Ad

Category: Crime

यूं पी वाले को कमिश्नर बनाकर महाराष्ट्र में मनसे की राजनीति को चुनौती

महाराष्ट्र चीफ मिनिस्टर पृथ्वीराज चव्हान ने जहां एक तरफ मनसे प्रमुख राज ठाकरे की बात मान कर पोलिस कमिश्नर अरूप पटनायक को हटा दिया है वहीं यूं पी के डाक्टर सत्यपाल सिंह को मुम्बई का नया कमिश्नर बना कर ठाकरे के यूं पी+ बिहार विरोधी अभियान की हवा भी निकाल दी है| डाक्टर सत्यपाल सिंह मेरठ यूं पी के निवासी हैं |
गौर तलब है की राज ठाकरे ने अपनी राजनीति को जमाने के लिए यूं पी और बिहार के लोगों को मुम्बई से बाहर किये जाने के लिए आन्दोलन छेड़ा हुआ है |११ अगस्त की हिंसा के विरोध में आज़ाद मैदान में आयोजित रेली में भी राज ने यूं पी के लोगों पर निशाना साधना नहीं छोड़ा|अब चूँकि ११ अगस्त की हिंसा में पोलिस की अकर्मण्यता सरकार की गले में हड्डी बन गई थी सो उसे निकालने के लिए मनसे की आधी मांग मान कर अरूप पटनायक को प्रोन्नत करके बाहर का रास्ता दिखा दिया गया मगर इसके साथ ही बड़ी सूझ बूझ के साथ राजनितिक चतुराई से यूं पी के ही डाक्टर सत्यपाल सिंह को कमिश्नर बना दिया गया |इससे जाहिर है राज ठाकरे जैसे स्वयम्भू महाराष्ट्र रक्षकों को मेसेज मिल गया होगा|

भारतीय किक्रेट नियंत्रण बोर्ड पर 201.36 करोड़ रुपये का आयकर बकाया

भारतीय किक्रेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा 347.06 करोड़ रुपये का भुगतान करने के बाद भी अभी तक पर 201.36 करोड़ रुपये का आयकर बकाया है|
बोर्ड को कुल 548.42 करोड़ रुपये का आयकर देना था .
वित्त राज्य मंत्री एस एस पलानीमणिक्कम ने गुरुवार को राज्यसभा में यह जानकारी दी| वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मोती लाल वोरा के एक सवाल के लिखित जवाब में मंत्री ने कहा कि 18 अप्रैल 2012 के आंकड़ों के अनुसार बीसीसीआई को 548.42 करोड़ रुपये बतौर आयकर देने थे, जबकि उसने 347.06 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है और उस पर अभी भी 201.36 करोड़ रुपये का बकाया है|यह तब है जब की बी सी सी आई के पधाधिकारी सरकार में अहम पद पर हैं|
मंत्री ने बताया कि करों की वसूली एक सतत प्रक्रिया है और विभाग द्वारा उत्पन्न मांगों की वसूली के लिए उचित उपाय किए गए हैं.

पी ऐ संगमा ने नेशनल पीपुल्स पार्टी बनाई

यूं पी ऐ के प्रणव मुखर्जी से राष्ट्रपति चुनाव हार कर अब एन डी ऐ के उम्मीदवार पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पी ऐ संगमा ने नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) नाम से एक नए राजनीतिक दल का गठन करने की घोषणा कर दी है| राष्ट्रपति चुनाव में संगमा ने संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा था। राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने के लिए पूर्वोत्तर के आदि वासी श्री संगमा को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से इस्तीफा भी देना पडा था|
नेशनल पीपुल्स पार्टी जनजातीय लोगों पर केंद्रित होगी |इसमें अन्य तबकों को भी जोड़ा जाएगा। एनपीपी का चनाव चिन्ह किताब चुना गया है|

शो मेन सुभाष घई की सिनेमेटोग्राफर अशोक मेहता को श्रधांजलि

शो मेन सुभाष घई ने सिनेमेटोग्राफर अशोक मेहता को श्रधांजलि देने के लिए २७ अगस्त को एक विशेष श्रधांजलि सभा का आयोजन करने जा रहे हैं|इसका आयोजन श्री घई के फिल्म &मीडिया संस्थान अन्तराष्ट्रीय व्हिसलिंग वूड्स में होगा गौर तलब है कि श्री मेहता ने श्री घई की सफल फिल्म राम लखन +सौदागर+त्रिमूर्ति+खलनायक+किशनाआदि के लिए योगदान दिया था| ,इस अवसर पर श्री मेहता की फिल्मो के प्रदर्शन के अलावा सेमिनार का भी आयोजन होगा|

बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के विधायक की गिरफ्तारी से स्थिति बिगड़ी

तनावग्रस्त असाम में आज एक विधायक की गिरफ्तारी ने साम्प्रदाईकता की सुलगती आग में घी का काम किया है | कोकराझार में एक बार फिर से कर्फ्यू लगाना पड़ गया है|
आज बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के विधायक प्रदीप ब्रह्मा को अशांति फैलाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है| इससे तनावग्रस्त कोकराझार में स्थिति बिगड़ गई और वहां एक बार फिर कर्फ्यू लगाना पड़ा.है|
असम के पश्चिमी कोकराझार में बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के विधायक प्रदीप ब्रह्मा के समर्थकों ने रोड और रेल रूट पर प्रदर्शन किया. प्रदर्शकारी रेल ट्रैक पर उतर आए और ट्रेन रोक दी। विधायक प्रदीप ब्रह्म को अशांति फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था जिसके बाद उनके समर्थकों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया. हालात को देखते हुए प्रशासन ने इलाके में कर्फ्यू लागू कर दिया है. असम में बोडो-गैर बोडो के बीच हुई हिंसा का सबसे बड़ा केंद्र कोकराझार ही था.|
असाम में फैले इन दंगों के विरोध में देश में अनेक भागों में भी दंगे +प्रदर्शन हुए हैं| इसे लेकर अफवाहों का बाज़ार गर्म किया जा रहा है और अब सोशल मीडिया को भी शिकंजे में लेन के प्रयास किये जा रहे हैं|
मुम्बई के दंगों को कंट्रोल ना कर पाने पर कमिशनर अरूप पटनायक को भी हटा दिया गया है|

मुन्ना भाई की छह साल की सजा पर सी बी आई अड़ी

फ़िल्मी भाई संजय दत्त का परेशानियां पीछा छोड़ती नजर नहीं आ रही है। सीबीआइ ने सुप्रीम कोर्ट से मुंबई हाई कोर्ट द्वारा संजय दत्त को आ‌र्म्स एक्ट के तहत दी गई छह साल की सजा को बरकरार रखने का अनुरोध किया है। संजय दत्त इसी मामले में १८ महीने की जेल भुगत चुके हैं|
गौरतलब है की बाबरी मस्जिद कांड के बाद 1993 में मुंबई बम धमाकों से पूरे देश हिल उठा था। इसमें 257 लोगों की मौत हुई थी और 713 लोग घायल हुए थे।
घटना में संजय दत्त का नाम भी आरोपियों में शामिल किया गया था। इस दौरान संजय दत्त के घर में ली गई तलाशी के दौरान पुलिस को एक पिस्टल व एके-56 रायफल की स्प्रिंग भी बरामद हुई थी। इस प्रकरण में 2006 में टाडा की विशेष अदालत में हुई सुनवाई में संजय दत्त को अवैध हथियार रखने के मामले में छह साल के कारावास की सजा सुनाई थी। 2007 में संजय दत्त ने इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देते हुए बेल के लिए प्रार्थना पत्र लगाया।
अदालत ने संजय दत्त के प्रार्थनापत्र का संज्ञान लेते हुए उन्हें बेल दे दी थी। तब संजय दत्त 18 माह जेल में गुजारने के बाद बाहर आए थे।
अब इस मामले में सीबीआइ ने फिर से संजय दत्त पर शिंकजा कसना शुरू कर दिया है। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सीबीआई ने अदालत से संजय दत्त की सजा बरकरार रखने का अनुरोध किया है। हालांकि बचाव पक्ष के वकीलों ने अपने तर्क में कहा कि सीबीआई ने संजय दत्त के घर की तलाशी के दौरान जिस 18 इंच के स्प्रिंग के बरामद होने का जिक्र किया था वह कोर्ट में पेश ही नहीं की गई। इसके स्थान पर 16 इंच की स्प्रिंग रखी गई है। जबकि वास्तविकता यह है कि 18 इंच की स्प्रिंग का एके-56 रायफल में इस्तेमाल होता ही नहीं है। ऐसे में सीबीआइ खुद ही अपने साक्ष्यों के साथ छेड़खानी कर रही है।
इसी माह सुप्रीम कोर्ट ने संजय दत्त से उसके अंडरव‌र्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के साथ दुबई में डिनर लेने की बात को अभिनेता स्वीकार कर चुके हैं|

दिन में स्ट्रीट लाइट जली तो जुर्माना लगेगा

सपा के प्रदेश में आज़मी हुकुमनामे के अनुसार दिन में स्ट्रीट लाइट जलती मिली


तो संबंधित अधिकारियों पर जुर्माना लगाया जाएगा।
काबिना मंत्री आजम खान ने कहा, ‘राज्य में पहले से ही बिजली संकट है और ऊपर से बिजली की फिजूलखर्ची। इस तरह का रवैया बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’ आजम ने कहा, ‘अगर दिन में स्ट्रीट लाइट जलती मिली, तो अधिकारियों के खिलाफ जुर्माना लगाया जाएगा। यदि किसी नगर परिक्षेत्र में लाइट जलती मिली, तो नगर आयुक्त पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में संबंधित अधिकारियों पर जुर्माना लगाया जाएगा।
नगर निकाय कर्मचारियों की हड़ताल पर सख्त रुख अपनाते हुए आजम ने कहा, ‘वे हड़ताल के बजाय काम में मन लगाएं। हड़ताल को गैर कानूनी ठहराने पर भी विचार चल रहा है।’ उल्लेखनीय है कि निकाय कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। उन्होंने संविदा कर्मियों की बहाली के साथ ही एक समान भत्ता देने की मांग की है|
गौर तलब है की इससे पूर्व भी बिजली बचाने के लिए शाम सात बजे प्रदेश के मॉल्स को बंद करने तथा विधायक निधि से लग्जरी गाड़ी खरीदने जैसे तुगलकी फरमान जारी कर प्रदेश सरकार अपनी किरकिरी करा चुकी है|
अब सरकार का यह गुरुवारसीय नया फरमान कहाँ तक लागू होगा यह तो फरमान को लागू करवाने वालों की नियत पर निर्भर करेगा मगर प्रथम दर्शया उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री आजम खान का राज्य में बिजली की फिजूलखर्ची पर यह सख्त रुख एक सकारत्मक कदम दिखाई दे रहा है|

मीडिया पर लगाम ब्लाक कराय ट्विट्टर एकाउंट्स

ट्विट ट्विट ट्विट
केद्र सरकार ने सोशल मीडिया पर लगाम लगाने को पहला कदम बड़ा दिया है|पहले चरण में कुछ ट्विट्टर एकाउंट्स [ जिनमे दो पत्राकारों के बभी हैं] ब्लाक कर दिए गए हैं|
इस कदम को लेकर सरकार की खूब किरकिरी हो रही है। लोग इसकी तुलना इमर्जेंसी से कर रहे हैं।
जानकारी के मुताबिक सरकार ने जो ट्विटर अकाउंट ब्लॉक किए हैं उनमें से एक कुछ दिन पहले तक अंग्रेजी अखबार पायनियर से जुड़े रहे कंचन गुप्ता का है। दूसरा अकाउंट एक न्यूज चैनल में डेप्युटी एडिटर शिव अरूर का है।
ये अकाउंट ट्विटर ने बंद नहीं किए हैं। इंटरनेट सर्विस प्रवाइडर्स की मदद से ये अकाउंट ब्लॉक कराए गए हैं। अकाउंट को एक्सेस करने पर मेसेज आता है, की यह वेबसाइट /यूआरएल कोर्ट के ऑर्डर या डिपार्टमेंट ऑफ डेलिकम्यूनिकेशंस के अगले आदेश तक के लिए ब्लॉक किए जाते हैं।ट्विट ट्विट ट्विट

ट्रैफिक की रफ़्तार अभी तक रेंग ही रही है

ट्रैफिक पोलिस को नई वर्दी मिल गई|नगर निगम को नया मेयर मिल गया|एम् डी ऐ को नया मंत्री मिल गया |मेरठ को फिर से आज़म खान मिल गया मगर मेरठ का नसीब अभी भी वहीं है जहां पहले था | ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन ट्राफिक जाम हर तरफ देखा जा सकता है|
सड़को का यह हाल है कि पता ही नहीं चलता कि सड़क में गड्डे है या गड्डों में सड़क है | इन गड्डों कि उपेक्षा से मेरठ के ट्रैफिक की रफ़्तार अभी तक रेंग ही रही है

मुम्बई के कमिशनर अरूप हटाये गए

महाराष्ट्रा में कांग्रेस कोटे के चीफ मिनिस्टर पृथ्वीराज चव्हाणने आज एक तीर से दो शिकार करके अपने कुर्सी पर छाए अनिश्चितत्ताके बादल छांट दिए|पोलिस कमिश्नर अरूप पटनायक को प्रोन्नत करके मुम्बई से बाहर करके मनसे प्रमुख राज ठाकरे की आधी मांग मान ली तो दूसरी तरफ एन सी पी कोटे के गृह मंत्री आर आर पाटिल और सपा के अबू आज़मी के चहीते कमिशनर को बाहर का रास्ता दिखा कर इन दोनों का कद नीचे कर दिया|
असाम दंगों को लेकर मुम्बई का आज़ाद मैदान में भड़की हिंसा को रोक पाने में नाकाम कमिशनर और गृह मंत्री के इस्तीफे की मांग को लेकर राज ठाकरे ने आज्ञा नहीं होने के बावजूद मार्च निकाल कर अपना शक्ति प्रदर्शन किया |
इस सारे घटनाक्रम से कांग्रेस के चीफ मिनिस्टर की अब तक बेदाग रही छवि और क्षमता पर प्रश्न चिन्ह लगाने शुरू हो गए |
सहयोगी दल एन सी पी के कोटे के गृह मंत्री को हटा कर शरद पवार सरीखे कद्दावर नेता की नाराजगी को दावत देने के बजाय उनके प्रिय कमिश्नर को हटाना ज्यादा उचित था|अरूप के स्थान पर अब यूं पी मेरठ के निवासी डाक्टर सत्यपाल सिंह को मुम्बई का कमिश्नर बनाया गया है|
राज्य में सपा के एक मात्र एम् एल ऐ अबू आज़मी ने तो खुले आम प्रोमोशन पर भी कमिशनर को नहीं हटाये जाने की मांग की थी|गृह मंत्री स्वयम भी कमिशनर को हटाने के पक्ष में नहीं थे |लेकिन अब कमिशनर को दंड स्वरुप ट्रांसफर करने के बजाये कमिशनर को प्रोन्नत करके वहां से हटाया जा रहा है|