Ad

Category: Poetry

मोदीभापे !समस्याओँ का ज्ञान नही,ये अन्तदृष्टि क्यूँ नही ?

#मोदीभापे
दूरदृष्टि का उपयोग करते हो वोटबैंक देख कर
समस्याओँ से अनजान,ये अन्तदृष्टि क्यूँ नही ?
#रिहैबिलिटेशन/#कंपनसेशनक्लेम की सरकारी लूट
#PMOPG/E/2016/0125052

मोदीभापे !हर एक सिंहासन पर ढेरों यहां ध्रतराष्ट्र बैठे है

#मोदीभापे
इंसाफ नही मिल रहा तुम्हारे भी हस्तिनापुर में
एक नही हर सिंहासन पर यहां ध्रतराष्ट्र बैठे है
#कंपनसेशन/#रिहैबिलिटेशनक्लेम की सरकारी लूट
#PMOPG/E/2016/0125052

मोदीभापे!लोहड़ी देयो लोहड़ी

#लोहड़ी देयो #लोहड़ी
#मोदीभापे ! होए
हसाडा कौन विचारा? होए
पीड़ा जग छाई होए
पीड़ा कौन हरेसी? होए
तू तो पीएम हमारा होए
रोज ही चूरी कूटें होए
जिम्मादार ही लूटें होए
जे तूं देवें जवाब लाइक मिलन हजार
जे तू करें इंसाफ तेरी महिमा अपरंपार

मोदीभापे !इंसाफ उन्हें जिनकी लकीरें मिलें तुम्हारे हाथ से ???

9th January 2021
इंसाफ उन्हें जिनकी लकीरें मिलें तुम्हारे हाथ से
इधर पीड़ित हाथों से लकीरें ही मिटती जाती हैं
#कंपनसेशन/#रिहैबिलिटेशन क्लेम की सरकारी लूट
#PMOPG/E/2016/0125052
नोट;(1) विभाजन के पश्चात आ रहे रिफ्यूजियों को रेहबिलिलिटेट किया जा रहा है।
(2)जम्मूकश्मीर में हक़ दिए जा रहे है
(3) बिजनोर में कब्जेदारों को जमीनों के हक देने की बात हो रही है

मोदीभापे !यूं लूटने को तो मुल्क में नेता बेशुमार हैं

#मोदीभापे
हुक्मरां तो हमे चाहिए थे न्याय के लिए
यूं लूटने को तो मुल्क में नेता बेशुमार हैं
#कंपनसेशन/#रिहैबिलिटेशन क्लेम की सरकारी लूट
#PMOPG/E/2016/0125052
नोट ;यूपी गाजियाबाद के मुरादनगर #NCR में श्मशान स्थल में 45 लाख ₹ की छत महज तीन माह में गिर गई जिसके नीचे 24 लोग मारे गए ठेकेदार अजय त्यागी ने प्रशासकों को मोटी रिश्वत देने की बात कबूली है

थालियां सबके लिए सजाई जाती है,परोसे के इंतज़ार में मर जाता है दिल

#मोदीभापे
हुक्मरानों के वायदों से दहल जाता है दिल, सियासत के नाम से ही घबराता है दिल
हुकूमतें बदलने की अब जरूरत नहीं ,हर हुकूमत से भर चुका है पीड़ितों का दिल
अलीकुली का देख संसद में नंगा नाच ,लोकतंत्र के मंदिर से ही आंख चुराता है दिल
#आरटीआई का हुआ ऐसा बुरा हाल,अब तो हर सुधार नाम से बिफर जाता है दिल
थालियां सबके नाम से सजाई जाती है जरूर,परोसे के इंतज़ार में मर जाता है दिल

Renowned Urdu Poet & Lyricist Rahat Indori Dies

(Indore)Renowned Urdu Poet & Lyricist Rahat Indori (70)Dies
Famous Urdu poet Rahat Indori, who was being treated for COVID-19, died of a heart attack at a hospital
Indori was undergoing treatment at Sri Aurobindo Institute of Medical Sciences.
In the morning, the lyricist-poet tweeted about his confirmed COVID-19 report and said he will keep everyone updated through social media.
“After initial symptoms of COVID-19, my corona test was done yesterday which came out positive. Pray that I defeat this disease as soon as possible,” Indori said in his last post.
With a 50-year career in poetry, Indori was known for the lyrics of songs like “M Bole toh” from Munnabhai MBBS (2003), Chori Chori Jab Nazrein Mili from Kareeb (1998), Koi jaye to le aye from Ghatak (1996), and “Neend Churai Meri” from Ishq (1997).
Earlier this year, his poem “Bulati hai magar jane ka nahi” went viral on social media, rendering him a sensation among the youth.

मोदीभापे!सरकारों ने लूटे रिफ्यूजियों के ,कंपनसेशन क्लेम

#मोदीभापे!इंसाफ के रस्मो रिवाज ,वो रिवायत हैं किसके लिए?
भरोसा आप पर भी करना ,कहीं भूल ना हो जाये
इंसाफ के रस्मो रिवाज ,वो रिवायत हैं किसके लिए
#रिहैबिलिटेशन/#कंपनसेशन क्लेम की लूट
#PMOPG/E/2016/0125052
Narendra Modi RAHUL GANDHI Rahul Gandhi Prabhu Chawla Anuj Mittal Ajay Gupta Shiromani Akali Dal Bjp Punjab Ravi Sharma Ravi Mathur
Rajendra Tripathi Raj Kumar Makkad Kuldeep Panwar Gautambir Singh Dr-Sandeep Sablok Mahesh Bali Laxmikant Bajpai, Ex-BJP President, Uttar Pradesh InderMohan Ahuja Inderjeet Singh Zira

Narendra Modi Harbinger of Prosperity & Apostle of World Peace”Released

(New Delhi) Narendra Modi Harbinger of Prosperity & Apostle of World Peace”Released
A new biography on Prime Minister Narendra Modi has been released.
The book, “Narendra Modi Harbinger of Prosperity & Apostle of World Peace”, was released by justice (retd) K G Balakrishnan, former chief justice of India, to mark the completion of six years of Modi as the Prime Minister.
Amid the ongoing lockdown, the book release event was hosted on the internet on Friday, with dignitaries present in both India and the US, according to a statement issued by its co-author Adish C. Aggarwala.
The book is co-authored by Aggarwala, President of the International Council of Jurists and Chairman of All India Bar Association, and Elisabeth Horan, an American author and poet.

ना रिश्ता,ना वास्ता,ना ही मोबाइल नंबर वोह फिर भी जहन में आजाते हैं

में और मेरी तन्हाईयाँ जब भी आपस मे बात करते हैं
कॉलेज के दिनों में दिमाग पर छाए चेहरे याद आते हैं
उस उम्र में तरसाने वाले चेहरे खासुलखास
इस उम्र की तन्हाइयों में भी तड़पा जाते हैं
ना रिश्ता,ना वास्ता,ना ही मोबाइल नंबर
झल्ला वोह फिर भी जहन में आ जाते हैं