Ad

Category: Tourism

महाकुंभ स्नान के प्राचीन अमृत ज्ञान संग आधुनिक कोरोना विज्ञान का भी सहारा जरूरी

झल्लीगल्लां
आस्थावानहिन्दू

Mahakumbh

Mahakumbh

ओए झल्लेया मुबारकां! ओये आज के पवित्र ध्याड़े हरिद्वार में महाकुंभ मेला शुरू होने जा रहा है।ओये तुझे मलूम है कि अब की बार बारह के बजाय ग्यारह बरस में ही यह पवित्र मेला शुरू हो रहा है।यहां हसाडी प्राचीन संस्कृति की भव्यता के दर्शन और स्नान लाभ मिल सकेंगे। ओये हरिद्वार में ही कल्याणकारी अमृत की बूंदे गिरी थी ।यहीं देवताओं ने कुम्भ घटक दबाया हुआ है ।ओए कुम्भ स्नान से हसाडा जीवन सफल हो जाणा है
झल्ला
झल्लाभापा जी! आस्था के इस महाकुंभ की आप जी को भी लख लख वधाइयाँ। वैसे तो व्यवस्थापक आज कल कोरोना महामारी की आपदा में भी अवसर बनाने पर तुले हैं लेकिन आम नागरिक इन अवसरों में आपदा लेकर घरों को लौटते हैं इसीलिए झल्लेविचारानुसार प्राचीन अमृत ज्ञान के साथ साथ आधुनिक कोरोना विज्ञान का पालन करते हुए ही अवसरों का लाभ लेने को कदम बढाने चहिए इसीलिए कोरोना प्रोटोकॉल जरूरी है

Capt Plays His Most Trusted Political Card “FREE” in Punjab

(Chd,Pb)Capt Plays His Most Trusted Political Card “FREE”
Cabinet today stamped its formal approval on Various such schemes announced by Chief Minister Captain Amarinder Singh earlier this month.
The CM had announced the free travel scheme in the Vidhan Sabha on March 5, as part of his government’s efforts to empower women and girls in the state.
The scheme will benefit over 1.31 crore women/girls across the state. As per Census 2011, Punjab has a population of 2.77 crores (males 1,46,39,465 and female 1,31,03,873).
Under the scheme, women residents of Punjab can avail free bus travel in Government-owned buses, including PEPSU Road Transport Corporation (PRTC), Punjab Roadways Buses (PUNBUS) and City Bus Services operated by Local Bodies. However, the scheme is not applicable to Government-owned AC Buses, Volvo Buses and HVAC Buses. Documents like Aadhaar Card, Voter Card or any other proof of residence in Punjab would be required to avail the facility.
Further, all women who are family members of Punjab Government employees and residing in Chandigarh, or are themselves employees of Punjab Government but live in Chandigarh, can avail the benefit, irrespective of age and income criteria, of free travel in the said government buses.
Punjab Cabinet on Wednesday also gave the nod to the Punjab Urban Development Authorities Amnesty Scheme-2021 for recovery of outstanding installments.
The allottees, who were issued allotment letters based on draw of lots or auction or through some other process but have defaulted in payment of one or more installments due after December 31, 2013, may deposit the principal amount, along with scheme rate of interest, within three months from the date of notification under the amnesty scheme.
The cases where allotments have been cancelled due to default in installments or there is litigation on this count, where instalments were due after December 31, 2013, may also avail this scheme. These cases would be treated as if the cancellation was not done, and the forfeited amount would be treated as credited to the allottees’ accounts on the date of forfeiture. However, the scheme is not applicable where physical possession has been taken over by an authority.
Notably, a sum of Rs. 700 crore is outstanding against various allotees of residential plots, flats, commercial plots, institutional plots, industrial plots and chunk sites sold through draw of lots and auctions. As per prevalent instructions, penalty is imposed if a person defaults in payment of due installment on time, which varies from 3% to 5% per annum, in addition to scheme rate of interest depending on delay in terms of years. This penalty translates into net interest rate of up to 17% per annum, which is very high.

मेरठ का1वाहन कमेला तो कंट्रोल नही हो रहा,देश भर में कमेले खोलने चले

झल्लीगल्लां
व्यंगकार
 ओए झल्लेया !ये क्या हो रहा है? ओए मोदी सरकार स्क्रैप पालिसी थोप कर पुरानी एंटीक गाड़ियों के दर्शन दुर्लभ करने जा रही है।ओए अब एंटीक गाड़ियों का प्रदर्शन/रेस नही होगी । वाहन निर्माता भी अपने वाहन की लंबी लाइफ का दावा नही कर पाएंगे
झल्ला
झल्ला भापा जी!मेरठ का1वाहन कमेला तो कंट्रोल नही हो रहा,देश भर में कमेले खोलने चले
मेरठ के सोतीगंज में एक वाहन कमेला लखनऊ से लेकर दिल्ली के शासन+प्रशासन के काबू नही आ रहा और ये परिवहन मंत्री नितिन गडकरी पूरे देश मे वाहन कमेले खोलने जा रहे हैं और उम्मीद है कि इन कमेलों को पर्यटन केंद्र बना कर प्रवेश टिकट भी लगा दिया जाएगा

गडकरी जी!पर्यटक वाहन यौजना से स्कैनिया बस वालों को कितना फायदा होगा ?

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
ओए झल्लेया! हसाडे सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी जी ने अपने कांधों पर एक और सितारा अर्जित कर लिया।ओए उन्होंने पर्यटक वाहन संचालकों के लिए नई योजना की घोषणा की है जिसके अंतर्गत अब 1 एप्रिल से ऑनलाइन आवेदन जमा करने के 30 दिनों के भीतर परमिट जारी कर दिया जाएगा। इससे बिना किसी बाधा के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और राज्यों का राजस्व बढ़ेगा
झल्ला
चतुर सेठ जी!बेशक यह परमिट वाली स्कीम 3 महीने के लिए है। इसके परिणाम देखने के लिए यह पर्याप्त समय है लेकिन झल्ले दिमाग मे एक शक की सुई चुभने लग गई है।शक ये है कि इस परमिट स्कीम से स्कैनिया की लक्ज़री बस /फॉक्सवेगन वालों को कितना फायदा होगा?

रब्बा! यूपी में विकास के बजटिये लहरों से हमे तो कृपया बचा कर ही रखना

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
ओए झल्लेया !मुबारकां!!ओये हसाडे योगी बाबा ने इस बजट में खजाना लुटा दिया
शाहजहाँपुरिये वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने लैपटॉप पर ही 550000 करोड़ ₹ का बजट प्रस्तुत कर दिया।ओये अब प्रदेश में ढांचागत विकास की गंगा नही बल्कि विकास का समुद्र बहेगा।
झल्ला
चतुर सेठ जी!यह पांचवा बजट भी तुम्हे ही मुबारक। क्योंकि इसमें भी स्थानीय पर्यटन को जगह नही ।आम आदमी तक पहुंच नही। सुरसा सरीखे बढ़ रहे टैक्स से कोई राहत नही।समस्यायों का कोई उल्लेख नही।तिजोरी की सुरक्षा के कोई इंतजाम नही।
हाँ एयरपोर्ट+मेट्रोरेल+स्पोर्ट्सविश्वविद्यालय सरीखे दूर के ढोलों पर आयातित चमड़ा बदलने की कवायद जरूर दिखती है।सो विकास के इस समुद्र की लहरों से हमे तो कृपया बचा कर ही रखना।

पँजांब को फिर बदनाम किया,सिख किसानों के विरुद्ध फिर भड़क रहा आक्रोश

(नयी दिल्ली)#पँजांब फिर बदनाम हुआ। #किसान रूपी #सिखों के विरुद्ध बिफरे लोग ।दिल्ली की सीमाओं पर डेरा जमाए आंदोलनकारियों को वापिस लौटने के अल्टीमेटम जारी।लेकिन प्रदर्शनकारी अभी भी आंदोलन जारी रखने पर अड़े हुए है।
1984 में पवित्र #स्वर्णमंदिर पर कब्जा करकेकुर्सी मोहियों ने आपरेशन #ब्लूस्टार को आमांत्रित किया। स्वर्ण मंदिर की पवित्रता भंग करने की साजिश हुई।दुष्परिणाम स्वरूप तत्कालीन पीएम श्रीमती इंदिरा गांधी की जघन्य हत्या हुई जिसका बदला निर्दोष सिखों की हत्या करके लिया गया।उस समय सिखों को सन्देह की नजर से देखा जाने लगा।पँजांब से बाहर निर्दोष सिखों को लूटा गया उन्हें मौत के घाट उतारा गया।
अब उस अप्रिय घटना की पुनरावृत्ति का षड्यंत्र रचा गया।कृषि कानूनों का विरोध करते समय 72 वें गणतन्त्र दिवस पर दिल्ली को ट्रैक्टर टेरर से भयभीत किया गया।ऐतिहासिक #लालकिले पर नाजायज कब्जे की नाकाम कोशिश की गई। यह तो गनीमत रही कि दिल्ली पुलिस ने अपने 394 कर्मियों को घायल होने के उपरांत भी बंदूक चलाने के बजाय पूर्ण। संयम से हाथ जोड़ कर उग्रवादियों की उग्रता को कम करने का प्रयास किया ।ट्रैक्टर टेरर के षड्यन्त्र के विरुद्ध यूपी+हरियाणा+राजस्थान के सीमावर्ती किसान एक जुट होकर किसान प्रदर्शनकारियों के विरोध में खड़े होने लग गए हैं।इनकी भाषा मे पँजांब के सिखों के प्रति वही पुराना गुस्सा +वही पुरानी नफरत दिखाई देने लग गई है।
दिल्ली पुलिस ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा को लेकर योगेंद्र यादव और बलबीर सिंह राजेवाल समेत 20 किसान नेताओं को नोटिस जारी किया है और पूछा है कि उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए।अभी तक पर्दे के पीछे से प्रदर्शन का समर्थन कर रहे विपक्ष ने आंदोलनकारियों के समर्थन में संसद में भी खुल कर सामने आने की घोषणा कर दी है।विपक्ष किसानों के मुद्दे पर 16 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के अभिभाषण के बहिष्कार का फैसला कर लिया है।

ट्रैक्टर उपद्रव में 25 एफआईआर में 37 नामजद और गिरफ्तार ओनली 19

#दिल्लीपुलिस प्रशंसक
ओए झल्लेया !हमारी दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टरमार्च की आड़ में आतंक फैलाने वाले उपद्रवियों पर 25 एफ आई आर दर्ज करके तुरन्त कार्यवाही शुरू भी कर ली है ।ओए राष्टीय अस्मिता से खिलवाड़ करने वाला कोई उपद्रवी अब बचेगा नही
#झल्ला
भापाजी!कभी बिना आई एफआर के भी कानून व्यवस्था बना ली जाती थी लेकिन आपकी वर्तमान
दिल्लीपुलिस ने यह फिर से स्थापित कर दिया कि नालायक का बस्ता भारी ही होता है क्योंकि 394 पुलिस वाले घायल हुए+करोड़ों ₹ की सम्पत्ति स्वाह हुई +राष्ट्र केअमूल्य सम्मान को चोट पहुंचाई गई +बहुमूल्य लाल किले को दागदार किया गया ।इस पर हुआ ये कि 25 एफ आई आर में 37 किसान नेताओं के नाम और गिरफ्तारी केवल 19 की ही हुई
वैसे #संयुक्तकिसानमोर्चे ने भी अपने बस्ते को हल्का करना शुरू भी कर दिया है

भोलेनाथ!हज हाउस की जैसी दुर्दशा से अपने मानसरोवर भवन को बचाना

#प्रसन्नचितभाजपाई
ओए झल्लेया! मुबारकां!!
ओए हसाडे समर्पित सीएम महंत आदित्यनाथयोगी जी ने गाजियाबाद में कैलाशमानसरोवर भवन का उद्घाटन कर दिया।अब 132 करोड़ ₹ के इस भवन में भोले के भक्तों को दुर्गम यात्रा सम्बन्धी सुविधाएं मुहैया करवाई जाएगी।
#झल्ला
चतुर सेठ जी
बचपन मे सुनते थे कि कहीं मन्दिर है तो उसके आसपास मस्जिद या मजार जरूर खड़ी कर दी जाती थी ।यहां तक के सड़क के किनारे ईंट लगा कर उस पर सफेदी पौत दी जाती थी और उस पर अंधभक्त्तों का चढ़ावा शुरू होजाता था जिसे शाम होते होते कथित धर्मी बटोरते नजर आते थे।
अब चूंकि आपजी की सरकार है तो गाजियाबाद में हज हाउस हो और आपका स्मारक ना हो तो आपके अधिकारों का हनन होगा। वैसे विशाल हज हाउस की दुर्दशा से सबक लेकर भवन को सुव्यवस्था दी गई तो समझेंगे कि इसमे लगे झल्ले का टैक्स सुकारथा हो गया

मेरठ, जबलपुर सहित सात शहरों के पुरातत्विक स्मारकों के सरंक्षण को मंजूरी

(नई दिल्ली)मेरठ सहित सात शहरों के पुरातत्विक स्मारकों के सरंक्षण को मंजूरी
त्रिची, रायगंज, राजकोट, जबलपुर, झाँसी और मेरठ को नए सर्कल के रूप में घोषित किया गया है और हम्पी मिनी सर्कल को पूर्ण विकसित सर्कल में बदला गया है
केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल के अनुसार
नए सर्कल पुरातात्विक स्मारकों के संरक्षण और पंजीकरण की प्रक्रिया को मजबूत बनाया जाएगा।
संस्कृति मंत्रालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के 7 नए सर्कलों की घोषणा की है। यह जानकारी संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने आज उनके द्वारा ट्वीट किए गए एक वीडियो संदेश में साझा की।
श्री पटेल ने कहा कि कर्नाटक में हम्पी शहर अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्‍त स्थान है इसलिए हम्पी मिनी सर्कल को पूर्ण विकसित सर्कल में बदल दिया गया है, मंत्री ने कहा। इससे पहले देश भर में 29 एएसआई सर्किल थे।
पुरातत्विक स्मारकों के संरक्षण,पंजीयन,पुराशेषों को स्वघोषणा के साथ पंजीकृत करने के अभियान को बल देने वाले मा प्रधानमंत्री जी के निर्देश को सफल बनाने के लिए संस्कृति मंत्रालय ने @ASIGoI के नये सर्किल को घोषित किया है @
श्री पटेल ने कहा कि तमिलनाडु जैसे बड़े राज्य में, जिसमें हजारों मंदिर हैं और चोल राजाओं की शानदार यादें हैं, त्रिची को चेन्नई के सर्कल के साथ एक नया सर्कल बनाया गया है। कर्नाटक पवित्रता की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण राज्य है। कर्नाटक में हम्पी शहर पुरातात्विक विरासत के दृष्टिकोण से अंतर्राष्ट्रीय महत्व का स्थान है इसलिए हम्पी उप-सर्कल को अब एक नया पूर्ण विकसित सर्कल बना दिया गया है। पश्चिम बंगाल में, रायगंज को कोलकाता के साथ एक नया सर्कल बनाया गया है, इससे बंगाल जैसे बड़े राज्य में भौगोलिक असुविधा समाप्त हो जाएगी। गुजरात में, वडोदरा के साथ राजकोट कोएक नए सर्कल की घोषणा की गई है।
श्री पटेल ने कहा कि मध्य प्रदेश में भोपाल के साथ जबलपुर को एक नया सर्कल घोषित किया गया है। इसमें जबलपुर, रीवा, शहडोल और सागर संभागों के स्मारकों को शामिल किया जाएगा। संस्कृति मंत्री ने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश में लखनऊ और आगरा के साथ बुंदेलखंड में झांसी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मेरठ सहित दो नए सर्कलों की घोषणा की गई है।

India Post Launches Stamp Design Contest with Prize ₹50K

India Post Launches Stamp Design Contest with Prize ₹50 K
last date for submission of entries is July 27.
Commemorative postage stamps will be issued on the occasion of Independence Day based on the best entry which will also fetch a cash award of Rs 50,000, the Philately division of the Department of Posts stated in a release on Tuesday.
“The photography competition for Independence Day 2020 has been launched on the “MyGov” portal where contestants of all age groups, amateur or professional photographers from all parts of the country, may participate by uploading the photographs
The first and second runner-up will get Rs 25,000 and Rs 10,000 respectively while there will be Rs 5,000 consolation prizes for five participants,
File Photo