Ad

Tag: congress

Capt Bating For Farmers & Cong Urges Modi Govt to Defuse Anndata Unrest

(Chd,Pb)Capt Bating For Congress & Farmers Urges Modi Govt to Defuse Farmers Unrest
Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh on Friday urged the Centre to immediately initiate talks with Kisan Unions to defuse the situation triggered by the tense stand-off triggered by Haryana’s attempts to forcibly stop farmers from marching to Delhi.
CM asked “The voice of farmers cannot be muzzled indefinitely. Centre should immediately initiate talks with Kisan Union leaders to defuse the tense situation at the Delhi borders. Why wait till December 3 when the situation is getting out of hand now?,”
The Government of India needs to step in immediately to put an end to the atrocities being meted out to the peacefully agitating farmers, who had not created any law and order problem or indulged in any instance of violence over the past three months of their protest over the Farm Laws, he stressed.
Expressing concern over the situation that was spiralling out of control due to the brazen use of brute force by Haryana Police all through the National Highway leading up to the capital city, Captain Amarinder said the farmers have the democratic and Constitutional right to go to their country’s capital city to raise their voice and air their grievances.
The way the Haryana Police has been teargassing and hurling water cannons at the farmers, who include old men and women and even children, is shocking, said the Chief Minister, adding that it showed the complete lack of care and concern by the Haryana government for the nation’s `annadatas.’
Urging the Central Government to show statesmanship and accept the farmers’ demand for assured MSP, which is the basic right of every farmer, the Chief Minister said “If they can give verbal assurance I fail to understand why they can’t make it a legal obligation of the GoI.”
Captain Amarinder also came down heavily on those accusing the Congress of instigating the farmers to march to Delhi. Such people are blind not to see the lakhs of farmers trying to enter Delhi from across the country, he said, pointing out that farmers were pouring in at the Delhi borders not just from Punjab but every other agricultural state in India. “It’s a fight for their lives & livelihoods and they don’t need any backing or provocation,”

Cong Accuses SAD Of Indulging in Double Speak

(New Delhi) Cong Accuses SAD Of Indulging in Double Speak
The Congress accused Shiromani Akali Dal of indulging in double-speak and of being dishonest on the farm bills and asked why they have not left the ruling National Democratic Alliance. Congress and some other opposition parties have been protesting against the farm bills, alleging these would harm the interest of farmers and benefit corporates.

Cong to Launch Nationwide Protest Against Farm Bills

(New Delhi) Cong to Launch Nationwide Protest Against Farm Bills
Congress party on Monday said it will launch a nationwide agitation against the farm bills passed by Parliament
At a press conference after a meeting of the party’s senior leaders, K C Venugopal said the Congress will also launch a massive signature campaign in which it aims to collect two crore signatures from farmers and the poor people against farm bills.
A memorandum would be subsequently submitted to President, the Congress leader said.
Another Congress leader Randeep Surjewala said a series of press conferences will also be organised against the farm bills across the country.
The Congress also accused Shiromani Akali Dal of indulging in double-speak and of being dishonest on the farm bills and asked why they have not left the ruling National Democratic Alliance. Congress and some other opposition parties have been protesting against the farm bills, alleging these would harm the interest of farmers and benefit corporates.

पीएमएनआरएफ जिस उद्देश्य के लिए बना था उसे भजपा भी भूली

#भाजपाई चेयर लीडर
ओए झल्लेया!इन कांग्रेसियों ने 1947 के रिफ्यूजियों के कल्याण के लिए #पीएमएनआरएफ फण्ड में पैसे बटोरे और उसे एक ही परिवार की संस्थाओं में खपाने का घोर अपराध किया ।अब हसाडे माननीय नरेंद्र भाई दामोदरदास मोदी जी ने इस कलंक से छुटकारा पाने के लिए पीएम केअर फण्ड बनाया तो पूरी संसद ही सर पर उठाने को उतावले हो गए ।और तो और अपने हुक्मरानों को खुश करने के लिए पूरे #हिमांचलप्रदेश को ही गालियाँ देने लग गए
#झल्ला
Polish_20200920_055745850ओ मेरे चतुर सेठ जी! पीएमएनआरएफ जिस उद्देश्य के लिए बना था उसे भजपा भी भूली
आप लोग संसद में भी ये तो स्वीकर कर रहे हो कि #पीएमएनआरएफ रिफ्यूजियों के लिए बनाया गया था लेकिन आज भी हजारों रिफ्यूजी परिवार अपने हक के #कंपनसेशनक्लेम के लिए दर दर भटक रहे हैं और यह फण्ड पड़ा पड़ा चौड़ा हो रहा है और आप लोग भी खामोश हैं

सोनिया गांधी ने गौरव गोगोई को संसद में उपनेता और रवनीत सिंह बिट्टू को सचेतक बनाया

(नयी दिल्ली)सोनिया गांधी ने गौरव गोगोई को संसद में उपनेता और रवनीत सिंह बिट्टू को सचेतक बना कर चिठ्ठी वाले नेताओं को स्पष्ट सन्देश दिया
कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने हाल के दिनों में संसद से जुड़ी जिन समितियों का गठन किया और जिन नेताओं को प्रमुख जिम्मेदारियां दीं, उससे ये संकेत मिलते हैं कि पत्र विवाद से जुड़े नेताओं को तवज्जो नहीं दी गई और उन्हें एक तरह से संदेश देने का प्रयास भी किया गया।
पार्टी की तरफ से बृहस्पतिवार को लोकसभा में गौरव गोगोई को उप नेता नियुक्त किया गया तो रवनीत सिंह बिट्टू को सचेतक बनाया गया। इस तरह राज्यसभा में जयराम रमेश को मुख्य सचेतक नियुक्त करने के साथ ही दोनों सदनों में पार्टी की रणनीति तय करने के मकसद से पांच-पांच सदस्यीय समितियां भी बनाई गई हैं।
राज्यसभा की पांच सदस्यीय समिति में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद और उप नेता आनंद शर्मा को स्थान मिला है, हालांकि इसमें राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल एवं रमेश को भी शामिल किया गया है
लोकसभा में दो बार के सांसद गौरव गोगोई को उप नेता की जिम्मेदारी दी गई है जिसे पूर्व केंद्रीय मंत्रियों मनीष तिवारी और शशि थरूर के लिए एक संदेश के तौर पर देखा जा रहा है।
कुछ दिनों पहले भी सोनिया ने केंद्र सरकार की ओर से जारी प्रमुख अध्यादेशों के संदर्भ में पार्टी का रुख तय करने के लिए जिस पांच सदस्यीय समिति का गठन किया था उसमें भी पत्र विवाद से संबंधित किसी नेता को जगह नहीं दी गई थी। उस समिति में राज्यसभा से पी चिदंबरम, रमेश और दिग्विजय सिंह थे तो लोकसभा से डॉक्टर अमर सिंह और गोगोई को शामिल किया गया।’’
आजाद, शर्मा, तिवारी, और थरूर उन 23 नेताओं में शामिल हैं जिन्होंने कांग्रेस के संगठन में व्यापक बदलाव, सामूहिक नेतृत्व और पूर्णकालिक अध्यक्ष की मांग को लेकर हाल ही में सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। इसको लेकर बड़ा विवाद खड़ा हुआ।

कांग्रेस और भाजपा ने फिर से जनता को पीसना शुरू कर देणा है

#चिंतितआमआदमी
ओए झल्लेया! ये क्या हो रहा है? #सीडब्लूसी की मीटिंग में मुल्क कीबागडोर के दावेदार कांग्रेस तो #नकलीकिताबों के व्यापार में सत्तारूढ़ भजपा के काले चिठ्ठे सामने आ रहे है।दोनों वड्डे दलों के नेताओं ने अपनी अपनी पार्टी के नेताओं के कपड़े फाड़ने शुरू कर दिए ।अब मुल्क का क्या होगा?
#झल्ला होणा क्या है जी।दोनों दलों ने यथास्थिति बनाये रखने के लिए हाथ मिला लेणें है।इन पाटों ने फिर से जनता को पीसना शुरू कर देणा है

पायलट ने अदालत में दी चुनोती;विधायकों को अयोग्य करार देने संबंधी नोटिस

(जयपुर) पायलट ने अदालत में दी चुनोती;विधायकों को अयोग्य करार देने संबंधी नोटिस
बागी विधायकों को विधानसभा की सदस्यता के लिए अयोग्य करार देने को लेकर विधानसभा अध्यक्ष द्वारा जारी नोटिस को सचिन पायलट खेमे ने राजस्थान उच्च न्यायालय में चुनौती दी है। अदालत इस याचिका पर बृहस्पतिवार दोपहर में सुनवाई करेगी।
विधानसभा अध्यक्ष द्वारा पायलट सहित कांग्रेस के 19 विधायकों को भेजे गए इस नोटिस पर न्यायमूर्ति सतीश चन्द्र शर्मा की अदालत में सुनवाई होगी।
कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष से शिकायत की थी कि इन 19 विधायकों ने कांग्रेस विधायक दल की बैठकों में शामिल होने के पार्टी के व्हिप का उल्लंघन किया है, इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने मंगलवार को सभी को नोटिस जारी किया।
पायलट खेमे के विधायकों का कहना है कि पार्टी का व्हिप सिर्फ तभी लागू होता है जब विधानसभा का सत्र चल रहा हो।
जिन लोगों को नोटिस भेजा गया है उनमें विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा भी हैं। अशोक गहलोत के खिलाफ बगावत को लेकर सचिन पायलट के साथ इन्हें भी कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था।
साल 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस द्वारा अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बनाए जाने के बाद से ही सचिन पायलट कुछ नाराज चल रहे थे।
राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पास 107 और भाजपा के पास 72 विधायक हैं

में भाजपा में शामिल नहीं हो रहा हूं: सचिन पायलट

(नयी दिल्ली)में भाजपा में शामिल नहीं हो रहा हूं: सचिन पायलट
राजस्थान के उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि वह भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं।
पायलट ने ‘पीटीआई-भाषा’ के साथ विशेष बातचीत में यह भी कहा कि उन्होंने कांग्रेस को राजस्थान की सत्ता में वापस लाने के लिए बहुत मेहनत की थी ।
यह पूछे जाने पर कि क्या वह भाजपा में शामिल हो रहे हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं भाजपा में शामिल नहीं हो रहा हूं।’
पायलट का कहना था कि राजस्थान के कुछ नेता इन अफवाहों को हवा दे रहे हैं कि मैं भाजपा में शामिल होने जा रहा हूं, जबकि यह सच नहीं है।
दोनों प्रमुख पदों से हटाए जाने के बाद पायलट ने पहली बार सार्वजनिक रूप से इतनी विस्तृत टिप्पणी की है।
माना जा रहा है कि वह जल्द ही अपने अगले कदम के बारे में कोई निर्णय करेंगे।
गौरतलब है कि अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावती रुख अपनाने वाले पायलट एवं उनके साथी नेताओं के खिलाफ कांग्रेस ने मंगलवार को कड़ी कार्रवाई की। पायलट को उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया । दो समर्थक मंत्रियों को भी उनके पदों से हटा दिया गया।

BJP Throws 10 Questions on Congress over RGF, China

(New Delhi)BJP Throws 10 Questions on Congress over RGF, China
BJP president J P Nadda on Saturday asked the opposition party 10 questions, including about alleged links between the Rajiv Gandhi Foundation and China.
“Under the garb of China and COVID-19 crisis, one should not shy away from questions the nation wants to know,” Nadda told reporters while attacking Congress president Smt Sonia Gandhi.
Amid standoff with China, BJP President Nadda asserted that India under Prime Minister Narendra Modi is safe and secure, and that its brave armed forces are fully capable of protecting the country.
Nadda alleged that the RGF, which is headed by Sonia Gandhi, continuously received donations from the Chinese embassy between 2005-09, from the “tax haven” of Luxemburg between 2006-09 and NGOs with commercial interests.
National interest was “sacrificed” and donations into the family-run foundation were accepted, Nadda said.
The Congress had on Friday dismissed Nadda’s attack on the RGF over alleged donations to it from the Chinese embassy and the Prime Minister National Relief Fund as a “diabolical game of deception” by the ruling party to divert attention from the alleged Chinese occupation of Indian territory.
Nadda asked the Congress on Saturday to come clean on its “links” with China, and the details of its MoU with the Communist Party of China.
He said India’s trade deficit with China soared to USD 36.2 billion in 2013-14 from USD 1.1 billion in 2004 and asked if it was “quid pro quo” from the Congress. The Congress-led UPA was in power between 2004-14.

Congress Demands UP Minister Nishad,s Dismissal in a Fraud Case

(Lucknow,UP) Congress Demands UP Minister Nishad,s Dismissal in a Fraud Case
Aide of UP Animal Husbandry Minister Jai Prakash Nishad is involved in afraud case Congress media convener Lalan Kumar said
“After the arrest of seven people, including the private secretary of state minister Jai Prakash Nishad by the special task force (STF) from Indore, Chief Minister Yogi Adityanath needs to dismiss him on moral grounds,”
On Sunday, the Uttar Pradesh Police’s special task force busted a tender racket and arrested four persons, including two senior government officials, for allegedly duping a man to the tune of Rs 9.72 crore.
Those arrested were identified as Rajnish Dixit, chief personal secretary to the minister of state for animal husbandry, fisheries and dairy development; Dheeraj Kumar, private secretary to the minister; AK Rajiv, alias Akhilesh Kumar, who claims to be a journalist; and Ashish Rai, the UP Police said in a statement.
A complaint was lodged by Manjeet Singh Bhatia, a resident of Indore, that he was duped of Rs 9.72 crore in the name of filing a tender in the animal husbandry department.