Ad

Tag: AkhileshYadav

अखिलेश जी अपनी कमीज को साफ़ करो दूसरों के दाग दिखा कर पतली गली से निकलने की कोशिश मत करो

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये मीडिया वाले ना जाने कौन सा चश्मा लगा कर पानी पीते पीते हसाड़ी सोणी समाजवादी सरकार को ही कोसने में जुटे हुए हैं अब देखो बलात्कार और अपराध तो दूसरे प्रदेशों में भी हो रहे हैं लेकिन इन्हें तो ओनली हसाड़ा उत्तर प्रदेश ही नजर आ रहा है |ओये इन्होने कौन की कंपनी का चश्मा लगा रखा है

झल्ला

ओ मेरे पहलवान जी अपनी कमीज को साफ़ करो दूसरों के दाग दिखा कर पतली गली से निकलने की कोशिश मत करो |प्रदेश में देसी बिजली और अपराध का बढ़ता ग्राफ लैप टॉप के इम्पोर्टेड इरेज़र से नहीं मिटेगा वैसे झल्लेविचारनुसार मीडिया घरानों से अच्छे रिश्ते रखने वाले कुशल प्रशासक को आप जी ने मुख्य सचिव गृह बना दिया है अब बिजली की तरफ भी नजदीक की दृष्टि डाल ही दो|

अखिलेश जी इलेक्शंस हारते समय क्यूँ नहीं सोचा कि हारने के बाद तो और ज्यादा बिजली की जरुरत पड़ेगी

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे सोणे मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने भी फरमा दिया है कि अगर केंद्र सरकार डेढ साल के लिए बिजली उधार दे दे तो जनता को पूरी बिजली मिल जाएगीउसके बाद तो यारा हम लोग खुद ही बिजली बनाने लग जायेंगे और अगर ये कहेंगे तो तभी इनकी उधारी भी चुकता कर देंगेयार विपक्षियों ने तो ख्वाहमखाः बात का बतंगड़ बना रखा है अब केंद्र सरकार बिजली देगी तो हम भी शहरों में २२ घंटे और गावों में १८ घंटे तक बिजली दे देंगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर पहलवान जी अब फिर से ऊँट पहाड़ के नीचे आ ही गया| बिजली पैदा करने के बजाय लैप टॉप बाँटने में ही लुटाया गया पैसा किसी काम नहीं आया और चुनाव जीतने के लिए बिजली खरीदनी पड़ ही गई|झल्लेविचारानुसार इलेक्शंस से पहले एक्स्ट्रा बिजली खरीदते समयये क्यों नहीं सोचा था कि इलेक्शन हारने के बाद ज्यादा बिजली की जरुरत पड़ेगी

अखिलेश सरकार यूं पी में १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग बच्चों के माता/ पिता को भी समाजवादी पेंशन देगी

अखिलेश यादव की सरकार यूं पी में १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग बच्चों के माता/ पिता को भी समाजवादी पेंशन देगी|
उत्तर प्रदेश में १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग बच्चों के माता पिता को समाजवादी पेंशन वितरण में प्राथमिकता दी जाएगी|इससे लाखों विकलांग बच्चे लभान्वित होंगे | प्रदेश के युवा मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने इस विषय में पूर्व घोषित मार्ग दर्शक सिद्धांतों में संशोधन की घोषणा की है |गौरतलब है कि वर्तमान में केंद्र सरकार के नियमों के अनुसार १८ साल पूर्ण करने वाले विकलांगों के ही कल्याण की योजना है |
राज्य सरकार के प्रवक्ता के अनुसार ऐसे विकलांग बच्चे जिनकी आयु १८ वर्ष से कम है और उनके माता पिता समाजवादी पेंशन प्राप्त करने के मानक पूर्ण कर रहे हों ऐसी स्थिति में उन बच्चों के माता अथवा पिता को समाजवादी पेंशन लाभ प्रदान करने में प्राथमिकता दी जाएगी |

अखिलेश यादव ने अपने ही ३६ का आंकड़ा फिट करके अपनी सरकार का आंकड़ा दुरुस्त करना शुरू किया

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

समाजवादी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे यूवा मुख्य मंत्री अखिलेश यादव जी ने एक झटके में अपने ३६ अकर्मण्य मंत्रियों का सफाया कर दिया |ओये हुन ते खुश हो जा हुंण ते सरकार के सर से सालाना लगभग पांच करोड़ रुपये का खर्चा भार उतर जाएगा और इन मंत्रियों की वजह से जो स्टिंग ऑपरेशंस+ट्रैफिक+सुरक्षा गार्ड आदि की अव्यवस्था फ़ैल रही थी वोह भी दुरुस्त हो जाएगी

झल्ला

पहलवान जी आप जी के सी एम साहब ने दूसरों की तरह इस्तीफा पुराण पढ़ने में समय बर्बाद करने के बजाय पांच दर्जा प्राप्त मंत्री और ३१ राज्य मंत्रियों द्वारा इलेक्शंस में अपनी पार्टी के कैंडिडेट के प्रति उदासीनता दिखाने वाले अपने ही ३६ का आंकड़ा फिट करके अपनी सरकार का आंकड़ा ठीक कर लिया है

नेता जी यूं पी में डॉक्टरों की हड़ताल पर फैंसले लेने में सुपुत्र की सरकार वाकई चापलूसों पर सवार है

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

हड़ताली जूनियर डॉक्टर

ओये झल्लेया गुंडई की तो यूं पी में हद ही हो गई हद क्या यारा ये तो हद से भी वद हो गई देख तो कानपुर के सरकारी विधायक इरफान सोलंकी ने हसाडे डॉक्टरों पर हमला बोला उन्हें पिटवाया और निर्दोष डॉक्टरों को जेलों में ठुस्वाया अब कहा जा रहा हैं कि हड़ताल खत्म करों नहीं तो एस्समा लगा देंगे ओये यूं पी के ९ बड़े अस्पतालों में चार दिन की हड़ताल में ४० लोग खुदा को प्यारे हो चुके हैं|शुक्रवार को इस नाशुक्रे विधायक को गिरफ्तार करने के लिए मंगल वार तक कोई मंगलकारी काम नहीं किया गया ४० मौतों के जिम्मेदार विधायक और उसके सहयोगी पुलिस अधिकारी को सजा दिलाने के लिए इस समाजवादी सरकार के एक कान पर भी जूं तक नही रेंग रही

झल्ला

ओये डॉक्टरा माननीय मुलायम सिंह यादव जी ने कल अपना एक्सपर्ट धोबी पाट मार कर अपने सुपुत्र की सरकार को कह दिया है कि युवा सरकार फैंसले लेने में चापलूसों के कन्धों पर सवार है चपरासी फाइलें लाते-ले जाते हैं। अफसर महीनों फाइलें दबाये बैठे रहते हैं। पूछने पर चापलूसी में ‘यस सर, यस सर’ कह देते हैं और मंत्री निहाल हो जाते हैं।

यूं पी मेट्रोमैन अखिलेश यादव जी घर के न मरते तो हमारी भी खाट लन्दन तक बिछती

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे सोणे , मेट्रोमैन आफ यूं पी, यंगचीफ मिनिस्टर अखिलेश यादव का दांव|एक तरफ उन्होंने लखनऊ को २३ किलो मीटर लम्बी नॉर्थ साउथ कॉरिडोर मेट्रो ट्रेन का तोहफा दिया तो दूसरी तरफ भूतपूर्व हो चुकी बसपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कह दिया कि मायावती की सरकार में सरकारी खजाना पत्थरों पर नहीं लुटाया जाता तो अब तकयहाँ मेट्रोट्रेन दौडने लगती

झल्ला

अरे पहलवान जी पुराणी कहावत है कि

घर के न मरते तो हमारी खाट भी लन्दन तक बिछती

वैसे अमौसी से मुंशी पुलिआ तक चलने वाली इस मेट्रो ट्रेन का लाभ किसकी मौसी या मुंशी को मिलने वाला है???

शेखुल हिंद मौलाना महमूद हसन मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास के महंगे विज्ञापन दिए लेकिन मीडिया ने पत्थर को लेकर किये कराये पर पानी फेर दिया

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

अपमानित सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया तुम्हारा ये मीडिया भी ओड़ने या बिछाने के लायक नहीं रहा|देख तो हसाडे सोणे अखिलेश यादव की सरकार ने सहारनपुर में शेखुल हिंद मौलाना महमूद हसन मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास के लिए अखबारों में पूरे पेज के महंगे महंगे विज्ञापन छपवाए उनमे आजम खान साहब का भी नाम लिखा और यहीं नहीं फिर उन्हें दूसरे पेज पर रिपीट भी कराया उसके बावजूद इस महत्वपूर्ण मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास के पत्थर पर ही हसाडे किये कराये पर पानी फेर दिया |इन्हें और कुछ नहीं मिला तो शिलान्यास के पत्थर पर लिखे नाम को लेकर ही बैठ गए |भाई आजम खान साहब का नाम हर जगह थोड़े ही लिखा जा सकता है |हसाडे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और नेता जी माननीय मुलायम सिंह यादव के साथ एक स्थानीय का नाम भी लिख दिया गया |मीडिया ने इसे ही मुद्दा बना दिया

झल्ला

ओ हो ये तो वोही गाल हो गई कि नमाज बख्शवाने गए तो रोजे गले पड़ गए खैर कोई बात नहीं दोनों ही सबाब के काम हैं लेकिन आप ये खातिर जमीत रखो कि ओनली सरकारी विज्ञापनो के आधार पर महान बनने वालों को पहली हवा का हल्का झौंका उड़ा लेजाता हैअर्थार्त न तो खुदा मिलता है और ना ही विसाले सनम