Ad

Tag: RajyaSabha

मोदी के हरि ने राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए कांग्रेस के हरि को हराया

[नयी दिल्ली]मोदी के हरि ने कांग्रेस के हरि को राज्य सभा के उपाध्यक्ष पद के लिए हराया
वरिष्ठ पत्रकार और चम्पारण के समाजसेवी हरिवंश नारायण सिंह ने बी के हरि को हरा कर अपर हाउस का उपसभापति पद जीता
ऍनडीऐ के घटक जदयू के राज्यसभा सदस्य हरिवंश को आज उच्च सदन के उपसभापति पद के लिए चुना गया।
उन्हें विपक्ष की ओर से कांग्रेस के उम्मीदवार बी के हरिप्रसाद को मिले 105 मतों के मुकाबले 125 मत मिले।
सदन की कार्यवाही शुरु होने पर सभापति एम वैंकेया नायडू ने सदन पटल पर आवश्यक दस्तावेज रखवाने के बाद उपसभापति पद की चुनाव प्रक्रिया शुरु करवायी। हरिवंश के पक्ष में 125 और हरिप्रसाद के पक्ष में 105 मत पड़े। मतदान में दो सदस्यों ने हिस्सा नहीं लिया। सदन में कुल 232 सदस्य मौजूद थे।
हरिवंश के पक्ष में जदयू के आर सी पी सिंह, भाजपा के अमित शाह, शिव सेना के संजय राउत और अकाली दल के सुखदेव सिंह ढींढसा ने प्रस्ताव किया। वहीं हरिप्रसाद के लिये
बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा,
राजद की मीसा भारती,
कांग्रेस के भुवनेश्वर कालिता,
सपा के रामगोपाल यादव और
राकांपा की वंदना चव्हाण ने
प्रस्ताव पेश किया। इन प्रस्तावों पर मतविभाजन के बाद सभापति नायडू ने हरिवंश को उपसभापति निर्वाचित घोषित किया। इसके बाद हरिप्रसाद ने हरिवंश को उनके स्थान पर जाकर बधाई दी। नेता सदन अरुण जेटली, नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार और संसदीय कार्य राज्यमंत्री विजय गोयल ने हरिवंश को बधाई देते हुये उन्हें उपसभापति के निर्धारित स्थान पर बिठाया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हरिवंश को शुभकामनायें देते हुये उनके विभिन्न क्षेत्रों के अनुभव के हवाले से उनके निर्वाचन को सदन के लिये गौरव का विषय बताया।
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस सदस्य पी जे कुरियन के पिछले महीने सेवानिवृत्त होने के बाद उपसभापति का पद खाली हुआ था।

भाजपा सांसद ने पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति राज्यसभा में चिंता व्यक्त की

[नई दिल्ली] भाजपा सांसद ने राज्यसभा में पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति चिंता व्यक्त की |
अमृतसर से भाजपा के सांसद श्वेत मलिक ने शून्य काल में यह चिंता व्यक्त करते हुए कहा के पंजाब में अघोषित एमरजेंसी लगी हुई है | पंजाब में किसी भी आयुवर्ग के पीड़ित को आसानी से किसी भी समय कहीं से भी ड्रग्स उपलब्ध हो जाती है जिसके फलस्वरूप कृषि प्रधान प्रदेश आज प्रदेश की नाकामी के कारण नशे का गुलाम बन चूका है |इसकी रोकथाम के उपायों की उन्होंने मांग की

Naidu Refuses To Oblige Cong,Rejects Impeachment Notice

[New Delhi]Naidu Refuses To Oblige Cong,Rejects Impeachment Notice
Rajya Sabha Chairman and Vice President Of India M Venkaiah Naidu today rejected the notice given by opposition parties led by the Congress for impeachment of CJI Dipak Misra citing lack of substantial merit in it,
Naidu held extensive consultations with top legal and constitutional experts before taking the decision
The rejection of the notice comes a day after he held the consultations with such experts to determine the maintainability of the motion.
The sources said Vice President Naidu met several experts after he re-scheduled his travel plans considering the seriousness of the matter.
Seven opposition parties led by the Congress had last week moved a notice before him for impeachment of the Chief Justice of India (CJI) on five grounds of “misbehaviour”.
This is the first time ever that an impeachment notice has been filed against a sitting CJI.

उपराष्ट्रपति ने जैटली को राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ग्रहण कराई

arun jaitely[नई दिल्ली] राजनीती में वर्तमान ध्रुव जैटली और आज़ाद एक साथ दिखाई दिए और एक दूसरे के सुख दुःख बांटे | राज्य सभा में सादे शपथ ग्रहण कार्यक्रम में वित्त मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेता अरुण जैटली ने शपथ ग्रहण की |उपराष्ट्रपति और सभापति वेंकैय्या नायडू ने शपथ ग्रहण कराई |इस अवसर पर जगदम्बिकापाल और अनंत कुमार आदि के अलावा विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद भी उपस्थित थे |सत्ता पक्ष के अरुण जैटली और विपक्ष के आज़ाद दोनों एक साथ बैठे और गुलाम नबी आजाद को अरुण जैटली का हालचाल पूछते भी देखा गया |गौरतलब हे के कांग्रेस के अड़ियल रुख के चलते राज्य सभा की कार्यवाही पूरे सेशन ठप्प रही है
जेटली (65) को इस बार उत्तर प्रदेश से राज्य सभा के लिए चुना गया है लेकिन वह अपनी बीमारी के कारण अब तक शपथ नहीं ले सके थे । उनकी गुर्दे की बीमारी का इलाज चल रहा है और उनके स्वास्थ्य की स्थितियों को देखते हुए उनके शपथग्रहण के लिए विशेष इंतजाम किया गया था |
जेटली को आज 11 बजे राज्यसभा के सभापति एम . वैंकेया नायडू के कक्ष में शपथ दिलायी गई |
जेटली को दोबारा चुने जाने के बाद तीन अप्रैल को पुन : राज्य सभा का नेता बनाया गया था। वह दो अप्रैल से अपने कार्यालय नहीं गए हैं और घर से ही काम कर रहे हैं।
उन्हें नौ अप्रैल को यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ( एम्स ) में भर्ती कराया गया था जहां उनका डायलसिस किया गया।

PM “Modi” Assures His Doors Opened For Retiring MPs From Rajya Sabha

[New Delhi] PM “Modi” Assures His Doors Opened For Retiring MPs From Rajya Sabha

The continued disruptions in the Rajya Sabha found mention in Prime Minister Narendra Modi’s speech for retiring members today when he said they would not be able to participate in debates when the House decides on important bills such as the one which seeks to criminalise the practise of instant triple talaq.
In his brief speech, Modi said “unfortunately”, the retiring members will not be part of Parliament when the decision on instant triple talaq is taken.
He also said the outgoing members must have prepared speeches on important issues so that their contribution is remembered.
But they could not do so. He said the responsibility of smooth functioning lies not only with the opposition but also with the government.
The Rajya Sabha, Modi said, is a distinguished House with eminent members serving here. He said the House plays a vital role in India’s democracy.
He did not use terms such as din, disruptions in his speech
Prime Minister expressed confidence that the Members retiring from the House, would now play an even stronger role in social service.
The Prime Minister made a special mention of many retiring MPs and their contributions.
The Prime Minister said that it is unfortunate that the retiring Members will not be a part of Parliament, when the long due decision on Triple Talaq is taken.
He assured the retiring members that the doors of Parliament and PMO are always open for them, and urged them to continue sharing their thoughts on vital issues of the day.
file photo

राज्य सभा ने मोहसुल में ३ वर्ष पूर्व मारे गए ३९ भारतीयों को श्रद्धांजलि दी

[नई दिल्ली] राज्यसभा ने मोहसुल में ३ वर्ष पूर्व मारे गए ३९ भारतीयों को श्रद्धांजलि दी| विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने आज सदन में इस बात की पुष्टि करते हुए बताया के तीन वर्ष पूर्व लापता हुए ४० भारतीय आतंकवादियों द्वारा मारे जा चुके हैं |जनरल वी के सिंह के प्रयासों से उन अभागों के शवों को ढूढ़ निकला गया है और उनके डी ऍन ऐ मिलवाये जा चुके हैं |उन्होंने सहयोग के लिए इराक सरकार को धन्यवाद भी दिया|उन्होंने बताया के बिना सबूतों के लापता लोगों को मृत घोषित करना अपराध था |अब चूँकि इसकी पुष्टि हो चुकी है इसीलिए सदन को जानकारी दी जा रही है |मृतकों में ३१ अभागे पंजाब से हैं उनके शव अमृतसर पहुंचाए जाएंगे | ४ हिमांचल से हैं |हरजीत मसीह बच कर निकल गया था
फाइल फोटो सिंबॉलिक

राज्य सभा आज भी नहीं चली,कल २० मार्च तक के लिए स्थगित

[नई दिल्ली] राज्य सभा आज भी नहीं चली +कल २० मार्च तक के लिए स्थगित |राज्य सभा का प्रश्न कल प्रारम्भ होते ही कुछ सदस्य प्लेकार्ड लेकर वेल में आकर हंगामा करने लग गए |उपराष्ट्रपति और चेयर में स्पीकर वेंकैय्या नायडू ने बार बार कहा के सभी प्रश्नों पर चर्चा के लिए वह सहमत हैं लेकिन इसके बावजूद वेल खाली नहीं हुआ |स्पीकर द्वारा के टी एस तुलसी और प्रताप सिंह बाजवा को बोलने के लिए आमंत्रित किया लेकिन कांग्रेस के पंजाब से सदस्य प्रताप सिंह बाजवा ही बोलने के लिए खड़े हुए लेकिन शोरशराबे के दौरान वे भी बोलने में असमर्थ रहे |नायडू द्वारा कांग्रेस के जयराम रमेश को अपील किये जाने और बार बार सदन को हंसी का पात्र बनाने के विरुद्ध चेतावनी देने के बावजूद स्थिति नार्मल नहीं हुई तो उन्होंने सदन की कारवाही को २० मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया |

राज्य सभा में जारी गतिरोध के बावजूद सांसद पहली जनवरी को छुट्टी मनाएंगे

[नई दिल्ली] राज्य सभा में जारी गतिरोध के बावजूद सांसद पहली जनवरी को छुट्टी मनाएंगे|अब सदन की कार्यवाही २ जनवरी को शुरू हो पाएगी |
मिनिस्टर ऑफ़ स्टेट फॉर पार्लियामेंट्री अफेयर्स विजय गोयल ने यह अवकाश घोषित किया है |मालूम हो के केंद्र सरकार के सरकारी कैलेंडर के अनुसार पहली जनवरी को रिस्ट्रिक्टेड हॉलिडे डिक्लेअर किया जाता है | आज राज्य सभा के लिए इसे गजेटेड हॉलिडे बना दिया गया है श्री गोयल के अनुसार पहली जनवरी की हानि को अन्य कार्यदिवसों में पूर्ण कर लिया जाएगा |गौरतलब हे के इस सेशन में रोजाना किसी न किसी बात को लेकर हंगामा और सदन स्थगन हो रहा है |

यूपीए ने अपने स्वयं के भारत रत्न “सचिन” को खेल पर ही संसद में बोलने नहीं दिया

[नयी दिल्ली]यूपीए ने अपने स्वयं के भारत रत्न “सचिन” को खेल पर ही संसद में बोलने नहीं दिया
यूपीए ने अपनी हुकूमत के दौरान जिस भावना से अवार्ड्स बांटे उसका मुजाहिरा आजकल संसद में बखूबी हो रहा है |
क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को स्वयम #भारतरत्न देने वाली यूपीए ने सचिन तक को संसद में खेल पर ही बोलने नही दिया
यूपीए राज्यसभा में बहुमत होने के फलस्वरूप सदन को आज भी चलने नहीं दिया |
अपने खुद के ही बनाये भारत रत्न सचिन को 10 मिनट्स तक हाउस में खड़े भी रखा|
सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा २ जी घोटाले पर दिए गए निर्णय से उत्साहित यूपीऐ आज कल राज्यसभा में लगातार दबाब बनाने में व्यस्त है जिसके फलस्वरूप राज्य सभा की कार्यवाही रौजाना बाधित हो रही है
वर्तमान गतिरोध पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कथित टिप्पणी
को लेकर है| कांग्रेस के सदस्य पी एम् से माफ़ी मगवाने पर अड़े है जबकि भाजपा और चेयर के अनुसार पी एम् ने डॉ मनमोहन सिंह पर ब्यान गुजरात चुनावों के दौरान राज्यसभा के बाहर दिया था इसीलिए माफ़ी का सवाल ही पैदा नहीं होता ||कहने को कांग्रेस ने आज गतिरोध समाप्त करने के लिए मध्यमार्ग खोजे जाने की बात कही लेकिन होहल्ला जारी रखा |नतीजतन चेयर में बैठे वेंकैय्या नायडू ने सदन की कार्यवाही २७ दिसंबर तक स्थगित कर दी |
सदन की कार्यवाही शुरू होने के कुछ देर बाद राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने प्रधानमंत्री की कथित टिप्पणी के मामले में गतिरोध का मुद्दा उठाया। आजाद ने कहा कि गतिरोध को दूर करने के लिये बनी समिति की अब तक सिर्फ एक बैठक ही हुयी है। आज सप्ताह का आखिरी कामकाजी दिन है और फिर अवकाश के मद्देनजर गतिरोध दूर करने के प्रयास भी लंबित ही रहेंगे। इसलिये गतिरोध दूर होने तक सदन की कार्यवाही स्थगित की जाये।
इस पर संसदीय कार्य राज्य मंत्री विजय गोयल ने सदन स्थगित करने की मांग कर रहे कांग्रेस के सदस्यों से बैठक चलने देने का अनुरोध करते हुये कहा कि गतिरोध दूर करने के लिये दोनों पक्षों के बीच वार्ता चल रही है और उन्हें विश्वास है कि कोई न कोई हल निकल आयेगा। गोयल ने कहा ‘‘कांग्रेस के सदस्य सदन की बैठक चलने दें…जनता सब देख रही है।’’ इस पर सदन में कांग्रेस के उपनेता आनंद शर्मा ने कहा कि विपक्ष भी चाहता है कि सदन में चर्चा हो और विधेयक पारित हों, लेकिन गतिरोध दूर होने तक सदन की कार्यवाही स्थगित करनी चाहिये।
नायडू ने अपने स्थान से बैठक को स्थगित करने की मांग कर कांग्रेस सदस्यों से कहा कि कल भी इसी मुद्दे पर हंगामे के कारण सचिन तेंदुलकर को बोलने नहीं दिया गया, यह सदन की मर्यादा के लिये उचित नहीं है। उन्होंने कांग्रेस सदस्यों से यह स्पष्ट करने को कहा कि उनकी मांग गतिरोध दूर करने की है या सदन को स्थगित करने की।
शोरगुल नहीं थमने पर नायडू ने सदन की कार्यवाही 27 दिसंबर को सुबह 11 बजे तक के लिये स्थगित कर दी।
सप्ताहांत के कारण 23-24 दिसंबर को बैठक नहीं होगी जबकि 25 दिसंबर को क्रिसमस के कारण अवकाश रहेगा। 26 दिसंबर को सदन की बैठक नहीं होने का निर्णय पहले ही किया जा चुका था।
उल्लेखनीय है कि 15 दिसंबर से शुरू हुए संसद के शीतकालीन सत्र में मनमोहन सिंह के खिलाफ प्रधानमंत्री की कथित टिप्पणी को लेकर उच्च सदन में गतिरोध बना हुआ है। हालांकि गत मंगलवार को सदन की कार्यवाही सामान्य ढंग से चली तथा चर्चा के बाद दो विधेयकों को पारित किया गया।
कांग्रेस इस मुद्दे पर पहले प्रधानमंत्री मोदी से माफी की मांग कर रही थी किन्तु बाद में उसने अपने रूख में कुछ नरमी लाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को इस मुद्दे पर सदन में आकर स्पष्टीकरण देना चाहिए क्योंकि मनमोहन भी उच्च सदन के सदस्य हैं

जेटली ने संसद में नोटबंदी कोलेकर लामबंद विपक्ष को चर्चा के लिए पुनः ललकारा

[नयी दिल्ली] जेटली ने संसद में नोटबंदी कोलेकर लामबंद विपक्ष को पुनः चर्चा के लिए ललकारा
वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज राज्यसभा में विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि वह ईमानदारी से बताए कि वह इस मुद्दे पर चर्चा चाहता है या नहीं। इसके साथ ही उन्होंने विपक्ष से कहा कि वह चर्चा के लिए अनुचित या असंभव शर्ते नहीं रखे।नोटबंदी मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में गतिरोध जारी है
नोटबंदी से लोगों को हो रही परेशानी को लेकर राज्यसभा में विपक्ष के हंगामे के बीच जेटली ने कहा कि सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है और वह चर्चा के लिए तैयार है तथा प्रधानमंत्री चर्चा में हस्तक्षेप करेंगे।
उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण विषय है और इस पर चर्चा पूरी होनी चाहिए। लेकिन सारा विपक्ष किसी न किसी बहाने चर्चा को रोकने का प्रयास करता है।
जेटली ने कहा कि अगर विपक्ष चर्चा चाहता है तो वह ईमानदारी से बताए और वह चर्चा के लिए अनुचित तथा असंभव शर्ते नहीं रखे।
उन्होंने कहा कि अब विपक्ष ने ऐसी शर्ते रखनी शुरू कर दी हैं जो सदन में कभी नहीं रखी गयीं। उन्होंने कहा कि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि कोई एक सदस्य यह कहे कि जब वह बोले तो प्रधानमंत्री को सदन में मौजूद होना चाहिए।
जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री को अन्य जिम्मेदारियां भी होती हैं।
कांग्रेस सहित विभिन्न दलों के सदस्य नोटबंदी मुद्दे पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री के सदन में मौजूद रहने की मांग कर रहे थे।
जेटली ने कहा कि सरकार और मंत्रिपरिषद सामूहिक जिम्मेदारी के सिद्धांत के तहत काम करती है और ऐसा कोई सिद्धांत नहीं है कि चर्चा में उठाए गए सवालों का जवाब कोई एक खास व्यक्ति ही दे।जेटली ने विपक्ष पर यह भी आरोप लगाया के चर्चा से भाग रहे विपक्ष द्वारा मीडिया में सुर्खियां बटोरने के लिए प्रश्नकाल के दौरान मुद्दा उठाया जाता है और फिर सदन को स्थगित करा दिया जाता है|आज भी प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस के ग़ुलाम नबी आजाद ने नोटबंदी के दौरान ८४ मौतों का मुद्दा उठाया जिसपर जेटली ने पॉइंट ऑफ़ आर्डर लाकर विपक्ष की इस चालबाजी पर ब्रेक लगाए |
गौरतलब हे के राज्य सभा में डॉ मन मोहन सिंह+मायावती+नरेश अग्रवाल आदि के संबोधन के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी सदन में मौजूद थे |