Ad

Tag: ShiromaniAkaliDal

भाजपा को पंजाब में कम्बल[एसऐडी]नहीं छोड़ेगा [व्यंग]

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया! पंजाब में हुई हार से हम हताश नहीं हैं |हसाड़े नेतागण नै रणनीति पर जुट गए हैं ||हसाड़े संगठन मंत्री दिनेश कुमार जी ने “खन्ना” में फ़रमाया है के अकालियों की तकड़ी के भूलेकेमें कमल को कम वोट मिले |लोगी हसाड़े “कमल” को ढूँढ़ते ही रह गए|औए इसीलिए हमने घर घर कमल खिलाने की ठान ली है|

झल्ला

चतुर सेठ जी! बेशक आप कम्बल को छोड़ दो लेकिन ये कम्बल आप लोगों को नहीं छोड़ने वाला | अगली बार फिर आपने इन्हें १३ में से दस सीटें दे देनी उनमे से अगर ये दो पर जीते तो और आप लोग तीन पर लड़ कर २ सीटें हासिल करे तो हो जाने हैं बराबर बराबर |

पंजाब में ‘मोदी लहर’ नहीं फिर भी भाजपा ने तीन में से दो सीटें कब्जाई

[चंडीगढ़,पंजाब]पंजाब में ‘मोदी लहर’ नहीं थी फिर भी भाजपा ने तीन में से दो सीटें कब्जाई |सहयोगी शिरोमणि अकाली दल के हिस्से की १० सीटों में से केवल दो ही झोली में आई| २०१४ के मुकाबिले अकालियों को दो सीटों का घाटा हुआ है|
लेकिन सी एम कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने अपनी कांग्रेस को कुल 13 लोकसभा सीटों में से आठ पर जीत दर्ज कराई है लेकिन पंजाब प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ गुरदासपुर में अपनी सीट नहीं बचा पाए |
साल 2014 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को पंजाब में महज तीन सीटें मिली थीं।
आम आदमी पार्टी को सिर्फ एक सीट मिली है।
पंजाब से शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल,उनकी पत्नी श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल, पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी एवं परणीत कौर और रवनीत सिंह बिट्टू उन प्रमुख चेहरों में हैं जिन्हें जीत मिली है।
केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा उम्मीदवार हरदीप सिंह पुरी, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ और अकाली दल के उम्मीदवार प्रेम सिंह चंदूमाजरा हारने वाले प्रमुख चेहरे हैं।
भाजपा ने होशियारपुर और गुरदासपुर सीटें जीती, लेकिन एक बार फिर अमृतसर सीट नहीं जीत सकी।
पंजाब में ‘आप’ को पिछले आम चुनावों में चार सीटें मिली थीं, लेकिन इस बार उसे सिर्फ एक सीट मिल सकी है। संगरूर सीट पर ‘आप’ उम्मीदवार भगवंत मान जीते हैं।

SAD Demands Immediate Transfer Of SSPs Of Jalandhar&Muktsar

[Chd,Pb] SAD Demands Immediate Transfer Of SSPs Of Jalandhar&Muktsar
As per SAD These officers are “close relatives” of Congress leaders.
In a complaint to the Punjab Chief Electoral Officer, SAD president’s political secretary Charanjit Singh Brar said
Mahal was a relative of Cabinet minister Tript Rajinder Singh Bajwa,
Dhesi was a relative of the chief minister’s OSD Gurpreet Singh Dhesi
Brar said “It seems both the officers have been posted deliberately at these stations with the aim of working against SAD candidates,”
The Akali Dal claimed that the Muktsar SSP had shown his “partisan” attitude earlier also by “facilitating booth capturing” by Congress workers during the Zila Parishad elections, besides registering a “false” case against SAD president Sukhbir Singh Badal.
The complaint said both the officers should be immediately removed from their stations to ensure they did not “misuse” their office to facilitate the Congress party and its candidates.

SAD-BJP Delegation to Meet Pb Guv Against Capt’s SIT On Sacrilege

[Chd,Pb]SAD-BJP Delegation to Meet Pb Guv Against Capt’s SIT On Sacrilege
A joint delegation of the SAD and the BJP will meet Punjab Governor V P Singh Badnore on March 10 and highlight the alleged high-handedness of the SIT against opposition leaders in connection with the 2015 police firing incidents in Faridkot.
The delegation will comprise SAD chief Sukhbir Singh Badal and Punjab BJP president Shwait Malik and raise the issue with the governor, said SAD spokesman Daljit Singh Cheema on Friday.
On Thursday, the SAD said it would boycott the special investigation team (SIT), probing the 2015 sacrilege and police firing incidents in Kotkapura and Behbal Kalan.
The party had claimed that former Akali MLA Mantar Singh Brar was allegedly being implicated in the police firing incidents.

शिरोमणि अकाली दल से निष्काषित “घुबाया” ने १७ वीं लोकसभा के लिए कांग्रेस का हाथ थामा

[नयी दिल्ली]शिरोमणि अकाली दल से निष्काषित “घुबाया” ने १७ वीं लोकसभा के लिए कांग्रेस का हाथ थामा
पंजाब के फिरोजपुर से शिरोमणि अकाली दल के सांसद शेर सिंह घुबाया ने सोमवार को पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था जबकि शिरोमणि अकाली दल ने दावा किया है कि शेर सिंह घुबाया को पार्टी से पहले ही निष्कासित किया जा चुका था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार घुबाया ने मंगलवार की सुबह पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।
घुबाया प्रदेश की जलालाबाद विधानसभा सीट से तीन बार विधायक रह चुके हैं।
2009 में उन्होंने शिअद प्रमुख सुखबीर बादल के लिए जलालाबाद सीट खाली की थी और बाद में फिरोजपुर से संसदीय चुनाव लड़ा था।
घुबाया लगातार 10 साल से सांसद हैं।

Amarinder’s Aim is to Capture SGPC And Put Me in Jail :Badal

[Chd,Pb]Amarinder’s Aim is to Put Me in Jail So I Am Prepared To Go To Jail:Badal
Former Five Time Punjab chief minister Parkash Singh Badal Thursday said that his successor Amarinder Singh’s only aim was to put him behind bars.
The Shiromani Akali Dal (SAD) patriarch was reacting to the chief minister’s address in the Punjab Assembly on Tuesday wherein he vowed to punish those guilty of the “horrendous” 2015 sacrilege incidents in the state.
Badal Said “After reading what Amarinder had said in the assembly, I straightaway came from my village to Chandigarh… I told the DGP that I am available for arrest… I am prepared to go to any jail in the country,” Badal said, adding that his fight against the policies of the Congress would continue.
Winding up the discussion on the Governor’s address in the ongoing Punjab budget session here, Singh spoke on incidents of sacrilege of religious texts and said that they occurred because of the “failure of the law and order system” during the SAD regime.
“What was that (sacrilege incidents). It was a failure of the law and order system,” Singh had said while pointing out that the Badal government had failed to accept even their own Commission’s report into the sacrilege incidents.
Amarinder had further informed the House that the Special Investigative Team formed to probe sacrilege and police firing incidents was doing its work and that he would take the findings of the Ranjit Singh Commission report to their logical conclusion.
However, Badal termed the SIT and the Commission set up by the Congress government as a “drama” and asserted: “Amarinder’s only goal is to put me in jail.”
The SAD leader further said that the Congress wanted to take control of the Sikh shrines in the state.
However, if there were any shortcomings in the probe of sacrilege incidents by the SAD-BJP combine government, then I apologise for it, Badal said further.
On February 18, the SIT probing the police firing at Behbal Kalan and Kotkapura on anti-sacrilege protesters, had arrested Inspector General Paramraj Singh Umranangal on the basis of evidence that he was in command and the procedure adopted to open fire was not correct.
Two persons were killed in the police firing in Behbal Kalan of Faridkot district.

मौका है! मजबूरी है!! मैनेजमेंट है!!! सो अकाली दबाव भी जारी है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

अकाली चीयर लीडर

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है?औए ये भाजपाई अब हसाड़े धर्म में भी हस्तक्षेप करने लग गए |भई पटना साहब के एक धार्मिक गुरु ने बिहार के मुख्य मंत्री नितीश कुमार की चमचागिरी करते हुए सभी हदें पार कर दी | हुजूर साहब+नांदेड़ साहब+में चल रही पारम्परिक सिख धर्म व्यवस्था में अड़ंगे लगाने लग गए |अब जब अमृतसर से सजा सुनाई गई तो ये भगवा वाले ही राजनीती करने लग गए यहाँ तक के हसाड़े पवित्र गुरुद्वारों में दखल देने लग गए

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी! आप भी पीछे क्यूँ रहो! मौका है! मजबूरी है!मैनेजमेंट हैं ! शायद इस दबाब से पंजाब में मन चाही लोक सभा की दस सीटें और हरियाणा में तीन सीटें मिल जाएँ

शिरोमणि अकाली दल के दलित नेता दलीप पांधी [८२]का निधन

[पटियाला]शिरोमणि अकाली दल के दलित नेता दलीप पांधी का निधन
शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक दलीप सिंह पांधी का शनिवार को यहां निधन हो गया। 82 वर्षीय पांधी पिछले कुछ समय से बीमार थे।उनके परिवार में एक बेटी है।
पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य रहे पांधी अमलोह सीट से विधायक भी रह चुके थे।

कैप्टेन सरकार के मोबाइल कान से लगाते ही मोबाइल का पटाखा बज जाएगा:मजीठिया

चंडीगढ़,पंजाब]पूर्व मंत्री बिक्रम जीत सिंह मजीठिया ने कैप्टेन सरकार के मोबाइल वितरण योजना का जम कर मखौल उड़ाया |
अवसर था श्री मुक्तसर साहब में आयोजित माघी मेले का |गुरु गोबिंद सिंह के चालीस मुक्तो के सम्मान में आयोजित किये गए इस मेले में पंजाब सरकार के आदेशों को धत्ता बताते हुए शिरोमणि अकाली दल ने विशाल सियासी समागम का आयोजन किया और दल के शीर्ष नेताओं ने जम कर पंजाब सरकार की आलोचना की |प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर सिंह बादल ने पंजाब में कांग्रेस की सरकार को सिख धर्म का शत्रु बताया और सिख समाज को नरेंद्र मोदी का ऋणी बताया |
मजीठिया ने आपने सम्बोधन में युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा के पंजाब सरकार ने युवाओं को स्मार्ट मोबाइल फोन देने की घोषणा की है लेकिन भ्र्ष्टाचार के चलते मोबाइल फोन की क्वालिटी बेहद घटिया है |कान से लगाते ही हेलो नहीं बल्कि मोबाइल का पटाखा बजेगा
मजीठिया केंद्रीय मंत्री श्रीमती हरसिमरतकौर बादल के भाई है

पंजाब में अकालियों की सरकार गई तो अब इज्जत पर भी खतरा मंडराया

[चंडीगढ़,पंजाब] पंजाब में अकालियों की सरकार गई तो अब इज्जत भी खतरे में आई
खेमकरण से विधायक अकाली नेता विरसा सिंह वल्टोहा के खिलाफ साढ़े तीन दशक पुराना कत्ल का केस खोले जाने की मांग उठने लगी है
१९८३ के सितम्बर की ३० तारीख को डॉ सुदर्शन कुमार त्रेहन का कत्ल हुआ था जिसमे हरदेव सिंह और बलदेव सिंह के साथ ही वल्टोहा का नाम भी लिया गया था|लेकिन विधायक वल्टोहा बचते आ रहे थे| आरोप है के उन्होंने इस अपराध में संलिप्तता को चुनाव आयोग से भी छुपाया था|कांग्रेसी नेत्री निमिषा मेहता की माने तो वल्टोहा ने स्वयं को आतंकवादी घोषित किया था |मेहता ने वल्टोहा के खिलाफ अदालत में जाने की बात भी कही है|