रूपये तथा देय शिक्षण शुल्क की छात्रवृति राशि में वृद्धि कर इसे 37,500 रूपये कर दिया है। इसी प्रकार, तीन-चौथाई छात्रवृति के लिए पात्र छात्रों की वर्तमान परिवारिक आय सीमा 1.2 लाख – 1.8 लाख रूपये वार्षिक को संशोधित कर 3 लाख – 5 लाख रूपये वार्षिक कर दिया है। अब तीन-चौथाई छात्रवृति के रूप में शिक्षण शुल्क के लिए छात्रवृति राशि 20,000 रूपये की बजाय 30,000 रूपये देय होगी।
प्रस्ताव के अनुसार, आधी छात्रवृति के पात्र सैनिक स्कूल के छात्रों की वर्तमान पारिवारिक आय सीमा 1.8 लाख-2.4 लाख रूपये को बढ़ाकर 5 लाख – 7.5 लाख रूपये किया गया है, जिसके लिए शिक्षण शुल्क के रूप में देय 15,000 रूपये की छात्रवृति राशि को भी बढ़ाकर 20,000 रूपये किया गया है। इसी प्रकार, एक-चौथाई छात्रवृति के पात्र छात्रों की वर्तमान पारिवारिक आय सीमा 2.4 लाख-3.0 लाख रूपये में संशोधन कर इसे 7.5 लाख-10 लाख रूपये तक बढ़ाया गया है। साथ ही, इसके लिए देय शिक्षण शुल्क की छात्रवृति राशि में भी वृद्धि कर 10,000 रूपये की बजाय 15,000 रूपये किया गया है।

Dr Harsh vardhan Approves New Category from ‘Wards of COVID Warriors’

(New Delhi)Dr Harsh vardhan Approves New Category from ‘Wards of COVID Warriors’
“This will honour the Solemn Sacrifice of all COVID warriors who served selflessly for duty and humanity”:
Dr. Harsh Vardhan, Union Minister for Health and Family Welfare today announced the Government’s decision to introduce a new category called ‘Wards of COVID Warriors’ in the guidelines for selection and nomination of candidates against Central Pool MBBS seats for the academic Year 2020-21.
The Union Health Minister said that this move aims to dignify and honour the noble contribution made by the COVID Warriors in treatment and management of COVID patient. “This will honour the Solemn Sacrifice of all COVID warriors who served with selfless dedication for the cause of duty and humanity”, he stated.
Central Pool MBBS seats may be allocated for selection and nominations of the candidates from amongst the wards of “COVID Warriors”, who have lost life due to COVID 19; or died accidently on account of COVID 19 related duty.
Reminding everyone that the definition of COVID Warrior has been laid down by Government of India while announcing the insurance package of ₹50 lakhs for them, the Minister said, “COVID Warriors are all public healthcare providers including community health workers, who may have to be in direct contact and care of COVID-19 patients and who may be at risk of being impacted by this.
Five (05) Central Pool MBBS seats have been reserved for this Category for the year 2020-21.
File Photo

मौलाना आज़ाद की याद में राष्ट्रीयशिक्षादिवस

#संघीभाई
ओए झल्लेया! ये क्या हो रहा है।ओए सऊदी अरब में जनमे मौलाना अबुल कलाम आजाद को कांग्रेसियों ने आज़ाद भारत का पहला शिक्षा मंत्री बना दिया।ओये इन्हें कोई भारतीय नही मिला क्या???
#झल्ला
भाईजी मौलाना आज़ाद सऊदी अरेबियन बाद में पहले भारतीय थे उन्होंने मुल्क की आजादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी इसीलिए साल के ग्यारहवें महीने की ग्यारह तारीख को उनकी जयंती पर #राष्ट्रीयशिक्षादिवस मनाया जाता है

Punjab Schools & Coaching Instts to Reopen from Oct 15

(Chd,Pb) Punjab Schools to Reopen from Oct 15
Students of only classes 9-12 are permitted to attend schools with parental consent and without making attendance compulsory,
However, online classes shall continue to be the preferred mode of teaching and be encouraged.
The schools, which are being allowed to open after October 15, will have to mandatorily follow the standard operating procedures, to be issued by the School Education Department.
Higher educational institutions only for research scholars and post-graduate students in science and technology streams laboratory work are also permitted to open after October 15