Ad

Tag: AkhileshYadav

अखिलेश यादव जी,कालेजों में योग्यता+क्षमता+पात्रता से फीस निर्धारित करो वरना भूल जाओ राइजिंग स्टेट

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

राइजिंग सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकां ओये अब हसाडे उत्तर प्रदेश में इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट की पढाई सस्ती हो जाणी है| ओये हसाडे सोणे युवा मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने एम बी ऐ +इंजीनियरिंग की फीस कम करने का निर्णय ले लिया है|ओये अब तो मान ले ,हसाड़ा उत्तर प्रदेश बन रहा है राइजिंग प्रदेश

झल्ला

ओ मेरे पहलवान जी आपजी के मुख से ये चतुराई वाली बातें हजम नहीं हो रही|आप जी के प्रदेश में फीस बढ़ाने की मांग करने वाले ५० कालेजों में पढाई का स्तर निम्न पाया गया है|इसके आलावा लगभग साढ़े आठ सौ कालेजों में दो लाख से ज्यादा सीटें हैं लेकिन जस्ट टेल मी के इनमे से पिछले तीन साल से कितने कालेजों में सीटें फुल रही हैं|अरे पहलवान जी खाली सीटों से त्रस्त इन कालेजों को फीस कम नहीं करनी पढ़े इसीलिए ये लोग उलटे फीस बढ़ाने को दबाब बनाते रहते हैं |झल्लेविचारनुसार सही मायने में यदि उत्तर प्रदेश को राइजिंग प्रदेश बनाना है तो जनता के पैसे देकर निजी मीडिया में अपनी फोटो छपवाने की मृग तृष्णा छोड़ो|छात्रों के भले के लिए सभी कालेजों में योग्यता+क्षमता+पात्रता के अनुसार फीस निर्धारित करवाओ|वरना तो याद करलो भाजपाई शाइनिंग इंडिया के नतीजों को|

अखिलेश यादव का माथा चौड़ा है तभी डिटर्जेंट दूध भी सर माथे रख कर पतनाला केंद्र पर ही गिरा दिया

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया इन विपक्ष वालों ने तो नाक में दम करके हुआ है | विधान सभा को चलने ही नहीं दे रहे |अब देखो बिजली+भ्र्ष्टाचार + अपराधों के बेसुरे राग गाते गाते अब ये लोग दूध को ही लेकर बैठ गए भाई ठीक है ये तो हम मान रहे हैं कि हसाडे प्रदेश में भी १५/= में डिटर्जेंट दूध बना कर ५०/=में बेचा जा रहा है लेकिन इसमें हम क्या कर सकते हैं ?हसाडे वड्डे नेताओं ने सदन में फरमा दिया है कि केंद्र सरकार को इसकी रोकथाम के लिए कोई ठोस नियम बनाना चाहिए

झल्ला

मान गए पहलवान जी वाकई आपजी के नेता जी की तरह ही मुख्य मंत्री अखिलेश यादव का भी माथा बेहद चौड़ा है तभी सारी बातें माथे पर रख लेते हैं |खाद्य विभाग को पाल पोस कर दीवाली से पहले ही पतनाला केंद्र सरकार पर ही गिरा दिया

अखिलेश जी पेट्रोल डीजल पर उपकर से समाजवादी पेंशन देने के बजाय पैसे देकर अपनी फोटो छपवानी बंद करो

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकां ओये इन भाजपाई+बसपाई+कांग्रेसियों ने हसाड़ी सरकार की साइकिल के टायर पंचर करने की लाख कोशिशें कर ली लेकिन हसाडे सोणे मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने विकास की रफ़्तार कम नहीं की है अब देख तमाम विरोधों के बावजूद समाजवादी पेंशन योजना को लागू कर दिया अब प्रदेश के ४० लाख परिवारों को ५००/= से ७५०/=तक का लाभ मिलेगा

झल्ला

पहलवान जी “लोक लुभावन”उन्मुक्त योजना से भी अगर आपकी”साइकिल”बची रह जाये तो गनीमत समझना क्योंकि अभी तक गरीबी की रेखा तो तय हुईनहीं और आप लोग चले हो गरीबी दूर करने |झल्लेविचारनुसार यदि आप लोग अख़बारों में पूरे पूरे पेज के महंगे विज्ञापनों में अपनी तस्वीर छपवाना बंद कर दें तो हजारों गावों में विकास के फोटो छपने लगेंगे |इसके लिए पेट्रोल डीजल पर वेट उपकर भी नहीं लगाना पढ़ेगा |बेशक लैपटॉप+हमारी बेटी उसका कल+पेंशन आदि की योजनाओं का बोझ उतार कर समाजवादी साइकिल की स्पीड बढ़ेगी लेकिन अखिलेश यादव जी पैसे देकर आप को अपनी फोटो छपवाने से परहेज भी करना होगा

सी पी एम टी पेपर लीक हुआ कैंडिडेट्स परेशान हुए और अखिलेश यादव ने जाँच के आदेश दे दिए

सी पी एम टी पेपर लीक हुआ कैंडिडेट्स परेशान हुए और अखिलेश यादव ने जाँच के आदेश दे दिए|अब यह प्रवेश परीक्षा २० जुलाई को होगी |
उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने सी पी एम टी पेपर लीकेज की जाँच के आदेश दे दिए हैं |
सी एम ने इसे गंभीरता से लेते हुए मुख्य सचिव अलोक रंजन को उच्चस्तरीय समिति का गठन करने के आदेश दिए हैं |शासन प्रवकता के अनुसार मुख्य मंत्री ने सी पी एम टी पेपर लीक होने के प्रकरण को गंभीरता से लिया है और परीक्षाओं की पवित्रता बनाये रखने के लिए निर्देश दिए हैं|छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने वालों के साथ सख्ती से निबटने के भी आदेश जारी किये गए हैं |
गौरतलब है केआज होने वाली उत्तरप्रदेश संयुक्त प्रीमेडिकल परीक्षा यूपीसीपीएमटी को रद्द कर दिया गया है |प्राप्त जानकारी के अनुसार गाजियाबाद में दो बक्सों के सील से छेड़छाड़ किये जाने की बात सामने आई इन्ही बक्सों में परीक्षा के प्रश्नपत्र रखे हुए थे। प्रदेश में सी पी एम टी के अभियार्थी परेशान रहे |

अखिलेश यादव यूं पी में विकलांग छात्रों को फ्री मेस सुविधा देंगे

अखिलेश यादव ने विकलांगजनों की समस्यायों के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए विकलांग श्रेणी के विद्यार्थियों को निशुल्क मेस सुविधा देने के निर्देश दिए |
यूं पी के सी एम अखिलेश यादव के निवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में विकलांगजनों के कल्याण में जुटी संस्थाओं को सम्बोधित कर रहे थे |इसका आयोजन डॉ शकुंतला मिश्रा विश्व विद्यालय द्वारा किया गया था|इस अवसर पर मुख्य मंत्री ने विकलांग कल्याण के लिए अनेकों घोषणाएं भी की
[१]विकलांग कल्याण विभाग का नाम बदलने का सुझाव स्वीकार किया|
[२]विश्व विद्यालय द्वारा विकलांग जनों के लिए प्रस्तावित इंटर मीडिएट विद्यालय के लिए सरकारी सहयोग का आश्वासन दिया
[३]पेंशन योजना के दायरे में अवयस्क विकलांग बच्चों को शामिल किये जाने के लिए सरकार का आभार व्यक्त किया गया
इस अवसर पर मुख्य मंत्री ने प्रदेश में समाजवादी पेंशन+ कल्याणकारी योजनाओं के विषय में अवगत कराया
उन्होंने बताया के प्रारम्भिक दौर में ४० लाख परिवारों को ५०० रुपये प्रति माह का लाभ होगा
अवस्थापना विकास के साथ ही सड़क+पुल +बिजली+ पानी+की परियोजनओं को प्राथमिकता दी गई है
कुलपति प्रो.निशीथ राय+हेंडी केयर संस्था की श्रीमती मृदु गोयल +यूनिवर्सिटी आफ सेंट्रल लंका शायर के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट आफ साइन लैंग्वेज एंड डेफ स्टडीज की निदेशिका सुश्री उलराईक जीशान + दृष्टि बाधित संस्थान के अध्यक्ष एस के सिंह तथा डॉ शिवाजी पांडा+ श्री गोपाल कृष्ण अग्रवाल आदि ने अपनी संस्थाओं के विषय में मुख्य मंत्री को अवगत कराया |
अखिलेश कुमार द्वारा संचालित इस कार्यक्रम में राजनितिक पेंशन मंत्री राजेंद्र सिंह+प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल+रिग्जियान सैम्फिल+डॉ रुपेश कुमार आदि भी शामिल थे

यूं पी बजट में विकास की घोषणाओं के लिए सरकार ने आवश्यक बिजली उत्पादनार्थ मुंबई के मित्रों पर भरोसा किया?

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया हसाडे मुख्य मंत्री जी ने तो कमाल कर दिया प्रदेश के विकास के लिए अब तक के सबसे वड्डे पौने तीन लाख करोड़ रुपयों के वार्षिक बजट को सदन में पेश कर दिया| पिछले साल ये भाजपाई कहते फिरते थे कि हमने लोक लुभावन योजनाएं चलाई हैं अब जब हमने लैपटॉप वितरण+बेरोजगारी भत्ता+कन्या विद्या धन और यहाँ तक कि हमारी बेटी उसका कल को भी समाप्त कर दिया तो ये भाजपाई शर्मिंदा होकर सदन का ही बहिष्कार कर गए

झल्ला

अरे पहलवान जी आप जी ने जो योजनाओं का संकल्प लेकरयूं पी विधान सभा कब्जाई थी उस संकल्प को मात्र दो साल में ही तोड़ दिया |अब जो घोषणाएं की गई हैं उनका पालन करने के लिए
बिजली जरूरी है लेकिन उसके झटकों से वर्तमान में राहत और भविष्य के लिए कोई योजना नही दिख रही है |क्या इसके लिए केंद्र +अपने मुंबई के मित्र गणों पर भरोसा किया जाएगा ?

वन सरंक्षक सलिल कुमार शुक्ला को वन में अतिक्रमण नहीं रोक पाने के आरोप में तत्काल प्रभाव से निलंबित किया

मोदी नगर रेंज के सहायक वन सरंक्षक सलिल कुमार शुक्ल को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने श्री शुक्ला को निलंबित करते हुए अनुशासनिक कार्यवाही करने के भी निर्देश दिए हैं|निलंबित अधिकारी पर वन छेत्र में अतिक्रमण रोकने के लिए अपने कर्तव्यों का पालन नहीं करने के साथ उच्च अधिकारियों की हुकुमअदुली के आरोप है | सरकारी प्रवकता के अनुसार ३० दिन में विभागीय जांच पूरी कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं|

अखिलेश सरकार को २३ जून से प. यू पी के मुद्दे दिखाएगी भाजपा

अखिलेश सरकार बेशक तमाम दावे करे उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की कृतिम समस्या को पैदा करके उनकी छवि धूमिल की जा रही है लेकिन उत्तर प्रदेश और विशेष तौर पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में समस्यायों की कमी नहीं है |यहाँ आये दिन व्यवस्था को अंगूठा दिखती घटनाएँ घटित होरही है |जनप्रतिनिधि से लेकर अधिवक्ता तक पुलिस की कार्यप्रणाली से खफा दिखाई दे रहे हैं|मेरठ के एसएसपी ऑफिस पर तो लगातार शिकायतकर्ताओं की संख्या बढ़ती जा रही है। जिनका संकलन करके भाजपा ने अब मुद्दा बना लिया है| A FP से विशेष बातचीत में अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश एक बड़ा और राजनीतिक रूप से एक ताकतवर राज्य है। आलोचक एक युवा मुख्यमंत्री को नहीं देखना चाहते हैं। इसीलिए उन्हें लगता है कि चलो उसकी छवि खराब करें।
मुख्य मंत्री के इस दावे की पोल खोलने के लिए मेरठ कलेक्टरेट का एक दिन का नजारा प्रस्तुत है: १७ जून को मेरठ के एसएस पी कार्यालय में मेरठ के चार थानों के खिलाफ प्रदर्शन हुए इनमे से अधिकाँश गैर राजनितिक पीड़ितों द्वारा किये गए | खाज में कौडके रूप में प्रदर्शन कारियों को ढूंढें भी अधिकारी नहीं मिले | एक दिन के कुछ उदाहरण प्रस्तुत हैं :
[१] दौराला हवालात में अपहरण के आरोपी अप्पू की मौत का मामला दोबारा से गरमा गया है। इसी को लेकर कैंट विधायक अपने समर्थकों के साथ एसएसपी ऑफिस पहुंचे। एसएसपी तहसील दिवस में गए थे। बावजूद इसके वहां कोई अधिकारी मौजूद नहीं था। यहां तक की रिसेप्शन पर रहने वाले पुलिसकर्मी भी गायब मिले | घटना क्रम के अनुसार युवती को दौराला थाने के पल्लवपुरम में फेज फेज वन निवासी अप्पू पुत्र चिंताशंकर भगा कर ले गया था। सात दिसंबर को गाजियाबाद से युवती और युवक को पुलिस ने पकड़ लिया। आरोपी को थाने की हवालात में बंद कर दो दिन तक यातनाएं दीं। हवालात के अंदर आठ दिसंबर को अप्पू की मौत हो गई। मां की ओर से आइपीसी थाने के इंस्पेक्टर डीपी सिंह, चौकी प्रभारी यादराम सिंह, अर्जुन सिंह नाइट अफसर, हेड मोहर्रिर बिजेंद्र सिंह, सिपाही ईश्वर सिंह पर मुकदमा हुआ था।

Crime In Meerut

Crime In Meerut

[२]जानी थाने के अफजलपुर पावटी में मस्जिद के इमाम को लेकर विवाद चल रहा है| यहां बड़ी मस्जिद के अंदर नमाजियों पर गोली बरसा दी गई थी। 13 लोग लहूलुहान हो गए थे|फायरिंग करने वाले मौके से फरार हो गए |
पीड़ित पक्ष की दर्जनों महिलाओं ने मंगलवार को एसएसपी ऑफिस पर जमकर प्रदर्शन किया।पोलिस पर क्रास मुकदमा दर्ज करने का आरोप लगाया गया महिलाओं ने इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन किया। गर्मी अधिक होने के कारण कुछ महिलाएं बेहोश हो गई।
[३]कंकरखेड़ा के बद्रीशपुरम में ९ जून को अधिवक्ता राजा पुत्र सुमेर सिंह पर जान लेवा हमला किया गया था | मामले की रिपोर्ट कंकरखेड़ा थाने में दर्ज करा दी गई। इसके बावजूद आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो पा रही है। इसी को लेकर एकजुट होकर दो दर्जन के करीब अधिवक्ताओं ने एसएसपी ऑफिस पर प्रदर्शन किया |
[४]देहलीगेट के लाला का बाजार निवासी एक महिला ने एसपी ट्रैफिक के सामने पेश होकर आरोप लगाया कि ससुरालियों ने उसके साथ दुष्कर्म की कोशिश की। अब भाजपा ने अपराधों को संकलित करके मुद्दा बना लिया है
Agitation Against Thana Sadar Bazar

Agitation Against Thana Sadar Bazar


भाजपा ने 23 जून से 11 अगस्त तक थाना घेरने की घोषणा की है |
इस दौरान थानों की हीलाहवाली एवं अधिकारियों के रवैये की पोल खोलने का दावा किया गया है|
मेरठ में आयोजित एक बैठक में स्थानीय न्रेतत्व ने आरोप लगाया है कि दो सप्ताह पहले प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी के दौरे में पीड़ितों की समस्या सुनकर निस्तारण करने का आदेश जारी किया गया था। उस आदेश का कितना पालन हो रहा है, इसका प्रमाण एसएसपी ऑफिस दे रहा है।
Agitation Against Thana Medical

Agitation Against Thana Medical

थानों पर सुनवाई नहीं होने से परेशान पीड़ित भरी गर्मी में एसएसपी ऑफिस पर प्रदर्शन कर इंसाफ मांग रहे हैं। अफसर इन लोगों की फरियाद सुनकर थाने स्तर पर कॉल कर कर्तव्य की इतिश्री कर लेते हैं। लेकिन कभी यह जानने की कोशिश नहीं कि थाने स्तर पर सुनवाई क्यों नहीं हो रही है? इसी का नतीजा है कि कुछ प्रदर्शनकारी महिलाएं तो एसएसपी ऑफिस पर बेहोश हो गई थीं।

अखिलेश सरकार को,बदनाम करने के लिए बसपा और भाजपा में सांठगांठ :समाजवादी पार्टी

समाजवादी पार्टी ने अखिलेश सरकार को,बदनाम करने के लिए बसपा और भाजपा में सांठगांठ का आरोप लगाया
समाजवादी पार्टी ने प्रदेश सरकार को ,अपराधों को लेकर, बदनाम करने के लिए बसपा और भाजपा में सांठगांठ का आरोप लगाया|
सपा पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने दावा किया है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह उनके नियंत्रण में है उसके बावजूद बसपा अध्यक्षा मायावती की बोली से भाजपा की सुश्री उमा भारती अपनी बोली मिला रही है। साध्वी उमा भारती को भी प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव को जब तब चेतावनी देने का रोग लग गया है। जाने कौन से विकल्प के पत्ते वे छुपाए हुए है?
उन्होंने आकंड़े प्रस्तुत करते हुए बताया राष्ट्रीय स्तर पर अपराध के आंकड़ों में 21 राज्य उत्तर प्रदेश से आगे हैं। मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के कड़े रूख के चलते कर्तव्य पालन में ढिलाई बरतनेवाले अधिकारी निलम्बित या स्थानान्तरित किए जा रहे हैं। उच्च अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश हैं कि वे कहीं कोई अप्रिय घटना घटे तो स्वयं भी उस स्थल पर जाएं। तत्काल कार्यवाही करें। उन्होने स्वंय भी जनपदो में औचक निरीक्षण कर प्रशासनतंत्र को चुस्त दुरूस्त होने का संदेश दे रहे हैं। वह प्रदेश के पुलिस प्रशासन के द्वारा पूरी मुस्तैदी से अराजक तत्वो की गतिविधियों पर निगाह रखे हैं।
विडंबना है कि इसके बावजूद भी कुछ विपक्षी समाजवादी सरकार और मुख्यमंत्री जी की छवि पर अनर्गल टिप्पणियां कर रहे हैं। इसमें सबसे आगे बसपा की पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती हैं जिनकी सत्ता ही कानून व्यवस्था बिगड़ने से गई। जनता उनके शासनकाल में हुई लूट और अपहरण, बलात्कार की घटनाओं से त्राहि-त्राहि करने लगी थी। बसपा की पूर्व मुख्यमंत्री ने कभी किसी पीड़ित दलित के आंसू पोंछने तो दूर उसको अपने दरवाजे की चौखट तक आने की इजाजत भी नहीं दी।समझ में नहीं आता है कि बसपा अध्यक्षा की बोली से भाजपा की सुश्री उमा भारती अपनी बांली क्यों मिला रही है।
जो लोग आज उत्तर प्रदेश की छवि को धूमिल करने का कुप्रयास कर रहे हैं वस्तुतः वे प्रदेश में बहुमत की सरकार बनानेवाले लाखों मतदाताओं का अपमान कर रहे हैं। यह जनादेश का खुला उल्लंघन है।
लोकतंत्र में बहुमत की सरकार के काम में रोड़ा अटकाना पूर्णतया असंवैधानिक है। प्रधानमंत्री देश में राज्य के मुख्यमंत्रियों को भी विकास कार्यो में अपने साथ जोड़कर संघीय व्यवस्था को मजबूत बनाने की बात करते हैं और उनकी पार्टी तथा सरकार के लोग ही उससे उलट राज्य में अस्थिरता पैदा करने का अल्टीमेटम देते धूम रहे हैं।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुलायम सिंह यादव के सपने का आदर्श प्रदेश बनाने का अथक प्रयास कर रहे है। उनके सामने गम्भीर चुनौतियां हैं, जिनसे दृढ़संकल्प शक्ति के साथ निबटा जा रहा हैं। प्रदेष में पिछली सरकार ने एक यूनिट बिजली नहीं पैदा की। अवस्थापना सुविधाओं का बंटाधार कर दिया। उद्योग लगे नहीं, रोजगार बढ़े नही। नौजवान, किसान, अल्पसंख्यक सहित समाज के सभी वर्ग परेशान रहे। अब इन सबके कल्याण की योजनाओं को अमली जामा पहनाया जा रहा है। समाजवादी सरकार प्रदेश का कायाकल्प करने को संकल्पित है।

अखिलेश यादव ने यूं पी में शपथ पत्र व्यवस्था को समाप्त किया:स्वःप्रमाणित पत्र ही पर्याप्त होगा

अखिलेश यादव ने यूं पी में शपथ पत्र व्यवस्था को समाप्त किया:स्वःप्रमाणित पत्र ही पर्याप्त होगा
उत्तर प्रदेश में अब नहीं देना होगा शपथ पत्र |सरकारी योजनाओं +सुविधाओं का लाभ + शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश लेने के लिए अब केवल स्वः प्रमाणित/स्वः घोषित प्रमाण पत्र ही पर्याप्त होगा||इस फैसले से लाभार्थिओं को धन और समय दोनों की बचत होगी|
सरकारी प्रक्रियायों के सरलीकरण और आम जनता की सुविधा को दिन में रखते हुए मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने यह क्रांतिकारी निर्णय लिया है|
राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि जिन योजनाओं+सुविधाओं का लाभ लेने और शिक्षण संस्थाओं में दाखिले के लाभार्थी द्वारा शपथ प्रस्तुत किये जाने की ,वर्तमान में लागू, व्यवस्था को तत्काल प्रभाव से समाप्त करने के निर्देश मुख्य मंत्री द्वारा जारी कर दिए गए हैं |
फोटो कैप्शन
मेरठ के :राधा गोबिंद कॉलेज में अखिलेश यादव का फाइल फोटो