Ad

Category: Glamour

रैम्प पर प्रतिभा का प्रदर्शन करने वाली मॉडल शामला एयरपोर्ट पर भूखी-प्यासी बदहवास पड़ी हैं

Shrilankan Model Shamala

लाइट्स की चकाचौंध और दर्शकों की तालियों के बीच रैम्प पर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने वाली श्रीलंकाई मॉडल 25 वर्षीय शामला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (आइजीआइ) पर पिछले दो दिनों से भूखी-प्यासी बदहवास स्थिति में पड़ी हुई हैं वह किसी से बात तक नही कर रही है| सूत्रों के मुताबिक, मॉडल ने दो बार रेलिंग से छलांग लगाने की कोशिश भी की, मगर उसे बचा लिया गया।
शामला श्रीलंका की जानी-मानी मॉडल बताई जा रही हैं तथा विज्ञापनों में काम कर चुकी हैं। संभावना व्यक्त की जा रही है कि शामला के साथ कोई बड़ी अनहोनी घटी है। इस कारण वह सदमे में है। बताया जा रहा है कि श्रीलंकाई मॉडल 17 नवंबर को मॉडलिंग एसाइनमेंट पर भारत हुई थी। 5 दिसम्बर को वह मुंबई से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची। इसके बाद वह टर्मिनल 3 के डिपार्चर एरिया में पहुंचकर इधर-उधर घूमती रही। लगातार घूमने के कारण सीआईएसएफ के सुरक्षाकर्मियों ने उससे पूछताछ की तो वह अजीबो गरीब व्‍यवहार करने लगी।इस पर उसे गुडगाँव के मेंदाता अस्पताल भेजा गया। डाक्टरों ने उसे स्वस्थ बताकर जान छुडा ली |इसके बाद मॉडल को सामान्य होने के लिए डिपार्चर एरिया में ही बिठा दिया गया। पांच दिसंबर से अब तक वह उसी सोफे पर बैठी हुई है। खबर लिखे जाने तक मॉडल को श्रीलंका नहीं भेजा जा सका है।

देश की सबसे शक्ति शाली सोनिया ने ६७वे साल में प्रवेश किया:Happy Birth Day To Sonia Gandhi

:Happy Birth Day To Sonia Gandh

कांग्रेस और यूं .पी. ऐ. अध्यक्षा श्रीमति सोनिया गांधी आज 66 साल की हो गयी।ढोल बजाकर और पटाखे छोड़कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इस मौके पर मिठाइयां बांटी| केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे+ बेनी प्रसाद वर्मा,+गुलाम नबी आजाद+ कपिल सिब्बल+जनार्दन द्विवेदी और मोतीलाल वोरा आदि के साथ साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने बर्थडे लेडी [ श्रीमति गांधी] को शुभकामनाएं दी। खुद प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह ने उन्हें जन्मदिन पर बधाई दी.|यूं तो बधाई देने की प्रक्रिया बीते दिन से ही शुरू हो गई थी मगर आज बधाई देने के लिए बड़ी संख्या में पार्टी समर्थक+नेता और मंत्री उनके आधिकारिक आवास 10 जनपथ के बाहर जमा हो रहे हैं|
श्रीमति सोनिया गांधी को उनके ६७वे जन्मदिन की बधाई देने का सिलसिला शनिवार को ही शुरू हो गया था| श्रीमति गांधी की व्यस्तता को देखते हुए कुछ कांग्रेसियों और केंद्रीय मंत्रियों ने उन्हें शनिवार को ही अपनी शुभकामनाएं दे दीं| द्रमुक सुप्रीमो एम. करुणानिधि ने कांग्रेस अध्यक्षा को फूलों का गुलदस्ता भिजवाय हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी उन्हें बधाई दी है+ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी ने भी कांग्रेस अध्यक्षा से मुलाकात की.+ करुणानिधि ने अपने संदेश में कहा है कि देश पंथनिरपेक्ष और स्थिर सरकार के लिए संप्रग अध्यक्ष की ओर देख रहा है.

अन्ना बाबू राव हजारे का मेडिकल ट्रीटमेंट जारी , स्वास्थ्य पहले से बेहतर:आन्दोलन घोषित समय पर होंगें

अन्ना बाबू राव हजारे का मेडिकल ट्रीटमेंट जारी ,

शुक्रवार को गुडग़ांव के मेदान्ता अस्पताल में भर्ती समाज सेवी इंडिया अगेंस्ट करप्शन के ७५ वर्षीय अन्‍ना बाबू राव हजारे की स्थिति पहले से बेहतर बताई जा रही है| उन्होंने स्वयम अपने समर्थकों से कहा कि चिंता करने की जरूरत नहीं है । वो अब स्वस्थ हैं और अब काम करने का समय हैं । अन्ना ने अपने समर्थकों के लिए संदेश दिया है कि किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है । अन्ना ने बताया कि 12 दिसम्बर से काशी विश्व विद्या पीठ जा रहे हैं और 2013 में जनवरी से देशभर में भ्रमण करेंगे क्योंकि देश को जगाना है । अन्ना ने एक बार फिर हुंकार भर ली है ।
अन्ना की देखरेख कर रहे डॉक्टर नरेश त्रेहान का कहना है कि अन्ना हजारे जल्द ही ठीक हो जाएंगे । अभी उनके कुछ टेस्ट बाकी हो जो आज कल में हो जाएंगे । उसके बाद आने वाले दो दिनों के अंदर अन्ना हजारे को छुट्टी दे दी जाएगी । गौरतलब है कि आज तक अजेंडा में अपने प्रिय शिष्य अरविन्द केजरीवाल के विरुद्ध ब्यान देने के बाद से अन्ना कि तबियत बिगडनी शुरू हो गई | अन्ना हजारे को कल चक्कर आने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था पहले इमरजेंसी और बाद में आई सी यू में शिफ्ट किये गए अन्ना हजारे को अभी भी आईसीयू में भर्ती रखा गया है । डॉक्टरो के मुताबिक अन्ना हजारे पहले से बेहतर हैं ।

रतन टाटा ने अपनी सेवा निवृति से पहले सरकार की व्यापारिक नीति के नीचे के अँधेरे से अवगत कराया

Ratan Tata & Building Of Financial Times

भारतीय अर्थव्यवस्था के दीपक में विदेशी निवेशकों के धन तेल के भरोसे विकास की रौशनी दिखाने वाली यूं पी ऐ सरकार को अपने ही दीपक के नीचे के अँधेरे से अवगत कराते हुए दश के सर्वोच्च उद्योगपति रतन टाटा ने देश में उद्योगों की उपेक्षा का आरोप लगाया है| निकट भविष्य[इसी माह] में सेवा निवृत होने जा रहे रतन टाटा का यह आरोप बहेड महत्वपूर्ण माना जा रहा है|
बीते दिन रतन टाटा ने केंद्र सरकार की खिंचाई करते हुए कहा के केंद्र सरकर की दोषी नीतियों के कारण देश में व्यापारिक माहौल नहीं बन पाया|सुविधाएं चीन में दी जा रही है इसीलिए वहां तरक्की हो रही है मगर हमारे देश में उद्योगों को किसी प्रकार की सहायता नहीं दी जा रही|इसीलिए हम दूसरे देशों के साथ कम्पटीशन में पीछे रह जाते हैं| गौरतलब है की टाटा ग्रुप ने देश में नमक से लेकर अति आधुनिक साफ्ट वयरतक बना कर विदेशों में भी देश की शान बडाई है और विकसित देशों में अपनी सेवायें देकर बाह्र्तीय युवाओं के लिए वहां नौकरियों के द्वार खोले हैं| सौ अरब डालर के इस वैश्विक व्यापारी ने छोटी जनता कार नैनो सड़क पर लाकर पूरे विश्व को अचम्भित किया है|
लन्दन से प्रकाशित फायनेंशियल टाईम्स को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने सरकार की महत्वपूर्ण ऍफ़ डी आई यौजना की हवा निकालते हुए कहा की देश की बेलगाम नौकर शाही के डर से व्यापारी भारत में आने से कतराता है|इसीलिए टाटा ने भी चीन में एक फेक्ट्री लगाई है| उन्होंने संदेह व्यक्त किया की सरकार की असहयोगी नीतियों के कारण आज उद्योगपति भारत के बजे चीन में जाना पसंद करने लगा है|

ऍफ़ डी आई पर चर्चा के दौरान लोक सभा के इतिहास में दर्ज़ कुछ नए रोचक पन्ने

रिटेल में ऍफ़ डी आई के लिए लोक सभा में हुई बहस में सभी जीत गए |किसी की तकनीकी जीत हुई तो किसी ने नैतिक जीत का दावा किया|किसी ने वोटिंग से भाग कर अपनी जीत दर्ज़ कराई तो किसी ने बहस में विरोध करने पर भी वोट दूसरे पक्ष को दे दिया|इन सबके बावजूद वोटिंग हुआ और ऍफ़ डी आई के लिए भारतीय खुदरा बाज़ार खुल गया|वैसे अभी राज्य सभा में भी वोटिंग होनी बाकी है मगर वोह बेचारे तो इन डायरेक्टली चुने गए हैं जबकि डायरेक्ट चुने गए प्रतिनिधियों ने अपना फ़ैसला सुना दिया है ऐसे में राज्यसभा के मतदान का रुख और महत्त्व समझा जा सकता है| संसदीय इतिहास के लिए और भी अनेकों रोचक पन्ने तैयार हुए|
[१]संसद में जहां सपा और बसपा की केंद्र सरकार के साथ नूरा कुश्ती के द्रश्य दिखाई दिए तो कुछ राज्यों के विभिन्न दलों के सांसदों में वास्तविक नौंक झौंक भी हुई|इनकी प्रदेशिक अदावत खुल कर संसद में आ गई|
[ऐ] शिरोमणि अकाली दल की एच एस कौर और उनके राज्य में प्रतिद्वंदी के बीच न केवल गरमा ग्राम बहस हुई वरन दोनों ने एक दूसरे पर व्यतिगत आरोप भी मड दिए|
[बी]महाराष्ट्र की एन सी पी के प्रफुल्ल पटेल और शिव सेना के नीत की आपस में ही गरमागरम बहस हुई | शिव सेना ने सरकार में शामिल एन सी पी को चेतावनी देते हुए कहा की आप लोग दिल्ली में ऍफ़ डी आई का स्वागत कीजिये शिव सेना महाराष्ट्र में वालमार्ट को नहीं आने देगी|
[2]

शेरोशायरी

पहले तो बजट सेशन में ही शेरो शायरी का आनंद लुटाया जाता था मगर इस बहस में एक दूसरे को निशाना बनाने वाले शेर पड़े गए
[अ]

आर जे डी के लालू प्रसाद यादव ने विपक्ष की नेता श्रीमती सुषमा स्वराज को संबोधित करते हुए कहा

मोहब्बत में तुम्हें आंसू बहाना नहीं आता |बनारस में आकर बनारस का पान खाना नहीं आता ||
[आ

]इसके जवाब में श्रीमती स्वराज ने कहा

आपको गांठे खोलना नही आता|और मसखरी के अलावा कुछ बोलना नहीं आता||
[इ]इसके अलावा

श्रीमती स्वराज ने केंद्र सरकार को निशाना बनांते हुए कहा

तारीख की आँखों ने वोह हाल भी देखा है|लम्हों ने खता की थी सदियों ने सजा पाई|
[ई]

शरद यादव

ने कथनी और करनी में भेद रखने वाले दलों पर निशाना साधते हुए कहा
समर शेष है,नहीं पाप का भागी केवल व्याध|जो तठस्थ है समय लिखेगा उनका भी इतिहास |
[३]

मसखरापण

लालू प्रसाद यादव ने अपने मसखरे अंदाज़ में भाजपाईयों पर कटाक्ष किये उन्होंने भाजपाईयों के ट्वीटर प्रेम+विदेशी घड़ी+रेल में कूपे में सफर आदि के प्रेम पर चुटकी ली |इससे पहले उन्होंने विपक्ष की तरफ इशारा करके उन्हें फूहड़ और भाजपा को जम्हूरा कह डाला|इस पर समूचे एन डी ऐ ने लालू को हूट आउट करके बिना बोले बैठने पर विवश कर दिया बाद में लालू ने माफी माँगी और अपना भाषण पडा
[४] साउथ के एक और सांसद ने अपनी विशिष्ठ भाषा शैली में कपिल सिब्बल पर लायर और लाईयर [झूठा और वकील]के शब्द जाल दाल कर मजाक उड़ाया
[५]लालू प्रसाद यादव ने एयर होयेस्तेस के लिए और एयर होस्टेज शब्द का प्रयोग कर डाला |विमान परिचालिका के लिए विमान बंधक का प्रयोग कर डाला

Indian Parliament

पूर्व प्रधान मंत्री पुरुषार्थी आई के गुजराल पञ्च तत्व में विलीन:सात दिन का राजकीय शोक

पूर्व प्रधानमंत्री पुरुषार्थी इंद्र कुमार गुजराल का पार्थिव शरीर आज शनिवार को पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन हो गया।दिल्ली में राजघाट के निकट स्थल पर दोपहर तीन बजे उनके ज्येष्ठ पुत्र एवं शिरोमणि अकाली दल के सांसद नरेश गुजराल ने अपने पिता की चिता को मुखाग्नि दी।श्री गुजराल के सम्मान में सात दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है|

पूर्व प्रधान मंत्री पुरुषार्थी आई के गुजराल पञ्च तत्व में विलीन:सात दिन का राजकीय शोक


श्री गुजराल का कल गुडगांव के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया था। वह 92 वर्ष के थे। इस मौके पर सेना के तीनों अंगों ने उन्हें सशस्त्र सलामी दी और उनके सम्मान में शीश झुकाये अंत्येष्टि के अवसर पर राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी+ उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी+ यूं पी ऐ अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी के अलावा + भाजपा संसदीय दल के अध्यक्ष लाल कृष्ण आडवाणी और राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली सहित विभिन्न दलों के नेता अपनी पार्टी लाइन से ऊपर उठ कर वहां उपस्थित थे।
इससे पूर्व तिरंगे में लिपटे गुजराल के पार्थिव शरीर को पांच जनपथ स्थित उनके आवास से स्मृति स्थल लाया गया। उनका पार्थिव शरीर फूलों से सजे एक वाहन से स्मृति स्थल ले जाया गया। साथ में सैन्यकर्मी और करीबी रिश्तेदार भी थे। सशस्त्र सेना के तीनों अंगों के अधिकारी गुजराल के पार्थिव शरीर को दाह संस्कार स्थल तक लेकर गये।
आज सुबह से ही उन्‍हें श्रद्धां‍‍जलि देने के लिए बड़े राजनीतिज्ञ आते रहे। उनके निधन पर भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, मीरा कुमार, लालकृष्‍ण आडवाणी ने शोक व्‍यक्‍त किया। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा कि गुजराल के निधन से मैनें एक करीबी दोस्‍त खो दिया। प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा, गुजराल के निधन से हमारे देश ने एक स्वतंत्रता सेनानी, एक महान देशभक्त और एक विद्वान राजनीतिज्ञ खो दिया पूर्व प्रधानमंत्री आईके गुजराल को दिल्ली में अंतिम विदाई दे दी गई. उनका पार्थिव शरीर पंचततंत्व में विलीन हो गया. स्मृति स्थल पर पूर्व प्रधानमंत्री आईके गुजराल का अंतिम संस्कार हुआ. इससे पहले उनके आवास पर उनके पार्थिव शरीर को रखा गया था. गुजराल साहब के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का तांता लगा रहा|

बारहवें [पूर्व]प्रधान मंत्री पुरुषार्थी इंद्र कुमार गुजराल नहीं रहे :श्रधान्जली

पूर्व प्रधानमंत्री पुरुषार्थी+स्वतन्त्रता सेनानी इंद्र कुमार गुजराल का आज शुक्रवार दोपहर साड़े तीन बजे निधन हो गया। श्री गुजराल को 19 नवंबर को गुडगांव के मेडिसिटी मेदांता हास्पिटल में फेफड़े के संक्रमण के इलाज़ के लिए भर्ती कराया गया था। पिछले दो-तीन दिन से उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी। डॉ नरेश त्रेहान के नतृत्व में नौ डॉक्टरों की टीम उनकी देखभाल कर रही थी। अंतिम संस्कार कल शनिवार को दिल्ली में होगा। विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत आए श्री गुजराल भारत के प्रधानमंत्री पद तक पहुंचे। इसे पूर्व 1950 के दशक में वे एनडीएमसी के अध्यक्ष बने और उसके बाद केंद्रीय मंत्री बने और फिर रूस में भारत के राजदूत भी रहे। जमोस न्यूज़.काम परिवार की एक विनम्र श्रधान्जली |

बारहवें [पूर्व]प्रधान मंत्री पुरुषार्थी इंद्र कुमार गुजराल


अच्छे पड़ोसी संबंध को बनाए रखने के लिए ‘गुजराल सिद्धांत’ [डाक्टराइन] का प्रवर्तन करने वाले गुजराल कांग्रेस छोड़कर 1980 के दशक में जनता दल में शामिल हो गए। वह 1989 में वीपी सिंह के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय मोर्चा सरकार में [१]विदेशमंत्री बने। विदेशमंत्री के तौर पर इराकी आक्रमण के बाद वह कुवैत संकट के दुष्परिणामों से निपटे, जिसमें हजारों भारतीय विस्थापित हो गए थे।वह 1998 में पंजाब के जालंधर से लोकसभा में अकाली दल के सहयोग से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुने गए। उनकी सरकार का विवादास्पद निर्णय 1997 में उत्तर प्रदेश में [२]राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा करना था। तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन ने उस पर दस्तखत करने से इनकार कर दिया और पुनर्विचार के लिए इसे सरकार के पास वापस भेज दिया। उनकी पत्नी शीला गुजराल कवयित्री और लेखिका थीं, जिनका निधन, 2011 में हो गया। उनके भाई सतीश गुजराल मशहूर पेंटर और वास्तुविद हैं उनके परिवार में दो बेटे हैं, जिनमें एक नरेश गुजराल राज्यसभा के सदस्य और अकाली दल के नेता हैं।
एचडी देवेगौड़ा की सरकार में गुजराल दूसरी बार विदेशमंत्री बने और बाद में जब कांग्रेस ने समर्थन वापस ले लिया, तो 1997 में वह प्रधानमंत्री बने। लालू प्रसाद यादव, मुलायम सिंह और अन्य नेताओं सहित संयुक्त मोर्चे की सरकार में गंभीर मतभेद होने के बाद वह सर्वसम्मति से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में उभरे। यह अलग बात है कि उनकी सरकार कुछ महीने ही चली, क्योंकि राजीव गांधी की हत्या पर जैन आयोग की रिपोर्ट को लेकर कांग्रेस फिर असंतुष्ट हो गई।
लोकसभा में गुजराल के निधन की सूचना देते हुए गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री 93 वर्षीय इंद्र कुमार गुजराल का निधन साढ़े तीन बजे गुडगांव के मेदांता हास्पिटल में हुआ। गुजराल के निधन की खबर के बाद दोनों सदनों को दिन भर के लिए स्थगित कर दिया गया।

निधन से पहले ही श्रधान्जली

झारखंड विधानसभा में आज पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के निधन के पहले ही सदन में उन्हें श्रृद्धांजलि दे दी गई।
राज्य विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन कार्यवाही शुरू होने पर गुजराल के निधन के पहले ही विधानसभा में उन्हें श्रद्धांजलि दे दी गई। इसके बाद सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।
श्री गुजराल को म्रदुभाषी + कुशल राजनयिक+ महान दार्शनिक+सज्जन राजनितिज्ञ माना जाता रहा है। गुजराल को उनके सिद्धांतों के कारण जाना जाता है। उनक तर्क था कि भारत को अपने पड़ोसियों के साथ उदारता से व्यवहार करना चाहिए। गुजराल का जन्म चार दिसंबर 1919 को झेलम (अविभाजित पंजाब) में हुआ था। स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार से ताल्लुक रखने वाले गुजराल 1942 भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान जेल भी जा चुके हैं।

म्रदुभाषी+चिन्तक+लेखक एवं पूर्व प्रधान मंत्री इंद्र कुमार गुजराल की स्वास्थ्य स्थिति चिंतनीय

देश के बारहवें प्रधानमंत्री रहे म्रदुभाषी+चिन्तक+लेखक श्री इंद्र कुमार गुजराल की स्वास्थ्य स्थिति चिंतनीय बताई जा रही है श्री गुजराल को मेडिसिटी मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है| छाती में संक्रमण के कारण उनकी स्थिति ‘गंभीर’ बतायी जा रही है|जमोस न्यूज डाट काम परिवार उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता है|
92 वर्षीय श्री गुजराल कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे हैं और तबीयत बिगड़ने पर शनिवार को उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया. वह करीब एक वर्ष से डायलीसिस पर हैं और पिछले चार दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं जहां शनिवार से उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया है|

पूर्व प्रधान मंत्री इंद्र कुमार गुजराल


अस्पताल सूत्रों के अनुसार 92 साल के इंद्रकुमार गुजराल की हालत गंभीर है.|
4 दिसंबर 1919 को पाकिस्तान के झेलम में पैदा हुये और आजादी के बाद विस्थापित हुए और पुरुषार्थी के रूप में पी एम् बनने वाले इंद्रकुमार गुजराल को लेकर चिकित्सकों का कहना है कि उनकी हालत अभी भी स्थिर है और सुधार नजर नहीं आ रहा है.12 वें प्रधानमंत्री रहे श्री गुजराल के बेटे एवं सांसद नरेश गुजराल ने बताया कि उनकी हालत ठीक नहीं है और वह गंभीर हैं।
शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री को देखने के लिए प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह भी आने वाले थे, लेकिन बाद में प्रधानमंत्री का दौरा रद्द हो गया
21 अप्रैल 1997 से 18 मार्च 1998 तक भारत के प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले इंद्रकुमार गुजराल की पहचान एक ऐसे प्रधानमंत्री के तौर पर रही है, जिसने लेखन और रचनात्मकता को भी पर्याप्त स्थान दिया.|
कई वर्षों से सक्रिय राजनीति से दूर रहने वाले इंद्र कुमार गुजराल की उपस्थिति अरसे बाद अन्ना हजारे के आंदोलन में पिछले साल दर्ज की गई थी.

कसाब को पुणे में फांसी दिए जाने पर मेरठ में खुशियाँ मनाई जा रही है

अजमल आमिर कसाब को फांसी दिए जाने पर मेरठ में आज खुशियाँ मनाई जा रही है| व्यापारी और वकीलों ने मिठाई बांटी और आतिश बाज़ी भी की |

कसाब को पुणे में फांसी दिए जाने पर मेरठ में खुशियाँ मनाई जा रही है


गौरतलब है कि २६/११ मुम्बई के एक मात्र ज़िंदा पकडे गए आतंकवादी अजमल आमिर कसाब को आज सुबह यरवदा जेल में फांसी देकर उसे वहीं दफना भी दिया गया|
इस एक फांसी से आपने कई सन्देश दे दिए हैं|[१]विपक्ष के हाथों से यह मुद्दा छीन लिया[२] आतंक वाद के खिलाफ प्रतिबद्दता को दोहरा दिया[३]महाराष्ट्रा में बाल ठाकरे के निधन से शिव सेना के प्रति उत्पन्न सहानुभूति और फेस बुक पर टिपण्णी के लिए शाहीन +रेनू की गिरफ्तारी को फीका करके मुख्य चर्चा में कसाब को डाल दिया दिया|[४] इस प्रकार के भाड़े के आतंकवादियों के लिए यह सन्देश भी गया है कि आतंकवादियों को मरने के बाद कूए यार में दफन होने के लिए दो गज जमीन भी नसीब नहीं होती |इसके अलावा अभी भी १२ समान फायलें पेंडिंग ही रह गई |कसाब के पाक में शरणागत आकाओं +अफजाल गुरु और आपके अपने राजीव गांधी के हत्यारों से सम्बंधित फायलों से अभी भी धूल साफ़ नहीं की जा सकी है| फिर भी कहा जा सकता है कि बेटर लेट देन नेवर |

एंड प्राण की हालत बिगड़ी लीलावती अस्पताल में भर्ती

सदी के खलनायक और प्राण या एंड प्राण की हालत अस्वस्थ होने के कारण उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। । और प्राण ने साढ़े तीन सौ से अधिक फिल्मों में काम किया है। बेवकूफ+खानदान+औरत+बड़ी बहन+जिस देश में गंगा बहती है+हाफ टिकट+ शहीद+उपकार+पूरब और पश्चिम’+ गुमनाम+ कश्मीर की कली+एन इवनिंग इन पेरिस+ कब क्यूं और कहाँ+राजा और राना+विक्टोरिया २०३ +साधू और शैतान + ‘डॉन’ + दस लाख+जंजीर’+ बोबी +यमला जट्ट[पंजाबी] आदि प्रमुख है |प्राप्त जानकारी के अनुसार ९२ साल के एंड प्राण को सांस लेने में दिक्कत आ रही है| जिसके कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। उन्होंने खलनायक+कामेडियन या चरित्र रोल में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों का दिल जीता। उधर प्राण के अस्वस्थ होने की खबर के बाद उनके प्रशंसक उनके लिए दुआएं मांग रहे हैं। । बताया जा रहा है कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है हालांकि उनके परिवार वाले तो यही कह रहे हैं कि प्राण की हालत ठीक है लेकिन वो शुक्रवार से अस्पताल में भर्ती है। परिवार वालों की ओर से बार-बार कहा जा रहा है कि प्राण पूरी तरह से ठीक हैं।
92 वर्ष के पद्म भूषण से सम्मानित प्राण जैसा खलनायक बॉलीवुड में दूसरा कोई नहीं हुआ। कितने सितारे आये गये लेकिन प्राण का मुकाबला कोई नहीं कर पाया है। दर्जनों फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाने वाले फिल्म उपकार से चरित्र किरदार निभाने शुरू किये और उस में भी अपना लोहा मनवाया।इसीलिए पिक्चर की कास्टिंग में एंड प्राण या और प्राण लिखा जाने लगा था जिसकी पुनरावर्ती शशि कपूर के लिए की गई थी| इसके अलावा चांदी की छोटी सी शीशी से शराब की चुस्कियां लेने का अंदाज़ भी पहुत पसंद किया गया| प्रत्येक फिल्म में इनके नए गेटअप भी चर्चा में रहे हैं| अभी हाल ही में उन्होंने

एंड प्राण की हालत बिगड़ी लीलावती अस्पताल में भर्ती


एक किताब भी प्रकाशित करवाई जिसका विमोचन अमिताभ बच्चन ने किया था |