Ad

Tag: SamajvadiParty

अखिलेश ने हार का ठीकरा पार्टी के टीवी प्रवक्ताओं पर फोड़ा

[लखनऊ,यूपी]अखिलेश ने हार का ठीकरा पार्टी के टीवी प्रवक्ताओं पर फोड़ा
सपा ने तत्काल प्रभाव से सभी टीवी पैनलिस्ट को हटा दिया है|| १७ वी लोक सभा के लिए हुए चुनावों में मुलायम परिवार से अखिलेश औरस्वयं मुलायम सिंह यादव ही जीत दर्ज करा पाए हैं |
पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी के अनुसार टीवी चैनलों से कहा गया है कि समाजवादी पार्टी के किसी भी प्रवक्ता को चैनलों पर बहस के लिये आमंत्रित नहीं किया जाए ।
फोटो राजेंदर चौधरी

जयाप्रदा भाजपा में शामिल हुई,आज़म खान को देंगी चुनौती

[नयी दिल्ली]फिल्म अभिनेत्री और पूर्व सांसद जयाप्रदा भाजपा में शामिल हुई:आजम खान को देंगी चुनौती
अभिनेत्री + ठाकुर अमर सिंह की नजदीकी सहयोगी पूर्व सांसद जयाप्रदा मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गई । भाजपा उन्हें उत्तर प्रदेश के रामपुर संसदीय क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतार सकती है ।
समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता एवं राज्यसभा सदस्य ठाकुर अमर सिंह की करीबी सहयोगी जयाप्रदा सपा के टिकट पर दो बार रामपुर से निर्वाचित हुई हैं ।
माना जा रहा है के अगर भाजपा उन्हें रामपुर से टिकट देती है तब उनका मुकाबला समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान से होगा । आजम खान और ठाकुर अमर सिंह में छत्तीस का आंकड़ा जग जाहिर हैं |

मुलायम बने सपा के आडवाणी :स्टार प्रचारकों की सूची से दिग्गज बाहर

[लखनऊ,यूपी]मुलायम बने सपा के आडवाणी :स्टार प्रचारकों की सूचि से दिग्गज बाहर| समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव को आजमगढ़ सीट के बजाय सपा ने इस बार मैनपुरी से उम्मीदवार बनाया है लेकिन 40 स्टार प्रचारकों की सूची में मुलायम का नाम नहीं है| गौरतलब हे के ९१ वर्षीय लाल कृष्ण आडवाणी का भी टिकट गांधीनगर से काट दिया गया है | इनकी सुरक्षित सीट से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह चुनाव लड़ेंगे|इधर मुलायम को आजमगढ़ से हटा कर स्वयं अखिलेश यादव यहाँ से चुनाव लड़ेंगे
मुलायम इससे पहले वर्ष 1996, 2004 और 2009 में मैनपुरी से सांसद रह चुके हैं।यह सीट उनके लिए सुरक्षित मानी जा रही है |
सपा के प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा रविवार को जारी की गई 40 स्टार प्रचारकों की सूची में पूर्व रक्षा मंत्री +मुख्य मंत्री+और सपा के संस्थापक +पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह यादव का नाम नहीं है।
स्टार प्रचारकों की फेहरिस्त में पार्टी मुखिया
अखिलेश यादव,
आजम खान,
डिंपल यादव,
जया बच्चन तथा कई अन्य वरिष्ठ नेताओं के नाम शामिल हैं।

After BSP &SP in UP Now AAP Also Sidelined Congress in Delhi

[New Delhi]After BSP &SP in UP Now AAP Also Sidelined Congress in Delhi
Aam Aadmi Party (AAP) on Monday made it clear that there would be neither any alliance with the Congress nor a rollback of any of its candidates in Delhi.
Asserting that “enough is enough”, senior AAP leader Gopal Rai said these are the final seven candidates of the party and there is no question of “any roll back”.
The ruling AAP had earlier on March 2, announced the names of its candidates for the six Lok Sabha seats.
On Sunday, the party declared its last candidate in Delhi, with a senior leader saying the announcement was made seeing the Congress’s “irresponsible and indecisive” attitude towards an alliance.
There were rumours of an alliance between Congress-AAP last week when the Congress decided to seek feedback from its booth-level workers on a tie-up with the AAP
Elections to the seven Lok Sabha seats in Delhi will be held on May 12. The results will be declared with the rest of the country on May 23
Mayawati and Akhilesh Yadav asked the grand old Congress party not to spread any kind of confusion while maintaining that the BSP-SP-RLD alliance is capable of defeating the BJP in Uttar Pradesh.
In a series of tweets, Mayawati made it amply clear that BSP will not enter into any alliance with the Congress.
Earlier Akhilesh & Mayawati had offered two seats to congress whereas in return Congress Agreed to leave seven seats in UP

सपा ने हाथरस लोकसभा सीट से रामजी लाल सुमन को प्रत्याशी बनाया

[लखनऊ,यूपी]सपा ने हाथरस लोकसभा सीट से रामजी लाल सुमन को प्रत्याशी बनाया
समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को जारी विज्ञप्ति के मुताबिक हाथरस (सुरक्षित) लोकसभा सीट से रामजी लाल सुमन को प्रत्याशी बनाया है ।
विज्ञप्ति में बताया गया कि मिर्जापुर लोकसभा सीट से राजेन्द्र एस. बिंद का नाम घोषित किया गया है ।
गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी इससे पूर्व नौ प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर चुकी है

सपा ने सडकों से लेकर विस और संसद[बजट सेशन]में तांडव मचाया उससे क्या लोक तंत्र बचा

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

समाजवादी चेयर लीडर

औए झल्लेया ये यूपी में क्या हो रहा है?
हसाड़े सोणे प्रदेश में दिनदहाड़े +खुलेआम लोक तंत्र का गला घौटा जा रहा है |हसाड़े संभ्रांत अध्यक्ष श्रीमान अखिलेश यादव जी को अपने ही प्रयागराज नहीं जाने दिया गया |औए अलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में ही नहीं जाने दिया गया| झल्लेया! लोक तंत्र खतरे में है

झल्ला

पहलवान जी !आपके अध्यक्ष जी को कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए वर्तमान में अतिसंवेदनशील अलाहाबाद नहीं जाने दिया गया |प्रबंधन के आग्रह पर छात्र असंतोष में सुलगते विश्व विद्यालय में नहीं जाने दिया गया तो तो लोक तंत्र खतरे में आ गया |
लेकिन जरा सोचो के समाजवादियों ने सरेआम +खुलेआम+सुबह शाम सडकों से लेकर विधानसभा और संसद के दोनों सदनों में चल रहे बजट सेशन में तांडव मचाया | ड्यूटी बजा रहे पुलिस और पत्रकारों को पीटा |उससे क्या लोक तंत्र बचा ???

सपा +बसपा गठबंधन के दरवाजे ,कांग्रेस+रालोद+शिवपाल के लिए नहीं खुले

[लखनऊ,यूपी] बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज सपा अध्यक्ष अखिलेशयादव के साथ आयौजित अपनी संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जिस गठबंधन की घोषणा की उसके दरवाजे कांग्रेस ,शिवपाल यादव और रालोद के लिए बन्द दिखाए
कांग्रेस को बसपा की वोटकटुआ और शिवपालयादव को भाजपा के पैसे का खेल बताया |
कांग्रेस की बात पर अखिलेश असहज दिखे मगर चाचा शिवपाल के नाम पर खिलखिला कर हंसते दिखाई दिए|
लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा के इस गठबंधन के दोनों सहयोगियों ने यूपी की ८० सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान किया|
बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव के लिए शनिवार को उत्तर प्रदेश में गठबंधन का ऐलान किया ।
इस गठबंधन से दोनों ही दलों ने कांग्रेस को अलग रखा लेकिन कहा कि वे अमेठी और रायबरेली सीट पर उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। इन सीटों का प्रतिनिधित्व क्रमश: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी करती हैं।बेशक कांग्रेस के लिए दरवाजे नहीं खुले मगर खिड़की जरूर खुली रखी गई है|
गठबंधन ने दो अन्य सीटें छोटे दलों के लिए छोड़ी हैं।
संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में गठबंधन का ऐलान करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस गठबंधन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ जाएगी।
गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में मायावती ने कहा कि उनके शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई ।
इस मौके पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि यह सपा—बसपा का केवल चुनावी गठबंधन नहीं है बल्कि गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है । ‘भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था ।’

सपा और बसपा ने यूपी में ३८-३८ लोकसभा की सीटें बांटी

[लखनऊ,यूपी] उत्तरा प्रदेश की ८० लोक सभा सीटों को आपस में बांटने के लिए सपा और बसपा ने, कांग्रेस के बगैर ,गठबंधन घोषित किया | दोनों दल ३८ ३८ सीटों पर चुनाव लड़ेंगे |
एक अन्य महत्वपूर्ण छेत्रिय दल रालोद का प्रतिनिधित्व भी दृष्टिगोचर नहीं हुआ |मायावती ने अखिलेश यादव को सपोर्ट करते हुए खनन मामले में अखिलेश यादव के विरुद्ध सी बी आई की कार्यवाही की निंदा की||
होटल ताज में आज एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया जिसमे सबसे पहले बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती ने पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोलते हुए उन्हें गुरु चेला बताया |कांग्रेस से स्वयं को अलग दिखाते हुए मायावती ने कांग्रेस के कुशासन + एमरजेंसी+किसानों की उपेक्षा +भ्र्ष्टाचार के आरोप लगाए | उन्होंने बताया के कांग्रेस से समझौते से बसपा का वोट प्रतिशत कम हो जाता है|जबकि सपा से समझौते से लाभ मिलता है |
उन्होंने कहा के कांग्रेस ने बोफोर्स की वजह से अपनी सत्ता गवाई थे अब राफेल के कारण भाजपा सत्ता से बाहर जाएगी|

शिवपाल यादव ने यूपी में बदलाव के लिए सत्ता पर कब्ज़ा जरूरी बताया

[इटावा,यूपी]शिवपाल यादव ने यूपी में बदलाव के लिए सत्ता पर कब्ज़ा जरूरी बताया
नवगठित समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल सिंह यादव ने सोमवार को कहा कि उनका मकसद इस मोर्चे को एक बड़ी सियासी ताकत बनाकर देश-प्रदेश की सत्ता पर काबिज कराना है।
सैफई के स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित दो दिवसीय एथलेटिक्स एवं खेलकूद प्रतियोगिता के उद्घाटन अवसर पर वहां मौजूद जनसमूह को संबोधित करते हुए यादव ने कहा कि उन्होंने उपेक्षित समाजवादियों, बेरोजगारों और नौजवानों के लिये समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन किया है। समान विचारधारा वाले जितने भी दल हैं, उनसे बात करके मोर्चे को एक बड़ी ताकत बनाना है और सत्ता पर काबिज होना है।

चचा शिवपाल यादव ने बनाया अलग ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’

[लखनऊ,यूपी ]चचा शिवपाल यादव ने बनाया ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’ : अब छोटी पार्टियों को एकजुट करेंगे
समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के चचा शिवपाल सिंह यादव ने आज ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’ के गठन का ऐलान करते हुए कहा कि वह इस मोर्चे के तहत छोटी पार्टियों को एकजुट करने की कोशिश करेंगे।इससे पूर्व शिव पल के भाजपा में जाने की खबरें आई थी लेकिन बीते दिनों ठाकुर अमर सिंह ने इसका खंडन कर दिया
शिवपाल ने अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा, समाजवादी पार्टी में मेरी अवहेलना हो रही थी फिर भी मैंने दो साल इंतजार किया। पार्टी के कार्यक्रमों के बारे में ना तो मुझे सूचना दी जा रही थी और ना ही कोई आमंत्रण। मुझे कोई जिम्मेदारी भी नहीं दी गयी।’
उन्होंने कहा, ‘सपा में कई ऐसे कार्यकर्ता हैं, जिनकी अवहेलना की गयी है। उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी और हम उनसे अपने मोर्चे को मजबूत करने के लिए कहेंगे। हम मोर्चे के तहत छोटी पार्टियों को भी एकजुट करने का प्रयास करेंगे।’
यह पूछने पर कि क्या मोर्चा 2019 के लोकसभा चुनाव लड़ेगा, शिवपाल ने कोई जवाब नहीं दिया।
जब सवाल किया गया कि सपा संस्थापक और उनके भाई मुलायम सिंह यादव भी मोर्चा में शामिल होंगे क्या, तो शिवपाल ने कहा कि हम उन्हें उचित सम्मान देंगे और अन्य लोगों से भी ऐसा ही करने को कहेंगे।