Ad

Archive for: May 2013

फ़ेडरल एजुकेशन लोन रेट्स को डबल नही किये जाने के लिए बराक ओबामा की २०१२ की तरह आन्दोलन छेड़नेकी भावुक अपील

अमेरिका में संघीय छात्रों के एजुकेशन लोन रेट्स को सस्ता रखे जाने की मुहीम फिर से बीते वर्ष की तरफ लौट रही है अगर अमेरिकन कांग्रेस ने कोई सकारात्मक निर्णय नही लिया तो मात्र ३० दिनों के पश्चात[एक जुलाई से] सात मिलियन हायर एजुकेशन स्टूडेंट्स को १०००$ अतिरिक्त का भुगतान करना होगा|इसकी रोक थाम के लिए प्रेजिडेंट बराक [एच]ओबामा ने छात्रों से अपील की है कि अपने राजनितिक प्रतिनिधियों और कालेज प्रशासन पर दबाब बना कर यह पूछा जाये कि अब ऐसा कौन सा बदलाव आ गया है जिसके कारण फ़ेडरल लोन रेट्स को डबल किये जाने से रोका नही जा रहा| रोज गार्डन में छात्र और युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि बीते वर्ष की भांति फिर से कालेज प्रशासन पर दबाब बनाने के लिए आगे आयें| ओबामा ने स्मरण करते हुए कहा कि बीते वर्ष छात्र और युवाओं के आन्दोलन से हाउस[186] & सिनेट[२४] रिपब्लिकन्स भी डेमोक्रेट्स[सत्तारुड] के साथ सहयोग करने के लिए राजी हो गए थे और स्टूडेंट लोन रेट्स को बढाने नहीं दिया गया द्विदलीय प्रणाली में डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन्स का एक साथ एक प्लेटफार्म पर आना लाज़मी है और यदि इसके लिए किसी भी सदस्य की सोच में आपके विरुद्ध कोई बदलाव दिखाई देता है तो उसे अपने पक्ष में बदलने के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से भी दबाब बनाया जाना चाहिए |
व्हाईट हाउस से जारी विज्ञप्ति के अनुसार प्रसीडेंट ओबामा ने इस संवाद को कालेज प्रशासन तक लेजाने पर भी जोर दिया है|ओबामा के अनुसार सस्ता एजुकेशन लोन केवल स्टूडेंट के फेवोर में नहीं है वरन यह राष्ट्र हित में भी है| हायर एजुकेशन कुछ लोगों के लिए केवल लग्जरी नही है वरन आर्थिक विकास के लिए आवश्यकता है इसीलिए उच्च शिक्षा को प्रत्येक परिवार की हैसियत में होना चाहिए|
गौरतलब है कि २००९ में देय कर्ज़दार छात्रों में से १३% को मात्र तीन सालों में ही दिवालिया[ defaulted ] का अभिशाप झेलना पड़ा|एजुकेशन लोन रेट्स महँगा होने के कारण प्रोफेशनल्स डॉक्टर्स+ टेक्नोक्रेट्स आदि की बेहद कमी है|जिनकी पूर्ती के लिए दूसरे मुल्कों पर निर्भरता है| कांग्रेस के रुख से संभवत निराश होकर राष्ट्रपति बराक ओबामा ने छात्रों और युवाओं के यह भावुक अपील की है| बीते वर्ष भी इसी तरह के आन्दोलन के पश्चात हायर एजुकेशन लोन रेट्स पर नियंत्रण रखा जा सका था|

किंग फिशर एयर लाइन्स ने ३८०मिलियन $ का घाटा दर्ज़ कराया :दूसरी एयर लाइन्स की चांदी

शराब किंग विजय माल्या की कर्ज में डूबी किंगफिशर एयरलाइंस ने 31 मार्च, को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में ३८०मिलियन $[ 4,301.11 करोड़ रुपये ]का घाटा होने की घोषणा की है। इससे पहले कंपनी को 2,328.01 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने अक्टूबर 2012 से किंगफिशर का परमिट सस्पेंड कर दिया, जिसके कारण कंपनी का कामकाज बंद है।कंपनी ने बैंक आदि को ढाई बिल्लियन $का कर्ज़ लौटाना है|
एयरलाइन को 31 मार्च, 2013 तक लगभग 16,023.46 करोड़ रुपये का कुल घाटा हुआ है और कम्पनी की शुद्ध कीमत नकारात्मक होकर 12,919.81 करोड़ रुपये हो गई है.कम्पनी कई महीनों से अपने कर्मचारियों को तनख्वाह देने में भी असमर्थ रही है.\कंपनी के शेयर आज [एन एस ई] ६.०३ पर नोट किये गए| नंबर दो पर रही इस कम्पनी के बंद रहने से या पतन से एयर इंडिया और इंडिगो के अलावा दूसरी निजी एयर लाइन्स को फायदा हो रहा है|

पी एम् ने श्रीमति सोनिया के साथ मतभेदों से इंकार करते हुए कहा हम साथ साथ हैंP C of Dr Man mohan Singh In Plane

कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गाँधी ने यद्यपि डा. मन मोहन सिंह को राज्य सभा का चुनाव[ पांचवी बार] जितवा कर यह साबित कर ही दिया है कि प्रधान मंत्री और यूं पी ऐ अध्यक्षा में कोई मतभेद नही है लेकिन इसके बावजूद आज प्रधान मंत्री डॉ .. मन मोहन सिंह ने स्वयम भी मतभेदों की खबरों को निराधार बताया है| डा. सिंह ने बेहद ईमान दारीसे यह स्वीकार करते हुए कहा कि वह आज भी महत्वपूर्ण मुद्दों पर आपस[ प म &पार्टी प्रेजिडेंट] में सलाह-मशविरा करते हैं।और उनमे कोई मतभेद नही है|
जापान और थाईलैंड की पांच दिवसीय यात्रा से लौटने के दौरान अपने विशेष विमान में संवाददाताओं से बातचीत में एक प्रश्न के उत्तर में डा. सिंह ने दोहराया “मेरे और कांग्रेस अध्यक्ष के बीच कोई मतभेद नहीं है। हम तकरीबन सभी मुद्दों पर साथ मिलकर काम करते हैं।”
रेलमंत्री पवन बंसल + कानून मंत्री अश्विनी कुमार के इस्तीफे को लेकर श्रीमति सोनिया के साथ मतभेद के बारे में पूछे जाने पर प्रधानमंत्री ने कहा कि , जहां भी परामर्श की आवश्यक होती है, मैं [डा]कांग्रेस अध्यक्ष[श्रीमती सोनिया] से मशविरा करता हूं और इसलिए ऐसा कहना गलत होगा कि श्री मति सोनिया और मेरे [डा]बीच किसी तरह के मतभेद हैं।
यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार से तृणमूल कांग्रेस और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के अलग होने के बाद अगले आम चुनाव के लिए नए सहयोगियों की तलाश कर रही है, इस प्रश्न को उन्होंने पार्टी पर छोड़ते हुए कहा कि पार्टी इस पर विचार करेगी।
प्रधानमंत्री ने आईपीएल विवाद पर कहा है कि राजनीति और खेल को अलग रखा जाना चाहिए। हालांकि अभी इस मामले की जांच चल रही है इसलिए इस मुद्दे पर कुछ भी बोलना ठीक नहीं होगा।
संसद की कार्यवाही को बाधित करने के लिए विपक्ष की निन्दा करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज कहा कि यह पहले की अपेक्षा अब ज्यादा असहिष्णु हो गया है ।PRESS RELEASE OF M E A

सपा ने पूर्व घोषित” हलके” उम्मीदवार बदलने शुरू किये: बिजनौर से अनुराधा चौधरी का भी टिकट कटा

उत्तर प्रदेश में सत्ता रुड समाज वादी पार्टी ने अब लोक सभा के चुनावों में हलके साबित हो सकने वाले पूर्व घोषित उम्मीदवारों के स्थान पर जिताऊ उम्मीदवारों को उम्मीदवारी देनी शुरू कर दी है|बिजनौर से अनुराधा चौधरी सहित पञ्च उम्मीदवारों को बदल दिया गया है|
समाज वादी पार्टी के प्रवक्ताऔर मंत्री वरिष्ठ राजेंद्र चौधरी ने बताया कि
[१]बिजनौर से अनुराधा चौधरी[२]अलीगढ से के शर्मा[पत्नी गुड्डू पंडित ][३]आजम गढ़ से[पूर्व मंत्री] बलराम यादव के अलावा [४]गोंडा से के वी सिंह [५]सहारनपुर में पूर्व घोषित उम्मीद वार बदल दिए गए हैं इनके स्थान पर निम्न सदस्यों पर भरोसा जताया गया है| अनुराधा रालोद छोड़ कर सपा में शामिल हुई थी
[अ]बिजनौर =पूर्व सांसद आमिर आलम [आ]अलीगढ==जफ़र आलम[इ]गोंडा=राहुल शुक्ला[सपा विधायक के पुत्र][ई]आजम गढ़ से हवलदार सिंह[उ]सहारनपुर से फिरोज आफताब
इस बदलाव के कारण बताते हुए वरिष्ठ समाजवादी नेता ने कहा कि पार्टी को लग रहा है कि ये उम्मीद वार चुनावी समर को पार नही कर पायेंगे इसीलिए अब जिताऊ उम्मीदवार तलाशे गए हैं| मेरठ में बसपा द्वारा मुस्लिम वोटों का ध्रुवि करण किये जाने से अविचलित राजेंद्र चौधरी ने कहा कि मुसलमानों का भरोसा बसपा पर नही वरन सपा पर है और रहेगा गौरतलब है कि लोक सभा के चुनावो के लिए सपा ने पहले ही अपने उम्मीदवार घोषित करने शुरू कर दिए थे अब जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे ही पार्टी ने जिताऊ उम्मीदवार लाने शुरू कर दिए है|

विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर एन सी सी की बटालियनों ने जागरण रैली निकाली :World Anti Tobacco Day

[मेरठ]विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर एन सी सी कैडेट्स ने रैली निकाली और प्रदर्शनी लगाई|जिलाधिकारी कार्यालय से डी एम् एन रिणवा ने २२ गर्ल्स बटालियन की रैली को बटालियन का झंडा दिखा कर रवाना किया और नशे से दूर रहने का उपदेश दिया| डी एन इंटर कालेज में लगाई गई| प्रदर्शनी में पोस्टरों और स्लोगनों के माध्यम से तम्बाकू के सेवन से होने वाली हानि को प्रभाव पूर्ण तरीके से दर्शाया गया |इस प्रदर्शनी में एक गोष्ठी का भी आयोजन किया गया|इसका विषय “नशा भारतीय संस्कृति पर कुठाराघात है” था|कैडेट्स ने नशे से दूर रहने की शपथ भी ग्रहण की |७२ बटालियन के मेजर एस के शर्मा+सरबजीत कपूर+मुकेश कुमार+राम बहादुर +भू प्रकाश शर्मा+अलोक कुमार [जिला मद्दनिषेध एवं समाजोत्थान अधिकारी]आदि ने नशे की बुराइयों पर प्रकाश डाला|

राज्य सभा के लिए कांग्रेस ने एक नया सांसद असम से जीता मगर तेलंगाना से दो लोक सभा सांसद गवां दिए

झल्ले दी झल्लियाँ गल्ला

एक कांग्रेसी चीयर लीडर झल्ला

बेशक यह आप जी के लिए क्षणिक ख़ुशी की बात ही हो सकती है क्योंकि पी एम् के साथ केवल एक ही सांसद राज्य सभा में आप जी के खाते में आया है जबकि तेलंगाना निर्माण के लिए धर्म युद्ध लड़ रहे आप कि पार्टी के सांसद [१]विवेक+[२]जगन्नाथ ने आप की पार्टी से किनारा कर लिया है|इनके साथ लुभाव में केशव राव भी पतली गली से निकल लिए है|अर्थार्त राज्य सभा में एक नया सांसद आया और लोक सभा से दो सांसद निकल गए

अंतराष्ट्रीय ओलिंपिक संघ के अखाड़े में मूर्छित पड़ी कुश्ती की प्रतिस्पर्धा को एक लाइफ लाइन मिली

अंतराष्ट्रीय ओलिंपिक संघ के अखाड़े में मूर्छित पड़ी कुश्ती की प्रतिस्पर्धा को एक लाइफ लाइन मिल गई है| इससे भारतीय खेल जगत में खुशी की लहर दौड़ गई है| फाइनल मुकाबिला 8 सितंबर को ब्यूनस आयर्स की मीटिंग में होगा \
मास्को के सेंट पीट्सबर्ग में बुधवार रात हुई बोर्ड की बैठक में 8 दावेदारों में से 3 खेलों का चयन किया। अब 8 सितंबर को ब्यूनस आयर्स में होने वाली आईओसी की आमसभा की बैठक में कुश्ती को स्क्वॉश तथा एवं बेसबॉल से मुकाबला करना होगा। इन तीनों में केवल एक खेल को ओलंपिक 2020 के मुख्य खेलों में जगह मिलेगी।
पांच अन्य खेलों वुशु, वेकबोर्ड, क्लाइम्बिंग, कराटे और रोलर स्पोर्ट्स को बाहर कर दिया गया है| आई ओ ऐ के कार्यकारी अध्यक्ष प्रोफ. वी के मल्हौत्रा + पहलवान सुशील + योगेश्वर ने कुश्ती को उन तीन खेलों में शामिल करने के अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के फैसले का प्रसन्नता से स्वागत किया।
श्री मल्हौत्रा ने कहा है के कुश्ती भारत के शहर से गावों तक बेहद लोकप्रिय खेल है और आईओसी का यह अच्छा कदम है।लेकिन इसके साथ ही उन्होंने आशंका व्यक्त करते हुए बताया के 8 सितंबर को ब्यूनस आयर्स में होने वाली आईओसी की आमसभा की बैठक के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पायेगी|
गौरतलब है के कुश्ती आधुनिक ओलंपिक ही नहीं बल्कि प्राचीन ओलंपिक खेलों का भी हिस्सा रही है। समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार छत्रसाल स्टेडियम में 150 जूनियर पहलवान अभ्यास करते हैं
मालूम हो के ओलंपिक के सबसे पुराने खेल कुश्ती को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के कार्यकारी बोर्ड ने फरवरी में 2020 होने वाले ओलंपिक के मुख्य खेलों की सूची से हटा दिया था।हालांकि इस पर अंतिम फैसला सितंबर में ब्यूनस आयर्स में होगा। स्क्वॉश तथा साफ्टबॉल एवं बेसबॉल से मुआईओसी की समिति ने आठ खेलों में से कुश्ती, स्कवैश और बेसबॉल या साफ्टबॉल को 2020 ओलंपिक में शमिल करने के लिए शॉर्टलिस्ट किया है। इनमें से एक खेल को 2020 ओलंपिक में जगह मिलेगी।

अमेरिका के आर्थिक नीतियों के सलाहकार एलन क्रूगर अब पुनः विश्व विधालय के छात्रों को श्रम अर्थ शास्त्र पड़ाएंगे

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक [एच]ओबामा ने आर्थिक नीतियों के सलाहकार एलन क्रूगर से पल्ला झाड़ा|क्रूगर अब पुनः विश्व विद्यालय में पडाएंगे |
अमेरिका के व्हाईट हाउस से जारी ब्यान + समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार हाउस की आर्थिक सलाहकार समिति के अध्यक्ष एलन क्रूगर अगले छह सात माह में प्रिंसटन विश्व विद्यालय में प्रोफ़ेसर के अपने पुराने काम पर लौट जायेंगे|गौरतलब है कि ओबामा ने पिछले दिनों क्रूगर को आर्थिक नीतियों पर सलाह देने वाले एक अच्छे अर्थ शाष्त्री और विश्वसनीय सलाहकार बताया था|
प्रिंसटन विश्वविद्यालय के श्रम अर्थशास्त्री क्रूगर को ओबामा ने ऑस्टन गूल्सबी के स्थान पर 2011 में अपना शीर्ष आर्थिक सलाहकार बनाया था।

डा. मन मोहन सिंह तीसरी बार पी एम् बने या ना बने लेकिन नई संसद[राज्य सभा] के लिए तो जीत ही गए

डा मन मोहन सिंह के प्रधान मंत्री की तीसरी पारी के लिए बेशक आये दिन सवाल उठते रहते हो मगर डा. सिंह ने अगली संसद[राज्यसभा] में अपनी सीट तो सुरक्षित कर ही ली है| प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह [कांग्रेस]ने लगातार पांचवी बार गुरुवार को राज्यसभा के लिए अपनी सीट सुरक्षित कर ली है | डा. मन मोहन सिंह की पार्टी कांग्रेस ने असम से राज्य सभा की दूसरी सीट भी जीत ली है।गौरतलब है कि प्रथम वरीयता के लिए केवल डा. सिंह ही प्रत्याशी थे| इसके अलावा पार्टी व्हिप भी जारी किया गया था| डा. सिंह १९९१ से असम से निर्वाचित होते आये हैं|
असम विधानसभा के प्रधान सचिव और निर्वाचन अधिकारी जीपी दास के अनुसार 126 सदस्यीय सदन में डा. सिंह को प्रथम वरीयता के 49 वोट मिले जबकि कांग्रेस के दूसरे उम्मीदवार एस कुजूर को 45 वोट मिले।
ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोकेट्रिक फ्रंट (AIUDF) के अमीनुल इस्लाम को केवल 18 वोट ही मिले
एआईयूडीएफ केंद्र में संप्रग का सहयोगी दल है जिसके 18 विधायकों ने दूसरी वरीयता के अपने वोट प्रधानमंत्री को दिए।
विपक्षी असम गण परिषद [ AGP ]और भाजपा[ BJP] ने मतदान से गैर-हाजिर रहने का फैसला किया था। इनके केवल क्रमश: नौ और पांच वोट हैं। असम से राज्य सभा में अब कांग्रेस के पांच सदस्य हो गए हैं जबकि ऊपरी सदन के लिए राज्य से कुल सात सीटें हैं।
सुबह नौ बजे से लेकर शाम 4 बजे तक हुए मतदान की गिनती शाम पांच बजे शुरू हुई।
प्रधान मंत्री की वर्तमान सदस्यता १४ जून को समाप्त होने जा रही है| अब डा. मन मोहन सिंह तीसरी बार पी एम् बने या ना बने लेकिन नई संसद[राज्य सभा] के लिए तो चुनाव जीत ही गए इसके अलावा एक बात और क्लीयर हो गई है कि यूं पी ऐ की अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी और प्रधान मंत्री डा. मन मोहन सिंह में कोई दरार नहीं है|

बीसीसीआई [ BCCI ] अध्यक्ष एन श्रीनिवासन[NShrinivasan] नाम का जहाज क्या डूबने वाला है?

लगता है कि बीसीसीआई [ BCCI ] अध्यक्ष एन श्रीनिवासन[NShrinivasan] नाम का जहाज डूबने वाला है तभी अब अपने अध्यक्ष से अलग दिखने की हौड मच लगने लगी है| बी सी सी आई के पूर्व अध्यक्ष एन सी पी सुप्रीमो और केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने विवादों से घिरे आईपीएल छह के सभी 75 मैचों की जांच केन्द्रीय गृह मंत्रालय से कराने की मांग उठा दी है|
लेकिन इसके साथ ही एक कंडीशन लगाते हुए कहा है कि यदि बीसीसीआई गृह मंत्रालय को लिखित में दें और सभी मैचों की जांच करने का आग्रह करे तो सरकार सभी मैचों की जांच कर सकती है। वह किसी से भी पूछताछ कर सकती है। उसे कानूनी स्वीकृति हासिल है। उन्होंने कहा कि यदि बोर्ड इसे स्वीकार नहीं करता है तो लगेगा कि इससे निबटने के प्रति बोर्ड गंभीर नहीं है।इसमें अपने कार्यकाल की विशेषताओं को बताना नही भूले उन्होंने कहा कि अगर मै[पवार] अध्यक्ष होते यह [फिक्सिंग]कभी नही होता |
गौरतलब है कि बीसीसीआई की तीन सदस्यीय समिति गुरुनाथ मयप्पन की जांच कर रही है और रिपोर्ट को बोर्ड की डिसिप्लिन कमिटी को सौंपा जाना है श्रीनिवासन इस सबके अध्यक्ष हैं| और अध्यक्ष ने स्वयम को जांच से अलग रहने की बात की है इसी आश्वासन को आगे बढ़ाते हुए दागी आई पी एल के कमिश्नर +केन्द्रीय संसदीय राज्य मंत्री राजीव शुक्ला ने यह कह कर अपना पल्ला झाड़ लिया है कि जांच चलने तक श्रीनिवासन को अलग रहना चाहिए|
बोर्ड की वित्त समिति के चेयरमैन युवा ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा एक दिन पहले ही अह्य्क्ष से इस्तीफे की मांग की जा चुकी है|खेल मंत्री जितेन्द्र सिंह भी अब अलग सुर अलापने लगे हैं|
यहाँ यह कहना तर्क संगत ही होगा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार १५ दिनों में यह जांच पूरी की जानी है इसीलिए संभवत आनन् फानन में जाँच टीम का गठन कर लिया गया है | आने वाले दिनों में क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले इंग्लैंड में मिनी वर्ल्ड कप खेला जाने वाला हैउसमे भाग लेने से पहले यह विवाद पारदर्शिता के साथ हल किये जाने से खिलाड़ियों के आत्म विश्वास में बढोत्तरी होगी और टीम की प्रतिष्ठा भी बढेगी|