Ad

Tag: ELECTIONS

चुनाव हो लिए सो निडर सरकार ने अध्यापकों की मृत्यु पर निर्भीकता से पल्ला झाड़ा

झल्लीगल्लां
उत्तेजित शिक्षक

Teacher Unrest

Teacher Unrest

ओए झल्लेया! ये सरकार ने क्या कहर बरपा किया हुआ है?ओए पहले तो कोरोनासुरों के आतंक में चुनाव करवाये फिर हमारी मर्जी के बगैर हमारी ड्यूटी असुरक्षित छेत्रों में लगा दी।जिसके फलस्वरूप डेढ़ हजार कर्मी मारे गए लेकिन सरकार ओनली तीन शिक्षकों की मृत्यु को ही कोरोना मुआवजे के लिए सुपात्र मान कर हसाडे जले पर नमक छिड़क रही है।ओए ये तो सरकारी नाकामी और झूठ की बेशर्मी का सबूत है
झल्ला
चुनाव हो लिए सो निडर सरकार ने अध्यापकों की मृत्यु पर निर्भीकता से पल्ला झाड़ा माननीय ! मृतकों के प्रति मेरी सम्वेदनाएँ है।
चुनाव हो लिए!सो मस्त सरकार को कोई डर या जरूरत नही है।इसीलिए निर्भीकता से कहा जा रहा है कि तीन ही मरे।शेष लोगों की मृत्यु के कोई प्रमाण नही हैं

इवीएम का मतलब कहीं विटामिन इलेक्शन एंड मनी तो नहीं

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

उत्तेजित भाजपाई

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है? कांग्रेसी आये दिन EVM को लेकर हो हल्ला मचाने लग जाते हैं ऐसा लगता है के २०१९ में इनका दावं उलटा इन्ही पढ़ ही पढ़ गया होगा तभी ये लोग बिलबिलाये फिर रहे हैं

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी ! ये इ वी एम का मतलब कहीं विटामिन इलेक्शन और मनी तो नहीं ???तभी ए दिन इसे दोहने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है

महाराष्ट्र+हरियाणा में भी नरेंन्द्र मोदी की कांग्रेस मुक्त भारत की मुहीम रंग लाएगी?

नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई जा रही कांग्रेस मुक्त भारत की मुहीम राज्यों में भी रंग लाने लग गई है |एग्जिट पोल विशेषज्ञों की माने तो महाराष्ट्र और हरियाणा से भी कांग्रेस की विदाई निश्चित है |इस दोनों प्रदेशों में सत्तारूढ़ कांग्रेस की हालत और पस्त:हो गई है |यूं पी में ११ सीटों के लिए हुए उपचुनावों में नतीजे सकारात्मक नहीं आने पर नरेंद्र मोदी के आलोचक मुखर हो गए थे लेकिन इन दोनों प्रदेश में भाजपा की जीत से उन सभी आलोचकों को दोबारा सोचने पर मजबूर होना होगा
‘टुडेज चाणक्य’ एग्जिट पोलके सर्वेक्षणों के अनुसार, लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की सत्ता के साथ-साथ साख भी दावं पर है |
केंद्र की भांति इन राज्यों में भी मुख्य विपक्षी दल बनने की उसकी हैसियत में भी संदेह होने लगा है ।
एग्जिट पोल विशेषज्ञों के अनुसार महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरती हुई और बहुमत से थोड़ी ही पीछे दिखाई दे रही है।गठबंधन टूटने से पहले महाराष्ट्र में 15 साल तक राज करने वाली कांग्रेस और राकांपा को भारी नुकसान का अनुमान जताया गया है।‘टुडेज चाणक्य’ के एक्जिट पोल+ टाइम्स नाउ-सी वोटर + एबीपी-नील्सन ने भाजपा के जादू को महाराष्ट्र और हरियाणा दोनों जगह स्वीकार किया है
हरियाणा + महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में भी मोदी का जादू काम करता नजर आ रहा है।
हरियाणा और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को वोट डाले गए। महाराष्ट्र में 64 % और हरियाणा में 76 % मतदान हुआ | 19 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे।
यदि मतदान के नतीजे सर्वेक्षण के अनुरूप आते हैं तो दोनों ही राज्यों में पहली बार भाजपा का मुख्यमंत्री होगा।

पांच राज्यों की ६३० सीटों के लिए भाजपा सुशासन बनाम कुशासन के मुद्दे को लेकर मतदाताओं के बीच जाने को तैयार है

[नई दिल्ली]पांच राज्यों की विधान सभाओं के लिए घोषित चुनावों में भाजपा सुशासन बनाम कुशासन के मुद्दे को लेकर मतदाताओं के बीच जायेगी|
भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि मध्यप्रदेश+राजस्थान+दिल्ली+छत्तीस गढ़ की सभी ५९० विध्न सभा की सीटों के साथ मिजोरम की ४० सीटों में अनेकों सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी|
उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश और छत्तीस गढ़ में शिव राज सिंह और रमण सिंह की सरकारों ने विकास के नए आयाम स्थापित किये है जबकि दिल्ली+राजस्थान में कांग्रेसी सरकारें कुशासन और भ्रस्टाचार के जीते जागते उदहारण हैं|उन्होंने बताया कि चरों राज्यों के १३२४११ बूथों पर कार्यकर्ताओं की नियुक्ति हो चुकी है और उनका प्रशिक्षण जारी है |इसी आधार पर उन्होंने दावा किया कि चारों राज्यों में भाजपा की विजय पताका फहराएंगे