Ad

Tag: SamajvadiParty

एमएलसी प्रत्याशी डॉ सरोजिनी अग्रवाल पर कलेक्ट्रेट में लगे भ्र्ष्टाचार के आरोप

Demonstration Against Dr Sarojini Agrawal

Demonstration Against Dr Sarojini Agrawal

[मेरठ,यूपी]भाजपा की एम एल सी प्रत्याशी डॉ सरोजिनी अग्रवाल के खिलाफ कलेक्ट्रेट में नारे लगे| डॉ सरोजिनी अग्रवाल के परिवार पर सैंकड़ों लोगों से ठगी के आरोप लगा कर कार्यवाही की मांग की गई है
जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्य मंत्री को प्रेषित ज्ञापन में आरोप लगाया गया है के मेरठ के ३५० लोगों के साथ सपा राज में ठगी की गई है |ठगी करने वालों में [१] डॉ ॐ प्रकाश अग्रवाल[२]डॉ नीमा अग्रवाल[३]अनुराग गर्ग[४]आलोक रस्तोगी[५]रवि रस्तोगी[६]मनमोहन सप्रा[७]अखिलेश चौहान शामिल बताये गए हैं | गौरतलब हे के
भाजपा में शामिल हुईं डा सरोजनी अग्रवाल को भाजपा ने भी रिटर्न तोहफा दिया है। भाजपा द्वारा यूपी से जारी की गई एमएलसी प्रत्याशियों की लिस्ट में डा सरोजनी अग्रवाल को भी प्रत्याशी घोषित किया गया है।अभी तक कोई विरोधी नामांकन नहीं आया है इसीलिएइनका चयन निर्विरोध होना तय माना जा रहा है |डॉ सरोजनी का नाम घोषित कर पार्टी ने बेशक मेरठ में चले आ रहे परंपरागत वैश्य वोट बैंक को साधने का प्रयास किया है इसीलिए है। उनके समर्थकों में हर्ष का माहौल बना है लेकिन आज इस विरोध प्रदर्शन से भाजपा के चयन प्रक्रिया पर सवाल उठने लाजमी हैं |

भूआ+बबुआ ने योगी बाबा का “गोरखपुर” में दशकों से मजबूत”भगवा”गढ़ ढाया

[गोरखपुर,यूपी] भूआ और बबुआ की जोड़ी ने योगी बाबा का “गोरखपुर” में दशकों से मजबूत “भगवा” गढ़ ढाया |हाथी पर सवार साईकिल ने कमल को रौंदा
सपा ने बसपा के सहयोग से गोरखपुर +फूलपुर में हुए उपचुनावों में दोनों सीटों पर जीत दर्ज की |इन दोनों सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार हार गए हैं और भाजपा के ग्रह में सपा की ऐतिहासिक एंट्री हो गई है
|ये सीटें सी एम योगी आदित्यनाथ[गोरखपुर] और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य[फूलपुर] द्वारा रिक्त की गई थी |
निर्वाचन आयोग के सूत्रों के मुताबिक मतगणना का काम सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू हुआ।शुरुआत से ही दोनों में कांटे की टक्कर दिखाई दे रही थी |इसीबीच समाजवादी पार्टी ने मतगणना में गड़बड़ का आरोप लगाते हुए गोरखपुर से लेकर लखनऊ तक हल्ला बोल दिया यहां तक के असेंबली के प्रश्नकाल को भी बाधित किया |इसके पश्चात् सपा उम्मीदवार की बढ़त लगातार बढ़ती गई २५वें चक्र तक फूलपुर में ३८ ,४९८ वोट्स की बढ़त दर्ज की जा चुकी थी
वहीं गोरखपुर में २१ वे चक्र की गणना के अनुसार सपा के निषाद २६४४६ वोट की बढ़त दर्ज कर चुके थे
उपचुनाव के लिये मतदान गत 11 मार्च को हुआ था। इस दौरान क्रमशः 47.75 प्रतिशत और 37.39 फीसद वोट पड़े थे। गोरखपुर सीट के लिये 10 तथा फूलपुर सीट पर 22 उम्मीदवार मैदान में हैं।
भारतीय जनता पार्टी ने फूलपुर से कौशलेंद्र सिंह पटेल और गोरखपुर से उपेंद्र दत्त शुक्ला को मैदान में उतारा है। वहीं समाजवादी पार्टी ने प्रवीण निषाद को गोरखपुर से और नागेंद्र सिंह पटेल को फूलपुर से अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि कांग्रेस ने सुरीथा करीम को गोरखपुर से और मनीष मिश्रा को फूलपुर से प्रत्याशी बनाया है।
गोरखपुर सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के और फूलपुर सीट उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य के विधान परिषद की सदस्यता ग्रहण करने के बाद दिये गये त्यागपत्र के कारण रिक्त हुई हैं।

नरेश अग्रवाल ने सपा छोड़ कर भाजपा ज्वाइन की

नई दिल्ली] राज्यसभा एमपी नरेश अग्रवाल ने सपा छोड़ कर भाजपा ज्वाइन की | उनके स्थान पर ज्या बच्चन को टिकट दिए जाने से वे नाराज थे|उन्होंने एक टिप्पणी के माध्यम से सपा की नीतियों पर भी कटाक्ष किया |हरदोई के लोकप्रिय नेता ने कहा के सपा में फिल्मों में डांस करने वालों को महत्व दिया गया है इसीलिए उन्होंने पार्टी छोड़ी है| पहले भी अपने विवादस्पद बयानों से चर्चा में रहे हैं |सांसद का कार्यकाल २ अप्रैल को समाप्त होने जा रहा है|अग्रवाल के पुत्र एम एल ऐ हैं ऐसे में पुत्र की वोट भी भाजपा को ही जाएगी|

छात्रों ने विश्वविद्यालय में पकौड़े के स्टाल लगाकर बेरोजगारी पर आक्रोश व्यक्त किया

ccs university main samajwadi party ka pradhan mantri pakoda rojgar yojna (4) (1)[मेरठ,यूपी] छात्रों ने विश्वविद्यालय में पकौड़े के स्टाल लगाकर बेरोजगारी पर आक्रोश व्यक्त कियासमाजवादी पार्टी के छात्र सदस्यों ने आज विश्वविद्यालय में “पकौड़ा” स्टाल लगाए
मेरठ के चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में आज लाल टोपी लगाए छात्रों ने पकौड़े के स्टाल लगा कर बेरोजगारी के मुद्दे को उठाया |स्टाल पर लगे एक प्ले कार्ड पर एक छात्रा लाल टोपी लगाए पकौड़े काट रही है और इसी प्ले कार्ड के माध्यम से कह रही है के मैंने एम बी ऐ किया है मुझे पकौड़े नहीं बेचने मुझे रोजगार चाहिए |
इसके अलावा बैनर भी टाँगे गए जिनमे पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव और अतुल प्रधान के चित्रों के साथ स्थानीय छात्र नेताओं के फोटो हैं जिन पर लिखा है “प्रधान मंत्री पकौड़ा रोजगार योजना”
भाजपा के राष्ट्रवाद का भी मजाक उड़ाते हुए लिखा है “भाजपा के राष्ट्रवादी पकौड़े”

यूपी में डूबी “सपा” ने दुबारा तैरने के लिए बजटसत्र का सहारा लिया

[लखनऊ,यूपी] यूपी में डूबी “सपा” ने दुबारा तैरने के लिए बजटसत्र का सहारा लिया
प्रदेश में डूबी “सपा” ने आज बजटसत्र की असेंबली में गवर्नर के अभिभाषण का सहारा लिया |सदन में लाल टोपियां चमकी,कागज़ के गोले चले ,तख्तियों के साथ ही जुबानी नारे भी गूंजे यहाँ तक के समाजवादियों ने वेल में जाकर ॐ के उच्चारण भी किये ,लेकिन इस सब हंगामे के बावजूद राज्यपाल राम नाइक ने अपने भाषण में भूमाफिआ+ जारी रखा ,उन्होंने विपक्ष को नसीहत जरूर दे डाली| विधान सभा भवन के बाहर चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के नीचे भी धरना प्रदर्शन हुआ|यहाँ कासगंज को लेकर मुसलमानों पर अत्याचार+आलू किसान+फर्जी एनकाउंटर + को मुद्दा बनाने का पर्यास किया गया

बसपा के बीएस-फोर का सपा में हुआ विलय

[लखनऊ,यूपी] बसपा के बीएस-फोर का सपा में हुआ विलय
बहुजन समाज स्वाभिमान संघर्ष समिति (बीएस-फोर) का आज समाजवादी पार्टी (सपा) में विलय हो गया।
सपा में शामिल बीएस-फोर के संस्थापक पूर्व मंत्री आरके चौधरी के अनुसार ‘‘भाजपा ने वर्ष 1993 में सपा और बसपा का गठबंधन तुड़वाया था। वह एक अच्छा प्रयोग था। उस वक्त वह खुद बसपा में थे। आज वह और उनका पूरा संगठन [बी एस ४ ]सपा में शामिल हो रहा है।
इस मौके पर पूर्व राज्यमंत्री स्वामी ओमवेश भी सपा में शामिल हो गये।
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी में शामिल हुए सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं का स्वागत करते हुए कहा कि सपा में बड़ी संख्या में लोग जुड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम सब जमीन से जुड़े लोगों में नया विश्वास भरकर सरकार के गलत कार्यों के खिलाफ मुहिम शुरू करेंगे।’’

सपा ने हिन्दू विधवाओं के लिए कल्याणकारी योजनाओं का राग अलापा

[लखनऊ,यूपी] समाजवादी पार्टी ने हिन्दू विधवा महिलाओं के लिए कल्याणकारी योजनाओं की मांग की|यूपी की सत्तासेदूर की गई समाजवादी पार्टी ने आज
भाजपा की मोदी सरकार की यह कहते आलोचना की के हिन्दू विधवाओं की उपेक्षा करके केवल मुस्लिम महिलाओं के लिए कल्याणकारी योजानाएं बनाई जा रही है|बलिया में प्रेस को सम्बोधित करते हुए सपा के राष्ट्रीय महा सचिव रामशंकर विद्यार्थी ने कांग्रेस के मणिशंकर नैय्यर और कपिल सिब्बल के हाल ही में दिए बयानों की भी आलोचना करते हुए गुजरात और हिमांचल में हार के लिए इन्हे ही जिम्मेदार बताया

शिवपाल चुनावों के बाद सपाई साईकिल का एक पहिया अलग करेंगे,बनाएंगे अपनी पार्टी!

shiv-pal-yadav-in-mawana[इटावा,यूपी]शिवपाल सपाई साईकिल का एक पहिया चुनावों के बाद अलग करेंगे,बनाएंगे अपनी पार्टी!
शिवपाल यादव को समाजवादी पार्टी[सपा] की रीढ़ कहा जाता रहा है लेकिन वर्तमान में सपा और कांग्रेस गठबंधन ने हाशिये पर पहुंच दिया हैं
सम्भवत इसी कुंठा के चलते शिवपाल सिंह यादव आगामी 11 मार्च के बाद अपनी नयी पार्टी बना सकते हैं
शिवपाल ने जसवन्तनगर विधानसभा सीट से सपा प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल करने के बाद नुमाइश पंडाल में आयोजित जनसभा में एलान किया कि वह 11 मार्च के बाद नयी पार्टी बनाएंगे। इसी तारीख को विधानसभा चुनाव के नतीजे भी आएंगे।
उन्होंने सपा अध्यक्ष मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर तंज करते हुए कहा आप [अखिलेश] देख लेना कि 11 मार्च के बाद आप सरकार बना लो।
हम 11 मार्च के बाद पार्टी बनाएंगे। हम पांच साल से मेहनत कर रहे हैं, आखिर हम कहां जाएं।’’ सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि वह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा निकाले गये या बागी हुए उन समाजवादी नेताओं के पक्ष में प्रचार करेंगे, जो चुनाव मैदान में हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग किन्हीं कारणवश सपा से अलग हो गये हैं, उन्हें अपनी नयी पार्टी में शामिल करेंगे।
सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव पहले ही सपा-कांग्रेस गठबंधन का विरोध कर चुके हैं और सपा नेताओं से कांग्रेस की सीटों पर चुनाव लड़ने का आहवान कर चुके हैं \अब शिवपाल का नया एलान अखिलेश के लिये चुनावी गणित के लिहाज से मुश्किलें खड़ी कर सकता है।
शिवपाल ने कहा ‘‘मैं हमेशा नेताजी के साथ रहूंगा लेकिन उनका अपमान बिल्कुल नहीं सहूंगा। मुझे अपने अच्छे कामों की सजा मिली है। जिन लोगों ने गड़बड़ियां की उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई।’’ दूसरी ओर, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हाथरस में अपनी चुनावी रैली में शिवपाल की तरफ इशारा करते हुए कहा कि अच्छा हुआ कि ‘साइकिल’ उनके हाथ में आ गयी है। जो भी लोग भितरघात कर रहे थे, वे साथ नहीं रह सकते।

सपा की ऑफीशियल वेबसाइट पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी अखिलेश ही हैं

[लखनऊ,यूपी]सपा की ऑफीशियल वेबसाइट पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी अखिलेश ही हैं
समाजवादी पार्टी की ऑफीशियल वेबसाइट पर आज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में मुख्य मंत्री अखिलेश यादव और नरेश उत्तम पटेल को प्रदेशाध्यक्ष बताया गया है|यदि इसमें कोई त्रुटि नहीं है तो पार्टी अभी भी समझौते से दूर ही है |यद्यपि मुलायम सिंह यादव अखिलेश को अगला मुख्य मंत्री बता कर समझौते के संकेत दे चुके हैं |मुलायम सिंह यादव द्वारा स्वयम को ही राष्ट्रीय अध्यक्ष बताया जा रहा है |इसके आलावा चुनाव चिन्ह साइकिल के लिए पिता और पुत्र द्वारा चुनाव आयोग में अपील की गई है
वेबसाइट पर अपलोड की गई सूचना के अनुसार राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा उत्तर प्रदेश विधान परिषद के स्नातक तथा शिक्षक क्षेत्रों के निम्न प्रत्याशी घोषित किये गये है।
१]कानपुर-उन्नाव शिक्षक क्षेत्र, श्री रामवीर सिंह यादव, डा0 राम मनोहर लोहिया इण्टर कालेज पीनी रोड, शुक्लागंज, उन्नाव।
२]इलाहाबाद-झाॅसी शिक्षक क्षेत्र, श्री अशोक सिंह राठौर, 258 नया पटेल नगर जेल रोड उरई, जालौन।
३]बरेली-मुरादाबाद स्नातक क्षेत्र, कुमारी रेनू मिश्रा, रौसर कोठी, दनियापुर शाहजहाॅपुर।
.एक अन्य सूचना के अनुसार समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल आज टीलेवाली मस्जिद के इमाम मौलाना फजलुर्रहमान वायसी के सुपुर्द-ए-खाक के मौके पर मौजूद रहे। मौलाना को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होने कहा कि वे हिंदू-मुस्लिम और शिया-सुन्नी के बीच सेतु का काम करते थे। वे शांति और भाई चारा के लिए बराबर प्रयासशील रहे। ऐसे समय जब साम्प्रदायिक और जातीय ताकतें प्रदेश के वातावरण को बिगाड़ने में फिर सक्रिय हो उठी हैं मौलाना का निधन समाज और प्रदेश की अपूरणीय क्षति है।
ये दोनों सूचनाएं (नरेश उत्तम पटेल)प्रदेश अध्यक्ष द्वारा अपलोड की गई हैं

मुलायम ने अडवाणी बनने से किया इनकार:बुलाया सपा का राष्ट्रीय अधिवेशन

[लखनऊ,यूपी] मुलायम ने अखिलेश के हाथों अडवाणी बनने से किया इनकार:बुलाया सपा का राष्ट्रीय अधिवेशन
अखिलेश के विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन के जवाब में मुलायम सिंह यादव ने फोड़ा लेटर बम
और सपा के विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन को असंवैधानिक बताया
समाजवादी पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव ने पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा आज बुलाये गये पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन को असंवैधानिक करार देते हुए इसमें शामिल होने वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी।
सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन के शुरू होने के थोड़ी ही देर बाद सपा मुखिया ने चिट्ठी जारी करके कहा कि आज रामगोपाल यादव द्वारा तथाकथित अधिवेशन बुलाया गया है। यह पार्टी के संविधान और अनुशासन के विरुद्घ है। यह पार्टी को क्षति पहुंचाने के लिये बुलाया गया है।
उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में शिरकत को अनुशासनहीनता माना जाएगा और सम्मेलन में जो भी जाएगा, उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।
मालूम हो कि जनेश्वर मिश्र पार्क में सपा का राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया जा रहा है। इसमें मंच पर सपा के वे सभी वरिष्ठ नेता मौजूद हैं, जो कभी मुलायम के बगलगीर थे।गौरतलब हे के अखिलेश यादव केनिवास पर लगभग दोउ सौ विधायकों ने उपस्थिति दर्ज कराई थी और मुलायम सिंह यादव के पास मात्र २० विधायक ही पहुंचे थे |
इस विशेष अधिवेशन में अखिलेश यादव को सपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया |मुलायम सिंह यादव को पार्टी का मार्ग दर्शक बनाए गया है
अमर सिंह को पार्टी बाहर किया गया है इसके अलावा शिव पाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया गया है|गौरतलब हे के भाजपा में भी वरिष्ठ लाल कृष्ण आडवाणी को मार्ग दर्शक बना कर सम्मान दिया गया है |