Ad

Archive for: September 2013

मोदी जी सी बी आई तो सरकार बचाने के लिए है चुनाव जीतने के लिए आर बी आई भी काम आती है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

चेयर लीडर कांग्रेसी

ओये झल्लेया मुबारकां ओये देख्या हसाड़े सोणे ते मन मोहणे पी एम् दा कमाल ओये एक झटके में गरीबों को कर देंगे मालामाल ओये दो करोड़ गरीबों को सात हज़ार करोड़ की लागत के मोबाइल दे कर उन्हें भी अमीरी का एहसास करा ही दिया जाएगा| मनरेगा +मिड डे मील + सेवेंथ पे कमीशन +के बाद अब मोबाइल दे कर कांग्रेस के हाथ से आम आदमी की सेवा की जायेगी|अब तो मानता है ना कि कांग्रेस का हाथ है आम आदमी के साथ | और ये भाजपाई हमें बदनाम करते फिर रहे हैं कि अगला चुनाव सी बी आई लडेगी|

झल्ला

खैर मुबारक जी |वाकई समुद्री किनारों में रहने वालों के लिए मोबाइल बेहद लाभ कारी साबित हो चुका है लेकिन बात खातिर जमीत रखना बोले तो ध्यान रखना कि यूं पी में लैप टॉप दिया जा रहा है अब मोबाइल तो लैप टॉप से छोटा ही होगा |सयाने कह गए हैं कि लाइन खींचो तो पहले से बड़ी ही खींचो| जहाँ तक बात सी बी आई की है तो चतुर सुजाण जी सी बी आई तो सरकार बचाने के काम आती है चुनाव लड़ने के लिए तो सी बी आई के अलावा भारतीय रिजर्व बैंक [आर बी आई ]भी मैदान में आ जाती है अब देखो चुनावों से पहले बिहार को देश का सबसे कम विकसित राज्य बता ही दिया के नहीं

रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान के खिलाफ तीन साल पुरानी ऍफ़ आई आर पर गैर जमानती वारंट जारी

[फैजाबाद]। राष्ट्रीय लोकदल[रालोद] के प्रदेश अध्यक्ष +पूर्व सिंचाई मंत्री मुन्ना सिंह चौहान सहित पांच लोगों के विरुद्ध तीन साल पुराने मामले में गैर जमानती वारंट जारी किये गए हैं |
जिसे श्री चौहान ने फर्जी रिपोर्ट पर उत्पीडन की कार्यवाही बताया है| सेकंड न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मुन्ना सिंह चौहान और पूर्व जिला पंचायत सदस्य विश्वेशनाथ मिश्र उर्फ सुड्डू समेत पांच लोगों के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किये हैं|
पांचों आरोपियों के हाजिरी माफी प्रार्थनापत्र को निरस्त करके किया है।
रालोद नेता से इस बाबत पूछने पर उन्होंने बताया कि एक दलित [पासी] परिवार को न्याय दिलाने के लिए 19 जुलाई 2010 को पार्टी के लगभग डेढ़ सौ समर्पित समर्थकों के साथ पूराकलंदर थाने का केवल घेराव किया था थाने का दोषी प्रभारी स्थान्तरित भी हो गया लेकिन जाते जाते वोह अपनी रिपोर्ट में पूराकलंदर थाने के सामने इलाहाबाद-फैजाबाद राजमार्ग जाम करने का आरोप भी मढ़ गया | श्री चौहान के अनुसार एक तरफ तो प्रदेश सरकार बसपा की मायावती की सरकार में दर्ज़ फर्जी ऍफ़ आई आर को निरस्त करने का दावा कर रही है और दूसरी तरफ फर्जी ऍफ़ आई आर के आधार पर उनका औत्पिदन किया जा रहा है|उन्होंने न्यायिक प्रणाली में विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि अगली तारीख पर अदालत जाकर न्यायाधीश महोदय को स्थिति से अवगत कराएँगे|

एयर एशिया इंडिया एयर लाइन्स को सिविल एविएशन मंत्रालय ने अनापत्ति प्रमाण पत्र दे ही दिया :अब डी जी सी ऐ की बारी

एयर एशिया इंडिया एयर लाइन्स को सिविल एविएशन मंत्रालय ने अनापत्ति प्रमाण पत्र दे ही दिया :अब डी जी सी ऐ की बारी एयर एशिया इंडिया के प्रभारी टोनी फेर्नान्देज़ ने सोशल साईट पर ट्विट करके एयर एशिया इंडिया को अनापत्ति प्रमाण पत्र [एन ओ सी] जारी करने के लिए भारत सरकार की प्रशंसा करने की मंशा जाहिर की है इससे लगता है के टाटा और मलेशिया की एयर एशिया एयर लाइन्स के जॉइंट वेंचर एयर एशिया इंडिया एयर लाइन्स के पंखों को आजाद कर दिया गया है सिविल एविएशन मिनिस्ट्री से एन ओ सी जारी होने से एयर लाइन्स की राहें बेहद आसान हुई हैं लेकिन अभी भी परवाज /उड़ान भरने के लिए महा निदेशक नागरिक उड्डयन [नियामक] [ DGCA ]से फ़ाइल क्लियर करवानी जरुरी है| एयर एशिया इंडिया को बजट एयर लाइन्स की श्रंखला को आगे बढाने वाली एयर लाइन्स बताया जा रहा है जिसके आने से देश में स्पाइस जेट +इंडिगो आदि वर्तमान लो कास्ट एयर लाइन्स को घरेलू आकाश में कड़ी प्रति स्पर्धा मिलेगी |
गौरतलब है कि मलेशिया की एयर एशिया ने बहु राष्ट्रीय टाटा संस और टेलेस्त्रा के अरुण भाटिया के साथ बीते फरवरी में जॉइंट वेंचर के रूप में एयर एशिया इंडिया के गठन की घोषणा की थी|

डॉ मन मोहन सिंह ने बराक ओबामा की भारत से मित्रता की रूचि पर सकारात्मक रुख व्यक्त किया

भारत के प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह ने आज अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत से मित्रता की पहल पर सकारात्मक रुख व्यक्त किया | पी एम् ने वाशिंगटन पहुँच कर कहा कि भारत के विकास में अमेरिका बेहद महत्पूर्ण कूटनीतिक+व्यापारिक+निवेशक+तकनीक साझेदार देश है और प्रेजिडेंट बराक ओबामा के शासन काल में इस मित्रता को गाढा करते हुए अनेकों नए आयाम दिए गए हैं|

The Prime Minister, Dr. Manmohan Singh being welcomed on his arrival at Andrews Air Force Base, Maryland, in Washington, on April 26, 2013.

The Prime Minister, Dr. Manmohan Singh being welcomed on his arrival at Andrews Air Force Base, Maryland, in Washington, on April 26, 2013.


इस विजिट में भी इसे आगे बढाने पर विचार विमर्श किया जाएगा|अन्तराष्ट्रीय अर्थ व्यवस्था के साथ साउथ ईस्ट एशिया+ मिडिल ईस्ट+वेस्ट एशिया आदि मामलों पर भी चर्चा की जायेगी|
गौरतलब है कि प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह आज काल संयुक्त राष्ट्र के सम्मलेन में भाग लेने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका[USA ]गए हुए हैं|यहाँ पाकिस्तान और अमेरिका के न्रेतत्व से उनकी महत्वपूर्ण बैठकें होनी हैं|बराक ओबामा से मुलाकात के दौरान सिविल न्यूक्लियर टेक्नोलॉजी[ civil nuclear technology ]+व्यापार+निवेश+ रक्षा +आतंक वाद +
के छेत्र महत्त्व पूर्ण परिणाम निकलने की संभावना है|इससे पूर्व डिस्ट्रिक्ट कोलंबिया स्थित अमेरिकन वाइट हाउस से भी प्रेस सेक्रेटरी जे कार्नी [ Jay Carney ]ने डॉ सिंह और ओबामा की मुलाक़ात के महत्त्व को स्वीकार किया है|
फोटो कैप्शन
[१]The Prime Minister, Dr. Manmohan Singh being interacting with the media on his arrival at Andrews Air Force Base, Maryland, in Washington, for bilateral meeting with US and 68th Session of the United Nations General Assembly, on April 26, 2013.

Work of American President Barack Obama Now On New Interesting Page “White House Shareables”

Barack Obama’s Team ,These days ,is Busy in finding new Interesting ways to high light the work of American President .
Now a new page is Introduced in which all favorite contents are managed
It would be now easy -to-navigate through this page of favorite contents After infographic and White Board video,This new Page “White House Shareables” Includes
[1]WAYS OBAMACARE HELPS YOU
[2]A PLAN FOR COLLEGE AFFORDABILITY
[3]IMMIGRATION REFORM & OUR ECONOMY
[4]STUDENT LOAN COMPROMISE
courtesy White House

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार २०१३ के लिए आठ वैज्ञानिकों की लिस्ट में पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और उपग्रह विज्ञान में कोई पुरस्कार नही

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2013 की सात विधाओं के लिए घोषित आठ वैज्ञानिकों की लिस्ट में पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और उपग्रह विज्ञान में कोई पुरस्कार नही|
शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2013 की घोषणा कर दी गई है| कुल आठ पुरूस्कार दिए जाने हैं जैव विज्ञान में डॉ. सतीस चुकुरुम्‍बल राघवन को चुना गया है |पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और उपग्रह विज्ञान में कोई पुरस्कार नहीं घोषित किया गया है
वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के महानिदेशक डा. समीर कुमार ब्रह्मचारी ने आज वर्ष 2013 के लिए प्रतिष्ठित शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा नई दिल्ली में आयोजित सीएसआईआर के 71 वें स्थापना दिवस समारोह के दौरान की गयी। वर्ष 2013 के लिए आठ (08) वैज्ञानिकों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार के लिए चुना गया है।
शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार, 2013 के लिए चयनि‍त वैज्ञानि‍कों के नामों की सूची इस प्रकार है:-
[1]जैव विज्ञान
डॉ. सतीस चुकुरुम्‍बल राघवन
जैव रसायन विभाग
भारतीय विज्ञान संस्थान ( आईआईएससी)
बंगलौर 560012
[2]रासायनिक विज्ञान
डॉ. यमुना कृष्णन
राष्ट्रीय जैविक विज्ञान केंद्र
(टीआईएफआर)यूएएस-जीकेवीके, बेल्लारी रोड
बंगलौर 560065
[3]पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और उपग्रह विज्ञान
कोई पुरस्कार नहीं
[4]इंजीनियरिंग विज्ञान
[अ] डॉ. बि‍क्रमजीत बसु
पदार्थ अनुसंधान केंद्र
भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी)
बंगलौर 560012
[आ] डॉ. सुमन चक्रबर्ती
मैकेनि‍कल इंजीनि‍यरिंग वि‍भाग,
भारतीय प्रौद्योगि‍की संस्‍थान(आईआईटी)
खड़गपुर, 721302
[५]गणितीय विज्ञान
डॉ. एकनाथ प्रभाकर घाटे
गणितीय विज्ञान वि‍द्यालय
टाटा मौलि‍क अनुसंधान संस्थान(टीआईएफआर)
होमी भाभा रोड, कोलाबा
मुंबई 400005
[६]चि‍कि‍त्‍सा वि‍ज्ञान
डॉ. पुष्कर शर्मा
रोगरोधी राष्ट्रीय संस्थान (एनआईआई)
अरुणा आसफ अली मार्ग,
नई दिल्ली 110 067
[७]भौति‍क विज्ञान
[अ] डॉ. अमोल दिघे
सैद्धांतिक भौतिकी विभाग
टाटा मौलि‍क अनुसंधान संस्थान (टीआईएफआर)
होमी भाभा रोड , कोलाबा
मुंबई 400 005
[आ] डॉ. विजय बालकृष्ण शेनॉय
भौति‍की वि‍भाग
भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी)
बंगलौर 560012
*पुरस्‍कारों का वि‍तरण प्रधानमंत्री द्वारा किया जाएगा, जि‍सकी ति‍थि‍ की घोषणा बाद में की जाएगी।
शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार भारत में किए गए उनके अनुसंधान और विकास कार्यों के लिए युवा वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की सबसे प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पहचान है। पुरस्कार की स्‍थापना प्रख्यात वैज्ञानिक, संस्थापक निदेशक और सीएसआईआर के प्रमुख वास्तुकार स्वर्गीय डॉ. (सर) शांति स्वरूप भटनागर के सम्मान में 1957 में किया गया था। 450 से अधिक वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों को अब तक उनके अनुसंधान एवं विकास योगदान के लिए विज्ञान के विभिन्न विषयों में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। पुरस्कार में एक प्रशस्ति पत्र, नकद पुरस्कार, एक पट्टिका और सेवानिवृत्ति तक एक मानदेय दिया जाता है|

B J P Again Criticized weak kneed policy of Center against terrorism and Opposed Talk Diplomacy With Pakistan

B J P Again Criticized weak kneed policy of Center against terrorism and Opposed Talk Diplomacy With Pakistan Bhartiya Janata Party[ B J P ]strongly condemned the terrorist attack launched today on the police and security forces in Jammu region. Criticized weak kneed policy of Center against terrorism and demanded that meeting of the Prime Minister Dr. Manmohan Singh with his Pakistani counterpart at New York should have been called off.
B J P President Raj Nath Singh said “These terror strikes on Indian soil are carried out by anti- India forces operating from Pakistan. Since the incumbent UPA government has been pursuing a weak kneed policy against terrorism for the past many years, the terrorists have been emboldened to strike anywhere in India, almost at will.
Contrary to the Prime Minister Dr. Manmohan Singh’s belief there is no signs of improvement on the ground in Pakistan as the ISI and Pakistan army continue to play its active role in destabilising India’s internal and external security.
Let the newly elected government led by Miyan Nawaz Sharif be given some time to prepare the ground for talks by taking strong action anti- India forces operating from Pakistan. Therefore the scheduled meeting of the Prime Minister Dr. Manmohan Singh with his Pakistani counterpart at New York later this week should have been immediately be called off.
As per media reports the Prime Minister has shown no indication to cancel his appointment with Pakistan PM. Ever since the UPA government has come to power it has adopted a compromising Pakistan policy. Be it ‘ Havana Declaration’ or the ‘Sharm al Sheikh’ fiasco the UPA govt has considerably weakened India’s position in Indo-Pak bilateral relations.
When the NDA was in power we had engaged Pakistan from a position of strength and achieved the ‘Islamabad Declaration’ in which Pakistan promised to us that terrorist activities would not be carried out from Pakistani soil. The UPA government has lost that diplomatic edge. Pakistan should be pursued compelled to implement ‘ Islamabad Declaration’ signed on January 6, 2004 before initiating any meaningful dialogue.
Pursuing a spineless diplomacy at this juncture will present India as a ‘soft state’ which could be pushed around by any big or small country. The Prime Minister and the UPA government seems to be in a hurry to initiate dialogue with Pakistan. It also gives an impression as if he is motivated by certain conservative political motive instead of safeguarding our national interest. The BJP believes that there should be no talks with Pakistan unless the environment is conducive for dialogue.

रालोद ने मुजफ्फरनगर हिंसा के दौरान विशेष ड्यूटी पर लगाए गए पुलिस अधिकारियों को हटाये जाने की सीबीआई जांच की मांग की

रालोद ने मुजफ्फरनगर हिंसा के दौरान विशेष ड्यूटी पर लगाए गए पुलिस अधिकारियों को हटाये जाने की सीबीआई जांच की मांग की
राष्ट्रीय लोकदल [रालोद]महासचिव + लोकसभा में मथुरा से युवा सांसद जयन्त चौधरी ने हाल ही में मुजफ्फरनगर हिंसा के दौरान विशेष ड्यूटी पर लगाए गए पुलिस अधिकारियों के छुट्टी पर जाने के घटनाक्रम को अनुचित बताते हुए राज्य सरकार की निन्दा की है।
[१] उन्होंने कहा है कि मुजफ्फरनगर में विशेष ड्यूटी पर लगाए गए एडीजी (कानून-व्यवस्था) अरुण कुमार को छुट्टी पर भेज दिया गया तथा बाद में उन्हें उनके पद से हटा दिया गया। [२]उसके बाद दंगों की जांच के लिए गठित किए गए विशेष जांच प्रकोष्ठ के मुखिया पुलिस अधीक्षक केएन मिश्रा को प्रकोष्ठ के गठन के 24 घंटे के अन्दर ही हटाकर दूसरे पुलिस अधिकारी को इसकी कमान सौंप दी गई और
[३] अब मुजफ्फरगनर के एसएसपी प्रवीण कुमार का छुट्टी पर जाना, राज्य सरकार के ऊपर सवालिया निशान लगाता है।
युवा सांसद ने कहा कि इस पूरे घटनाक्रम से प्रतीत हो रहा है कि मुजफ्फरनगर हिंसा पर राज्य सरकार की नीयत साफ नहीं है और न ही वह गंभीर है। युवा सांसद ने कहा है कि प्रदेश में जल्दी-जल्दी प्रशासनिक फेरबदल अव्यवस्था तथा बदहाली को दर्शाता है। इससे ईमानदार प्रशासनिक अधिकारियों का मनोबल टूटता है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हालात ठीक नहीं है और ऊपर से पुलिस के उच्चाधिकारियों को छुट्टी पर भेजा जा रहा है जो अनुचित है। इससे साबित होता है कि प्रशासन राज्य सरकार के दबाव में है और इस तरह से इस मामले की निष्पक्ष जांच असंभव है। इसलिए इस मामले की जांच सीबीआई द्वारा होनी चाहिए।
सांसद जयन्त चौधरी ने मांग की है कि इस मामले में किसी भी निर्दोष को न फंसाया जाए और प्रशासन निष्पक्ष होकर कार्य करे। रालोद महासचिव ने लोगों से शान्ति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि लोग क्षेत्र में परम्परागत सौहार्द तथा शांति को बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें।

डॉ मनमोहन सिंह ने जम्‍मू- कश्‍मीर के कठुआ सांबा क्षेत्र में हीरानगर पोलिस थाने और रसद सेना के शिविर पर आतंकी हमले की कड़ी निंदा की

प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने जम्‍मू कश्‍मीर के कठुआ सांबा क्षेत्र में हीरानगर थाने और रसद सेना के शिविर पर आज सवेरे हुए आतंकी हमले की निंदा की है।
उन्‍होंने कहा कि इस जघन्‍य आक्रमण की जितनी भी निंदा की जाए, उतनी कम है। उन्‍होंने इस कायरतापूर्ण हमले में शहीद हुए निर्दोष लोगों और बहादुर सेना तथा पुलिस के अधिकारियों के परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना व्‍यक्‍त की है। पी एम् ने कहा कि यह शांति के दुश्‍मनों द्वारा उत्‍तेजना और पाश्विक कार्य की एक और कड़ी है। हम आतंकवादी हमले का मुकाबला करने और उसे परास्‍त करने के लिए दृढ़संकल्‍प है, जो सीमा पार से प्रोत्‍साहन प्राप्‍त करना जारी रखे हुए है। इस प्रकार के आक्रमण हमें रोक नहीं पाएंगे और बातचीत की प्रक्रिया के जरिये सभी समस्‍याओं का समाधान ढूंढ़ने के हमारे प्रयासों को विफल करने में सफल नहीं होंगे। डॉ सिंह वर्तमान में अमेरिका दौरे पर गए हुए हैं वहां उन्होंने पाकिस्तान के अपने समकक्ष से शांति वार्ता को आगे बढ़ाने की भी करने की घोषणा की हुई है|

रक्षा मंत्री श्री ए. के. एंटनी

ने भी आज जम्‍मू में आतंकवादियों द्वारा भारतीय सुरक्षा चौकियों पर किए गए कायरतापूर्ण हमले की निंदा की है।
श्री एंटनी ने इस घिनौने हमले में शहीद हुए अधिकारियों और जवानों के परिवार वालों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना व्‍यक्‍त की है।
रक्षा मंत्री ने कहा कि भारतीय सुरक्षा व्‍यवस्‍था आतंकवादियों से कठोरता से निपटने में कोई कोर कसर नंही छोड़ेगी।
[File]photo caption
Dr. Manmohan Singh arrives at the Frankfurt International Airport, on his way to New York to attend the 68th Session of the United Nations General Assembly,

विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह ने, भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन केलिए, डॉ मन मोहन सिंह को भी समन देने की ठानी

विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह ने भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन केलिए डॉ मन मोहन सिंह को भी समन देने की ठानी विदेशों से संचालित एक सिख मानवाधिकार कार्यकर्ता समूह [एस ऍफ़ जे]भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामलों को मीडिया की सुर्खियाँ देने में कोई कसर नहीं छोड़ता यह संगठन विशेष कर तब हरकत में आता है जब कोई भारतीय नेता अमेरिका की धरती पर कदम रखता है | भारतीय नेता का स्वागत ऐसे ही कोर्ट समन दवारा किया जाता है| प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह के न्यूयॉर्क यात्रा के दौरान भी यह प्रभाव शाली संगठन मीडिया में आ गया है|
अमेरिकी अदालत से प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह के खिलाफ 1990 में पंजाब में चलाए गए आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान कथित मानवाधिकार उल्लंघन के मामले में इस संगठन ने समन जारी करवाने की तैय्यारी कर ली है|
डॉ मनमोहन सिंह के अमेरिका में आगमन पर व्हाइट हाउस स्टाफ और सिंह की सुरक्षा टीम के सदस्यों को यह समन सौंपने की बात कही जा रही है|अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात के लिए भारतीय प्रधानमंत्री गुरुवार को अमेरिका पहुँच गए हैं |
इससे पूर्व 4/9/2013 अमेरिका में इलाज करवाने के लिए पहुंची यूं पी ऐ अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी को भी अस्पताल के स्टाफ के माध्यम से समन दिए जाने की बात उठी थी उस समय न्यूयॉर्क की एक संघीय अदालत ने 1984 के सिख विरोधी दंगों में कथित तौर पर शामिल कांग्रेस नेताओं को ‘बचाने’ को लेकर पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को समन जारी कियाथा जबकि एक निजी कार्यक्रम में पहुंचे पंजाब के मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल को भी इसी स्थिति का सामना करना पडा था| एसएफजे ने इसके अतिरिक्त केंद्रीय मंत्री कमलनाथ सहित कई भारतीय नेताओं के खिलाफ इस तरह के विफल प्रयास किए जा चुके हैं|