Ad

Category: Social Cause

पमात्मा को वही पाता है जो उसे और उसकी कायनात से प्रेम करता है .

कहा भयो जो दोऊ लोचन मूंदी कै
बैठ रहियो बक धिआनु लगाइयो
न्हात फिरिओ लीए सात समुद्रण
लोक गएओ परलोक गवायो
बास कीयो बिखियन सों बैठि कै
ऐसे ही ऐसे सु बैस बिताईओ
सच कहूं सुनि लेहु सभै
जिनि प्रेम कीयो तिन ही प्रभु पाएओ

भाव : दोनों आँखें मूँद कर बगुले की तरह बैठने से क्या होगा जबकि अन्दर मन में कपट भरा हो. ऐसा व्यक्ति सात समुंदर
पार करके तीर्थों में नहाता फिरे तो समझो कि उसका इहलोक और परलोक दोनों बर्बाद हैं .विषय-विकारों में सदा
लिप्त रहने वाला अपनी आयु यूं ही गँवा देता है . मैं सच कहता हूँ पमात्मा को वही पाता है जो उसे और उसकी
कायनात से प्रेम करता है .
—- वाणी दशम पादशाही गुरु गोबिंद सिंह जी

गलती का अहसास कराके एक बार फिर संभलने का अवसर दिया जाये.

छिमा बढ़न को चाहिए, छोटेन को उत्पात ,
का रहिमन हरी को घट्यो , जो भृगु मरी लात .

व्याख्या – छोटी आयु के लोगों के द्वारा उपद्रव करने पर बड़ों का क्षमादान करना ही शोभनीय है . कवि रहीम कहते हैं कि यदि भृगु ऋषि ने
क्रोध में आकर प्रभु की छाती पर लात मार दी तो भगवन की गरिमा में कोई कमी नहीं आई.
भाव – क्षमा करना आदमी का सबसे बड़ा गुण है. इसी गुण को लेकर कवि रहीम ने इस दोहे की रचना की है.. यदि छोटे लोग कोई अपराध
करते हैं तो बड़ों का बड़प्पन इसी में है कि उन्हें क्षमा कर दिया जाये और उन्हें उनकी गलती का अहसास कराके एक बार फिर
संभलने का अवसर दिया जाये.
इसे कवि ने एक विशेष पौराणिक घटना से जोड़कर दर्शाया है एक बार भृगु ऋषि भगवान् विष्णु से मिलने गए .विष्णु को सोता देखकर
भृगु ने उनकी छाती पर लात मार दी . इससे भगवान क्रोधित नहीं हुए .अपितु उनहोंने पूछा -ऋषिवर आपके पैर में चोट तो नहीं आई ?
विष्णु जी की बात सुनकर ऋषि का क्रोध शांत हो गया . प्रस्तुति राकेश खुराना

वैभव लक्ष्मी व्रत का उद्यापन

वैभव लक्ष्मी व्रत का उद्यापन श्रद्धाभाव से विधिवत किया गया इस अवसर पर सात सुहागनों को प्रशाद छकाया गया \
गंगानगर के ग्लोबल सिटी में शिक्षाविद श्रीमती शशि सबलोक ने परिवार और समाज के कल्याण के ११ शुक्रवार के व्रत रख कर आज व्रतों के संकल्प को पूर्ण किया
सुहागनों को वैभव लक्ष्मी व्रत कथा की पुस्तक+सुहाग के प्रतीक चिन्ह+ उपहार में दी खीर के प्रसाद के पश्चात भोजन छकाया गया

तिवारी का डी एन ऐ रोहित से मेच कर गया

कांग्रेस नेता नारायण दत्त तिवारी और रोहित शेखर का डी एन ऐ मेच कर गया है इससे श्री तिवारी पर श्री शेकर द्वारा लगाये जा रहे बायलोजिकल फादर होने के आरोप की पुष्ठी हो गई है श्री तिवारी के अनुरोध को ठुकराते हुए जस्टिस खेत्रपाल ने दिल्ली हाई कोर्ट ने डी एन ऐ की रिपोर्ट को सार्वजनिक कर दिया
इसके पश्चात अब रोहित ने अपने कानूनी अधिकारों की मांग शुरू कर दी हैअपने अधिकारों के साथ ही श्री तिवारी के लिए दंड की मांग भी की जारही है|
श्री तिवारी ने अदालती कार्यवाही से बचने के लिए सभी उपलब्ध प्रयास कर लिए हैं\अभी भी इसे अपनी निजता का हनन बता रहे हैं\अब श्री तिवारी के पास केवल सुप्रीम कोर्ट में जाने के आलावा कोई विकल्प नहीं बचा है|

समोसे पर पाक में मचा घमासान हुआ आसान

समोसे पर पकिस्तान में मचे घमासान को सुप्रीम कोर्ट ने आसान कर दिया है अब वहां समोसे की कीमत तय करने का अधिकार अब सरकार के पास नहीं रहेगा |
वहां समोसे की मांग मुक़द्दस रमजान के दौरान काफी बढ जाती है | ऐसे में ओउने पौने दामो समोसा बेचा जाता है\प्रांतीय सरकार ने २००९ में समोसे का दाम ६/=तय करदिया था जबकि पंजाब फ़ूड स्टफ कंट्रोल एक्ट १९५८ के अंतर्गत यह उनके अधिकार से बाहर बताया जा रहा है| बेकर्स ने इसे मानने से इनकार कर दिया इससे वहां प्रांतीय सरकार और पंजाब बेकर्स &स्वीट फेडरेशन में खींचातान रहने लगी यहाँ तक कि हाई कोर्ट ने भी बेकर्स को टरका दिया था अब सुप्रीम कोर्ट ने बेकर्स को न्याय दिया है|
भारत में कभी समोसे कि कीमत को लेकर कभी विवाद रहा \ फ़िल्मी गानों तक या फिर राजनितिक कटाक्षों तक ही सिमित रहा|यूं तो समोसे का इतिहास बेहद पुराना है और आलू से लेकर काजू बादाम तक के समोसे बनते रहे हैं |अब हवाई जहाज में अगर समोसा लेना हो तो १२०/=देने पड़ते हैं ऐसे में पकिस्तान के ६/=[भारत के ३.५०/=]कि कौन पूछता है|

पिआउ का उदघाटन और भाजपा का सदस्यता अभियान शुरू

कोतवाली छेत्र के सुभाष बाज़ार स्थित अशोक की लाट के समीप जन कल्याण के लिए पियाऊ का उद्घाटन किया गया \
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने रिबन काटा उनके साथ व्यापारी नेता नवीन गुप्ता और अरुण वशिष्ठ आदि भी उपस्थित थे
आज भाजपा ने सदस्यता अभियान भी चलाया डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई ने अपने चुनावी छेत्र में पार्टी सदस्य बनाये

अधिकारों के लिए एसोसिएशन में सक्रीय भूमिका जरूरी

दया राम को सेवानिवृति पर भावभीनी विदाई दीरक्षा लेखा नियंत्रक [निधि]में कर्मचारी संघ की कलकत्ता शाखा के अध्यक्ष दया राम को सेवानिवृति पर भावभीनी विदाई दी गई|इस अवसर पर केन्द्रीय शाखा के मुख्यालय कलकत्ता और दिल्ली से आये क्रमश जी.पी दत्ता और यतींदर चौधरी ने अपने हकों के लिए एसोसिएशन की गतिविधिओं में सक्रिय भूमिका निभाने का आह्वाहन किया|
श्री चौधरी और श्री दत्ता ने बताया कि संगठन कि एकता से ही सरकारे झुका करती है |कर्मचारियों के हितों कि खातिर ही केंद्र सरकार के सभी विभागों की समन्वय समिति ने बीते दिन पी एम् ओ को ज्ञापन भी सौंपा है|और अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो नवम्बर के तीसरे हफ्ते या फिर बिसम्बर के पहले हफ्ते में देश भर में एक दिन की हड़ताल की जायेगी यशपाल द्वारा संचालित इस विदाई समारोह में उपाध्यक्ष कर्ण प्रदीप ने श्री दयाराम का जीवन परिचय दिया अश्विनी मांगलिक,वेदपाल सिंह ने आयोजन किया महक सिंह मान,पी एस मान,सतीश ग्रोवर,अशीम कुमार सिंह,एन मुख़र्जी,ऐ नायक आदि दिल्ली और कलकत्ता से आये थे|,

पशुओं के समान मानव शवों की दुर्दशा

लगता है कि अब मानवीय संवेदनाएं मरने लगी हैं या इनका कोई महत्त्व और मौल नहीं रह गया है|तभी आये दिन पशुओं के समान मानव शवों की दुर्दशा देखने को मिल रही है शासित और शासक दोनों ही इसके लिए जिम्मेदार हैं \ इन चित्रों से तो यही साबित होता है

ऊंची प्रेम सगाई साधो ऊंची प्रेम सगाई

ऊंची प्रेम सगाई साधो ऊंची प्रेम सगाई

संतजन समझाते हैं कि साधक की परमात्मा से ऐसी सच्ची प्रीती होनी चाहिए जैसे पतंगे की दीपक से , मछली की पानी से और हिरन की राग से होती है .
पतंगा जनता है कि वह दीपक की लौ से भस्म हो जायेगा लेकिन वह दीपक से प्रीती नहीं छोड़ता , जैसे मछली को पानी से अलग करने से वह तड़प तड़प कर
जान दे दे देती है तथा जैसे शिकारी के राग छेड़ने से हिरन वह उस ओर खिंचा आता है और शिकारी हिरन के शीश को काट देता है. इसी प्रकार संतजन भी साधकों की अहम् तथा आसक्तियों को काट देते हैं तब साधकों में केवल प्रेम और भक्ति शेष रह जाती है .

पूज्यश्री भगत नीरज मणि ऋषि जी

परमाध्यक्ष – श्री रामशरणम् आश्रम, गुरुकुल डोरली, मेरठ .

टीम अन्ना का ब्यान चर्चा में

अन्ना टीम के एक सदस्य डाक्टर कुमार बिश्वास द्वारा क़ानून मंत्री सलमान खर्शीद पर की गई एक टिपण्णी चर्चा का विषय बनी हुई है|
आज अनशन का दूसरा दिन है और कुमार बिश्वास ने भाषण देते हुए सलमान के कल के ब्यान का उत्तर देते हुए कहा कि हमें [टीम अन्ना]संयुक्त राष्ट्र में जाने कि जरुरत नहीं है हम यहीं रह कर इन्साफ लेंगे यही नहीं काश्मीर कि समस्या जोकि आप और आपके बाप द्वारा पैदा कि गई है के लिए भी यूएन नहीं जायेंगे उस मसले को भी यहीं सुलझा लेंगे |
गौर तलब हे की बीते दिन सलमान खुर्शीद ने कटाक्ष भरे लहजे में टीम अन्ना को जस्टिस के लिए संयुक्त राष्ट्र में जाने की सलाह दे दी थी उसी का जवाब आज कुमार बिश्वास दे रहे थे
इसके अलावा आज सत्यव्रत चतुर्वेदी ने अपने कल के ब्यान से पलटते हुए कहा कि मानसून सत्र में लोक पाल बिल को पास करने का प्रयास किया जाएगा |बेटे दिन उन्होंने मानसून सत्र में ऐसी किसी भी संभावना से इनकार किया था