Ad

Tag: India New Satire

योगी जी! भ्र्ष्टाचार के खात्मे और लोकतंत्र के सशक्तिकरण को पोर्टल नही मंत्रालय बनाईये

झल्ली गल्लां

भजपाई चेयरलीडर

ओए झल्लेया! मुबारकां!! ओए हसाडे धाकड़ मुख्यमंत्री  पूजनीय महंत आदित्यनाथ योगी जी ने भ्र्ष्टाचार के खात्मे और लोकतंत्र के सशक्तिकरण के लिए नया शक्तिशाली पोर्टल up.mygov.in लांच किया है। ओए पीएम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी के mygov.in के सात साल की सफलता के स्थापना दिवस पर लांच किया गया यह पोर्टल भी सफलता के झंडे गाडेगा।

झल्ला

चतुर सेठ जी!ये झल्ला भी दशकों से यही कहता आ रहा है कि भ्र्ष्टाचार की जड़ों में प्रहार करने के लिए evacuee प्रॉपर्टी (1947 में पाक गए मुस्लिमो की )को ऑनलाइन करके Grievance Solution पोर्टल/मंत्रालय/थाना/ बनाया जाना चाहिए ।वैसे ऐसे महंगे 163 करोड़ ₹ के IT पोर्टल जैसों की उपयोगिता पर प्रश्न चिन्ह लगने शुरू हो गए है!

कोरोना पीड़ित के हिस्से में भी मुआवजा नही,जुमले और सिर्फ जुमले

झल्लीगल्लां
उत्तेजितसमाजसेवी
ओए झल्लेया!ये क्या हो रहा है?ओए मुल्क में सरकारें कोरोना महामारी में भी पीड़ितों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों से भागने में ही लगी है। कोरोना संक्रमितों और उनकी मृत्यु के आंकड़े निरन्तर बढ़ते जा रहे है।अनेकों परिवारों में कमाने वाला कोई नही रहा।इलाज में व्यवसाय ठप्प हो गए।बच्चे अनाथ हो गए और केंद्र की सरकार कहती है कि पीड़ितों को मुआवजा नही देंगे। इस रवैये से दुखी होकर माननीय सुप्रीमकोर्ट ने कहा दिया है कि मुआवजा तो देना ही पड़ेगा।
झल्ला
झल्लाभापा जी!सरकारें तो स्मारकों पर अपने नाम के शिलापट लगाने को लालायित रहती आई है।इसीलिए बजट का बड़ा हिस्सा ऐसे ही कार्यों में जाता है और आम आदमी के हिस्से में आते हैं जुमले और सिर्फ जुमले ।अब देखो 1947 के रिफ्यूजी आज भी अपने हक का कंपनसेशन/रिहैबिलिटेशन क्लेम लेने को दर दर भटक रहे हैं

केजरीवाल जी!आटा फ्री में दो और भुस्सी चोकर की कीमत बैंक खाते में डालो

झल्लीगल्लां
दिल्लीआपपार्टी का चेयर लीडर
cartoon cheeyar leader aap partyओए झल्लेया! ये केंद्र की सरकार हमे कुछ करने ही नही दे रही।हसाडे कर्मठ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी ने बकायदा प्रेसकॉन्फ्रेंस करकेकेंद्र सरकार पर ‘घर-घर राशन’ योजना रोकने का आरोप लगा दिया है
केजरीवाल साहब ने एक डिजिटल पत्रकार वार्ता में आरोप लगाया कि इस योजना को लागू करने की सारी तैयारियां पूरी हो गई थीं और अगले हफ्ते से इसे लागू किया जाना था लेकिन दो दिन पहले केंद्र सरकार ने योजना पर रोक लगा दी।
ओए देश 75 साल से राशन माफिया के चंगुल में है और गरीबों के लिए कागज़ों पर राशन जारी होता है।और केंद्र में मोदी सरकार इस बुराई को दूर नही करने दे रही।
ओए !कोरोना काल में यह योजना सिर्फ दिल्ली में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में लागू होनी चाहिए, क्योंकि राशन की दुकानें ‘सुपरस्प्रेडर’ (महामारी के अत्यधिक प्रसार वाली जगह) हैं।
झल्ला
चतुर सुजाण जी
गेंहू के बजाय आटा दे रहे हो।2 ₹ पिसाई वसूल रहे हो।यदि जनता का भला करना चाहते हो तो फ्री में आटा वितरित करो और आटा पिसाई से जो भुस्सी चोकर निकलेगी उसकी कीमत भी लाभार्थी केबैंक खाते में डलवा दो तो कोई आदर्श बात बने।

दिल्ली,पँजांब सरकारें (अ)विश्वसनीयता के चलते विदेशी टीके नही ले पाए

झल्लीगल्लां
नवयुवक
ओए झल्लेया! हसाडे नाल ये क्या मख़ौल हो रहा है ? केंद्र टीके नही दे रही और मोडर्ना फाइजर जैसी व्यवसायिक कम्पनियां भी राज्यों को टीके नहीबेच रही।कहती हैं कि सीधे केंद्र सरकार से ही सौदा करेंगी।ऐसे तो हमे टीके लगण से रहे ।महामारी जाणे से रही।
झल्ला
झल्ला
यारा!ये दिल्ली,पँजांब,राजस्थान वाले कुछ ज्यादा ही चतुराई दिखा रहे हैं।लगता है कमीशनखोरी के चक्कर मे पहले केंद्र के टीकाकरण अभियान का विरोध किया फिर विदेशों से सीधे आयात करने का जुगाड़ लगाया मगर विदेशों में अपनी प्रश्नवाचक विश्वसनीयता के चलते औंधे मुंह गिरे।माया मिली ना राम।मुझे विश्वास है कि टीके लगेंगे और सबको लगेंगे।

लोजी!अब भारतीय भी चाँद पर प्लाट खरीदने लगे

झल्लीगल्लां
बुद्धिजीवी
Jhalla Cartoonओए झल्लेया!
ये हिंदुस्तानियों को कौन सा कीड़ा काटने लग गया ? देख तो अब हिंदुस्तानियों ने भी दाग वाले चाँद पर प्लाट खरीदने शुरू कर दिए।सहारनपुर के बिल्डर श्री अश्विनी सखूजा तो प्लाट के लिए 5 लाख ₹ की ऑनलाइन रजिस्ट्री का भी दावा कर रहे है।बेचने वाले का नाम लूना सोसाइटी बताया है।
झल्ला
इसे कहते है “सूत ना कपास जुलाहों में लठ्म लठ “वैसे यह जांच केविषय है।कही ये साइबरकरेंसी/क्रिप्टोकरेंसी जैसा ही तो कोई खेल नही ???अगर ऐसा हुआ तो भापा जी “मन मे दूने मन मे तीने मन मे रह गए अधे,अक्लमंद वोही कहलाया जिस बेच पल्ले नालबन्धे “

कोरोना के भमबड़भूसे से त्रस्त सियासतदां मुल्क को लॉक डाउन की गदिघेड़ में डाल रहे

झल्लीगल्लां
चिन्तितनागरिक
Corona Lock Downओए झल्लेया! ये क्या हो रहा है? सियासतदां तो हसाडे सोण मुल्क को किस गदिगेड़ में डाले जा रहे हैं??
पहले कहते तो कि लॉकडाउन नही लगेगा ,और अब दिल्ली,उत्तरप्रदेश,हरियाणा,पंजाब ,राजस्थान आदि में किसी न किसी छद्म नाम से 17 मई तक लॉक डाउन बढ़ा दिया गया।ओये मजदूर बेचारे फिर पलायन को मजबूर होने लग गए
झल्ला
भापाझल्ला जी! कोरोना किसी के भी काबू में नही आ रहा शायद इसीलिए भम्भडभूसे में डाले रखना चाहते हैं।

O2 अलॉटमेंट को गठित टास्क फोर्स चरमराई व्यवस्था पर ही निर्भर रहेगी ?

झल्लीगल्लां
रिटायर्डन्यायाधीश
Judiciaryओए झल्लेया! आखिरकार अदालतों ने ही लोक तन्त्र की रक्षा करनी है ।कोरोना महामारी में तीनों स्तम्भ बेशक धाराशाई हो गए लेकिन सुप्रीमकोर्ट ने ऑक्सीजन अलॉटमेंट के लिए 10 डॉक्टरों वाली 12 सदस्यीय स्पेशल टास्क फोर्स बना कर सबको राहत दी है।ओए हुण ऑक्सीजन के लिए हायतौबा बन्द हो जाणी है
झल्ला
झल्लाभापा जी!ये तो सराहनीय है लेकिन टास्क फोर्स निर्भर तो उपलब्ध चरमराई व्यवस्था पर ही रहेगी

कोरोना संकट को सेना के पाले में डालने को सियासी उधेड़बुन शुरू

झल्लीगल्लां
चिंतितबुद्धिजीवी
ओए झल्लेया!ये क्या भम्बड़भूसे में मुल्क को धकेला जा रहा है।पहले तो सियासतदां मीलों लम्बे दावे करके सत्ता कब्जा लेते हैं फिर जरा सी मुसीबत गले पड़ते ही सेना की मदद की गुहार लगाने लगते है।यहां तक माननीय न्यायालय भी सेना की बात करने लग गए।दिल्ली राज्य और हरयाणा पहले ही हाथ खड़े कर चुके है।
झल्ला
भापा जी!
मुश्किल वक्तों में सेना ने हमेशा मुल्क को उबारा है और कॉरोनानुसरों के वर्तमान संकट में तो सेवानिवर्त डिफेंस डॉक्टर्स ने e संजीवनी पर ओ पी डी भी सम्भाल ली है लेकिन ये कोरोना संकट किसी एक छेत्र में आये भूकम्प/बाढ़ आदि का नही वरण समूचे राष्टीय आपदा का है और पूरे राष्ट्र की कमान आर्मी को देने के दुष्परिणाम भी हो सकते है।इसीलिए विपक्ष+सरकारों और जनता को मिल कर ही कोरोना से मुकाबिला करना होगा ।

नगर निकायों में बेशक कोविड हेल्प डेस्क बनाओ लेकिन गले मे घण्टी भी बांधो

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
Jamos Cartoonओए झल्लेया!देखा हसाडी सरकार हर मोर्चे पर मुस्तैद है। कोरोना के विरुद्ध सुरक्षात्मक व्यवस्था खड़ी करने में हम सबसे आगे हैं।उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टण्डन जी ने सभी नगर निकायों में कोविड हेल्प डेस्क बनाने के आदेश जारी कर दिए है।ओये अब दफ़्तरों में भीड़ भाड़ नही होगी हेल्प डेस्क पर ही हेल्थ सम्बन्धी सभी मदद मुहैया करवा दी जाएगी।
झल्ला
झल्लाओ भोले सेठ जी!नगर निकायों में बेशक कोविड हेल्प डेस्क बनाओ लेकिन गले मे घण्टी भी बांधो
इन बिल्लियों के गले मे घण्टी बांधने की भी तो कोई व्यवस्था होनी चाहिए क्योंकि अभी तक अधिकांश हेल्प डेस्क के खिलाफ ही खबरें आ रही हैं।

बादल गरजे मगर बरसे नही ,मोदी भी टीवी पर उपदेश देकर निकल लिए

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
ओएJamos cartoon झल्लेया!देखा हसाडे कर्मठ+समर्पित पी एम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी की सक्रियता। कोरोना के विरुद्ध संघर्ष में वोंह फ्रंट पर लड़ाई लड़ रहे हैं।उन्होंने एक ही दिन में जहां कोरोना वैक्सीन निर्माताओं से वार्ता की तो रात्रि में देश के नाम सन्देश देकर सबका हौंसला बढाया।ओये है कोई इन जैसा नेता देश में?
झल्ला
Jhallaa Cartoonचतुर सेठ जी!रात दो बातें समान हुई।
रात को बादल गरजे और बिजली भी खूब चमकी मगर निकल ली सूखे सूखे।ऐसे ही आपके मोदी जी भी टीवी पर जोरदार उपदेश दे कर निकल गए बिना कुछ दिए