Ad

Tag: Satire

बादल गरजे मगर बरसे नही ,मोदी भी टीवी पर उपदेश देकर निकल लिए

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
ओएJamos cartoon झल्लेया!देखा हसाडे कर्मठ+समर्पित पी एम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी की सक्रियता। कोरोना के विरुद्ध संघर्ष में वोंह फ्रंट पर लड़ाई लड़ रहे हैं।उन्होंने एक ही दिन में जहां कोरोना वैक्सीन निर्माताओं से वार्ता की तो रात्रि में देश के नाम सन्देश देकर सबका हौंसला बढाया।ओये है कोई इन जैसा नेता देश में?
झल्ला
Jhallaa Cartoonचतुर सेठ जी!रात दो बातें समान हुई।
रात को बादल गरजे और बिजली भी खूब चमकी मगर निकल ली सूखे सूखे।ऐसे ही आपके मोदी जी भी टीवी पर जोरदार उपदेश दे कर निकल गए बिना कुछ दिए

श्मशान कर्मकांड के भाव बढ़े,नेता और व्यवसाई! करो टेकओवर की तैयारी

झल्लीगल्लां
श्मशानकाआचार्यजी
Jamos cartoonओए झल्लेया!हसाडे मेहनत के कर्मकांड के लिए दान दक्षिणा पर भी कथित समाजसेवी नाक भों सिकोड़ने लग गए।अरे हमे कोई शादी व्याह में तो बुलाता नही अब ले दे के कोई मरने पर ही यहां आता है।हम पूर्ण निष्ठा से 13 दिन कर्मकांड कराते हैं और अपना परिवार पालते हैं।अब ये कोरोना हमारे कहने से तो आया नही जो इसे लेकर हमारी थोड़ी बहुत इनकम को कोसा जा रहा है।
झल्लाझल्ला
महाराज!थोड़ा हंस वी लया करो।श्मशान में कर्मकांड के भाव बढ़ने से धन्नासेठ और राजनेता भी आकर्षित होंगे और इस कमाऊ व्यवस्था को टेकओवर करने को जुगत लड़ाएंगे।इससे आप लोगों के भी अच्छे दिन आ जाएंगे

राष्ट्रहित मे शोधकार्यों के लिए हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा

झल्लीगल्लां

Education Policy

Education Policy

चिंतितशिक्षाविद ओए झल्लेया!हसाडे मुल्क में शिक्षा और शोध पर जो भी खर्च हो रहा है उसका पर्याप्त लाभ देश को नही मिल पा रहा।डॉक्टर/इंजीनियर/ टेक्नोक्रेट्स आदि आदि अनुदान वाले शिक्षण संस्थाओं से महंगी महंगी डिग्रियां लेकर उनका उपयोग जनता के लाभ के लिए नही करते।शोधकर्ता तो (अधिकांश)राजनीति में आने को ही लालायित रहते हैं।होस्टल में जवानी खपाने वाली प्रतिभाओं का राजनीतिक शोषण भी हो रहा है।अब देख तो कोरोना नाशक वैक्सीन के लिए भी रशियाँन स्पुतनिक और अमेरिकन पफिज़र की तरफ देखना पढ़ रहा है।किसान डिग्रियां लेकर भी खेत बेच कर कंक्रीट के जंगल विकसित करने में जुटा है।जनलाभः वाले शोध कुछ व्यवसायियों की चारदीवारी से बाहर केवल उनकी तिजोरी भरने के लिए ही निकाले जाते हैं।
झल्लाभापा जी!राष्ट्रहित मे शोधकार्यों के लिए हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा
शिक्षाआप जी की गल और उसमे लिपटी पीड़ा वाकई जायज है। लेकिन अनेकों नाम ऐसे हैं जो अपनी शिक्षा और व्यवसाय से पूर्णतया न्याय कर रहे है।डॉ हर्षवर्धन+डॉ महेशशर्मा+मनीषतिवारी+कपिल सिब्बल+रविशंकरप्रसाद जैसे अनेकों नाम गिनाए जा सकते हैं ।फिर भी चूंकि आपने जायज सवाल उठाया है सो झल्लेविचारानुसार सेवानिवृत होने वाले सरकारी/गैर सरकारी लोगों को भी शोध के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया जाना चाहिए।हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा

मोदी ने टीका उत्सव से दलितों के दिलों पर सीधे सीधे दस्तक दे ही दी

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर

टीकाउत्सव

टीकाउत्सव

ओए झल्लेया! मुबारकां!! ओए हसाडे धाकड़ प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी ने कोरोना के खिलाफ जंग में आम जनता को जोड़े रखने के लिए टीका सप्ताह /उत्सव मनाने का आह्वाहन किया है।ओए जिस तरह लोगों ने लॉकडाउन +नाईटकर्फ्यू और ताली थाली आदि अभियानों में कंधे से कंधा मिला कर सहयोग दिया है।वैसे ही ज्योतिबा फूले और बाबा अम्बेडकर को समर्पित 11 से 14 अप्रैल के इस टीका सप्ताह उत्सव में भी लोग टीका लगवाने आएंगे।
झल्लाझल्ला
सेठ जी! आपके मोदी जी पक्के गुज्जु व्यापारी हैं।आपदा में लगातार अवसर पैदा किये जा रहे हैं।अब देखो! दलितों के मसीहाओ के नाम पर घोषित इस टीका उत्सव से महाराष्ट्र और दलितों के दिलों में सीधे सीधे दस्तक दे ही दी

गृहमंत्री का हाज़मा इतना दुरुस्त?100 करोड़ ₹ की वसूली अकेले हज़्म कर ले??

झल्ली गल्लां
भजपाईचीयरलीडर्स
ओए झल्लेया!हसाडी मेहनत रंग ले आई।ओए महा अघाड़ी सरकार का भ्र्ष्टाचार उनके ही सर् चढ़ कर बोलने लगे गया।बॉम्बे हाई कोर्ट ने गृहमंत्री के खिलाफ सीबीआई जांच को मंजूरी दे दी है।गृहमंत्री की कुर्सी से चिपके अनिल देशमुख को इस्तीफा देना ही पड़ गया।ओए हमने इसी पर नही रुक जाना।इनकी सारी पोल खोल के रख देनी है
झल्ला
गृहमंत्री का हाज़मा इतना दुरुस्त?100 करोड़ ₹ की वसूली अकेले हज़्म कर ले??
चतुर सेठ जी !ये अनिल देशमुख का समयहाज़मा इतना दुरुस्त नही हो सकता कि वोह 100 करोड़ ₹ महीने की वसूली को अकेले ही हज़्म कर जाए। देशमुख का समय सही रखने वाली घड़ी की सुईयों और इसे चूर्ण चटाने वाले हाथों की लकीरों को भी मैग्निफाइंग ग्लास से देखना होगा।

उपराष्ट्रपति जी! पीड़ित किसकी मां को मासी कहे

झल्लीगल्लां
भजपाईलेखक
VP M Venkaiyya naiduओए झल्लेया!हसाडे सुयोग्य उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने आज अपनी मूल जड़ों को याद रखने तथा अपनी माता, मातृभाषा, मातृभूमि और पैतृक स्थान को सम्मान देने का आह्वाहन किया है।
ओए श्री नायडू ने भुवनेश्वर राजभवन में “नीलिमारानी- माई मदर-माई हीरो” नामक पुस्तक का विमोचन करने के बाद जनसमूह को संबोधित करते हुए शिक्षा, न्यायपालिका तथा प्रशासन में मातृभाषा के व्यापक उपयोग की अपील की। “साझा करने एवं देखभाल करने” की सच्ची भावना में, उन्होंने सफल पुरूषों एवं महिलाओं को अपने पैतृक गांवों में रहने वाले लोगों की सहायता एवं समर्थन करने की अपील है।
झल्ला
चतुर सेठ जी!
झल्लाहसाडी माता रब्ब के चरणों मे समा गई।हसाडे पुरखों की मातृभूमि (रावलपिंडी/दन्दी)दूसरों को दे दी गई।मातृभाषा (पंजाबी) वालों ने 1947 के रिफ्यूजियों को लूट लिया।पैतृक स्थान वाले हुक्मरां पीड़ा सुनने तक को तैयार नही।ऐसे मैं आप ही बताओ कि मैं किसकी मां को मासी खून???

छोटी बचत वालों की हाय+सोशलमीडिया पर आई आलोचनाओं की सुनामी से यू टर्न

झल्लीगल्लां
वरिष्ठनागरिक
U Turnओए झल्लेया!रब्ब का लाख लाख शुक्रिया।ओए केंद्र सरकार को जल्द ही सुबुद्धि आ ही गई।इन्होंने समय रहते अपनी गलती स्वीकार कर ली।
केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कह दिया है कि सरकार पीपीएफ तथा एनएससी जैसी छोटी बचत योजनाओं में की गई बड़ी कटौती वापस लेगी और कहा कि ऐसा गलती से हो गया था।
झल्ला
झल्लाभापा जी!आप लोगों की हाय और सोशल मीडिया पर आलोचनाओं की सुनामी के साथ
पश्चिम बंगाल, असम और तीन अन्य राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों में किये कराए पर पानी फिरने के डर ने छोटीबचत में कटौती से हुक्मरानों को यूंटर्न के लिए मजबूर कर दिया

बल्ले बल्ले ! ट्रम्प ने एच वन बी वीजा पर लगाई थी रोक,बिडेन ने फतेह पाई

झल्लीगल्लां
एनआरआई

H1B Visa

H1B Visa

ओए झल्लेया! मुबारकां
ओये जो बिडेन ने ट्रम्प पर फतेह पा ली।ओए रिपब्लिकन डोनाल्ड जे ट्रम्प ने हम लोगों के वर्तमान और भविष्य को अंधकार में धकेलने के लिए एच 1 बी वीजा पर 31 मार्च तक रोक लगा दी थी।शुक्र है कि अब डेमोक्रेट बिडेन ने इस रोक को आगे नही बढाया।अब हमें अमेरिका को अपना मुल्क में कर इसके विकास में काम करने के अवसर मिलेंगे।
झल्ला
काका जी!
झल्लाबल्ले बल्ले ! ट्रम्प ने एच वन बी वीजा पर लगाई रोक,बिडेन ने इस पर फतेह पाई
प्रेजिडेंट बिडेन ने अपना चुनावी वायदा अपने ही अंदाज़ में पूरा कर दिया।लेकिन यूएस की दिल्ली में एम्बेसी में तो स्टूडेंट वीजा एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दी जाती है और इसके साथ ही आवेदक का टूरिस्ट वीजा भी क्यूँ कैंसिल कर दिया जाता है।

महाकुंभ स्नान के प्राचीन अमृत ज्ञान संग आधुनिक कोरोना विज्ञान का भी सहारा जरूरी

झल्लीगल्लां
आस्थावानहिन्दू

Mahakumbh

Mahakumbh

ओए झल्लेया मुबारकां! ओये आज के पवित्र ध्याड़े हरिद्वार में महाकुंभ मेला शुरू होने जा रहा है।ओये तुझे मलूम है कि अब की बार बारह के बजाय ग्यारह बरस में ही यह पवित्र मेला शुरू हो रहा है।यहां हसाडी प्राचीन संस्कृति की भव्यता के दर्शन और स्नान लाभ मिल सकेंगे। ओये हरिद्वार में ही कल्याणकारी अमृत की बूंदे गिरी थी ।यहीं देवताओं ने कुम्भ घटक दबाया हुआ है ।ओए कुम्भ स्नान से हसाडा जीवन सफल हो जाणा है
झल्ला
झल्लाभापा जी! आस्था के इस महाकुंभ की आप जी को भी लख लख वधाइयाँ। वैसे तो व्यवस्थापक आज कल कोरोना महामारी की आपदा में भी अवसर बनाने पर तुले हैं लेकिन आम नागरिक इन अवसरों में आपदा लेकर घरों को लौटते हैं इसीलिए झल्लेविचारानुसार प्राचीन अमृत ज्ञान के साथ साथ आधुनिक कोरोना विज्ञान का पालन करते हुए ही अवसरों का लाभ लेने को कदम बढाने चहिए इसीलिए कोरोना प्रोटोकॉल जरूरी है

मेरठ का1वाहन कमेला तो कंट्रोल नही हो रहा,देश भर में कमेले खोलने चले

झल्लीगल्लां
व्यंगकार
 ओए झल्लेया !ये क्या हो रहा है? ओए मोदी सरकार स्क्रैप पालिसी थोप कर पुरानी एंटीक गाड़ियों के दर्शन दुर्लभ करने जा रही है।ओए अब एंटीक गाड़ियों का प्रदर्शन/रेस नही होगी । वाहन निर्माता भी अपने वाहन की लंबी लाइफ का दावा नही कर पाएंगे
झल्ला
झल्ला भापा जी!मेरठ का1वाहन कमेला तो कंट्रोल नही हो रहा,देश भर में कमेले खोलने चले
मेरठ के सोतीगंज में एक वाहन कमेला लखनऊ से लेकर दिल्ली के शासन+प्रशासन के काबू नही आ रहा और ये परिवहन मंत्री नितिन गडकरी पूरे देश मे वाहन कमेले खोलने जा रहे हैं और उम्मीद है कि इन कमेलों को पर्यटन केंद्र बना कर प्रवेश टिकट भी लगा दिया जाएगा