Ad

Category: World

अमेरिकी ड्रोन हमलों में१७ संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए

अमेरिका द्वारा पाकिस्तान में लगातार किये जा रहे ड्रोन हमलों पर पकिस्तान सरकार के विरोध के बावजूद सामरिक सहयोगी के ड्रोन हमले जारी हैं| शुक्रवार को उत्तरी-पश्चिमी कबायली इलाके में कई ड्रोन हमले किए गए जिसमें लगभग 17 संदिग्ध आतंकवादी मारे गए।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने उर्दू समाचार चैनल ‘आज’ के हवाले से इसका खुलासा कारते हुए कहा है कि लगभग दोपहर के समय उत्तरी वजीरिस्तान में तीन विभिन्न ठिकानों पर पांच अमेरिकी ड्रोन विमानों से छह मिसाइल दागे गए।
इन हमलों में डांदरा, दर्रे नश्तर और शावल इलाके में मकी घर समेत कई घरों को निशाना बनाया गया।
समाचार चैनल जियो न्यूज ने १६ लोगो के मारे जान एकी पुष्ठी की है|
गौरतलब है कि पाकिस्तान ने ईद उल फितर से पहले या उस त्योहार के दौरान किए गए ड्रोन हमलों का विरोध दर्ज कराने के लिए गुरुवार को एक अमेरिकी राजनयिक को सम्मन भेजकर इस्लामाबाद बुलाया था। इसके अगले ही दिन ये ड्रोन हमले हो गए जिनमे १७ लोग मारे गए हैं|

न्युयोर्क में अंधाधुंध गोलीबारी से छह लोग मारे गए

अमरीका के न्यूयॉर्क शहर की ऐतिहासिक एम्पायर स्टेट बिल्डिंग के पास हुई गोलीबारी में कम से कम छ लोगों के मारे जाने की खबर है, हमलावर भी मारा गया है |
शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक एक व्यक्ति ने ये गोलियां चलाई जिसे बाद में पुलिस ने मार दिया है.
एक युवती को भी गोली लगी जिसके बाद वो जमीन पर गिर गई. बी बी सी और सी एन एन के अनुसार एम्पायर स्टेट बिल्डिंग न्यूयॉर्क के सबसे मशहूर पर्यटनों स्थलों में से एक है. 1,453 फुट ऊंची इस गगनचुंबी इमारत को हर साल लगभग चालीस लाख पर्यटक देखने आते हैं.न्यूयॉर्क शहर के एम्पायर स्टेट बिल्डिंग के सामने शुक्रवार को एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलबारी कर पांच लोगों की जान ले ली। बाद में पुलिस ने उसे मार गिराया।
गोलबारी की सूचना मिलते ही पुलिस ने सुबह नौ बजे एम्पायर स्टेट बिल्डिंग की घेराबंदी की।
एजेंसी के मुताबिक़ गोलीबारी फिफ्थ एवेन्यू और पश्चिमी 34वीं गली में हुई।
अग्निशमन विभाग का आकस्मिक दस्ता कुछ ही मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंच गया।
इस घटना में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई और तीन या चार अन्य नागरिक घायल हो गए।
मौके पर पहुंची पुलिस ने अकारण गोलीबारी करने वाले शख्स को मार गिराया

चीन बोला इंटरनेट सामाजिक अस्थिरता पैदा कर सकता है

सोशल मीडिया पर लगाम लगान के मामले में चीन भी अब भारत के साथ खड़ा दिखाई दे रहा है| समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार चीन के एक सरकारी अखबार ने सोशल मीडिया की बाढ़ से निपटने में देश की परेशानी बयान की है और भारत का उदाहरण दिया है। इसमें कहा है कि विदेशी वेबसाइटों की ओर से फैलाई गई अफवाहों के चलते पूर्वोत्तर भारत के लोगों का पलायन दिखाता है कि वेबसाइट्स कैसे सामाजिक उथल-पुथल फैला सकती हैं।
ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में चीन की ओर से ट्विटर और फेसबुक को बैन करने के चीन के फैसले का बचाव करते हुए कहा गया है कि भारत के कुछ शहरों से पूर्वोत्तर के लोगों का पलायन ‘अनियंत्रित वेबसाइटों’ द्वारा फैलाए गए अफवाह का नतीजा है। आगे लिखा गया है कि यह स्थिति चीन के लिए कोई नई नहीं है। भारत में जो हुआ उससे पता चलता है कि क्या इंटरनेट सामाजिक अस्थिरता पैदा कर सकता है और वह ऐसा कैसे करता है। नॉर्थ-ईस्ट के लोगों का पलायन दहशत का नतीजा था जो अफवाह के जरिए आसानी से भड़काई गई। भारत इस बात को लेकर परेशान है कि अफवाहें बाहर से फैलाई गईं।
अमेरिका पर निशाना साधते हुए सोशल नेटवर्किंग साइटों की खोज करने वाले अमेरिका को इन्हें कंट्रोल करना आता है लेकिन इन वेबसाइट्स ने दूसरे देशों में दिक्कतें पैदा की हैं। पिछले साल ब्रिटेन में भी इसी तरह की दिक्कत हुई और सरकार इन साइटों को ब्लॉक करने पर विचार करने लगी तो उसका जमकर विरोध हुआ।
हालांकि चीन के इस अखबार ने इस बात का जिक्र नहीं किया है कि भारत में नफरत फैलाने वाले ज्यादातर मैसेज और तस्वीरें उसी के नजदीकी दोस्त पाकिस्तान से अपलोड हुई थीं।

सिखों के विरुद्ध दबे अपराध अब उजागर होने लगे हैं

अमेरिका में सिखों के विरुद्धकिये जा रहे अपराध जो दबे रह गए थे अब उजागर होने लगे हैं लाईम लाईट में आने लगे हैं|
26 जुलाई को न्यूजर्सी में ग्लेन रॉक गुरुद्वारे की स्थापना करने वाले सदस्यों में से एक ७० वर्षीय अवतार सिंह की उसके पड़ोसी ने कथित तौर पर पिटाई कर दी और बाद में उन्हें ‘कृपाण’ रखने के आरोप में गिरफ्तार भी करा दिया|
सिख संगठन ‘यूनाइटेड सिख’ के अनुसार कि यह घटना विस्कोंसिन में ओक क्रीक गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी की घटना से लगभग 10 दिन पहले 26 जुलाई को हुई थी। एक गैस स्टेशन के मालिक और न्यूजर्सी में ग्लेन रॉक गुरुद्वारे की स्थापना करने वाले सदस्यों में से एक अवतार सिंह अपने पड़ोसी एडवर्ड कोसकोवस्की की दुकान पर गए और कहा कि वह उनके गैस स्टेशन के प्रवेश द्वार के सामने खड़े अपने ट्रक को हटा ले। संगठन ने कहा कि इस पर दोनों में विवाद हो गया और अवतार सिंह की बेरहमी से पिटाई कर दी गई।
घटनास्थल पर पहुंचने के बाद पुलिस ने ७० वर्षीय अवतार सिंह को कृपाण रखने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया[ एजेंसी]

गुरुद्वारे में फायरिंग की अमेरिकी कांग्रेस में सुनवाई की मांग

विस्कोंसिन ओक क्रीक

की गई है|
संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में १५० से अधिक संगठनों के समूह द्वारा विस्कॉन्सिन के ओक क्रीक गुरुद्वारे में ५ अगस्त को हुई गोलीबारी पर अमरीकी कांग्रेस में सुनवाई की अपील की गई |
है ५ अगस्त के रविवार को अमरीकी सेना में काम कर वेड माईकल पेज ने गोलीबारी की थी। इसमें 6 सिख श्रद्धालु[५ पुरुष+१ महिला] मारे गए थे और पुलिस की कार्रवाई में पेज भी मारा गया और एक सुरक्षा अधिकारी घायल हुआ था
वाशिंगटन स्थित ‘सिख कोयालिशन के नेतृत्व में विभिन्न धर्मों और क्षेत्रों से जुड़े १५० से अधिक संगठनों ने बीते दिन सीनेट की न्यायिक समिति को पत्र लिखा है|
इस पत्र में घृणा अपराधिओं वाले समूहों को लेकर सुनवाई आयोजित करने की मांग कीगई है|

पाकिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले में पांच लोग मारे गए।

पाकिस्तान में आज १९ अगस्त को सुबह अमेरिकी ड्रोन हमले में पांच लोग मारे गए।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने उर्दू टीवी चैनल ‘डॉन’ के हवाले से खुलासा किया है कि रविवार सुबह उत्तरी वजीरिस्तान के मिरानशाह शहर के शाहवल इलाके में दो वाहनों पर ड्रोन विमानों ने चार मिसाइले दागीं। इस हमले में कम से कम पांच लोग मौके पर ही मारे गए।
इससे पूर्व, शनिवार दोपहर इसी इलाके के एक मकान और एक वाहन पर चार मिसाइलें दागी गई थीं। इस हमले में कम से कम छह संदिग्ध आतंकवादी मारे गए थे जबकि दो अन्य घायल हो गए थे

विवादित द्वीपों पर जापानी ध्वजारोहण से चीन बौखलाया

जापान ने भी अब चीन की प्रभुसत्ता को धत्ता बताते हुए पूर्व चीन सागर के कुछ विवादित द्वीपों पर जापान जापानी ध्वज फहरा दिया है.|
इन द्वीपों को चीन में दियाओयू कहा जाता है. जापान के तट रक्षक अब इन लोगों से पूछताछ कर रहे हैं. इन लोगों को पहले द्वीपों पर जाने की अनुमति नहीं दी गई थी
.एएफ़पी के अनुसार शेनज़ेन, क्विंगदाओ और हारविन में भी जापान विरोधी प्रदर्शन हुए हैं.पूर्वी चीन सागर स्थित इन द्वीपों के चारों ओर गैस के भंडार हैं और इन पर ताइवान भी अपना हक जमाता रहा है.
जापान का कहना है कि उसने शनिवार को इस लिए अपना जल पोत वहां भेजा क्योंकि वह दूसरे विश्व युद्द के दौरान इन द्वीपों को पास मारे गए जापानी लोगों की याद में एक समारोह करना चाहते थे. जैसे ही वह तट पर पहुँचे, उन्होंने वहाँ पर जापानी ध्वज फहरा दिया.
इस पोत पर मौजूद एक राजनीतिज्ञ केनेची कोजिमा ने एएफ़पी को बताया, ‘मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बता देना चाहता हूँ कि यह द्वीप हमारे हैं.इसके ज़रिए जापान का भविष्य दाँव पर लगा हुआ है. ’
चीन ने चेतावनी दी है कि इस कार्रवाही से उसकी क्षेत्रीय प्रभुसत्ता पर सवाल उठे हैं.चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता क्विन गान ने कहा कि दियाओयू द्वीपों पर जापान द्वारा की गई कोई भी एकतरफा कार्रवाही गैर कानूनी और अवैध है.
इस सप्ताह के शुरू में इसी तर्ज़ पर हॉगकॉंग से चीन समर्थक लोगों ने वहाँ पहुँच कर इन द्वीपों पर चीन के दावों को मज़बूती प्रदान करने की कोशिश की थी.
एक अलग घटनाक्रम में जापानी समाचार पत्र योमियुरी शिमबुन ने खबर दी है कि जापान चीन में अपने राजदूत को बदलने की योजना बना रहा है.
राजदूत यूइचिरो निवा ने पहले आगाह किया था कि टोकियो की नगरपालिका के कुछ द्वीपों के खरीदने जाने के प्रस्ताव से चीन और जापान के बीच गहरा संकट खड़ा हो सकता है.जापान सरकार से उनके इस वक्तव्य के पसंद नहीं किया था.
चीन का दावा है कि यह द्वीप हमेशा से ही उसके क्षेत्र का हिस्सा रहे हैं जबकि जापान का कहना है कि उसने 1890 में यह सुनिश्चियत करने के बाद कि इन द्वीपों में कोई नहीं रह रहा, उन पर अपना नियंत्रण कर लिया था.

मिशेल ओबामा ओक क्रीक गुरुद्वारा गोलीकांड के पीड़ित परिवारों से मिलेंगी

अमेरिका में होने वाले चुनावों के मद्देनज़र लगता है कि बराक ओबामा की पार्टी कोई मौका खोना नहीं चाहती इसलिए अब प्रथम महिला मिशेल भी अगले सप्ताह विस्कॉन्सिन गुरुद्वारा गोलीकांड के पीड़ित परिवारों से मुलाकात करेंगी।
सिख परिषद ने मिशेल के इससहानुभूतिपूर्वक कदम स्वागत किया है| यह सुनना सुखद है कि प्रथम महिला मिशेल गुरुद्वारे में हुई हिंसा से उजड़े परिवारों से मुलाकात करेंगी।
सिख परिषद् के अध्यक्ष राजवंत सिंह के अनुसार यह वाकई महत्वपूर्ण है कि शीर्ष नेतृत्व पीड़ित परिवारों व पूरे सिख समुदाय के ताजा जख्मों को सम्मानजनक तरीके से भरता है।
उन्होंने कहा है कि प्रथम महिला का दौरा सिखों को फिर से भरोसा दिलाने व उनका दिल छूने वाला कदम होगा और यह इस गम्भीर मोड़ पर राष्ट्रपति ओबामा द्वारा सिख समुदाय को गले लगाने का सशक्त प्रतीक होगा। यह न केवल सिख त्रासदी है, बल्कि अमेरिका की त्रासदी है।
गौरतलब है कि कि पांच अगस्त के रविवार को विस्कॉन्सिन के ओक क्रीक स्थित गुरुद्वारे में कथित श्वेत नस्ल कट्टरपंथी, वेड माइकल पेज द्वारा की गई गोलीबारी में छह श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी और चार अन्य घायल हो गए थे। घायलों में एक पुलिसकर्मी भी शामिल था|इस घटना में मारे गए लोगों के सम्मान में राष्ट्रीय ध्वज आधे झुका दिए थे|

पाकिस्तान के राष्ट्रपति के नजराने से अजमेर में बनेगा अस्पताल

पकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी द्वारा भेजे गए १० लाख डालर के नजराने के एक हिस्से से ख्वाजा गरीब नवाज़ अस्पताल बनेगा |
राष्ट्रपति श्री जरदारी इस साल आठ अप्रैल को अजमेर शरीफ की जियारत पर आए थे तब उन्होंने दरगाह को 10 लाख डॉलर के नजराने का ऐलान किया था.
इस ऐलान के चार महीने बाद जुमा अलविदा को[शुक्रवार ]को पाकिस्तान की ओर से पूर्व विदेश सचिव सलमान बशीर पैसे लेकर अजमेर आए \
इस नज़राने पर ख्वाजा के खादिमों ने अपना हक जताया.
मजबूरन नजराने की रकम तीन हिस्से में बांटी गई, जिसमें दो खादिमों की अंजुमन कमेटियों को करीब दो-दो करोड़ रुपये मिले और दरगाह कमेटी को करीब एक करोड़ पैंतालीस लाख ही मिले|
अजमेर के ख्वाजा गरीब नवाज के खादिमों ने नजराने के 5.5 करोड़ रुपये में से अपनी हिस्सेदारी ले ही ली
नजराने का इस्तेमाल दरगाह के विकास में किया जाना था, लेकिन पैसे का बंटवारा हो जाने के बाद अब दरगाह कमेटी अपने हिस्से के एक करोड़ पैंतालीस लाखसे अस्पताल बनवाना चाहती है.

रूसी राष्ट्रपति के खिलाफ प्रार्थना करने वाली पंक बैंड को दो साल की सजा

रूस और भारत में एक बात तो समान है दोनों मुल्कों में नेताओं विशेषकर सत्तारूड़ नेताओं के खिलाफ बोलने वालों के लिए जेल ही निश्चित कर दी गई है|
पंक बैंड के तीन महिला सदस्यों को मास्को के एक गिरजाघर में राष्ट्रपति पुतिन के खिलाफ प्रार्थना करने पर दो साल कैद की सजा सुनाई गई है। एक अदालत ने तीनों महिलाओं को धर्म के नाम पर नफरत फैलाने का दोषी माना है। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जोश अर्नेस्ट ने कोर्ट के इस बर्ताव पर कडा़ एतराज जताया है यूरोपीय संघ में भी इसकी भर्त्सना की जा रही है|
बताते चलें कि माशा +नाद्या+ कात्याके उपनाम से मशहूर नादेज्दा तोलोकोनिकोवा (22), मारिना अल्योखिना (24) और येकातेरीना सामुत्सेविच (30) नामक तीनों महिलाएं अधिकार समूह पुस्सी रायट की सदस्य हैं। यह समूह रॉक कंसर्टों के माध्यम से तमाम समकालीन मुद्दों पर अपना विरोध दर्ज कराता आया है। नेबीती फरवरी में मास्को के क्राइस्ट द सेवियर कैथेड्रलचर्च में सर्विस अटेंड की थी और देश को पुतिन शासन से मुक्त कराने के लिए एक प्रार्थना की थी,यह रूसी आर्थोडाक्स चर्च के अनुयायियों को नागवार गुजरी थी तभी से ये तीनों पुलिस की हिरासत में हैं|
अब भारत की बात करे तो लेटेस्ट घटना बंगाल की है लेफ्टिस्ट को हरा कर गरीबों की मदद को सत्ता में ई टी एम् सी की अध्यक्षा ममता बेनर्जी से एक व्यक्ति ने सवाल कर लिया और वोह बेचारा भी जेल की रोटियाँ तोड़ रहा है|