Ad

Tag: PunjabGovt

बादल ने कैप्टेन से टकराव के बजाय सहयोग करके एसआईटी को कटघरे में खड़ा किया

[चंडीगढ़,पंजाब]बादल ने कैप्टेन से टकराव के बजाय सहयोग करके एसआईटी को कटघरे में खड़ा किया
सीनियर बादल ने आज अपने लम्बे राजनितिक तजुर्बे का इस्तेमाल करते हुए एसआईटी को लेकर प्रदेश में कांग्रेस सरकार को ही कटघरे में खड़ा किया|
पूर्व मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल ने आज सभी अटकलों को दरकिनार करते हुए एसआईटी के समक्ष पेश होकर सभी प्रश्नों का उत्तर दिया और बाहर आकर मीडिया के समक्ष बढ़ी विनम्रता से उनके विरुद्ध एसआईटी के गठन को राजनीती से प्रेरित बताया | उन्होंने बताया के बेअदबी में बरगाड़ी काण्ड की जांच कर रहे एसआईटी पूर्णतया कांग्रेस की उनके विरुद्ध राजनिति से प्रेरित है |उन्होंने कहा के सभी प्रश्नों के उत्तर दे दिए एस आई टी वाले संतुष्ट भी हुए लेकिन होगा वही जो सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह चाहेंगे|
वरिष्ठ अकाली नेता बादल ने सवाल उठाये के
अमृतसर काण्ड में कभी श्रीमती इंदिरा गाँधी को सम्मन नहीं भेजे गए
१९८४ के दंगों में गाँधी को कभी गवाह नहीं बनाया गया|पंजाब में हुए रेल हादसे में मौजूदा सीएम से पूछताछ नहीं हुई लेकिन एक चुने हुए जनताके नुमायंदे को गवाह के तोर पर बुलाना अपने आप में राजनितिक कदम को दर्शाता है|कांग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा के इस प्रकार की राजनीती पंजाब के लिए घातक होगी |

पंजाब सरकार ने 3सरी बार बसों का किराया बढ़ाया

[चंडीगढ़,पंजाब] पंजाब सरकार ने तीसरी बार बसों का किराया बढ़ाया| एकतरफ पेट्रोल डीजल के दाम निरंतर काम हो रहे हैं लेकिन इसका लाभ पंजाब की जनता देने के बजाय बसों का किराया बढ़ा दिया गया है| मौजूदा साल में १५ पैसे की बढ़त हो चुकी है |यह बढ़ोत्तरी दिवाली+ भैया दूज जैसे महत्वपूर्ण त्योहारों के दौरान किया गया है |आम नागरिक को अब रु १.१० के बजाय १.१७ प्रति किलोमीटर कर दिया गया है| ऐ सी बसों के लिए ८ पैसे की बढ़ोत्तरी की गई है इससे पूर्व फरवरी और जून में भी किराया बढ़ाया जा चूका है

हरसिमरत ने छात्रों को प्रशिक्षण के लिए “पीएमकेके” पटियाला का उद्घाटन किया

[नई दिल्ली ]हरसिमरत कौर बादल ने छात्रों को प्रशिक्षण के लिए प्रधानमंत्री कौशल केन्द्र “पीएमकेके” पटियाला का उद्घाटन किया
इस में 1000 छात्र प्रतिवर्ष कौशल विकास का प्रशिक्षण लेंगे
इस केंद्र में 1000 छात्र प्रति वर्ष विभिन्न पाठ्यक्रमों जैसे-
हेयर स्टाइलिस्ट,
मैनुअल आर्क बेल्डिंग,
प्लम्बर,
फील्ड टेकनीश्यन-में कौशल विकास का प्रशिक्षण लेंगे।
भारत सरकार के केन्द्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय का देश भर के 600 चिन्हित जिलों में स्थापित करने की महत्वपूर्ण योजना है। इनमें से 480 जिलों में ऐसे केन्द्र स्थापित और शुरू कर दिए गए हैं।
पंजाब में 25 अनुमोदित पीएमकेके में से 16 कार्य करने लगे हैं।
हरियाणा में 16 पीएमकेके कार्य कर रहे हैं
जबकि हिमाचल प्रदेश में अनुमोदित 8 पीएमकेके में से 4 कार्य करने रहे हैं।
इस अवसर पर पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री श्री सुरजीत सिंह राखा ने संबोधित करते हुए कहा कि इस तरह के केन्द्र की स्थापना पटियाला के इतिहास में युवाओं के लिए मील का पत्थर साबित होंगे। इससे यहां के युवाओं को कौशल विकास में प्रशिक्षित होगें, जिससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

कांग्रेस के साथ ही चुनाव आयोग भी पंजाब में लोक तंत्र का हत्यारा:वरिष्ठ बादल

[चंडीगढ़,पंजाब] कांग्रेस के साथ ही चुनाव आयोग भी लोक तंत्र का हत्यारा:वरिष्ठ बादल
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री [बाबा बोड] प्रकाश सिंह बादल ने राज्य में बुधवार को हुए जिला परिषद और पंचायत समिति के चुनावों को ‘लोकतंत्र की नृशंस और दिन दहाड़े हत्या’ करार दिया।
बादल ने कहा कि 19 सितंबर 2018 को पंजाब में लोकतंत्र के लिए ‘सबसे काले दिनों में से एक’ रूप में याद किया जाएगा जब कांग्रेस ने ‘बिहार के सबसे बुरे समय के जैसी’ स्थितियां राज्य में भी पैदा कर दीं।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यह ‘‘बेहद दर्दनाक और खेदजनक’’ था कि राज्य चुनाव आयोग ने कल अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी पूरी तरह त्याग दी।
गौरतलब हे के २२ जिला परिषद और १५० पंचायत समितियों के लिए हुए चुनावों में बढ़ी संख्या में गड़बड़ियों के आरोप लगे हैं
जिसके फलस्वरूप ८ जिलों की परिषद और पंचायत समितियों के ५० बूथों पर पुनः मतदान करवाया जा रहा है|अमृतसर +मोगा+फाजिल्का+पटिआला + फरीदकोट +बठिंडा+
लुधियाना+मुक्तसर आदि में चुनाव दुबारा होने हैं |इससे पूर्व अकाली नेताओं ने नामांकन के समय अपने नुमायंदे निर्विरोध चुनवाने के लिए कांग्रेस पर धक्केशाही का भी आरोप लगाया है

बादलों की पोल खोल रैली में पूर्व सीएम ने १९४७ के पीड़ितों से अन्याय को स्वीकारा

[फरीदकोट,पंजाब] बादलों की पोल खोल उर्फ़ जबर रैली में पूर्व सीएम ने भी स्वीकारा के १९४७ के पीड़ितों को न्याय नहीं मिला| सत्तारूढ़ कांग्रेस की सरकार की तरफ से तमाम रुकावटों के बावजूद हाई कोर्ट के आदेश पर आयोजित इस रैली में हमहुंआ के संगत पहुंची |जिससे सत्ता से बाहर हुए अकालियों में विशेष उत्साह देखने को मिला |विशाल एकट्ठ को सम्बोधित करते हुए पांच बार मुख्य मंत्री रहे साबका मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल ने जम कर कांग्रेस पर हमला बोला |उन्होंने कांग्रेस के धरम और पंजाबी विरोधी गतिविधियों को भी गिनाया|
वरिष्ठतम नेता ने यह भी बताया के १९४७ में एक गलत आत्मघाती निर्णय से जो कत्लेआम हुआ वोह उन्होंने स्वयं देखा है
पांच लाख पंजाबी प्रभावित हुए जिन्हें अपनी जमीन जायदाद भी खोनी पड़ी |भारत में इन्हें न्याय नहीं दिया गया | जो जमीने वोह छोड़ कर आये थे उनके आग्रह के बावजूद वोह भी नहीं दी गई |
गौरतलब हे के पाकिस्तान में छोड़ी गई भूमि के बदले भारत सरकार ने पाकिस्तान सरकार मुआवजा वसूल लिया था जिसे भारत में छोड़ी गई भूमि से एडजस्ट किया गया लेकिन दुर्भाग्य से पीड़ितों की पीढ़ियां गुजरें के बावजूद अभी भी हजारों उत्तराधिकारियों को उनके हक के रिहैबिलिटेशन क्लेम नहीं दियगए| अनेक लोग हाई कोर्ट और पंजाब ओल्ड लैंड रिकॉर्ड कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं
इनके हक मारने के लिए तत्कालीन पंजाब सरकार द्वारा २००५ में काला एक्ट लाया गया| आश्चर्यजनक रूप से प्रधान मंत्री और मुख्य मंत्री कार्यालय से फॉरवर्ड ग्रिएवान्सेस भी इधर उधर भटकाई जा रही है |

पंजाब में छोटी मछलियों को “रिश्वत रेट्स” मलाईदार विभागों के अनुसार फिक्स्ड

[चंडीगढ़,पंजाब]पंजाब में लगता है के छोटी मछलियों के लिए रिश्वत के रेट्स भी मलाईदार विभागों के अनुसार फिक्स्ड हैं
चूँकि अभी तक बढ़ी मछली पकड़ी नहीं जा सकी इसीलिए उनके विषय में अभी कुछ कहना अनुचित ही होगा
पटवारी या रेवेनुए पटवारी कहीं का भी हो किसी का भी हुक्म बजा रहा हो कम से कम रु ५००० की रिश्वत के साथ ही पकड़ा जाता है
पंजाब पोलिस का कांस्टेबिल हो,हेड कांस्टेबिल या फिर ऐएसआई को रु 10000 /20000/50000 की रिश्वत के साथ ही रंगे हाथों ट्रैप किया गया
एक क्लर्क बादशाह को जब फांसा गया तो उसके कब्जे से रु १२००० मिले
अभी तक इस सरकार में कोई बढ़ी मछली नहीं पकड़ी जा सकी है इसीलिए उनके रेट्स उपलब्ध नहीं हैं
स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने अभी बीते दिनों ही लुधियाना में हैबोवालकलां के रेवेनुए पटवारी वरिंदर कुमार को जमीन की फर्द में कुछ करने के लिए रु 5000 की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया
इसी ब्यूरो ने फरीदकोट पट्टी के हेड कांस्टेबिल बलविंदर सिंह को ड्रग पैडलिंग में रु ५०००० की रिश्वत के साथ फांसा
ऐसे अनेकों केस हैं इन सभी को प्रिवेंशन ऑफ़ करप्शन एक्ट बुक किया गया है

३ साल पुराने बहिबल कलां गोलीकांड के पीड़ितों को १ करोड़ रु की सहायता

[चंदीग्रह,पंजाब] ३ साल पुराने बहिबल कलां गोलीकांड के पीड़ितों को १ करोड़ रु की सहायता के एलान के साथ पूर्व मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बदल को घेरने की तैयारी | इस कांड की जाँच सी बी आई को देने का भी एलान हुआ |
पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने पंजाब भवन में आयोजित अपनी प्रेस वार्ता में यह एलान किया |
१४ अक्टूबर २०१५ में बडग़ाडी में पवित्र ग्रथ साहब की बेअदबी के विरोध में बहिबल कलां में चल रहे रोष प्रदर्शन पर पोलिस ने गोली चलाई | जिसमे गुरजीत सिंह +किशन भगवान सिंह की मौत हो गई| अनेक प्रदर्शनकारी घायल हो गए|
गोलीकांड में अनेकों अधिकारीयों की संलिप्तता के आरोप लगते आ रहे हैं| यहाँ तक के तत्कालीन सीएम को भी घेरने के प्रयास हुए हैं| गौरतलब हे के ३० जून को जस्टिस रंजीत कमीशन द्वारा रिपोर्ट सौंपी गई थी और आज एक माह पश्चात् उस पर कार्यवाही का एलान कर दिया गया है|अब सीबीआई को इसकी जाँच दी जाएगी |कैप्टेन कहते आये हैं के मुख्य मंत्री के आदेश पर ही फायरिंग की गई|

पंजाब के सीएम कैप्टेन अमरिंदर दशक पुराने भ्रष्टाचार मामले में बरी

[मोहाली,पंजाब]पंजाब के सीएम कैप्टेन अमरिंदर दशक पुराने भ्रष्टाचार मामले में बरी | पंजाब विधानसभा की सिफारिश पर 2008 में सतर्कता ब्यूरो द्वारा मामला दर्ज किया था।
मोहाली के विशेष न्यायाधीश जसविंदर सिंह ने राज्य के सतर्कता ब्यूरो (वीबी) द्वारा दायर मामला बंद करने की रिपोर्ट स्वीकार करते हुए अमृतसर सुधार न्यास की 32.10 एकड़ जमीन एक निजी डेवलपर को हस्तांतरण करने में गड़बड़ी मामले में 18 आरोपियों को बरी किया।
आरोपियों में पंजाब विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष केवल कृष्ण और दो पूर्व मंत्री शामिल थे। इन तीनों की मौत हो चुकी है।

चंडीगढ़ पर हक़ को लेकर पंजाब और हरियाणा फिर ताल ठोकने लगे

Haryana Govt[चंडीगढ़] चंडीगढ़ पर हक़ को लेकर पंजाब और हरियाणा फिर ताल ठोकने लगे
पंजाब के सी एम कैप्टेन अमरिंदर सिंह और हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने यूनियन टेरेटरी चंडीगढ़ पर अपना हक दोहराना शुरू कर दिया है|
बीते दिनों खट्टर ने पंजाब यूनिवर्सिटी में हरियाणा के लिए घोषित हक की मांग की और अब पंजाब के सी एम कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने चंडीगढ़ को पंजाब की राजधानी बनाये जाने की पुरानी मांग दोहरा दी है | मालूम हो के फिलवक्त चंडीगढ़ में हरियाणा और पंजाब दोनों राज्यों की राजधानी है और यहाँ अधिकतर यूनियन टेरिटरी कैडर के अधिकारियों की तैनाती होती आई है|
दोनों राज्य चंडीगढ़ को लेकर मय समय पर अपना हक जमाते आ रहे हैं |कैप्टेन ने चंडीगढ़ में पंजाब कैडर के अधिक अधिकारीयों की तैनाती की मांग भी की है

भाजपा सांसद ने पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति राज्यसभा में चिंता व्यक्त की

[नई दिल्ली] भाजपा सांसद ने राज्यसभा में पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति चिंता व्यक्त की |
अमृतसर से भाजपा के सांसद श्वेत मलिक ने शून्य काल में यह चिंता व्यक्त करते हुए कहा के पंजाब में अघोषित एमरजेंसी लगी हुई है | पंजाब में किसी भी आयुवर्ग के पीड़ित को आसानी से किसी भी समय कहीं से भी ड्रग्स उपलब्ध हो जाती है जिसके फलस्वरूप कृषि प्रधान प्रदेश आज प्रदेश की नाकामी के कारण नशे का गुलाम बन चूका है |इसकी रोकथाम के उपायों की उन्होंने मांग की