Ad

Tag: SamajvadiParty

सपा ने सडकों से लेकर विस और संसद[बजट सेशन]में तांडव मचाया उससे क्या लोक तंत्र बचा

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

समाजवादी चेयर लीडर

औए झल्लेया ये यूपी में क्या हो रहा है?
हसाड़े सोणे प्रदेश में दिनदहाड़े +खुलेआम लोक तंत्र का गला घौटा जा रहा है |हसाड़े संभ्रांत अध्यक्ष श्रीमान अखिलेश यादव जी को अपने ही प्रयागराज नहीं जाने दिया गया |औए अलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में ही नहीं जाने दिया गया| झल्लेया! लोक तंत्र खतरे में है

झल्ला

पहलवान जी !आपके अध्यक्ष जी को कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए वर्तमान में अतिसंवेदनशील अलाहाबाद नहीं जाने दिया गया |प्रबंधन के आग्रह पर छात्र असंतोष में सुलगते विश्व विद्यालय में नहीं जाने दिया गया तो तो लोक तंत्र खतरे में आ गया |
लेकिन जरा सोचो के समाजवादियों ने सरेआम +खुलेआम+सुबह शाम सडकों से लेकर विधानसभा और संसद के दोनों सदनों में चल रहे बजट सेशन में तांडव मचाया | ड्यूटी बजा रहे पुलिस और पत्रकारों को पीटा |उससे क्या लोक तंत्र बचा ???

सपा +बसपा गठबंधन के दरवाजे ,कांग्रेस+रालोद+शिवपाल के लिए नहीं खुले

[लखनऊ,यूपी] बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज सपा अध्यक्ष अखिलेशयादव के साथ आयौजित अपनी संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जिस गठबंधन की घोषणा की उसके दरवाजे कांग्रेस ,शिवपाल यादव और रालोद के लिए बन्द दिखाए
कांग्रेस को बसपा की वोटकटुआ और शिवपालयादव को भाजपा के पैसे का खेल बताया |
कांग्रेस की बात पर अखिलेश असहज दिखे मगर चाचा शिवपाल के नाम पर खिलखिला कर हंसते दिखाई दिए|
लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा के इस गठबंधन के दोनों सहयोगियों ने यूपी की ८० सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान किया|
बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव के लिए शनिवार को उत्तर प्रदेश में गठबंधन का ऐलान किया ।
इस गठबंधन से दोनों ही दलों ने कांग्रेस को अलग रखा लेकिन कहा कि वे अमेठी और रायबरेली सीट पर उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। इन सीटों का प्रतिनिधित्व क्रमश: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी करती हैं।बेशक कांग्रेस के लिए दरवाजे नहीं खुले मगर खिड़की जरूर खुली रखी गई है|
गठबंधन ने दो अन्य सीटें छोटे दलों के लिए छोड़ी हैं।
संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में गठबंधन का ऐलान करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस गठबंधन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ जाएगी।
गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में मायावती ने कहा कि उनके शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई ।
इस मौके पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि यह सपा—बसपा का केवल चुनावी गठबंधन नहीं है बल्कि गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है । ‘भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था ।’

सपा और बसपा ने यूपी में ३८-३८ लोकसभा की सीटें बांटी

[लखनऊ,यूपी] उत्तरा प्रदेश की ८० लोक सभा सीटों को आपस में बांटने के लिए सपा और बसपा ने, कांग्रेस के बगैर ,गठबंधन घोषित किया | दोनों दल ३८ ३८ सीटों पर चुनाव लड़ेंगे |
एक अन्य महत्वपूर्ण छेत्रिय दल रालोद का प्रतिनिधित्व भी दृष्टिगोचर नहीं हुआ |मायावती ने अखिलेश यादव को सपोर्ट करते हुए खनन मामले में अखिलेश यादव के विरुद्ध सी बी आई की कार्यवाही की निंदा की||
होटल ताज में आज एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया जिसमे सबसे पहले बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती ने पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोलते हुए उन्हें गुरु चेला बताया |कांग्रेस से स्वयं को अलग दिखाते हुए मायावती ने कांग्रेस के कुशासन + एमरजेंसी+किसानों की उपेक्षा +भ्र्ष्टाचार के आरोप लगाए | उन्होंने बताया के कांग्रेस से समझौते से बसपा का वोट प्रतिशत कम हो जाता है|जबकि सपा से समझौते से लाभ मिलता है |
उन्होंने कहा के कांग्रेस ने बोफोर्स की वजह से अपनी सत्ता गवाई थे अब राफेल के कारण भाजपा सत्ता से बाहर जाएगी|

शिवपाल यादव ने यूपी में बदलाव के लिए सत्ता पर कब्ज़ा जरूरी बताया

[इटावा,यूपी]शिवपाल यादव ने यूपी में बदलाव के लिए सत्ता पर कब्ज़ा जरूरी बताया
नवगठित समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल सिंह यादव ने सोमवार को कहा कि उनका मकसद इस मोर्चे को एक बड़ी सियासी ताकत बनाकर देश-प्रदेश की सत्ता पर काबिज कराना है।
सैफई के स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित दो दिवसीय एथलेटिक्स एवं खेलकूद प्रतियोगिता के उद्घाटन अवसर पर वहां मौजूद जनसमूह को संबोधित करते हुए यादव ने कहा कि उन्होंने उपेक्षित समाजवादियों, बेरोजगारों और नौजवानों के लिये समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन किया है। समान विचारधारा वाले जितने भी दल हैं, उनसे बात करके मोर्चे को एक बड़ी ताकत बनाना है और सत्ता पर काबिज होना है।

चचा शिवपाल यादव ने बनाया अलग ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’

[लखनऊ,यूपी ]चचा शिवपाल यादव ने बनाया ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’ : अब छोटी पार्टियों को एकजुट करेंगे
समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के चचा शिवपाल सिंह यादव ने आज ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’ के गठन का ऐलान करते हुए कहा कि वह इस मोर्चे के तहत छोटी पार्टियों को एकजुट करने की कोशिश करेंगे।इससे पूर्व शिव पल के भाजपा में जाने की खबरें आई थी लेकिन बीते दिनों ठाकुर अमर सिंह ने इसका खंडन कर दिया
शिवपाल ने अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा, समाजवादी पार्टी में मेरी अवहेलना हो रही थी फिर भी मैंने दो साल इंतजार किया। पार्टी के कार्यक्रमों के बारे में ना तो मुझे सूचना दी जा रही थी और ना ही कोई आमंत्रण। मुझे कोई जिम्मेदारी भी नहीं दी गयी।’
उन्होंने कहा, ‘सपा में कई ऐसे कार्यकर्ता हैं, जिनकी अवहेलना की गयी है। उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी और हम उनसे अपने मोर्चे को मजबूत करने के लिए कहेंगे। हम मोर्चे के तहत छोटी पार्टियों को भी एकजुट करने का प्रयास करेंगे।’
यह पूछने पर कि क्या मोर्चा 2019 के लोकसभा चुनाव लड़ेगा, शिवपाल ने कोई जवाब नहीं दिया।
जब सवाल किया गया कि सपा संस्थापक और उनके भाई मुलायम सिंह यादव भी मोर्चा में शामिल होंगे क्या, तो शिवपाल ने कहा कि हम उन्हें उचित सम्मान देंगे और अन्य लोगों से भी ऐसा ही करने को कहेंगे।

कैराना में नलका चल गया, नूरपुर में साईकिल :कमल मुरझाया

[लखनऊ,यूपी]कैराना में नलका चल गया और नूरपुर में साईकिल :कमल मुरझाया
नवगठित विपक्ष ने आज प्रतिष्ठित कैराना लोकसभा सीट और नूरपुर विधानसभा सीट भाजपा से छीन ली । उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए यह एक भारी झटका है ।
दोनों ही सीटों के लिए संयुक्त विपक्ष की रणनीति ने काम किया । विपक्ष ने ध्यान स्थानीय मुद्दों पर ही केन्द्रित रखा, जिसका लाभ उसे मिला ।
सत्ताधारी भाजपा ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटें हारने के बाद कैराना में पूरी ताकत झोंक दी थी । खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भाजपा प्रत्याशियों के चुनाव प्रचार की कमान संभाल रहे थे जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कैराना के निकट ही रोड शो किया, जिसके बाद रालोद ने चुनाव आयोग से शिकायत की|
विपक्ष ने भी सुनियोजित रणनीति के तहत गन्ना बकाया और किसानों के संकट जैसे स्थानीय मुददों पर प्रचार केन्द्रित रखा ।
संयुक्त विपक्ष की कैराना सीट पर प्रत्याशी रालोद की तबस्सुम हसन ने भारी अंतर् से भाजपा को हराया|
हाल ही में विपक्ष ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर कब्जा किया था । इन सीटों पर क्रमश: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य काबिज थे लेकिन उपचुनाव में दोनों सीटें सपा के खाते में गयीं ।
भाजपा ने हालांकि कैराना और नूरपुर में पूरी ताकत झोंक दी थी विशेषकर कैराना में उसने बहुत मेहनत की थी ।
कैराना से भाजपा प्रत्याशी मृगांका सिंह ने भावुक होते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य सरकारों ने काफी काम किये हैं लेकिन लगता है कि हम ये संदेश जनता तक नहीं पहुंचा पाये ।

अखिलेश यादव ने ईवीएम के बजाय बैलेट से चुनाव कराये जाने की मांग की

[लखनऊ,यूपी ] अखिलेश यादव ने बैलेट से चुनाव कराये जाने की मांग की |उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने उपचुनावों ईवीएम मशीनों में आई खराबी को लेकर सरकार पर जम कर प्रहार किये और कैराना+नूरपुर में पुनः मतदान कराये जानेकी भी मांग उठाई|उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कहा के जिन छेत्रों में उनके वोट थे उन्ही छेत्रों में मशीनों में खराबी आई है यह अपने आप में चिंताजनक है और संदेहास्पद है |उन्होंने इसके पीछे छुपी रणनीति की भी संभावना व्यक्त की |अखिलेश यादव ने अपने पीछे स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह की फोटो लगा कर प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया और विकास के इस दौर में साईकिल की सवारी की वकालत भी की|
फाइल फोटो

समाजवादी प्रभु साहनी की वाराणसी में गोली मार कर हत्या

[वाराणसी,यूपी]सपा के स्थानीय नेता प्रभु साहनी की गोली मार कर हत्या
प्रभु साहनी आज संकठा मंदिर से दर्शन करने के बाद सिंधिया घाट पहुंचे थे। जहां पहले से ही घात लगाकर बैठे दो अज्ञात बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी। स्थानीय निवासी उन्हें घायल अवस्था में अस्पताल ले गये, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
प्राप्त जानकारी केअनुसार मृतक के रिश्तेदार पर हत्या करने का आरोप लगाया जा रहा है।

एमएलसी प्रत्याशी डॉ सरोजिनी अग्रवाल पर कलेक्ट्रेट में लगे भ्र्ष्टाचार के आरोप

Demonstration Against Dr Sarojini Agrawal

Demonstration Against Dr Sarojini Agrawal

[मेरठ,यूपी]भाजपा की एम एल सी प्रत्याशी डॉ सरोजिनी अग्रवाल के खिलाफ कलेक्ट्रेट में नारे लगे| डॉ सरोजिनी अग्रवाल के परिवार पर सैंकड़ों लोगों से ठगी के आरोप लगा कर कार्यवाही की मांग की गई है
जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्य मंत्री को प्रेषित ज्ञापन में आरोप लगाया गया है के मेरठ के ३५० लोगों के साथ सपा राज में ठगी की गई है |ठगी करने वालों में [१] डॉ ॐ प्रकाश अग्रवाल[२]डॉ नीमा अग्रवाल[३]अनुराग गर्ग[४]आलोक रस्तोगी[५]रवि रस्तोगी[६]मनमोहन सप्रा[७]अखिलेश चौहान शामिल बताये गए हैं | गौरतलब हे के
भाजपा में शामिल हुईं डा सरोजनी अग्रवाल को भाजपा ने भी रिटर्न तोहफा दिया है। भाजपा द्वारा यूपी से जारी की गई एमएलसी प्रत्याशियों की लिस्ट में डा सरोजनी अग्रवाल को भी प्रत्याशी घोषित किया गया है।अभी तक कोई विरोधी नामांकन नहीं आया है इसीलिएइनका चयन निर्विरोध होना तय माना जा रहा है |डॉ सरोजनी का नाम घोषित कर पार्टी ने बेशक मेरठ में चले आ रहे परंपरागत वैश्य वोट बैंक को साधने का प्रयास किया है इसीलिए है। उनके समर्थकों में हर्ष का माहौल बना है लेकिन आज इस विरोध प्रदर्शन से भाजपा के चयन प्रक्रिया पर सवाल उठने लाजमी हैं |

भूआ+बबुआ ने योगी बाबा का “गोरखपुर” में दशकों से मजबूत”भगवा”गढ़ ढाया

[गोरखपुर,यूपी] भूआ और बबुआ की जोड़ी ने योगी बाबा का “गोरखपुर” में दशकों से मजबूत “भगवा” गढ़ ढाया |हाथी पर सवार साईकिल ने कमल को रौंदा
सपा ने बसपा के सहयोग से गोरखपुर +फूलपुर में हुए उपचुनावों में दोनों सीटों पर जीत दर्ज की |इन दोनों सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार हार गए हैं और भाजपा के ग्रह में सपा की ऐतिहासिक एंट्री हो गई है
|ये सीटें सी एम योगी आदित्यनाथ[गोरखपुर] और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य[फूलपुर] द्वारा रिक्त की गई थी |
निर्वाचन आयोग के सूत्रों के मुताबिक मतगणना का काम सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू हुआ।शुरुआत से ही दोनों में कांटे की टक्कर दिखाई दे रही थी |इसीबीच समाजवादी पार्टी ने मतगणना में गड़बड़ का आरोप लगाते हुए गोरखपुर से लेकर लखनऊ तक हल्ला बोल दिया यहां तक के असेंबली के प्रश्नकाल को भी बाधित किया |इसके पश्चात् सपा उम्मीदवार की बढ़त लगातार बढ़ती गई २५वें चक्र तक फूलपुर में ३८ ,४९८ वोट्स की बढ़त दर्ज की जा चुकी थी
वहीं गोरखपुर में २१ वे चक्र की गणना के अनुसार सपा के निषाद २६४४६ वोट की बढ़त दर्ज कर चुके थे
उपचुनाव के लिये मतदान गत 11 मार्च को हुआ था। इस दौरान क्रमशः 47.75 प्रतिशत और 37.39 फीसद वोट पड़े थे। गोरखपुर सीट के लिये 10 तथा फूलपुर सीट पर 22 उम्मीदवार मैदान में हैं।
भारतीय जनता पार्टी ने फूलपुर से कौशलेंद्र सिंह पटेल और गोरखपुर से उपेंद्र दत्त शुक्ला को मैदान में उतारा है। वहीं समाजवादी पार्टी ने प्रवीण निषाद को गोरखपुर से और नागेंद्र सिंह पटेल को फूलपुर से अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि कांग्रेस ने सुरीथा करीम को गोरखपुर से और मनीष मिश्रा को फूलपुर से प्रत्याशी बनाया है।
गोरखपुर सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के और फूलपुर सीट उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य के विधान परिषद की सदस्यता ग्रहण करने के बाद दिये गये त्यागपत्र के कारण रिक्त हुई हैं।