Ad

Tag: ElectionRailyOfRahulGandhiInMP

कांग्रेस के शहजादे राहुल गांधी ने रविवार को भाजपा के शहंशाह नरेंद्र मोदी को जम कर जवाब दिए

[नई दिल्ली]कांग्रेस के शहजादे राहुल गांधी ने रविवार को भाजपा के शहंशाह नरेंद्र मोदी को जम कर जवाब दिए
कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और नरेंद्र मोदी के शहजादे राहुल गांधी ने रविवार की शाम दक्षिणपुरी के विराट सिनेमा हॉल मैदान में विशाल जनसभा को सम्बोधित किया | तीन महीने इसी मैदान में अधिकांश खाली रही कुर्सियां खबर बनी थी और अब उसी ग्राउंड पर ,आई भीड़ खबर बनी| इस अवसर पर राहुल गांधी ने अपनी पार्टी की गलतियां भी खुले दिल से स्वीकारी और कहा कि जनता ने हमें हराया और यह संदेश दिया कि खाली सड़कें बनाने और फ्लाईओवर बनाने से काम नहीं चलेगा। कांग्रेस ने आपका संदेश सुन-समझ लिया है|
भीड़ से गद गद राहुल ने एक एक करके भाजपा के पीएम उम्मीदवार मोदी और ही “आप” संयोजक अरविंद केजरीवाल का नाम लिए बगैर ही दोनों पर हमला बोला अपने भाषण में कांग्रेस की उम्मीद के रूप में उभरे राहुल ने कहा कि हम हारे या जीतें लेकिन कभी गरीबों का+ किसानों का साथ नहीं छोड़ेंगे। केजरीवाल पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा “भाग कर चले गए दिल्ली में सरकार चलाने वाले” मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल ने कहा कि भाजपा महिलाओं को शक्ति देना चाहती है। लेकिन गुजरात में पुलिस महिलाओं का पीछा करती है, महिलाओं के फोन टेप करती है। यूं पी ऐ सरकार में दिल्ली में यह सब नहीं होता। कांग्रेस नेता ने अगली संसद में महिलाओं को 33 %आरक्षण देने का वायदा किया

राहुल गांधी को एम् पी में जाकर यूं पी के मुज्जफरनगर दंगों में पाकिस्तानी आई एस आई का हाथ दिखा

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

परेशान सपाई

ओये झल्लेया ये कांग्रेसियों को कैसे दौरे पड़ने शुरू हो गए देख तो इनके राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी को मध्य प्रदेश जाकर पता चला कि हसाड़ी यूं पी के मुज्जफर नगर के दंगों में पाकिस्तानी खुफया एजेंसी आई एस आई का हाथ है|ओये अब तू ही बता कि कांग्रेस के सम्भावित आगामी प्रधान मंत्री की इस बचकाने पन पर हंसा जाए या अपना ही सर बार बार पीटा जाये|

झल्ला

अरे पहलवान जी पुराणी कहावत को दर किनार करके आप जी ने बबूल के पेड़ के रूप में केंद्र में समर्थन के बीज बोये अब आप इसके काँटों से परेशान नहीं होना चाहिए |जहाँ तक बात राहुल गांधी की है तो इनकी उलट बाँसियां ये ही जाने कांग्रेस को तो शुरू से ही देश के भीतर और सीमाओं पर पाकिस्तान का हाथ नजर आता रहा है ये तो जी इनका जांचा+ परखा गारंटीशुदा नुख्सा है

राहुल जी अगर भाजपा के शासन काल में बनी सडकों पर केवल चमकती कारें ही चलती हैं तो यूं पी ऐ की सडकों पर तो हवाई जहाज लैंड करते होंगे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया हसाड़े होने वाले प्रधान मंत्री राहुल गाँधी जी ने तो मध्य प्रदेशके भाजपाई मुख्य मंत्री शिव राज सिंह की मांद में जाकर सिंह नाद कर दियाओये तालियों की गूँज में उन्होंने बता दिया कि भाजपा जनता को विकास के नाम पर केवल भूख परोस रही है| सड़कें बना कर आदि वासियों की जमीन हड़प रही है और उन्हें सड़क के दूसरी तरफ खडा करके केवल सुनहरे सपने ही दिखा रही है ओये अब एम् पी में कमल को हसाडा हाथ मसल कर रख देगा |

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी ठप्पे रहो+ ढंके रहो|अरे आप जी के राहुल गाँधी आज कल अपने जोहर दिखा रहे हैं यह अच्छी बात है हर जगह स्थानीय समस्यायों के माध्यम से लोगो से संवाद स्थापित कर रहे हैं लेकिन अपने भाषण के दौरान कुर्ते की बाँहें चडा कर + अति उत्साह में एक आध तीर ऐसा चला देते हैं जो लौट कर उनके तरफ ही आता दिखता है|अब जैसे राहुल गाँधी ने शहडोल में कहा कि भाजपा ओनली सड़कें बना कर लोगों को सपने परोस रही हैं सडकों के जो आंकडें उन्होंने पढ़ कर सुनाये वोह उनकी तरफ ही लौट कर आते हैं | बिना सुने तुम भी नहीं मानोगे |राहुल गाँधी ने कहा कि एनडीए की सरकार ने दो हजार छह सौ पचास किलोमीटर सड़क बनवाई जबकि यूपीए ने उतने ही समय में नौ हजार पांच सौ सत्तर किलोमीटर सड़कें बनवा दी फिर उन्होंने सीना ठोककर कहा कि सड़क हम ज्यादा बनाते हैं चतुर सुजाण जी अब आप ही बताओ अगर भाजपा के शासन काल में बनी सडकों पर केवल चम् चमाती कारें ही चलती हैं तो यूं पी ऐ की सडकों पर तो हवाई जहाज लैंड करते होंगे|

.. .

राहुल गाँधी ने अपने चुनावी तरकश से इमोशनल तीर चलाये,पारम्परिक लाइन का अनुसरण किया,गरीब समाज की भलाई के संकल्प को दोहराया

कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने आज अपने चुनावी तरकश से इमोशनल तीर चलाये और अपनी पार्टी की पारम्परिक लाइन का अनुसरण करते हुए गरीब +आदिवासी समाज की भलाई के लिए समर्पित भाव से कार्य करने के संकल्प को दोहराया |भावुक होकर यहाँ तक कह गए कि
अगर कोई महिलाओं, गरीबों की इज्जत नहीं करेगा, तो उसे वोह देख लेंगें |आदिवासियों और गरीबों से, दिल और प्यार के रिश्तों का हवाला दिया |मध्य प्रदेश में भाजपा के विकास के दावों का मखौल भी उड़ाया |
मध्य प्रदेश के शहडोल+ग्वालियर में राहुल गांधी ने चुनावी सभाओं को संबोधित किया|.
शहडोल में राहुल गाँधी बोले पेट में भूख की आग लगी हो, तो सड़क का कोई मतलब नहीं रहता .| यूनीसेफ नामक अन्तराष्ट्रीय संस्था के हवाले से उन्होंने मध्य प्रदेश के बारे में कहा कि जितनी भूख अफ्रीका में है, उतनी मध्य प्रदेश में है|इनको ये[भाजपा] समझ नहीं आता कि जब कोई भूखा रहता है, जब पेट में दर्द होता है, तो विकास की बात शुरू ही नहीं हो सकती. ये सोचते हैं कि सड़क बना दो. आदिवासियों को इस साइड खड़ा करो और उस सड़क में बड़ी बड़ी चमकती गाड़ियों को निकालो. आदिवासी उन गाड़ियों को देखें| इसको ये लोग विकास और प्रगति कहते हैं.तो सबसे पहले मैं कहना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी की सरकार आए. चाहे कोई भी सीएम बने, एक बात की मैं गारंटी देता हूं. आदिवासी महिलाओं की, गरीबों की, युवाओँ की इज्जत होगी इस प्रदेश में और अगर कोई इज्जत नहीं करेगा, तो हम देखेंगे|
संसद में अपनी माता श्री मति सोनिया गांधी की बीमारी का किस्सा सुना कर श्रोताओं को भावुक किया |
उन्होंने कहा कि इज्जत का मतलब क्या होता है, मैं आपको बताना चाहता हूं. ये मेरी मां के बारे में है. इज्जत के बारे में सोच रहा था. भोजन के अधिकार की बात हो रही थी, सबसे पहले सालों के लिए, उसको रोकने की कोशिश की. बीजेपी के लोगों ने रोकने की कोशिश की. लड़ाई लड़े हम, आगे पीछे यहां-वहां. फिर दिन आया, जब पार्लियामेंट में बिल पास करना था. ऐतिहासिक बिल है. पहली बार हिंदुस्तान में कोई भूखा नहीं जाएगा.ये जो महिलाएं यहां बैठी हैं. आपको मालूम होना चाहिए कि आपके जो बच्चे हैं,बिल के बाद कभी भूखे नहीं जा सकते. चाहे कोई भी हो. दलित हो, आदिवासी हो, किसी भी जाति का या धर्म का हो. गारंटी करके उसे एक रुपये का अनाज दिया जाएगा, पूरे देश में और ये गारंटी कौन करेगा, कांग्रेस पार्टी करेगी. क्यों करेंगे. क्योंकि हम आपकी भूख को, आपकी लड़ाई को समझते हैं.
मैं पार्लियामेंट मैं पीछे बैठा था| आगे देख रहा था. मुझे मालूम था कि मेरी मां की तबीयत ठीक नहीं है.में उन्हें डाक्टर के पास लेजाना चाहता था लेकिन
मां बोलीं कि बिल जब तक पास नहीं होगा नहीं जाऊंगी.वो बोलीं कि कुछ भी कर लो. नहीं जाऊंगी. मैं सालों से इस बिल के लिए लड़ी हूं. जब तक वोटिंग के लिए बटन नहीं दबाऊंगी, नहीं जाऊंगी.मैंने आपको अंदर की बात बता दी, जो मुझे लग रही थी. वो मेरी एक मां है. हिंदुस्तान में लाखों मां हैं, जिनकी आंख में आंसू आता है, जब बच्चों को देखती हैं और अपने आप से पूछती हैं कि इसका होगा क्या. पेट भूखा है, रोजगार नहीं है और ये लोग विकास की बात करते हैं, सड़क की बात करते हैं. होटल की बात करते हैं. एसी कमरों से बात करते हैं.
मैं एक नए प्रकार की राजनीति शुरू करना चाहता हूं. जहां जो राजनेता है. वो पहले आपकी इज्जत की बात करे, आपके घर आए. आपके साथ खाना खाए. आपसे पूछे कि भइया क्या बात है.एक ऐसी राजनीति जिसमें आम आदमी लोकसभा के बंद कमरे में दिखे. विधानसभा के अंदर दिखे.ये लोग क्या चाहते हैं, मैं आपको बता देता हूं. अच्छी तरह सुनो. ये चाहते हैं कि गरीब, आम आदमी, दलित आदिवासी उन कमरों में, लोकसभा में, विधानसभा में पंचायत में न घुसे.इसमें नुकसान राहुल गांधी का नहीं, हिंदुस्तान का होता है.